जयपुर VIDEO: एक क्लिक पर होगी राजस्थान की 'हेल्थ रिपोर्ट' ! चिकित्सा विभाग में आईटी के नवाचार की बड़ी पहल

VIDEO: एक क्लिक पर होगी राजस्थान की 'हेल्थ रिपोर्ट' ! चिकित्सा विभाग में आईटी के नवाचार की बड़ी पहल

जयपुर: राजस्थान की सेहत की तस्वीर जल्द ही एक क्लिक पर उपलब्ध होगी. फिर चाहे सेक्स रेश्यो की सूचना हो या बीमारियों का डेटा अनालिसिस या फिर इलाकेवार विभिन्न कार्यक्रमों की सूचना. इन महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए बार-बार मुख्यालय को जिलों में संदेश नहीं भेजना होगा. ये सबकुछ संभव होगा चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश शुरू किए जा रहे डिजिटलाइजेशन कैम्पेन का, जिसे दो ब्लॉक के पायलेट प्रोजेक्ट के बाद अब प्रदेशभर में शुरू करने की तैयारी है.

यह सर्वे राजस्थान के हेल्थ सेक्टर की दिशा में अभिनव पहल के रूप में सामने आया: 
प्रदेश की गहलोत सरकार की मंशा है कि राजस्थान सेहत के क्षेत्र में देशभर में अलग पहचान बनाए. इसी सोच को धरातल पर उतारने के लिए शुरू किया गया है डिजिटल हेल्थ सर्वे. यह सर्वे राजस्थान के हेल्थ सेक्टर की दिशा में अभिनव पहल के रूप में सामने आया है. क्योंकि आमतौर देखा जाता है कि हेल्थ से जुड़ी सूचनाओं के लिए मुख्यालय पूरी तरह से जिलों में बैठे अधिकारियों पर निर्भर रहता है. मुख्यालय से बार बार सूचनाएं मांगी जाती है, लेकिन जिलों में पर्याप्त संसाधन नहीं होने के चलते न तो समय पर सूचना मिलती है और ही बीमारियों की सही तस्वीर मुख्याल पर आती है. ऐसे में पूरी सेहत की सूचना को ऑनलाइन करने के लिए ई-स्वास्थ्य एप के जरिए पायलेट प्रोजेक्ट शुरू किया गया है. प्रोजेक्ट की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि खुद एसीएस रोहित कुमार सिंह इसकी मॉनिटरिंग कर रहे है. 

- "ई-जन स्वास्थ्य" एप में होगी राजस्थान की सेहत की तस्वीर
- मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर डिजिटल होता चिकित्सा महकमा
- पहले चरण में राजस्थान के दो ब्लॉक गोविन्दगढ़ और श्रीमाधोपुर में सफल पायलेट प्रोजेक्ट
- आशा सहयोगियों और एएनएम के जरिए मोबाइल एप पर एकत्र किया गया घर-घर का डेटा
- सेहत से जुड़ी करीब 250 से अधिक सूचनाओं का एकत्र किया गया यह डेटा
- इस सफल प्रोजेक्ट से उत्साहित विभाग ने बढ़ाया डिजिटलाइजेशन का दायरा
- अब जोधपुर, अजमेर, सीकर, उदयपुर और सिरोही जिलों में एकसाथ शुरू किया जा रहा है यह प्रोजेक्ट
- एक अप्रेल से पूरे राजस्थान में एकसाथ शुरू होगा डिजिटलाइजेशन का यह अभियान
- एसीएस मेडिकल रोहित कुमार सिंह प्रोजेक्ट की सफलता के लिए कर रहे पल पल की मॉनिटरिंग

चिकित्सा विभाग एक तरफ जहां घर-घर की सेहत की तस्वीर ऑनलाइन करने में लगा है, वहीं दूसरी ओर केन्द्र ओर राजस्थान सरकार की तरफ से चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं की मॉनिटरिंग भी सेन्ट्रलाइज्ड सिस्टम से शुरू कर दी गई है. इसके लिए बकायदा राज्य स्तर पर मॉनिटरिंग सेल का गठन किया गया है. यह सेल योजनावार हर सूचना को ऑनलाइन अपडेट रखेगी. इसके साथ ही यह कोशिश रहेगी की फील्ड में मौजूद चिकित्साकर्मियों को अलग अलग सूचनाओं के लिए बार बार घर-घर दस्तक न देनी पड़े.

- सेन्ट्रल सेल से मिलेगी हर कार्यक्रम की सटीक सूचना
- फिलहाल 51 अलग-अलग सिस्टम-सॉफ्टवेयर से होती मॉनिटरिंग
- गैर संचारी रोग, अंधता नियंत्रण कार्यक्रम, वेक्टर बोर्न बीमारी
- टीबी उन्मूलन, कुष्ठ रोग उन्मूलन, मानसिक रोग नियंत्रण कार्यक्रम
- प्लोरोसिस नियंत्रण कार्यक्रम, ओरल हेल्थ कार्यक्रम के अलावा
- विभागीय कार्यक्रमों की मॉनिटरिंग करते है ये सिस्टम-सॉफ्टवेयर
- अलग-अलग मॉनिटरिंग से फील्ड कार्मिकों की होती बड़ी भागदौड
- ऐसे में अब एक मॉनिटरिंग सेल की दिशा में उठाया गया बड़ा कदम
- राज्य स्तर पर मॉनिटरिंग सेल ही करेगी हर डेटा का संधारण

राजस्थान को निरोगी बनाने की दिशा में गहलोत सरकार का यह कदम सराहनीय है. हालांकि, डिजिटलाइजेशन का यह काम बड़ा चुनौतिपूर्ण है, जिसे अपने उद्देश्य तक पहुंचाने के लिए जरूरी यह है कि मुख्यालय के कर्ताधर्ता इस काम को पहली प्राथमिकता पर रखे. ऐसा हुआ तो निश्चिततौर पर दो ब्लॉक का सफल प्रोजेक्ट आगे जाकर राजस्थान की सेहत की अलग तस्वीर बयां करेगा. 
 

और पढ़ें