Live News »

मनरेगा में राजस्थान ने श्रमिक नियोजन का गत दस वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ा: पायलट

मनरेगा में राजस्थान ने श्रमिक नियोजन का गत दस वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ा: पायलट

जयपुर: मनरेगा में राजस्थान लगातार रिकॉर्ड बना रहा है. उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बताया कि राजस्थान में मनरेगा के तहत श्रमिक नियोजन 35.59 लाख हो गया है, जो पिछले दस वर्षों में सर्वाधिक श्रमिक नियोजन है. पायलट ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण वर्तमान परिस्थिति में ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार उपलब्ध करवाकर आर्थिक सम्बल प्रदान करने में मनरेगा मददगार साबित हुई है. 

Rajasthan Corona Updates:  पिछले 12 घंटे में तीन मौतें, 83 नए पॉजिटिव केस आए सामने 

वर्तमान में ‘एक ग्राम-चार काम‘ अभियान चलाया जा रहा: 
उन्होंने बताया कि जनवरी, 2019 में 100 दिवसीय कार्य योजना बनाकर प्रत्येक ग्राम पंचायत में चारागाह विकास, मॉडल तालाब विकास, शमशान/ कब्रिस्तान विकास और खेल मैदान विकास के एक-एक कार्य स्वीकृत करने की योजना चलायी गई थी. इसको एक कदम आगे बढ़ाते हुए वर्तमान में ‘एक ग्राम-चार काम‘ अभियान चलाया जा रहा है जिसके तहत उक्त कार्य प्रदेश के प्रत्येक राजस्व गांव में प्राथमिकता के आधार पर करवाये जा रहे हैं. 

प्रदेश में अब तक 36,679 कार्य स्वीकृत किये जा चुके: 
पायलट ने बताया कि इस अभियान के तहत प्रदेश में अब तक 36,679 कार्य स्वीकृत किये जा चुके हैं जिनमें 9,281 चारागाह विकास, 9,090 मॉडल जलाशय विकास, 9,589 शमशान/कब्रिस्तान विकास तथा 8,719 खेल मैदान विकास के कार्य स्वीकृत किये गये हैं. 

लॉकडाउन 4 के बीच राज्यसभा चुनाव की कवायद, राजनीतिक गतिविधियां तेज 

अब तक लगभग 1372 करोड़ रूपये खर्च किये जा चुके:
उन्होंने बताया कि इन कार्यों पर अब तक लगभग 1372 करोड़ रूपये खर्च किये जा चुके हैं. उन्होंने बताया कि प्रत्येक राजस्व गांव में इन कार्यों का क्रियान्वयन ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग की विभिन्न योजनाओं में समन्वय कर कनवर्जेन्स के माध्यम से किया जा रहा है. 

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 4 मौत, 273 नए पॉजिटिव केस, जयपुर के SMS अस्पताल में कोरोना का बड़ा विस्फोट

जयपुर: राजस्थान में कोरोना वायरस के लगातार मामले बढ़ते जा रहे है. पिछले 24 घंटे में 4 मरीजों की मौत हो गई. ज​बकि 273 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. जयपुर में 2, भरतपुर और कोटा में एक-एक मरीज की मौत हो गई. सर्वाधिक 70 केस अकेले भरतपुर में सामने आये है. राजस्थान में कोरोना की चपेट में आने से अब तक 203 मरीजों की मौत हो चुकी है, वहीं कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 9 हजार 373 हो गई है. 

भरतपुर में सबसे ज्यादा मामले आये सामने:
मंगलवार रात 8:30 बजे तक सर्वाधिक 70 केस अकेले भरतपुर में सामने सामने आये. अजमेर 1, अलवर 10, बाड़मेर 3,  भीलवाड़ा 8 पॉजिटिव, बीकानेर 2, चित्तौडगढ़ 3, चूरू 2, दौसा में 7 पॉजिटिव, धौलपुर में 2, श्रीगंगानगर में 1, जयपुर 42 पॉजिटिव, झालावाड़ में 23, झुंझुनूं 6, जोधपुर 44, कोटा 13 पॉजिटिव, पाली 13, सीकर 5, सिरोही 12, टोंक में 1 पॉजिटिव, उदयपुर में 4 और दूसरे राज्य का एक मरीज पॉजिटिव सामने आया. 

