Live News »

चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा बोले, प्रतिदिन हो रही हैं 16000 से ज्यादा जांचें, मई माह के अंत तक पा लेंगे 25000 का लक्ष्य

जयपुर: राजस्थान में कोरोना की जांचों को लेकर राज्य सरकार अति गंभीर है.प्रदेश में 16250 जांचें प्रतिदिन की जा रही हैं, जिसे 25000 प्रतिदिन करने का लक्ष्य है. चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा का दावा है कि राजस्थान इस माह के अंत तक विभाग 25000 जांचें प्रतिदिन करने की क्षमता विकसित कर लेगा.साथ ही बताया कि राजस्थान देश के उन चुनींदा राज्यों में शामिल है जहां अब तक 3.27 लाख से ज्यादा लोगों की जांच की गई है.कोरोना की जांच को लेकर राज्य सरकार की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 2 मार्च को पहला केस जब आया था तब राजस्थान में एक भी जांच की फैसिलिटी नहीं थी. 

प्रतिदिन हो रही हैं 16000 से ज्यादा जांचें:
अभी से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सक्रियता कहे या चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा का प्रयास, जिसके चलते फिलहाल राजस्थान में 16000 से अधिक जांच रोजाना हो रही है.चिकित्सा मंत्री ने बताया कि प्रदेश में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेशो भी अन्य राज्यों की तुलना में काफी बेहतर है. राज्य में रिकवरी रेशो 60 प्रतिशत तक रहा है. उन्होंने बताया कि सोमवार दोपहर 2 बजे तक की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में 7173 लोग कोरोना पाॅजिटिव पाए गए, इनमें से 3860 लोग पाॅजिटिव से नेगेटिव हो चुके हैं और 3424 लोग तो अस्पतालों से डिस्चार्ज भी किए जा चुके हैं. वर्तमान में कोरोना के 3150 एक्टिव केसेज हैं.

राज्य में हालात पूरी तरह नियंत्रण में:
चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए स्लोगन ‘राजस्थान सतर्क है‘ पर सरकार संवेदनशील तरीके से काम कर रही है. राज्य में हालात पूरी तरह नियंत्रण में हैं. प्रदेश सरकार द्वारा ज्यादा सैंपलिंग, क्वारेंटाइन, आइसोलशन, तुरंत उपचार जैसी सुविधाओं के कारण ही संक्रमण पर काबू पाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि प्रदेश के बाहर से आने वाला हर व्यक्ति के लिए 14 दिनों के होम या इंस्टीट्यूशनल क्वारेंटाइन अनिवार्य किया हुआ है, ताकि बाहरी व्यक्ति से संक्रमण ना फैल सके. उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति बिजनेस के सिलसिले में या छोटे-मोटे काम के लिए राज्य में आ रहे हैं वे भी आरटी-पीसीआर टेस्ट कराकर आएं या फिर यहां टेस्ट के नेगेटिव आने के बाद ही लोगों के बीच में जाएं.

जयपुर एयरपोर्ट से शुरू हुआ फ्लाइट संचालन, पहले दिन रद्द हुई ज्यादा फ्लाइट, संचालन हुआ कम, 20 में से 13 फ्लाइट्स रद्द

-प्रवासियों के 14 दिन के क्वॉरेंटाइन के प्रति सरकार गंभीर
-चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने दी जानकारी
-डॉ शर्मा ने कहा, प्रवासी चाहे एयरपोर्ट से आए या सड़क मार्ग से
-सभी को 14 दिन के क्वॉरेंटाइन के नियम की पालना करनी होगी 
-जो लोग अल्प अवधि के लिए बिजनेस या अन्य काम से आ रहे हैं राजस्थान
-वे या तो अपना आरटीपीसीआर टेस्ट करवाकर आए
-या फिर प्रदेश में आने के बाद क्वॉरेंटाइन में रहते हुए कराएं टेस्ट
-यदि टेस्ट की रिपोर्ट आती है नेगेटिव तो ऐसे लोगों को दी गई है आवश्यक कार्य पूरा करने की छूट

