Live News »

Rajasthan Political Crisis: अब बसपा के नहीं कांग्रेस के सभी 6 विधायक! हाईकोर्ट में कांग्रेस ने पेश किया प्रार्थना पत्र

Rajasthan Political Crisis: अब बसपा के नहीं कांग्रेस के सभी 6 विधायक! हाईकोर्ट में कांग्रेस ने पेश किया प्रार्थना पत्र

जयपुर: बसपा के 6 विधायकों के कांग्रेस में विलय को चुनौती देने वाली बसपा और भाजपा विधायक की याचिकाओं पर राजस्थान हाईकोर्ट में कल सुनवाई होगी. हाईकोर्ट में सुनवाई से पूर्व अब कांग्रेस की ओर मामले में पक्षकार बनने के लिए प्रार्थना पत्र पेश किया गया है. प्रार्थना पत्र में राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष और मुख्य सचेतक महेश जोशी को पक्षकार बनाने की गुहार लगायी गयी है. 

Rajasthan Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट में अब कल होगी सुनवाई, भाजपा और बसपा विधायकों की ट्रांसफर याचिकाओं पर एक साथ होगी सुनवाई 

एडवोकेट वरूण के चौपड़ा और शाश्वत पुरोहित के जरिए पेश किये गये प्रार्थना पत्र में कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि चुकि राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष ने 18 सिंतबर 2019 को एक आदेश के जरिए बसपा के सभी 6 विधायकों का कांग्रेस में विलय कर दिया है. इसलिए अब ये सभी 6 विधायक बसपा के नही होकर राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस के विधायक है. 

सरकार के लिए बेहद महत्वपूर्ण है 6 बसपा विधायक: 
याचिका में कहा गया है कि बसपा की ओर से दायर याचिका में इन विधायकों की सदस्यता रद्द करने और वोटिंग अधिकार पर रोक लगाने की गुहार की गयी है. अगर हाईकोर्ट ऐसा आदेश देता है तो वर्तमान सरकार के लिए मुश्किल होगा. इससे कांग्रेस और मुख्य सचेतक के हित प्रभावित होते हैं. ये विधायक कांग्रेस की वर्तमान सरकार का सबसे मजबूत पक्ष है. राज्य की सरकार के लिए ये सभी 6 विधायक बेहद महत्वपूर्ण और प्रमुख सदस्य है. इसलिए इस मामले में कोई भी आदेश देने से पूर्व कांग्रेस और मुख्य सचेतक का पक्ष भी सुना जाये. 

कोरोना नियंत्रण को लेकर मुख्यमंत्री का बड़ा फैसला, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा से जुड़े लोगों को कोविड इलाज में दी बड़ी राहत 

विधानसभा अध्यक्ष के 18 सिंतबर 2019 के चुनौती दी गयी: 
याचिका में कहा गया है कि विधानसभा अध्यक्ष के 18 सिंतबर 2019 के चुनौती दी गयी है. अध्यक्ष का ये आदेश इंडियन नेशनल कांग्रेस को प्रभावित करता है. इसलिए कांग्रेस और मुख्य सचेतका का भी पक्ष सुना जाये. बसपा की ओर से दायर याचिका पर राजस्थान हाईकोर्ट की एकलपीठ कल सुनवाई करेगी. सुनवाई से एक दिन पूर्व कांग्रेस ने राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष की ओर से ये अर्जी पेश की है. इसके साथ ही मुख्य सचेतक महेश जोशी की ओर से भी मामले में पक्षकार बनने की अर्जी पेश की है. 

और पढ़ें

Most Related Stories

घर में घुसकर युवती को मारी गोली, अदालत ने सुनाई उम्रकैद की सजा

घर में घुसकर युवती को मारी गोली, अदालत ने सुनाई उम्रकैद की सजा

बांदा: हाल ही में उत्तर प्रदेश के बांदा जिले की एक अदालत ने हत्या के चार साल पुराने मामले में आऱोपी को उम्रकैद की सजा सुनाई है. बताया जा रहा है कि चार वर्ष पूर्व एक युवती की गोली मारकर हत्या करने के मामले में दोषी करार दिए गए युवक को उम्रकैद तथा जुर्माने की सजा दी गई है. असल में युवक इस युवती को उठाकर एक अन्य घर में ले गया था जहां उसने उसे गोली मार दी थी. 