जयपुर जंक्शन से गति पकड़ रहा ट्रेनों का संचालन, मुम्बई से 834 यात्रियों के साथ ट्रेन पहुंची जयपुर

जयपुर में एक ही दिन में 2 मौत, 42 नए पॉजिटिव:
जयपुर में एक ही दिन में 2 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 42 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. कुल पॉजिटिव में से अकेले 20 मरीज SMS अस्पताल से सामने आये है.इलाकेवार देखे तो एक बार फिर रामगंज में 17 नए केस सामने आये है. SMS अस्पताल के स्टाफ में से अधिकांश केस रामगंज के इलाके है. इसके अलावा सूरजपोल से 1,पांच्यावाला से 1,झोटवाड़ा से 1 पॉजिटिव, ग्रीन विहार से 1,चांदपोल से 3,शाहपुरा से 1 पॉजिटिव, झालाना कच्ची बस्ती से 1,पालडी मीणा से 1,राजपुरा से 1 पॉजिटिव, अम्बाबाडी से 1,करतापुरा अम्बेडकर नगर से 1,जवाहर नगर से 1 पॉजिटिव, शास्त्री नगर से 2,बंजारा बस्ती से 1,ब्रह्मपुरी से 1,जगतपुरा से 1 पॉजिटिव, अशोक नगर से 1,कोटपूतली से 2,मुरलीपुरा से 1,वनस्थली मार्ग से 1 पॉजिटिव, श्याम नगर से एक मरीज कोरोना पॉजिटिव मिला है. जयपुर में अब तक 96 लोगों की मौत हो चुकी है. जबकि अब तक  2069 पॉजिटिव केस सामने आ चुके है. 

जयपुर के SMS अस्पताल में कोरोना का बड़ा विस्फोट:
राजधानी जयपुर के SMS अस्पताल में कोरोना का बड़ा विस्फोट हुआ है. एक ही दिन में 20 कोरोना वॉरियर कोरोना पॉजिटिव आए है. इसमें 10वार्ड ब्वॉय,एक वार्ड लेडी,एक गर्ल्स हॉस्टल की स्वीपर, दो कम्प्यूटर ऑपरेटर,दो डीडीसी सहायक,एक मोटर वर्कर,एक गेयर हाउस वर्कर,दो गार्ड जांच में पॉजिटिव निकले है.

राजस्थान रोडवेज बढ़ा रहा बस संचालन का दायरा, बुधवार से 100 नए रूटों पर चलेंगी बसें

राजस्थान रोडवेज बढ़ा रहा बस संचालन का दायरा, बुधवार से 100 नए रूटों पर चलेंगी बसें

जयपुर: अनलॉक 1.0 में राजस्थान रोडवेज अपने संचालन का दायरा बढ़ाने जा रहा है. इसके तहत रोडवेज प्रबंधन कल से करीब 100 नए मार्गों पर बसों का संचालन शुरू करेगा. 2 महीने से अधिक के लॉक डाउन के बाद अब प्रदेश सरकार जनजीवन को सामान्य करने के प्रयास कर रही है. हाल में सरकार ने सार्वजनिक परिवहन सेवा को शुरू करने का एलान किया था. सरकार के आदेशों के बाद अब रोडवेज बुधवार से अपने संचालन का दायरा बढ़ाने जा रहा है. बुधवार से करीब 100 रूटों पर राजस्थान रोडवेज की बसें शुरू हो जाएंगी. बुधवार से चलने वाली सभी बसों के बारे में रोडवेज की वेबसाइट से जानकारी ली जा सकती है. बुधवार से शुरू हो रही नई बसों के लिए ऑनलाइन बुकिंग भी शुरू की जा चुकी है. 