प्रवासी राजस्थानी और कामगारों को होम क्वारंटाइन:
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए बाहर से आए करीब 7.25 लाख प्रवासी राजस्थानी और कामगारों को होम क्वारंटाइन में रखा जा रहा है. ग्राम स्तर पर बनी कमेटियों के सदस्य उन पर निगरानी रखते हैं. यही नहीं 10 हजार से ज्यादा संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर्स में उन लोगों को रखा जा रहा है जिनके घरों में अलग रहने के लिए पर्याप्त जगह नहीं है या फिर वे खांसी-जुकाम-बुखार से पीड़ित हैं. ऐसे करीब 35 हजार से ज्यादा लोग हैं. उनके बेहतर खान-पान व अन्य व्यवस्था सरकार अपने खर्चे पर कर रही है.

-प्रदेश में मृत्युदर भी राष्ट्रीय दर के मुकाबले काफी कम 
-चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने रखे आंकड़े
-प्रदेश में महज 2.36 प्रतिशत है.
-उन्होंने बताया कि राज्य में मरीजों की संख्या लगभग 16 दिनों में दोगुनी हो रही है
-जबकि देश में डबलिंग कम दिनों में हो रही है. 

राजस्थान जल्द ही होगा कोरोना से मुक्त:
फाइनल चिकित्सा मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने कोरोना की रोकथाम और बचाव के लिए हर पहलू पर बेहतरीन काम किया है. प्रदेश में जोधपुर व जयपुर में प्लाज्मा थैरेपी से गंभीर मरीजों का इलाज किया जा रहा है. कोविड के अलावा अन्य बीमारियों के लिए टेलीमेडिसन की सुविधाएं दी जा रही हैं. कफ्र्यूग्रस्त या लाॅकडाउन प्रभावित क्षेत्रों में आम बीमारियों से लोगों को राहत देन के लिए 550 मेडिकल मोबाइन ओपीडी वैन की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं. प्रवासियों राजस्थानियों के सैंपल कलेक्शन में भी वैनों का इस्तेमाल किया जा रहा है. ऐसे में उम्मीद है कि राजस्थान जल्द ही कोरोना से मुक्त होगा.

शराब दुकान की लोकेशन में घालमेल! आबकारी विभाग में मिलीभगत से खेल, नियमों के खिलाफ दुकानों की लोकेशन मंजूर

और पढ़ें

Most Related Stories

Local Body Election 2020: मालवीय नगर में 5 के खिलाफ मुकदमे !  भाजपा के 1, कांग्रेस के 2 प्रत्याशियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज

जयपुर: जयपुर ग्रेटर नगर निगम के चुनाव 1 नवंबर को हो जाएंगे. अब चुनाव प्रचार में भी महज 3 दिन बाकी रहे हैं. ऐसे में चुनाव प्रचार जोर-शोर से किया जा रहा है. मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र के 26 वार्डों से कुल 98 प्रत्याशी चुनाव में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. बड़ी बात यह है कि इनमें 35 प्रतिशत प्रत्याशी महिलाए हैं. वहीं 5 ऐसे लोग भी चुनावी मैदान में हैं, जिनके खिलाफ पुलिस में मामले दर्ज हैं. देखिए मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र का पूरा विश्लेषण करती यह रिपोर्ट...

