जयपुर पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने संभाला पदभार, सीएम गहलोत ने कहा- मजबूरी में होटल में जाना पड़ा

पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने संभाला पदभार, सीएम गहलोत ने कहा- मजबूरी में होटल में जाना पड़ा

पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने संभाला पदभार, सीएम गहलोत ने कहा- मजबूरी में होटल में जाना पड़ा

जयपुर: राज्य के शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने सत्ता से संगठन में प्रवेश कर लिया है. आज प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद पर गोविन्द सिंह डोटासरा ने पदभार ग्रहण कर लिया है. सचिन पायलट को पीसीसी चीफ पद से बर्खास्त किये जाने के बाद डोटासरा को राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष पद की कमान सौंपी थी. कांग्रेस ने डोटासरा को बना कर जाट कार्ड खेला है. पदभार ग्रहण कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, प्रभारी अविनाश पांडे, पार्टी के नेता और जन प्रतिनिधियों की मौजूदगी रही. पायलट के अलावा अन्य पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष भी पीसीसी में मौजूद रहे. 

जब सचिन पायलट निकर पहनते थे तब मैं यूनिवर्सिटी का अध्यक्ष बन गया था- प्रताप सिंह खाचरियावास  

हमारी सरकार पूरे 5 साल मजबूती से चलेगी: 
वहीं पीसीसी चीफ के पदभार ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने संबोधित करते हुए कहा कि हममें आगे मुकाबला करने का दमखम है. हमारी सरकार पूरे 5 साल मजबूती से चलेगी. एक तरफ जीवन संकट है लेकिन बीजेपी कोरोना में भी सरकार गिराने में लगी हुई है. बीजेपी सरकार गिराने की साजिश रच रही है लेकिन 21 दिन हो या 31 जीत हमारी ही होगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि राजभवन को 6 पेज के पत्र लिख रहे हैं. छापे के लिए चुन-चुन कर नाम दिए गए. मैं पीएम के साथ पांच वीसी में बैठा हूं उन्होंने कोरोना को लेकर राजस्थान में किए गए काम की तारीफ की है. लेकिन प्रदेश में राज्यसभा चुनाव से ही सरकार गिराने का खेल शुरू हो गया. 

डोटासरा ने विपक्ष में रहते भी शानदार काम किया:
मुख्यमंत्री ने कहा कि विधानसभा बुलाने में राज्यपाल क्यो अड़ंगे डाल रहे हैं. वो ये सब किसके इशारे पर कर रहे हैं यह उनकी आत्मा भी जानती है. वहीं नए पीसीसी चीफ के बारे में बोलते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि डोटासरा की कार्यशैली को जानते है उन्होंने विधानसभा में अमिट छाप छोड़ी है. इसके साथ ही विपक्ष में रहते हुए भी शानदार काम किया है. उन्होंने कहा कि एमएलए के पास अब फोन काम के लिए नहीं आते, अब कहते हैं कि अब तो क्षेत्र में जंग जीत कर आऊंगा. इसके साथ ही सीएम गहलोत ने कहा कि होटल में जाना मेरा शौक नहीं, मजबूरी में होटल में जाना पड़ा है. 50 साल में होटल में इतना नहीं गया जितना अब रुकना पड़ा है. सीएम ने कहा कि बादल छंटेंगे, मैं तीन बार पीसीसी चीफ रहा हूं. मेरी आत्मा यहां भटकती रहती है. डोटासरा जी आपके साथ पूरी सरकार खड़ी है, कांग्रेस का अधिवेशन 3 दिन का जरूर बुलाये. 

Rajasthan Political Crisis: विधायकों के कांग्रेस में विलय के मामले में BSP पहुंची HC, दायर की याचिका 

राज्यपाल की भूमिका पर भी सभी की निगाहें:
इस दौरान कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि डोटासरा ऐसे वक्त में पीसीसी का पद ग्रहण कर रहे हैं जब प्रदेश के राजनीतिक हालात ठीक नहीं है. पूरे देश की नजर भी राजस्थान पर टीकी हैं. इसके साथ ही राज्यपाल की भूमिका पर भी सभी की निगाहें हैं. बीजेपी व उनकी पूरी ताकत लोकतंत्र की धज्जियां उड़ा रही है. चुनी हुई सरकारों को हटाने की साजिश रची जा रही है. अरुणाचल, मेघालय, त्रिपुरा, कर्नाटक, गोवा और एमपी में सरकारें हटाई गई अब राजस्थान में भी ऐसा ही प्रयास किया जा रहा है लेकिन मुझे गौरव है कि राजस्थान के विधायक बहादुर है. 

और पढ़ें