अनुशासनहीनता का नोटिस मिलने के बाद बोले पूर्व मंत्री रोहिताश्व शर्मा, कहा - भजनलाल मुझे नोटिस नहीं दे सकते

अनुशासनहीनता का नोटिस मिलने के बाद बोले पूर्व मंत्री रोहिताश्व शर्मा, कहा - भजनलाल मुझे नोटिस नहीं दे सकते

अनुशासनहीनता का नोटिस मिलने के बाद बोले पूर्व मंत्री रोहिताश्व शर्मा, कहा - भजनलाल मुझे नोटिस नहीं दे सकते

जयपुर: बीजेपी (BJP) ने अनुशासनहीनता का आरोप लगाते हुए पूर्व मंत्री और बानसूर से विधायक रहे रोहिताश्व कुमार (Rohitashv Kumar) को नोटिस (notice) दिया है. पार्टी ने उन पर संगठन के वरिष्ठ नेताओं और विधायकों के खिलाफ अनर्गल बयान का आरोप लगाया है. इस मामले पूर्व मंत्री डॉ रोहिताश्व शर्मा ने फर्स्ट इंडिया न्यूज से बात करते हुए कहा कि संगठन महामंत्री चंद्रशेखर से मिलूंगा. मैंने वर्चुअल मीटिंग में अपनी भावना व्यक्त की थी, सावर्जनिक तौर पर अपनी बात नहीं कही थी. ऐसे में भजनलाल मुझे नोटिस नहीं दे सकते हैं. मेरे क्षेत्र में तीनों मंत्रियों का कोई दौरा नहीं हुआ था. मैंने कहा कि bjp को विपक्ष की भूमिका सही नहीं है. 

इसके साथ ही पूर्व मंत्री ने कहा कि चिट्ठी महामंत्री को लिखने का कोई अधिकार नहीं है. पहले मैं यह जानने की कोशिश करूंगा कि चिट्ठी वैलिड है या नही है. गहलोत और पायलट जैसे नेता कोरोना में घूमकर काम कर रहे हैं तो उनका जवाब देने के लिए बड़े नेताओं को आना चाहिए था. मैंने कोई गाली गलौच की बात नहीं कहीं, हम तो वैष्णव ब्राह्मण है मार्शल कौम नहीं. 

नरेंद्र भाई मोदी को bjp ने नहीं जनता ने ही बनाया: 
इसके आगे उन्होंने एक बार फिर कहा कि वसुंधरा राजे हमारी नेता है उन्हीं की वजह से प्रदेश में दो बार बीजेपी की सरकार बनी है. नरेंद्र भाई मोदी को bjp ने नहीं जनता ने ही बनाया है. मोदी मोदी का नारा जनता ने लगाया है. बंगाल में कोई नेतृत्व करने वाला नहीं था तो ढेर हो गए. उन्होंने कहा कि ऐसे में कार्यकर्ताओं से पूछकर लीडर बनाया जाना चाहिए. इसके साथ ही रोहिताश्व कुमार ने कहा कि नोटिस देने से पूर्व मुझसे पूछना चाहिए था. पार्टी हमारी माँ है करता धरता उनके पुत्र होते हैं. वसुंधरा राजे के बिना राजस्थान में संभव नहीं है. पार्टी महत्वपूर्ण है लेकिन ड्राइवर भी जरूरी है. 

मैं दीनदयाल उपाध्याय और मोहन भागवत से प्रभावित हूं:
पूर्व मंत्री ने कहा कि कोविड 19 में वसुंधरा राजे के संगठन ने राजस्थान की जनता की मदद की है. सेवा ही संगठन चल रहा था लेकिन एक्टिव नज़र नही आया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पार्टी हमारी मां है. ऐसे में माँ और बेटे को कोई अलग नही कर सकता है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैं दीनदयाल उपाध्याय और मोहन भागवत से प्रभावित हूं. प्रदेश में भैरोसिंह शेखावत और वसुंधरा राजे की वजह से पार्टी बनी है. वहीं शिशुपाल शब्द पर तिलमिलाते हुए उन्होंने कहा कि अभी में कुछ नहीं बोलूंगा बाद में बोलूंगा. मेरे से नाराजगी है कि हम रामसिंह कस्वा के साथ थे. राजेंद्र राठौड़ आज इनके सहयोगी बने फ़िरते है लेकिन उन्हें भी गाली दी गई है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हम प्रदेश अध्यक्ष का सम्मान करते हैं. पूर्व मंत्री ने कहा कि जिन लोगों के हाथ मे आज भाजपा है वो धरतीपुत्र नहीं है. 

...फर्स्ट इंडिया न्यूज के लिए एश्वर्य प्रधान की रिपोर्ट

और पढ़ें