घूसकांड में आरोपी IPS अधिकारी मनीष अग्रवाल की निलंबन अवधि 120 दिन और बढ़ी

घूसकांड में आरोपी IPS अधिकारी मनीष अग्रवाल की निलंबन अवधि 120 दिन और बढ़ी

घूसकांड में आरोपी IPS अधिकारी मनीष अग्रवाल की निलंबन अवधि 120 दिन और बढ़ी

जयपुर: घूसखोरी के संगीन प्रकरण में निलंबित हुए दौसा के तत्कालीन एसपी मनीष अग्रवाल की निलंबन अवधि को राज्य सरकार ने 120 दिन और बढ़ा दिया है. मुख्य सचिव निरंजन आर्य की अध्यक्षता में कमेटी ने इस बारे में रिव्यू करते हुए यह अनुशंसा की है. इस बारे में कमेटी का व्यू था कि क्योंकि आरोपित मनीष अग्रवाल अभी भी न्यायिक अभिरक्षा में है ऐसे में उन्हें फिलहाल बहाल नहीं किया जा सकता. ऐसे में कमेटी ने तुरंत उनकी निलंबन अवधि 120 दिन बढ़ाने की सिफारिश कर दी.

सीएस की अध्यक्षता वाली कमेटी ऑल इंडिया सेवा के अधिकारियों के निलंबन को लेकर 60 दिनों में रिव्यू किया जाता है. इसी के तहत यह रिव्यू किया गया है. कार्मिक विभाग ने दौसा के पूर्व एसपी मनीष अग्रवाल को 2 फरवरी से ही निलंबित करने के आदेश जारी करते हुए निलंबन काल में उनका मुख्यालय महानिदेशक जयपुर रखा गया था. आईपीएस मनीष अग्रवाल को सस्पेंड करने का प्रदेश में पहला मामला नहीं है. मनीष अग्रवाल से पहले भी आईपीएस व आईएएस गिरफ्तार हो चुके हैं. 

- जून 2012 में रिश्वत मामले में आईपीएस अजय सिंह को गिरफ्तार किया था. बाद में कोर्ट ने बरी कर दिया. 
- जनवरी 2013 में तत्कालीन अजमेर एसपी राजेश मीणा को गिरफ्तार किया था. 
- मई 2014 में कोटा के तत्कालीन एसपी सत्यवीर सिंह को गिरफ्तार किया गया था. 
- सितंबर 2015 में खान घोटाले में पूर्व आईएएस अशोक सिंघवी को गिरफ्तार किया गया था. 
- मई 2018 में आईएएस निर्मला मीणा को गिरफ्तार किया गया था.
- दिसंबर 2020 में बारा जिले के तत्कालीन जिला कलेक्टर इंद्र सिंह राव को गिरफ्तार किया गया.

यह है प्रकरण:
दरअसल, आईपीएस अधिकारी मनीष अग्रवाल पर दौसा जिले के एसपी रहते हुए घूसखोरी में लिप्त होने  का आरोप है और एसीबी ने इस बारे में मामला दर्ज किया था. अग्रवाल को हाईवे बनाने वाली कंपनी से घूस लेने के आरोप में 2 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था. एसीबी ने 13 जनवरी को इस मामले में दलाल नीरज मीणा और दो पूर्व एसडीओ पिंकी मीणा और पुष्कर मीणा को गिरफ्तार किया था. इन 2 पूर्व एसडीओ का निलंबन पहले ही किया जा चुका है.  इन पर जयपुर आगरा हाईवे निर्माण करने वाली दो कंपनियों से लाखों रुपए की घूस लेने के आरोप हैं. 

और पढ़ें