जयपुर के लिए शुरू हो जाएगा बसों का संचालन:
रोडवेज प्रबंधन ने बुधवार से शुरू हो रही बसों को लेकर यह प्रयास किया है कि सभी जिला मुख्यालयों से जयपुर के लिए बसों का संचालन शुरू हो जाएगा. अब प्रदेश के सभी जिलों में भी कल से बसों का संचालन शुरू हो जाएगा. रोडवेज के एमडी नवीन जैन ने बताया कि कल से ही राजस्थान रोडवेज़ अंतर्राज्यीय बस सेवा भी शुरू कर देगा. पहले चरण में फिलहाल हरियाणा के लिए ही यह सेवा शुरू होगी लेकिन जल्द ही इस सेवा का विस्तार किया जाएगा. रोडवेज एमडी ने सभी आगार प्रबंधक को आदेश जारी कर कोरोना को लेकर जारी सभी गाइडलाइंस का पालन करने के निर्देश दिए हैं.

यहां से शुरू होंगी रोडवेज की बसें:

जयपुर से गुड़गांव

जयपुर से हिसार

जयपुर से कोटा

जयपुर से जोधपुर

जयपुर से उदयपुर

जयपुर से भरतपुर

जयपुर से बीकानेर

जयपुर से तिजारा

भरतपुर से अलवर

नागौर से बीकानेर

ब्यावर से पाली

जैसलमेर से जोधपुर

जैसलमेर से बाड़मेर

भीलवाड़ा से देवली

भीलवाड़ा से अजमेर

भीलवाड़ा से कोटा

रोडवेज ने किया कैशबैक ऑफर भी लॉन्च:
बुधवार से 100 नए रूटों पर शुरू हो रहीं बसों को लेकर एक अच्छी खबर यह है कि अब बसों में यात्रा करने के लिए सिर्फ़ ऑनलाइन टिकिट लेने की अनिवार्यता नही है. यात्री काउंटर से या बस में परिचालक से भी टिकिट ले सकेंगे. सिर्फ ऑनलाइन टिकिट के विकल्प के कारण ग्रामीण क्षेत्र के यात्रियों को काफी परेशानी हो रही थी. हालांकि ऑनलाइन तिकीटिंग को बढ़ावा देने के लिए रोडवेज ने कैशबैक ऑफर भी लॉन्च किया है.  ऑनलाइन बुकिंग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से रोडवेज ने ऑनलाइन टिकट बुक कराने पर 5 प्रतिशत कैश बैक देने की योजना बनाई है. लेकिन यह कैश बैक केवल रजिस्टर्ड यूजर को ही मिलेगा. इसके लिए आपको टिकट बुक करने से पहले वेबसाइट पर रजिस्टर्ड करना होगा. यात्रियों के लिए अच्छी खबर यह भी है कि अब बस में 30 सवारी होने के आदेश को भी वापस ले लिया है,,अब बस में सभी सीटों के अनुसार 52 यात्री सफर कर सकेंगे. हालांकि बस में खड़े हो कर यात्रा करने पर रोक रहेगी.