सहायक लोक अभियोजक (एडीजीसी) देवदत्त मिश्रा ने बताया है कि अपर जिला एवं सत्र न्यायालय ने अभियोजन और बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद 10 जुलाई 2016 को दिन में तीन बजे हड़हा गांव में आसमा खातून (25) नामक युवती की गोली मारकर हत्या के मामले में दोषी करार दिए गए युवक गुलाम गौस (28) को बुधवार को उम्रकैद की सजा सुनाई है. इतना ही नहीं उस पर 30 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

उन्होंने मामले की पूरी जानकारी देते हुए बताया है कि घटना की प्राथमिकी युवती की मां जाहरा बेगम ने नरैनी कोतवाली में दर्ज कराते हुए कहा था कि पड़ोसी युवक गुलाम गौस उसकी बेटी आसमा खातून को घर से जबरन उठाकर पास के एक अन्य घर में ले गया था और वहां उसे गोली मार दी थी. जिससे आसमा की मौके पर ही मौत हो गई थी.देर से ही सही मगर न्याय मिलने पर पीड़िता के परिवार कोर्ट औऱ पुलिस का शुक्रिया अदा किया है. (सोर्स-भाषा)

{related}

अहमद पटेल किए गए सुपुर्द-ए-खाक, राहुल गांधी ने तदफीन में की शिरकत

अहमद पटेल किए गए सुपुर्द-ए-खाक, राहुल गांधी ने तदफीन में की शिरकत

भरूच: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल को गुजरात के भरूच जिले के उनके पैतृक गांव पीरामन में बृहस्पतिवार को सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पार्टी के अहम रणनीतिकार और संकटमोचक की तदफीन (दफन करना) में शिरकत की. पटेल का बुधवार को इंतकाल हो गया था.

पटेल की मय्यत (पार्थिक देह) को वडोदरा से पीरामन लाया गया था. इसके बाद सैकड़ों स्थानीय एवं कांग्रेस नेताओं की मौजूदगी में पटेल को मुस्लिम कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया गया.कांग्रेस नेता की मय्यत बुधवार रात वडोदरा हवाई अड्डे पहुंची थी और उसे भरूच जिले के अंकलेश्वर शहर में स्थित सरदार पटेल अस्पताल में रखा गया था. गांधी बृहस्पतिवार को सूरत हवाई अड्डे पहुंचे और फिर सड़क के रास्ते से पिरमण गए जहां उन्होंने दिवंगत सांसद के परिवार को दिलासा दिया. 

{related}

एक स्थानीय निवासी ने बताया कि पटेल की इच्छा के मुताबिक, उन्हें उनके माता-पिता की कब्र के बराबर में दफनाया गया है.पटेल की तदफीन में गुजरात कांग्रेस प्रमुख अमित चावड़ा, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के गुजरात प्रभारी राजीव सातव, लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला समेत अन्य ने शिरकत की. भाषा

पाली: विवाह समारोह में गई 4 वर्षीय मासूम के साथ हैवानियत, खेत में ले जाकर 26 वर्षीय युवक ने किया दुष्कर्म 

 पाली: विवाह समारोह में गई 4 वर्षीय मासूम के साथ हैवानियत, खेत में ले जाकर 26 वर्षीय युवक ने किया दुष्कर्म 

पाली: सदर थाना क्षेत्र के सदावास गांव में 4 वर्ष की मासूम के साथ दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है. सदर थाना पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर पीड़िता का मेडिकल बोर्ड से मेडिकल करवाया है. पुलिस आरोपी से पूछताछ करने में जुटी हुई है. बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए घटना पर पर प्रसंज्ञान लेकर पुलिस से पूरा विवरण मांगा है. सदर थाना क्षेत्र के सदावास गांव में एक विवाह समारोह से आरोपी ओमाराम नायक ने 4 वर्षीय मासूम बालिका को अगुआ कर खेत में लेकर जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया.

पीड़िता लहूलुहान हालत में मिली: 
विवाह समारोह में मौजूद बच्ची के परिजनों को जब वह दिखलाई नहीं की तो परिजनों एवं अन्य रिश्तेदारों ने उसकी तलाश प्रारंभ की 1 घंटे की मशक्कत के बाद पीड़िता लहूलुहान हालत में खेत में पड़ी मिली तब परिजनों ने घटना को लेकर सदर थाना पुलिस को सूचना दी. सदर थाना प्रभारी ने देर रात्रि को सदावास गांव पहुंचकर आरोपी ओमाराम नायक को हिरासत में ले लिया है. आरोपी पीड़िता को नमकीन व चॉकलेट दिलाने के बहाने खेत में लेकर गया था.