ग्रेटर नगर निगम में चुनाव प्रचार जोरों पर:
जयपुर ग्रेटर नगर निगम में चुनाव प्रचार जोरों पर है और प्रत्याशी अपने-अपने वादों के जरिए आमजन को लुभाने में जुटे हुए हैं. मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र को लेकर बात की जाए तो इस क्षेत्र में कुल 26 वार्ड शामिल हैं. वार्ड संख्या 125 से 150 तक कुल 26 वार्डों में इस बार 98 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. प्रत्याशियों ने नगर निगम चुनाव के लिए जिला प्रशासन को जो नामांकन दाखिल किए हैं, उनमें अपनी आय-व्यय की सम्पत्तियों, आपराधिक मामले और अन्य प्रमुख सावर्जनिक बिन्दुओं को लेकर जानकारी दी गई है. बड़ी बात यह है कि इस बार आपराधिक प्रष्ठभूमि से जुड़े लोग पार्षद चुनाव की दौड़ में कम ही हैं. कुल 98 प्रत्याशियों में से महज 5 लोगों के खिलाफ ही आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं. इनमें भी केवल एक प्रत्याशी को छोड़कर अन्य के खिलाफ सामान्य धाराओं में मामले दर्ज हैं.किसी भी प्रत्याशी को सजा नहीं हुई है. ऐसे में यह माना जा रहा है कि मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र में उम्मीदवारों का एक बड़ा वर्ग साफ सुथरी प्रष्ठभूमि का है. यानी कुल उम्मीदवारों में से महज 5 प्रतिशत के खिलाफ ही आपराधिक मामले दर्ज हैं. इनमें से 2 निर्दलीय प्रत्याशी हैं. जबकि राजनीतिक दलों से जुड़े लोगों की बात की जाए तो 2 प्रत्याशी सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस और 1 प्रत्याशी भाजपा उम्मीदवार है.

इन लोगों के खिलाफ चल रहे आपराधिक मामले:
1- वार्ड 126 से कांग्रेस प्रत्याशी हितेश अडवानी के खिलाफ 1 मामला लंबित
- वर्ष 2005 में कोतवाली थाने की FIR पर राजस्थान पब्लिक गेम्बलिंग ऑर्डिनेंस के तहत आरोप पत्र दाखिल
- वर्ष 2003 में गांधीनगर थाने की FIR में 1000 रुपए जुर्माना लगाया गया
2- वार्ड 133 से निर्दलीय प्रत्याशी रवि गौतम के खिलाफ 1 मामला लंबित
- वर्ष 2006 में रामगंज पुलिस थाने में आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज हुआ, एसीएमएम जयपुर कोर्ट में सुनवाई जारी
3- वार्ड 135 से निर्दलीय प्रत्याशी महेश सैन के खिलाफ वर्ष 2017 में बजाज नगर थाने में मामला दर्ज हुआ
- धारा 143, 283 के तहत दर्ज किया गया मुकदमा
4- वार्ड 144 से कांग्रेस प्रत्याशी महेन्द्र पाल सिंह के खिलाफ वर्ष 2008 में ज्योति नगर थाने में मामला दर्ज हुआ
- धारा 323, 341, 427 के तहत दर्ज मामला न्यायालय में लंबित
5- वार्ड 144 से भाजपा प्रत्याशी केसरलाल कोली के खिलाफ वर्ष 2019 में महेश नगर थाने में मामला दर्ज
- धारा 323, 341, 34 में दर्ज मामले में आरोप दाखिल नहीं किए गए

बड़ी बात यह है कि इस बार जयपुर नगर निगम के चुनाव में महिला प्रत्याशियों की संख्या भी अच्छी खासी है. मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र के कुल पार्षद उम्मीदवारों में से 35 प्रतिशत महिला प्रत्याशी हैं, जबकि 65 प्रतिशत पुरुष प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. जो वार्ड महिला प्रत्याशियों के लिए रिजर्व रखे गए हैं, उनसे तो महिला प्रत्याशी लड़ ही रही हैं, इसके अलावा कई अन्य वार्डों से भी पुरुष प्रत्याशियों के बराबर महिला प्रत्याशी चुनाव लड़ रही हैं. हालांकि एक भी महिला प्रत्याशी ऐसी नहीं है, जिसके खिलाफ कोई आपराधिक मामला दर्ज हो.

कुछ ऐसी है मालवीय नगर में स्थिति:
वार्ड 125 से 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 126 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 127 से 6 महिला प्रत्याशी, वार्ड 128 से 2 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 129 से 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 130 से 3 महिला प्रत्याशी, वार्ड 131 से 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 132 से 4 महिला प्रत्याशी, वार्ड 133 से 1 महिला, 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 134 से 4 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 135 में 1 महिला 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 136 से 2 महिला प्रत्याशी, वार्ड 137 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 138 से 4 महिला प्रत्याशी, वार्ड 139 से 2 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 140 से 3 महिला प्रत्याशी, वार्ड 141 से 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 142 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 143 से 2 महिला प्रत्याशी, वार्ड 144 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 145 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 146 से 5 महिला प्रत्याशी, वार्ड 147 से 2 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 148 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 149 से 3 महिला प्रत्याशी, वार्ड 150 से 3 पुरुष 1 महिला प्रत्याशी