सामान्य लोग भी जा सकेंगे अब अपनी मंजिल तक:
रोडवेज ने बस संचालन में कहीं संक्रमण नहीं फैल जाए इसे लेकर भी आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए हैं. इसके तहत रूट पर बस को भेजने से पहले उसे पूरी तरह से सेनेटाइज किया जाएगा. वहीं क्षमता के अनुसार ही बस में यात्री बैठाए जाएंगे. इसके अलावा बस स्टैंड पर पूछताछ खिड़की, टिकट विंडो और परिचालक को वॉशेबल ग्लब्ज़, फेश शील्ड और मास्क पहनना अनिवार्य किया जाएगा. इन 100 नए मार्गों पर बसें चलाने के बाद रोडवेज जल्द ही मार्गों की संख्या बढ़ाएगा, अगले सप्ताह से 200 रूट्स पर बसों का संचालन किया जाएगा. इसके लिए आप भी [email protected] पर ईमेल करके अपने सुझाव भेज सकते हैं. रोडवेज सीएमडी नवीन जैन का कहना है कि रूट्स निर्धारण में इन सुझावों को भी पूरा महत्व दिया जाएगा. सार्वजनिक परिवहन सेवा शुरू होने से अलग अलग जिलों में अटक रहे सामान्य लोग भी अब अपनी मंजिल तक जा सकेंगे. लोगों के मूवमेंट से आमजन जीवन भी सामान्य होगा.

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट

केंद्र के 10 राज्यों के तुलनात्मक अध्ययन में राजस्थान अव्वल, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने सार्वजनिक की केंद्रीय रिपोर्ट

जयपुर: कोरोना रोकथाम को लेकर राजस्थान सरकार ने देश भर में अपनी अलग पहचान बनाई है. खुद केंद्र सरकार ने देश के 10 राज्यों में अलग-अलग मापदंडों पर स्टडी कराई जिसमें राजस्थान अव्वल आया है.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने इस उपलब्धि का श्रेय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की माइक्रो प्लानिंग और प्रदेशवासियों की सजगता और सावधानी को दिया है. केंद्र सरकार ने कोरोना को लेकर 10 राज्यों द्वारा कोरोना की रोकथाम के लिए किए कार्यों का अध्ययन कर रिपोर्ट प्रस्तुत की है.इस रिपोर्ट में राजस्थान हर मामले में एक नंबर पर रहा है.

अकेले राजस्थान में 4 लाख टेस्ट:
भले ही बात एक्टिव केसेज, रिकवर केसेज, मृत्यु दर या अन्य प्रदेष हर इंडेक्स में राजस्थान नंबर वन पर है.इस पूरे मामले में चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा है कि पूरे देश में जहां 35 लाख टेस्ट हुए हैं, उनमें से अकेले राजस्थान में 4 लाख टेस्ट किए जा चुके हैं.SMS अस्पताल में अकेले 1 लाख 10 हजार से ज्यादा टेस्ट किए गए हैं. प्रदेश में 18 दिनों में संक्रमितों की संख्या दोगुनी हो रही है, जबकि देश में यह दर तो 12 दिनों में ही है. यही वजह कि राजस्थान में कोरोना संक्रमण का ग्राफ नीचे जा रहा है.  

मुकुंदरा से आई खुशखबरी, बाघिन MT-2 ने दिया दो शावकों को जन्म, मुख्यमंत्री गहलोत ने जताई खुशी

18250 टेस्ट प्रतिदिन करने की क्षमता विकसित:
चिकित्सा मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में सरकार ने हर पहलू पर बेहतर काम किया.उन्होंने बताया कि प्रदेश में मृत्युदर 2.16 है, जो राष्ट्रीय औसत से काफी कम है. प्रदेश में 201 लोगों की मृत्यु हुई है उसमें कोविड को लेकर कुछेक होंगी.जो अब तक मौतें हुई हैं वे अधिकतर किडनी, ह्दय, डायबीटीज, कैंसर व अन्य बीमारियों से हुई हैं.उन्होंने कहा कि यह मुख्यमंत्री का ही विजन था कि जिस प्रदेश में जीरो टेस्टिंग थी वहां आज 18250 टेस्ट प्रतिदिन करने की क्षमता विकसित कर ली है. जल्द ही 25000 के लक्ष्य को भी पा लेंगे.

