ईंधन की कीमतें लगातार बढ़ती रहीं तो आम आदमी की कमर टूटना तय, आमजन को राहत देने के लिये विभिन्न उत्पाद शुल्क कम करे केंद्र - CM गहलोत

ईंधन की कीमतें लगातार बढ़ती रहीं तो आम आदमी की कमर टूटना तय, आमजन को राहत देने के लिये विभिन्न उत्पाद शुल्क कम करे केंद्र - CM गहलोत

ईंधन की कीमतें लगातार बढ़ती रहीं तो आम आदमी की कमर टूटना तय,  आमजन को राहत देने के लिये विभिन्न उत्पाद शुल्क कम करे केंद्र - CM गहलोत

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को केन्द्र सरकार से आमलोगों को राहत देने के लिये ईंधन पर लगे विभिन्न प्रकार के उत्पाद शुल्क कम करने के लिये तत्काल कदम उठाने की मांग की है. उन्होंने कहा कि ईंधन की कीमतें इस तरह लगातार बढ़ती रहीं तो आम आदमी की कमर टूटना तय है.

गहलोत ने ट्वीट किया कि यूपीए-2 के कार्यकाल में क्रूड ऑयल के दाम 100 डॉलर प्रति बैरल पहुंचने के बावजूद पेट्रोल/डीजल के दाम नियन्त्रण में थे. अब क्रूड ऑयल की दर लगातार बढ़कर कुछ ही दिनों में 80 डालर प्रति बैरल होने वाली है. 

उन्होंने कहा कि ये ऐसे ही बढ़ता रहा तो आम आदमी की कमर टूटना तय है. भारत सरकार को तत्काल कदम उठाकर विभिन्न एक्साइज ड्यूटी कम करके आम आदमी को राहत देनी चाहिये. 

मुख्यमंत्री ने कहा कि पेट्रोल, डीजल पर भारत सरकार ने विभिन्न प्रकार की एक्साइज ड्यूटी लगा रखी है, जिसमें राज्यों को शेयर भी नहीं मिलता है.

उन्होंने आगे कहा कि आज राजस्थान में एक लीटर डीजल की कीमत 98.80 रूपये है, जिसमें भारत सरकार 31.80 रुपये ले रही है. राज्य का वैट मात्र 21.78 रूपये है.

गहलोत ने कहा कि कोविड-19 के बाद राज्यों की खराब वित्तीय स्थिति को देखते हुए भारत सरकार को अतिरिक्त उत्पाद शुल्क, विशेष उत्पाद ड्यूटी, कृषि सेस को घटाकर आम आदमी को राहत देनी चाहिये. 

और पढ़ें