{related}

पीड़ित और आरोपी दोनों ही सदावास गांव के निवासी:
पीड़ित और आरोपी दोनों ही सदावास गांव के निवासी हैं. दूसरी और घटना को लेकर महिला बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने टेलीफोन के जरिए यहां के पुलिस अधिकारियों से बातचीत कर घटना का पूरा ब्यौरा मांगा है और आरोपी के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई करने के लिए निर्देशित किया है. घटना की जांच पुलिस उप अधीक्षक महिला अत्याचार निवारण प्रकोष्ठ पारस चौधरी कर रहे हैं.

राजधानी दिल्ली के कीर्ति नगर इलाके में लगी भीषण आग, 50 झोपड़ीयां जलकर खाक

राजधानी दिल्ली के कीर्ति नगर इलाके में लगी भीषण आग, 50 झोपड़ीयां जलकर खाक

नई दिल्लीः हाल ही में देश की राजधानी दिल्ली के कीर्ति नगर क्षेत्र में भीषण आग लग जाने से लगभग पचास झोपड़ियां जलकर खाक हो गई है. खबर है कि किर्ति नगर इलाके में बुधवार देर रात को आग लग गई है जिससे 50 झोपड़ियों के जलकर खाक हो जाने की सूचना दी गई है. इस बात की जानकारी दिल्ली अग्निशमन सेवा के एक अधिकारी ने दी है. राहत की बात ये है कि इस घटना में किसी के भी हताहत होने की सूचना नहीं है.

दिल्ली अग्निशमन सेवा के निदेशक अतुल गर्ग ने बताया है कि आग लगने की सूचना रात 12 बजकर 40 मिनट पर मिली और तत्काल 12 दमकल गाड़ियों को रवाना किया गया है. उन्होंने कहा कि 50 झोपड़ी जलकर खाक हो गई है. आग बुझाने के दौरान कई एलपीजी सिलेंडर में विस्फोट हो गया था इसलिए आग बुझाने में समय लगा था. फिलहाल आग लगने के कारण का पता नहीं चल पाया है.

अधिकारी ने कहा है  कि आग पर काबू पा लिया गया है लेकिन झोपड़ियों में रहने वाले लोगों के सामान का भारी नुकसान हुआ है. एक अन्य घटना में दक्षिण पूर्वी दिल्ली में गोविंदपुरी इलाके में स्थित एक दुकान में आग लग गई है. अग्निशमन विभाग के अनुसार आग लगने की सूचना तड़के चार बजकर 46 मिनट पर मिली जिसके बाद दमकल गाड़ियों को मौके पर भेजा गया था. दुकान बंद होने के कारण कोई हताहत नहीं हुआ. (सोर्स-भाषा)

{related}

नए कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन, अंबाला से हरियाणा सीमा में दाखिल हुए किसान, पुलिस पर पथराव, हुआ लाठीचार्ज

 नए कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन, अंबाला से हरियाणा सीमा में दाखिल हुए किसान, पुलिस पर पथराव, हुआ लाठीचार्ज

नई दिल्ली: नए कृषि कानून के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन जारी हैं. किसान अंबाला से हरियाणा सीमा में दाखिल हुए. अंबाला-पटियाला बॉर्डर पर किसानों ने बैरिकेड तोड़ दिए हैं. पुलिस ने किसानों पर पानी की बौछार, आंसू गैस के गोले छोड़े गए हैं. उग्र हुए किसानों ने पुलिस पर पथराव शुरू किया. आपको बता दें कि दिल्ली कूच कर रहे किसानों का प्रदर्शन अंबाला-पटियाला बॉर्डर पर आक्रामक होता नजर आ रहा हैं. यहां किसानों ने पुलिस द्वारा लगाएं गए बैरिकेडिंग को उखाड़ फेंका है, जिसके बाद किसानों पर पानी की बौछार की जा रही है, आंसू गैस के गोले छोड़े गए हैं. 

