VIDEO: आखिर कहां तक जा सकती कल्पना की उड़ान? इन दिनों वसुंधरा राजे के संदर्भ में चल रहा कुछ ऐसा ही...

VIDEO: आखिर कहां तक जा सकती कल्पना की उड़ान? इन दिनों वसुंधरा राजे के संदर्भ में चल रहा कुछ ऐसा ही...

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच भाजपा नेता भी सक्रिय हो गए हैं. पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने शुक्रवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर प्रदेश के राजनीतिक हालात पर चर्चा की. वहीं कल राजस्थान के समाचार पत्रों में प्रकाशित एक सनसनीखेज खबर ने राजनीतिक गलियारों में हलचल मचा दी. भाजपा के 46 विधायकों के साथ राजे द्वारा कोई नई पार्टी बनाने की खबर देखकर खुद वसुंधरा राजे सकते में आ गई. ऐसे में अब सबसे बड़ा सवाल यह खड़ा हो रहा है कि कल्पना की उड़ान आखिर कहां तक जा सकती है? क्योंकि मौजूदा राजनीतिक हालात में कोई दूर-दूर तक ऐसा नहीं सोच सकता तो फिर आखिर किन लोगों ने मीडिया में ऐसी खबर 'प्लान्ट' करवाई.  

VIDEO: 2 बार की मुख्यमंत्री हैं वसुंधरा राजे उनकी सलाह की जरूरत हुई तो लेंगे- सतीश पूनिया  

यह खबर देख दिल्ली ने भी मैडम को किया बाकायदा फोन: 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यह खबर देख दिल्ली ने बाकायदा मैडम को फोन किया और मैडम से इस खबर का सच जानना चाहा? इस पर राजे ने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि आप खुद ही पता लगवा लीजिए. अब जानकार सूत्रों ने इस बात के संकेत दिए है कि आलाकमान इन खबरों की सच्चाई का पता लगा सकता है. आलाकमान के हाथ बहुत लंबे है और केवल 24 घंटे में ही अपनी एजेंसियों से आलाकमान सच्चाई का पता लगा सकता है. कुल मिलाकर भाजपा की यह अंदरूनी गुटबाजी कोई अच्छा संकेत नहीं है. 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस के बाद अब BJP ने भी शुरू की बाड़ेबंदी, इन 12 विधायकों को अहमदाबाद भेजने की सूचना!  

मुख्यमंत्री पद के संभावित भाजपाई उम्मीदवारों में मची भागदौड़:
जानकारों की माने तो इस बढ़ती गुटबाजी का शायद एक कारण यह भी है कि राजस्थान में सीएम पद की कोई 'वैकेंसी' नहीं होने के बावजूद मुख्यमंत्री पद के संभावित भाजपाई उम्मीदवारों में भागदौड़ मची है. वहीं मुख्यमंत्री पद की इस भागदौड़ को देखकर खुद पायलट खेमा भी हैरान है. क्योंकि सीएम बनने की दौड़ में पायलट कैंप अभी स्वयं को सबसे आगे मान रहा है. 


 

और पढ़ें