{related}

कुलमिलाकर मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र में इस बार वोट डालने वालों के पास अधिक विकल्प नहीं हैं. प्रत्येक वार्ड में औसतन 4 प्रत्याशी भी नहीं हैं. ऐसे में चुनिंदा प्रत्याशियों में से ही आमजन को अपने लिए बेहतर उम्मीदवार का चयन करना होगा. वोटिंग 1 नवंबर को होगी और इसे बाद ही चुने हुए सही उम्मीदवारों का फैसला हो सकेगा.

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

Local Body Election 2020: जयपुर, जोधपुर और कोटा में डबल निगम के लिए मुकाबला, वार्डों की संख्या बढ़ी, प्रत्याशियों की संख्या घटी

जयपुर: प्रदेश के 3 बड़े शहरों के लिए हो रहे इस निकाय चुनाव में मतदाताओं के पास प्रत्याशियों में से चयन के लिए पिछले चुनावों के मुकाबले इस बार कम विकल्प हैं. क्या है पूरा मामला जानने के लिए देखें फर्स्ट इंडिया न्यूज़ की यह खास रिपोर्ट...इस बार जयपुर, जोधपुर और कोटा शहरों में हो रहे नगर निगम चुनाव में कुल 2238 प्रत्याशी अपना भाग्य आजमा रहे हैं. जयपुर हेरिटेज नगर निगम में 686, जयपुर ग्रेटर नगर निगम में 430, जोधपुर उत्तर नगर निगम में 296, जोधपुर दक्षिण नगर निगम में 312, कोटा उत्तर नगर निगम में 225 और कोटा दक्षिण नगर निगम में 289 कुल प्रत्याशी मैदान में हैं. वर्ष 2009 और 2014 के मुकाबले इस बार चुनाव में इन शहरों में कुल प्रत्याशियों की संख्या में करीब दुगने का इजाफा हुआ है, लेकिन प्रति वार्ड प्रत्याशियों की संख्या की तुलना पिछले चुनावों से करें तो इस बार मतदाताओं के पास चयन के लिए पहले से कम विकल्प हैं.

क्या कहते हैं आंकड़े?
- जयपुर नगर निगम के वर्ष 2009 में हुए चुनाव में तब 77 वार्डों के लिए कुल 429 प्रत्याशी खड़े होने के कारण प्रति वार्ड पार्षद प्रत्याशियों की संख्या 5.57 थी.

- जयपुर नगर निगम के वर्ष 2014 में हुए चुनाव में तब 91 वार्डों के लिए कुल 531 प्रत्याशी खड़े होने के कारण प्रति वार्ड पार्षद प्रत्याशियों की संख्या 5.83 थी.

- इस बार जयपुर ग्रेटर और जयपुर हेरिटेज के कुल 250 वार्डों में कुल प्रत्याशियों की संख्या 1116 होने के चलते प्रति वार्ड प्रत्याशियों की संख्या 4.46 ही है.

- जोधपुर नगर निगम के वर्ष 2009 में हुए चुनाव में तब 65 वार्डों के लिए कुल 268 प्रत्याशी मैदान में होने के कारण प्रति वार्ड प्रत्याशियों की संख्या 4.12 थी.

{related}

-जोधपुर नगर निगम के वर्ष 2014 में हुए चुनाव में तब 65 वार्डों के लिए कुल 261 प्रत्याशी मैदान में होने के कारण प्रति वार्ड प्रत्याशियों की संख्या 4.12 थी.

- इस बार जोधपुर उत्तर और जोधपुर दक्षिण नगर निगम के कुल 160 वार्डों में कुल प्रत्याशियों की संख्या 608 होने के कारण प्रति वार्ड प्रत्याशियों की संख्या घटकर 3.8 ही रह गई है.