- सरकार की माइक्रो प्लानिंग के चलते ही कोरोना गांवों में फैलने से बचा
- चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा का दावा
- चिकित्सा मंत्री ने कहा सरकार होम, इंस्टीट्यूषनल क्वारंटीन सेंटर, कोविड केयर सेंटर, कोविड डेडिकेटेड अस्पाल नहीं बनाती तो संक्रमितों की तादात कहीं ज्यादा होती
- प्रदेश की संस्थागत क्वारंटीन सुविधा अव्वल दर्जे की रही है
- ग्राम, उपखंड और जिला स्तर पर कमेटी बनाकर जो माइक्रो लेवल पर काम किया उसी का नतीजा रहा कि 11 लाख लोग अहमदाबाद, सूरत, मुंबई जैसे देश के अन्य संक्रमित हिस्सों से गावों में आए लेकिन संक्रमण उतना नहीं फैल पाया
ग्राफिक्स आउट

राजस्थान में 2803 एक्टिव केसेज:
चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य में पहले कोरोना केसेज का ग्राफ बढ गया था लेकिन अब यह नीचे आ रहा है. प्रदेश में अब लोगों की सावधानी की वजह से संक्रमण बढ नहीं रहा है. अब ग्रामीण लोगों में भी कोरोना को लेकर जागरूकता आने लगी है. उन्होंने कहा कि प्रदेश में हालांकि 2803 एक्टिव केसेज हैं लेकिन इनमें से 2620 प्रवासी कामगार हैं. प्रवासियों को छोड़कर केवल 103 केसेज वर्तमान में एक्टिव हैं. उन्होंने कहा कि यही वजह कि जयपुरिया और एसएमएस अस्पताल को कोविड फ्री कर दिया गया है.

प्रदेश में चलाई गई 550 मोबाइल ओपीडी वैन: 
डॉ शर्मा ने कहा कि धीरे-धीरे अब प्रदेश में राष्टीय कार्यक्रम, टीकाकरण, मातृ-शिशु के कार्यक्रम, कैंसर रोकथाम और अन्य कार्यक्रमों को जारी रखेंगे ताकि स्वस्थ और निरोगी रहकर कोराना का सामना कर सकें. उन्होंने कहा कि कोरोना के अलावा अन्य बीमारियों के उपचार के लिए प्रदेश में 550 मोबाइल ओपीडी वैन चलाई गई, जिससे लाखों लोग लाभान्वित हो चुके हैं. आमजन को घर बैठे ऑनलाइन चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए ई-संजीवनी पोर्टल शुरू किया. जहां हजारों लोग सीधे या ई-मित्र के जरिए परामर्ष और उपचार ले चुके हैं. उन्होंने कहा कि जब हम कोरोना को काफी हद तक नियंत्रित कर चुके हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का हवाला देते हुए चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा हैै कि कोरोना को पूरी तरह खत्म होने में सालों लगेंगे.इसलिए रोकथाम की सावधानियों को जीवन शैली में अपनाकर ही कोरोना से बचा जा सकता है.

शराब के शौकीनों को बड़ा झटका, जानिए राजस्थान में कितनी महंगी हुई बीयर और शराब

राजस्थान में होमगार्ड भर्ती की खुली राह, अब 10 जून से फॉर्म भर सकते हैं अभ्यर्थी

राजस्थान में होमगार्ड भर्ती की खुली राह, अब 10 जून से फॉर्म भर सकते हैं अभ्यर्थी

जयपुर: प्रदेश में 2500 स्वयंसेवक (volunteer) सहित स्थाई होमगार्ड (home guard) भर्ती की राह खुल गई है. अब अभ्यर्थी 10 जून से 9 जुलाई तक फॉर्म भर सकते हैं. पहले भी विभाग ने विज्ञप्ति जारी की थी लेकिन लॉकडाउन के चलते रोक लग गई थी. ऐसे में अब भर्ती की राह खुलने से अभ्यर्थी उत्साहित नजर आ रहे हैं. 

