गहलोत-पायलट विवाद में अब कमलनाथ ने भी खड़े किए हाथ, नहीं बनेंगे राजस्थान मामलों में मध्यस्थ !

गहलोत-पायलट विवाद में अब कमलनाथ ने भी खड़े किए हाथ, नहीं बनेंगे राजस्थान मामलों में मध्यस्थ !

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (ashok gehlot) और पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) विवाद में अब एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ (Kamal Nath) ने भी हाथ खड़े कर दिए हैं! सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कमलनाथ राजस्थान मामलों में मध्यस्थ नहीं बनेंगे! उनके करीबी जानकारों ने बताया कि कमलनाथ अन्य मसलों में बेहद व्यस्त चल रहे हैं. एमपी में उन्हें 1 लोकसभा और 4 विधानसभा उपचुनावों की रणनीति बनानी है. 

उधर, राहुल गांधी ने उन्हें कर्नाटक का टास्क भी सौंप दिया है. कर्नाटक की कांग्रेस में भी इन दिनों उथल-पुथल मची है. ऐसे में कमलनाथ ने कर्नाटक में मोर्चा संभाला है. साथ ही 10, जनपथ के कहने पर वे पंजाब घटनाक्रम से भी जुड़े हैं. ऐसे में कमलनाथ राजस्थान की कांग्रेस के अंदरूनी मसलों में पड़ना नहीं चाहते! इससे पहले ऐसी खबरे चली थी कि उन्हें राजस्थान कांग्रेस में चल रही सियासी महाभारत को खत्म करने की जिम्मेदारी दी गई है.

पिछले कुछ दिनों से पायलट खेमा फिर से नाराज चल रहा: 
बता दें क राजस्थान में पिछले कुछ दिनों से पायलट खेमा फिर से नाराज चल रहा है. पिछले साल घटे घटनाक्रम के बाद पायलट खेमे की नाराजगी को दूर करने के लिए कांग्रेस आला कमान ने एक समन्वय समिति बनायी थी. लेकिन इस समन्वय समिति बैठक अब तक नहीं हुई है. इसी के चलते सचिन समर्थन कांग्रेस के आठ विधायकों ने पायलट से मुलाकात भी की थी. इस बैठक में कई मुद्दों पर विस्तार पर चर्चा हुई थी. इन विधायकों ने कहा था कि हम लोग पायलट के साथ मजबूती से खड़े हैं. हम कांग्रेस में हैं और कांग्रेस में रहकर ही आवाज उठाएंगे. विधायकों का कहना था कि आलाकमान ने जो वादे किए, उन्हें पूरा करना चाहिए. 

और पढ़ें