-कोटा नगर निगम के वर्ष 2009 में हुए चुनाव में तब 60 वार्डों के लिए कुल 260 प्रत्याशी मैदान में होने के कारण प्रति वार्ड प्रत्याशियों की संख्या 4.33 थी.

-कोटा नगर निगम के वर्ष 2014 में हुए चुनाव में तब 65 वार्डों के लिए कुल 312 प्रत्याशी मैदान में होने के कारण प्रति वार्ड प्रत्याशियों की संख्या 4.8 थी.

- इस बार कोटा उत्तर और कोटा दक्षिण नगर निगम के कुल 150 वार्डों में कुल प्रत्याशियों की संख्या 514 होने के कारण प्रति वार्ड प्रत्याशियों की संख्या घटकर 3.42 ही रह गई है.

वर्ष 2014 के मुकाबले इन तीनों शहरों में वार्डों की संख्या में दोगुने से ज्यादा इजाफा किया गया है. इसके चलते एक वार्ड को छोटे-छोटे वार्डों में बांटा गया है. यही कारण है कि कुल प्रत्याशियों की संख्या में बढ़ोतरी के बावजूद की इस बार प्रति वार्ड प्रत्याशियों की संख्या पिछले चुनावों से कम हैं.

प्रदेश के मेडिकल स्टूडेंट के लिए आज की बड़ी खुशखबर, 4 मेडिकल कॉलेजों में MBBS की सीटों में 230 सीटों की वृद्धि

प्रदेश के मेडिकल स्टूडेंट के लिए आज की बड़ी खुशखबर, 4 मेडिकल कॉलेजों में  MBBS की सीटों में 230 सीटों की वृद्धि

जयपुर: प्रदेश के एमबीबीएस की पढ़ाई की आस लगाए बैठे स्टूडेंट के लिए बड़ी खुशखबरी है.नेशनल मेडीकल कमीशन ने प्रदेश के चार मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की 230 सीटों  को मंजूरी दी है.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने नेशनल मेडीकल कमीशन द्वारा सीकर के श्रीकल्याण राजकीय मेडीकल कॉलेज को 100  सीट के साथ सत्र 2020-21 शुरू करने और एमबीबीएस की अजमेर व उदयपुर में 50-50 तथा बाड़मेर में 30 सीटों की वृद्धि की स्वीकृति पर प्रसन्नता व्यक्त की है.

इन स्वीकृतियों से हुई प्रदेश में MBBS की कुल सीटों में 230 सीटों की वृद्धि:
शर्मा ने बताया कि नेशनल मेडीकल कमीशन द्वारा जारी स्वीकृति के अनुसार सीकर के श्रीकल्याण राजकीय मेडीकल काॅलेज को सत्र 2020-21 में प्रारम्भ किया जाएगा एवं इस कालेज में एमबीबीएस की कुल 100 सीटें स्वीकृत की गई है. इन स्वीकृतियों से प्रदेश में एमबीबीएस की कुल सीटों में 230 सीटों की वृद्धि हुई है. 

{related}

गत दो वर्षों में प्रदेश में MBBS की 880 सीटों की वृद्धि हुई:
गत वर्ष कुल 650 सीटों की वृद्धि हुई थी. इस प्रकार गत दो वर्षों में प्रदेश में एमबीबीएस की 880 सीटों की वृद्धि हुई है. चिकित्सा शिक्षा विभाग के शासन सचिव वैभव गेलरिया ने बताया की वर्ष 2018 में प्रदेष में एमबीबीएस की कुल 1950 सीटें थी, जो बढकर अब 2830 हो गई है. 

Local Body Election 2020: निकाय चुनावों का शोर थमा, अब दांव पर राजनेताओं की प्रतिष्ठा, जयपुर में सियासत चरम पर

जयपुर: निकाय चुनावों का चुनावी शोर थम गया है. अब दांव पर लग गई प्रतिष्ठा उन नेताओ की जिन्होंने चुनावों की रणनीति बनाने का काम किया. सबकी नजर जयपुर पर है यहां चाहे कांग्रेस के दिग्गज हो या फिर बीजेपी के राजनेता. जीत-हार का दारोमदार पार्टियों से अधिक उन्हीं के कंधो पर रहने वाला है. प्रदेश की राजनीति में आवाज गूंज रही है निकाय चुनावों की.प्रचार थमा तो साख दांव पर लग गई नेताओ की. उन्हें ही अब राजनैतिक दांव पेंच के जरिए चुनावी समर में अपनी पार्टी का परचम लहराने का काम करना होगा. राजधानी जयपुर की सियासत को समझें तो दिग्गजों की प्रतिष्ठा का सवाल है.