Cyclone Nisarga: कोरोना संकट के साथ लगातार प्रकृति का प्रकोप भी जारी, विकराल रूप ले सकता है निसर्ग चक्रवात  

इसके लिए विभाग में तैयारियां भी शुरू हो गई हैं. इसके अलावा होमगार्ड (home guard) के स्थाई पदों को भरा जाएगा. ताकि गृह रक्षा विभाग (home guards) में स्टाफ की कमी नहीं रहे. अस्थाई होमगार्ड के कल्याण के लिए भी विभाग ने नवाचार किया है. 

जैसलमेर में टिड्डी का टेरर, जून-जुलाई और अगस्त में पाक से बड़े टिड्डी हमले की चेतावनी 

ऐसे होमगार्ड जिनकी आयु 55 वर्ष हो चुकी है वे स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (retirement) ले सकते हैं. उनके पुनर्वास और कल्याण (welfare) के लिए 1.50 लाख रुपए भी दिए जाएंगे. इससे वे व्यापार या आजीविका का कोई साधन तैयार कर सकेंगे. 
 

समस्त जिला एवं सेशन न्यायधीशों को बाल न्यायालय के रूप में सभी प्रकरणों की सुनवाई का अधिकार

समस्त जिला एवं सेशन न्यायधीशों को बाल न्यायालय के रूप में सभी प्रकरणों की सुनवाई का अधिकार

जयपुर: राज्य सरकार ने एक अधिसूचना जारी कर राज्य में स्थित समस्त जिला एवं सेशन न्यायधीशों को अपने-अपने कार्य क्षेत्र की सीमाओं के लिए बाल न्यायालय के रूप में विनिर्दिष्ट किया है. 

Cyclone Nisarga: कोरोना संकट के साथ लगातार प्रकृति का प्रकोप भी जारी, विकराल रूप ले सकता है निसर्ग चक्रवात  

विधि एवं विधिक विभाग की ओर से जारी इस अधिसूचना के अनुसार न्यायधीशों को लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम, 2012 के प्रकरणों को छोड़कर बालक अधिकार संरक्षण आयोग अधिनियम, 2005 के तहत बाल न्यायालय के रूप में सभी प्रकरणों की सुनवाई का अधिकार होगा. 

जैसलमेर में टिड्डी का टेरर, जून-जुलाई और अगस्त में पाक से बड़े टिड्डी हमले की चेतावनी 

साथ ही वर्तमान में कार्यरत विशेष न्यायालयों, लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम, 2012 एवं बालक अधिकार संरक्षण आयोग अधिनियम 2005 को लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 एवं राजस्थान उच्च न्यायालय द्वारा अन्तरित किये गये प्रकरणों की सुनवाई का अधिकार होगा. 
 

Cyclone Nisarga: कोरोना संकट के साथ लगातार प्रकृति का प्रकोप भी जारी, विकराल रूप ले सकता है निसर्ग चक्रवात

Cyclone Nisarga: कोरोना संकट के साथ लगातार प्रकृति का प्रकोप भी जारी,  विकराल रूप ले सकता है निसर्ग चक्रवात

नई दिल्ली: कोरोना संकट के साथ लगातार प्रकृति का प्रकोप भी जारी है. बंगाल और उड़ीसा में अम्फान के कहर के बाद अब पश्चिमी तटीय इलाकों में चक्रवात निसर्ग दस्तक दे सकता है. चक्रवाती तूफान 'निसर्ग' गुजरात के तट पर 3 जून को दस्तक दे सकता है. इसके मद्देनजर महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा, दमन-दीव और दादरा नगर हवेली में अलर्ट जारी किया गया है. साथ ही आधा दर्जन से अधिक जिलों में नेशनल डिजास्टर रेस्पॉन्स फोर्स (NDRF) की 10 टीमें तैनात की गई हैं. निसर्ग के खतरे से निपटने के लिए कुल NDRF 23 टीमों को तैनात किया गया है.