Image

किसानों के प्रदर्शन की वजह से मेट्रो बंद:
किसानों के प्रदर्शन के कारण मेट्रो को भी बंद रखा गया है.अंबाला पटियाला बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस ने कुछ ट्रकों को खड़ा किया है, ताकि किसान आगे ना आ सके. लेकिन अब किसानों ने उसी ट्रक को तोड़ना शुरू कर दिया और धक्का देकर आगे किया जा रहा है. जिसके बाद पुलिस ने फिर आंसू गैस के गोले छोड़े हैं और पानी की बौछार की जा रही है. 

{related}

किसानों और पुलिस में टकराव जारी:
किसानों की ओर से पुलिस पर पथराव किया गया है. अंबाला पटियाला बॉर्डर पर किसानों और पुलिस में टकराव जारी है. किसानों ने जबरन हरियाणा सीमा में प्रवेश कर लिया है, जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया है. किसान अब अपने ट्रैक्टर पर चढ़कर जबरन आगे बढ़ने की कोशिश कर रहे हैं और लगातार नारेबाजी कर रहे हैं.

Image

शांतिपूर्ण प्रदर्शन उनका संवैधानिक अधिकार है:
किसानों के प्रदर्शन पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया है. केंद्र सरकार के तीनों खेती बिल किसान विरोधी हैं. ये बिल वापिस लेने की बजाय किसानों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने से रोका जा रहा है, उन पर वॉटर कैनन चलाई जा रही हैं. किसानों पर ये जुर्म बिलकुल गलत है, शांतिपूर्ण प्रदर्शन उनका संवैधानिक अधिकार है.

1200 करोड़ रुपये की लागत वाली सौंग बांध परियोजना को मिला एनवायर्मेंटल अप्रूवल

1200 करोड़ रुपये की लागत वाली सौंग बांध परियोजना को मिला एनवायर्मेंटल अप्रूवल

देहरादूनः लंबे समय से लंबित सौंग बांध परियोजना को आखिरकार  केंद्र सरकार ने हरी झंडी दिखा दी है. जिस पर सीएम रावत ने केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का आभार जताया है. आपको बता दे कि  बहुप्रतीक्षित 1,200 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से बनने वाली सौंग बांध परियोजना को पर्यावरणीय स्वीकृति दे दी है, इसके बनने से देहरादून शहर और उसके उपनगरीय क्षेत्रों की 2050 तक की संभावित आबादी को पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित हो जाएगी औऱ सिंचाई के लिए पानी की उपलब्धता से कृषि उत्पादन को भी बढ़ावा मिलेगा.

बांध परियोजना को पर्यावरणीय स्वीकृति देने के लिए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि अब इस महत्वपूर्ण परियोजना पर कार्य आरंभ हो सकेगा. इस परियोजना को राज्य सरकार की प्राथमिकता वाली योजनाओं में शामिल बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके बनने से देहरादून शहर व उसके उपनगरीय क्षेत्रों की 2050 तक की अनुमानित आबादी को ग्रैविटी आधारित पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित हो सकेगी.

इसके अलावा इससे ऊर्जा उत्पादन में भी मदद मिलेगी और सिंचाई के लिए पानी की उपलब्धता से कृषि उत्पादन को भी बढ़ावा मिलेगा. लगभग 1200 करोड़ रुपये की इस परियोजना के लिये नीति आयोग से वित्तीय मदद का आग्रह किया गया है. सौंग बांध की झील लगभग 76 हेक्टेअर क्षेत्रफल में फैली होगी जबकि बांध की ऊंचाई करीब 148 मीटर होगी. इस बांध से ग्रैविटी आधारित (गुरुत्वाकर्षण आधारित)पेयजल की आपूर्ति होगी जिससे प्रतिवर्ष बिजली के व्यय पर होने वाले करोड़ों रुपये की बचत भी होगी. जल्दी ही इस परियोजना पर काम शुरु किया जाएगा.  (सोर्स-भाषा)

{related}

Covid-19 की दूसरी लहर के चलते CM रावत ने की हर रविवार को देहरादून बंद रखने की घोषणा

Covid-19  की दूसरी लहर के चलते CM रावत ने की हर रविवार को देहरादून बंद रखने की घोषणा

देहरादून: हाल ही में उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंन्द्र सिंह रावत ने एक बड़ी घोषणा की है. रावत ने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए देहरादून जिले में इस हफ्ते से हर रविवार लॉकडाउन लागू रहेगा. आपको बता दे कि देश भर अभी कोरोना की दूसरी लहर चल रही है औऱ इसी कारण से  सरकार ने ये अहम फैसला लिया है और जल्दी ही इस पर अमल भी किया जाएगा. 