दांव पर प्रतिष्ठा ! 
-जयपुर के कॉन्ग्रेस के दिग्गज --
-सतीश पूनिया प्रदेश अध्यक्ष बीजेपी
-जयपुर से सटे आमेर से विधायक 
-पार्टी प्रमुख के नाते वैसे तो तीनों निगमों को लेकर साख दांव पर
-जयपुर हेरिटेज - ग्रेटर में इनकी टिकट वितरण में अहम भूमिका रही
-संगठन के कार्यकर्ताओं को उन्होंने मौका दिया 

-प्रताप सिंह खाचरियावास परिवहन मंत्री - अध्यक्ष जयपुर शहर कांग्रेस कमेटी
-खाचरियावास ने जयपुर की चुनावी रणनीति 
-टिकट वितरण में अहम भूमिका निभाई
-जयपुर के सिविल लाइन्स से MLA है खाचरियावास

{related}

-डॉक्टर महेश जोशी मुख्य सचेतक 
-हेरिटेज का प्रमुख दारोमदार जोशी पर
-टिकिट वितरण में प्रमुख भूमिका रही
-परकोटे के हवामहल से MLA हैं महेश जोशी 

-लाल चंद कटारिया  कृषि मंत्री 
-झोटवाड़ा का दारोमदार हैं कटारिया के पास
-कटारिया ने हालांकि खुद को शहर की राजनीति से दूर रखा
-उन्हें देहात की सियासत बहुत पसंद है
-लेकिन उनके निर्वाचन का बड़ा हिस्सा शहर में आता है
-झोटवाड़ा से कांग्रेस के विधायक हैं

-अमीन कागजी विधायक 
-किशनपोल से कांग्रेस विधायक है कागजी
-टिकट वितरण में योगदान रहा
-समर्थकों को टिकट दिलाए
-विरोधियों की नहीं चलने दी 

-रफीक खान,विधायक कांग्रेस 
-आदर्श नगर से विधायक है रफीक खान
-टिकट वितरण में इनकी पूरी चली 

-गंगा देवी विधायक बगरू 
-बगरू का बड़ा हिस्सा शह री
-गंगा देवी के जिम्मे साख बचाना 

-कांग्रेस ने बीजेपी के गढ़ जीतने के लिए हाइब्रिड फार्मूला का पांसा फेंका है. इस्तेमाल कब किया जाएगा यह समय की नजाकत पर निर्भर है.

 बीजेपी के दिग्गज:
-सतीश पूनिया प्रदेश अध्यक्ष बीजेपी
-जयपुर से सटे आमेर से विधायक 
-पार्टी प्रमुख के नाते वैसे तो तीनों निगमों को लेकर साख दांव पर
-जयपुर हेरिटेज - ग्रेटर में इनकी टिकट वितरण में अहम भूमिका रही
-संगठन के कार्यकर्ताओं को उन्होंने मौका दिया 

-राम चरण वोहरा सांसद 
-जयपुर हेरिटेज - ग्रेटर दोनों के सांसद है वोहरा
-सर्वाधिक वोटो से जीतने का रिकॉर्ड उनके नाम
-टिकट वितरण में बहुत अधिक हस्तक्षेप नहीं रहा 

-काली चरण सराफ विधायक मालवीय नगर 
-मालवीयनगर का दारोमदार सराफ के कंधो पर
-सराफ वैसे पूरे जयपुर के नेता  

-नरपत सिंह राजवी विधायक विद्याधर नगर
-विद्याधर नगर में प्रतिष्ठा दांव पर
-लगातार बन रहे विद्याधर नगर से विधायक
-अशोक लाहोटी विधायक सांगानेर 
-लाहोटी के लिए सामने यह बड़ी चुनौती की सांगानेर में कमल सिरमौर रहे. 