VIDEO: लॉक डाउन के बाद और अनलॉक 1.0 की संभावनाओं को लेकर First India पर बोले सीएस डीबी गुप्ता  

बुधवार तक तटीय इलाकों में दस्तक देने का अनुमान: 
अभी चक्रवाती हवाएं मुंबई के तटीय इलाकों से 550 किमी और गुजरात के सूरत के दक्षिण-पश्चिमी दक्षिण इलाकों से 800 किमी दूर है. इन हवाओं के बुधवार तक तटीय इलाकों में दस्तक देने का अनुमान है. तीन जून तक महाराष्ट्र के उत्तरी इलाके और गुजरात के दक्षिण इलाकों में दस्तक देने का अनुमान है. 

हवा की गति 105 से 115 किमी प्रति घंटा होने का अनुमान:
चक्रवात निसर्ग के गंभीर चक्रवाती तूफान का रूप लेने के बाद हवा की गति 105 से 115 किमी प्रति घंटा हो सकती है. वहीं, कल यानी 3 जून को हवा की रफ्तार 125 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंच सकती है. मौसम विभाग के मुताबिक, 'इससे दक्षिणी गुजरात क्षेत्र में 3 और 4 जून को भारी बारिश होगी.

पुलिसवाले ने ही की पुलिसवाले से ठगी, खुद का वीडियो बनाकर किया सोशल मीडिया पर वायरल 

अम्फान के मुकाबले थोड़ा कमजोर: 
हालांकि चक्रवात निसर्ग, चक्रवात अम्फान के मुकाबले थोड़ा कमजोर हो सकता है. अरब सागर में चल रही तेज हवाएं चार किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उत्तर की ओर चल रही हैं और मुंबई से 550 किमी दूर है. चक्रवात निसर्ग से महाराष्ट्र के रायगढ़ में हरिहरेश्वर और दमन में तीन जून को भूस्खलन हो सकता है. 


 

जैसलमेर में टिड्डी का टेरर, जून-जुलाई और अगस्त में पाक से बड़े टिड्डी हमले की चेतावनी

जैसलमेर में टिड्डी का टेरर, जून-जुलाई और अगस्त में पाक से बड़े टिड्डी हमले की चेतावनी

जैसलमेर: भारत पाक सीमा से सटे सरहदी जिले में जैसलमेर में एक बार फिर टिड्डी के हमले होने शुरू हो गए जिससे एक बार फिर से टिड्डी को लेकर चिंता सताने लगी है की पिछले साल की भाति इस बार भी कहर ना बरपा दें. एक तरफ इस बार देश में कोरोना के कहर बरपाया हुआ है वहीं दूसरी तरफ टिड्डी दल फिर से अटैक कर रहे हैं. 

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कोरोना मौतों का दोहरा शतक ! पिछले 12 घंटे में 2 मौतें, 171 नए पॉजिटिव आए सामने

टिड्डी दल के हमले ने किसानों की चिंता को बढ़ा दिया: 
सीमावर्ती इलाकों में पाकिस्तान की सीमा से सटे इलाकों में टिड्डियों की आफत ने एक बार पुनः दस्तक दी है. जैसलमेर सीमा क्षेत्र धनाना की ओर से गत रविवार को आए टिड्डी दल का जैसलमेर एयरपोर्ट मार्ग पर पड़ा उड़ा ले जाने के बाद सफाया किया इसी दल से अलग हुए एक छोटे दल लाणेला गांव के पास पड़ाव किया था वहां भी उन नियंत्रण की कार्रवाई करने का दावा सरकारी तंत्र की ओर से किया है. टिड्डी चेतावनी संगठन के राजेश कुमार ने बताया जैसलमेर एयरपोर्ट मार्ग पर 3 गुना 4 किलोमीटर की लंबाई वाले दल पर नियंत्रण के लिए लगातार प्रयास किए गए , वहीं रामदेवरा ग्राम पंचायत टिड्डी दल के हमले ने किसानों की चिंता को बढ़ा दिया क्षेत्र में पेड़ पौधे वनस्पति किसानों के खेतों में खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं फिर की ढाणी के आसपास क्षेत्र में करीब 3 किलोमीटर की परिधि में बताया कि आसमान में उड़ता नजर आया.