देहरादून के जिलाधिकारी आशीष श्रीवास्तव ने बुधवार को इस संबंध में जारी अपने एक आदेश में जिले में रविवार को लॉकडाउन का सख्ती से अनुपालन करने तथा व्यस्त बाजारों में सेनिटाइजेशन अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं. देहरादून जिले में पहले भी सप्ताहांत में लॉकडाउन लागू था लेकिन त्योहारी सीजन में इसे अस्थाई रूप से स्थगित कर दिया गया था.

आपको बता दे कि इस आदेश के मुताबिक दवाई, फल, सब्जी, दूध, पेट्रोल पंप और रसोई गैस एजेंसियों आदि जरूरी दुकानों को छोड़कर अन्य सभी दुकानें जिले में रविवार को बंद रहेंगी. उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड में कोविड-19 के मरीजों की संख्या पिछले कुछ सप्ताह से बढ़ रही है और इनमें से सबसे ज्यादा मामले देहरादून जिले में ही सामने आ रहे हैं. जिसके चलते ये आदेश जारी किया गया है. (सोर्स-भाषा)

{related}

26/11: मुंबई हमले की 12 वीं बरसी, शहीद हुए सुरक्षाकर्मियों को दी गई श्रद्धांजलि

26/11: मुंबई हमले की 12 वीं बरसी, शहीद हुए सुरक्षाकर्मियों को दी गई श्रद्धांजलि

मुंबई: मुंबई में 26 नवंबर 2008 को हुए हमले में आतंकवादियों से मुकाबले के दौरान शहीद हुए सुरक्षा कर्मियों को बृहस्पतिवार को श्रद्धांजलि दी गई. मुंबई पुलिस ने ट्वीट किया, उनका बलिदान स्मृति और इतिहास से कभी भुलाया नहीं जा सकेगा. आज हम 26/11 हमलों के शहीदों को श्रद्धांजलि दे रहे हैं. महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख और पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने पुलिस मुख्यालय में नवनिर्मित स्मारक पर श्रद्धांजलि दी.

मुख्यमंत्री और गृह मंत्री, शहीदों के परिजनों से मिले:
एक अधिकारी ने बताया कि तटीय रोड परियोजना के चलते शहीद स्मारक को मरीन ड्राइव स्थित जिमखाना से क्रॉफोर्ड मार्केट स्थित पुलिस मुख्यालय में स्थानांतरित कर दिया गया है. आतंकी हमले की 12वीं वर्षगांठ पर कोविड-19 के मद्देनजर सीमित संख्या में लोग एकत्रित हुए. कुछ शहीद पुलिसकर्मियों के परिवार के सदस्यों ने भी स्मारक पर श्रद्धा सुमन अर्पित किये. आयोजन के दौरान राज्यपाल, मुख्यमंत्री और गृह मंत्री, शहीदों के परिजनों से मिले.

{related}

26/11 के बहादुर योद्धाओं को सलाम:
महाराष्ट्र पुलिस ने ट्वीट किया, लोगों की रक्षा करते हुए प्राण गंवाने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि. मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने ट्वीट किया, 26/11 के बहादुर योद्धाओं को सलाम. उनके बलिदान को लाखों लोग याद कर रहे हैं. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने भी 2008 में मुंबई पर हुए आतंकी हमलों में शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी. पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर ए तय्यबा के 10 आतंकवादी 26 नवंबर 2008 को समुद्र के रास्ते मुंबई में घुस आए थे और उन्होंने 18 सुरक्षाकर्मियों समेत 166 लोगों की हत्या कर दी थी.

साठ घंटे तक चली जवाबी कार्रवाई में कई लोग भी हो गए थे घायल:
साठ घंटे तक चली जवाबी कार्रवाई में कई लोग घायल भी हो गए थे. इस हमले में आतंकरोधी दल के प्रमुख हेमंत करकरे, सेना के मेजर संदीप उन्नीकृष्णन, मुंबई के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अशोक कामटे, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक विजय सालस्कर और सहायक उप निरीक्षक तुकाराम ओम्ब्ले शहीद हो गए थे. सुरक्षाबलों द्वारा नौ आतंकवादी मारे गए थे. अजमल कसाब नामक एकमात्र आतंकी जीवित पकड़ा गया था जिसे 21 नवंबर 2012 को फांसी दे दी गई थी.