राजधानी से संदेश जाता है.कांग्रेस और बीजेपी दोनों को जयपुर हेरिटेज और ग्रेटर से संदेश देना है. हार और जीत सियासी दलों की प्रतिष्ठा पर तो असर डालेगी ही साथ ही प्रभावित करेगी नेताओं के कद को. जीते तो बनेंगे सिकंदर.

...फर्स्ट इंडिया के लिए ऐश्वर्य प्रधान के साथ योगेश शर्मा की रिपोर्ट

कुभकर्णी नींद में औषधि नियंत्रक संगठन! पंजाब पुलिस की नॉकोटिक्स टीम का जयपुर में सर्च ऑपरेशन

कुभकर्णी नींद में औषधि नियंत्रक संगठन! पंजाब पुलिस की नॉकोटिक्स टीम का जयपुर में सर्च ऑपरेशन

जयपुर: प्रदेश की राजधानी जयपुर नशे के कारोबार का गढ़ बनती दिखाई दे रही है.पंजाब पुलिस की टीम ने एक पखवाड़े में आज दूसरी बार जयपुर के करधनी इलाके में बड़ी छापामार कार्रवाई कर नशे की दवाओं के कारोबार का पर्दाफाश किया.नशे के कारोबार में लिप्त आरोपी प्रेम प्रकाश के ठिकाने मयूर विहार स्थित एक मकान पर सर्च ऑपरेशन चलाया गया, जहां बेसमेंट में नशे की दवाओं का अवैध कारोबार चलता मिला.पंजाब के ADCP(लुधियाना) जसकरण सिंह, ACP(साउथ लुधियाना) जशनदीप सिंह,SHO (डिलन) सुखदेव सिंह बराड़ के नेतृत्व में 15 सदस्यीय टीम ने 24 घंटे के सर्च ऑपरेशन में 10.20 लाख टेबलेट अल्प्राजोलाम, 80 हजार कोडिन कफ सिरप, 16 हजार ट्रामाडोल इंजेक्शन की खेप बरामद की.पंजाब पुलिस ने NDPS के अंतर्गत जब्त इन नशे की दवाओं की कीमत करीब 6 करोड़ रुपए बताई है.इसके अलावा औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम के तहत 4 करोड़ रुपए की दवाइयां भी जब्त की गई है.

{related}

कुभकर्णी नींद में औषधि नियंत्रक संगठन !
-पंजाब पुलिस की नॉकोटिक्स टीम का जयपुर में सर्च ऑपरेशन
-पंजाब पुलिस की कार्रवाई से सवालों के घेरे में औषधि नियंत्रक संगठन
-दरअसल, 12  अक्टूबर को जयपुर में की गई थी बड़ी छापामार कार्रवाई
-मुरलीपुरा में शिवनाथ एजेंसी पर कार्रवाई के दौरान एक करोड़ की नशे की दवाओं का पर्दाफाश
-तब भी ड्रग डिपार्टमेंट ने इंस्पेक्टर भेजकर इतिश्री की, फिर अधिकारी बने मूकदर्शक
-और पंजाब पुलिस ने 15 दिन बाद एकबार फिर दे दी जयपुर में बड़ी दबिश
-NDPS के तहत नशे की दवाओं का पकड़ा गया बड़ा जखीरा
-ऐसे में सवाल ये, आखिर कहां है राजस्थान का औषधि नियंत्रक विभाग ?
-क्या मिलीभगत के खेल में जयपुर में पनप रहा नशे की दवाओं का अवैध कारोबार

Local Body Election 2020: नगर निगम चुनाव में पहले चरण का प्रचार हुआ समाप्त, अब घर-घर जाकर हो सकेगा जनसंपर्क

Local Body Election 2020: नगर निगम चुनाव में पहले चरण का प्रचार हुआ समाप्त, अब घर-घर जाकर हो सकेगा जनसंपर्क

जयपुर: जयपुर हैरिटेज, जोधपुर उत्तर और कोटा उत्तर नगर निगमों में पहले चरण के मतदान के लिए आज चुनाव प्रचार का शोर शाम साढ़े 5 बजे थम गया. अब प्रत्याशी घर-घर जाकर जनसंपर्क करेंगे. राज्य निर्वाचन आयुक्त पीएस मेहरा ने प्रचार का शोर थमने के बाद कोरोना से जुड़े और अन्य दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालना के निर्देश दिए हैं. 