पुलिसवाले ने ही की पुलिसवाले से ठगी, खुद का वीडियो बनाकर किया सोशल मीडिया पर वायरल 

टिड्डी अटैक से सरकार और जिला प्रसाशन चिंतित:
जैसलमेर में लगातार टिड्डी अटैक से सरकार और जिला प्रसाशन चिंतित है. राजस्थान में प्रवेश करने से पहले टिड्डियों के ये दल पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में भी भारी तबाही मचा चुके हैं. संयुक्त राष्ट्र के फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन के मुताबिक, चार करोड़ की संख्या वाला टिड्डियों का एक दल 35 हजार लोगों के लिए पर्याप्त खाद्य को समाप्त कर सकता है. विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि जून में यह स्थिति और गंभीर हो सकती है. इस बार टिड्डी के कहर को खत्म करने के लिए विभाग दवरा पुख्ता इंतजाम किये है.

सहकारिता मंत्री आंजना ने लिखा केंद्रीय मंत्री तोमर को पत्र, समर्थन मूल्य पर होने वाली जींस खरीद का लाभ समस्त किसानों को देने का किया आग्रह

सहकारिता मंत्री आंजना ने लिखा केंद्रीय मंत्री तोमर को पत्र, समर्थन मूल्य पर होने वाली जींस खरीद का लाभ समस्त किसानों को देने का किया आग्रह

जयपुर: सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि समर्थन मूल्य पर होने वाली जिंस खरीद का लाभ समस्त किसानों को मिलना चाहिए. केन्द्र सरकार इस सम्बन्ध में नीति बनाये कि समर्थन मूल्य की खरीद में प्रत्येक किसान से एक निश्चित मात्रा में उपज की खरीद हो. 

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कोरोना मौतों का दोहरा शतक ! पिछले 12 घंटे में 2 मौतें, 171 नए पॉजिटिव आए सामने

किसानों का बहुत बड़ा तबका सरकार की योजना से वंचित:  
सहकारिता मंत्री ने बताया की भारत सरकार द्वारा खरीफ फसलों के समर्थन मूल्य में वृद्धि स्वागत योग्य कदम है और इसका फायदा किसानों को मिलेगा. उन्होनें बताया कि केन्द्र सरकार किसानों की आय दोगुना करना चाहती है वहीं दूसरी तरफ किसानों का बहुत बड़ा तबका सरकार की योजना से वंचित है. ऐसे में समान नीति बनाकर सभी किसानों को लाभांवित किया जाये.

पुलिसवाले ने ही की पुलिसवाले से ठगी, खुद का वीडियो बनाकर किया सोशल मीडिया पर वायरल 

10 से 20 प्रतिशत किसान ही अपनी उपज एमएसपी पर बेच पाते हैं:
आंजना ने बताया कि समर्थन मूल्य खरीद में किसी भी राज्य की उपज का 25 प्रतिशत ही खरीदा जाता है. केन्द्र सरकार द्वारा इस नियम से 10 से 20 प्रतिशत किसान ही अपनी उपज एमएसपी पर बेच पाते हैं. ऐसे में किसानों का बड़ा वर्ग बाजार में ओने-पोने दाम पर फसल बेचने को मजबूर होता है, और उसकी आय में बढ़ोतरी नही हो पाती है. अतः कोरोना महामारी देखते हुए एमएसपी का लाभ सभी किसानों को मिले इसके लिए केन्द्र सरकार को शीघ्र कदम उठाने चाहियें. 

Open Covid-19