ये हैं दिशानिर्देश:
-जनसंपर्क के दौरान 5 से अधिक व्यक्ति प्रचार के लिए नहीं निकलें और भीड़ या समूह का हिस्सा भी ना बनें.

-जनसंपर्क के दौरान उम्मीदवार व उनके समर्थक मास्क लगाकर बाहर निकलें.

-सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखें और प्रचार के दौरान मतदाताओं के पैर छूने, हाथ मिलाने, गले मिलने से बचें.

-मतदान दिवस पर भी उम्मीदवारों द्वारा लगाई जाने वाले बूथ पर भी सोशल डिस्टेंसिंग रखी जाए और कोरोना प्रोटोकॉल की कड़ाई से पालना की जाए.

-अब राजनीतिक दल अथवा प्रत्याशियों की ओर से सार्वजनिक सभा आयोजित करने, जुलूस निकालने, सिनेमा, दूरदर्शन, इलैक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया के जरिए चुनाव प्रचार करने पर पूरी रोक लग चुकी है.

- साथ ही संगीत-समारोह, नाट्य-अभिनय अथवा अन्य कोई मनोरंजन कार्यकम आयोजित कर चुनाव प्रचार पर भी रोक रहेगी.

पहले चरण में 16 लाख से ज्यादा मतदाता:

-पहले चरण में 250 वार्डों के 1503 मतदान केंद्रों पर 16 लाख 54 हजार 547 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे.

-इसमें जयपुर हैरिटेज के 100 वार्डों के 9 लाख 32 हजार 908 मतदाताओं में 4 लाख 91 हजार 633 पुरुष, 4 लाख 41 हजार 260 महिला व 15 अन्य

जोधपुर उत्तर के 80 वार्डों के 3 लाख 88 हजार 847 मतदाताओं में से 1 लाख 99 हजार 505 पुरुष, 1 लाख 89 हजार 339 महिला व 3 अन्य और कोटा उत्तर के 70 वार्डों के 3 लाख 32 हजार 792 मतदाताओं में से 1 लाख 70 हजार 959 पुरुष, 1 लाख 61 हजार 831 महिला व 2 अन्य मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे.

{related}

-तीनों नगर निगमों के लिए मतदान 29 अक्टूबर को सुबह 7.30 बजे से सायं 5.30 बजे तक करवाया जाएगा, जबकि मतगणना 3 नवंबर को प्रातः 9 बजे से होगी.

उधर आयोग की ओर से यह भी कहा गया है कि इस बार बूथ बढ़ने से मतदाताओं का बूथ बदल गया हो. ऐसे में आयोग की वेबसाइट पर जाकर या मतदाता सहायता सेवा का उपयोग करके वे मतदान केन्द्र की जानकारी ले सकते हैं. इसके लिए मतदाता को मोबाइल नम्बर 7065051222 पर SEC VOTER अंकित कर स्पेस के बाद Epic No अंकित कर SMS करना होगा. 

प्रदेश में एसीबी के बड़े धमाके ! आज एसीबी ने अब तक प्रदेशभर में की 6 कार्रवाइयां 

जयपुर: राजस्थान में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने मंगलवार को बड़े धमाके किए हैं. जी हां एसीबी की टीम ने आज प्रदेशभर में अब तक 6 बड़ी कार्रवाईयां की हैं. यह कार्रवाई एसीबी डीजी बीएल सोनी और दिनेश एमएन के नेतृत्व में हुई हैं. सबसे पहले 10 लाख रुपए के साथ कांस्टेबल नरेश मीणा को ट्रैप किया हैं. 

राजस्व पटवारी दीपेश कुमार गिरफ्तार:
श्रीगंगानगर के जवाहर नगर थाने के कांस्टेबल को जयपुर में होटल रेडिसन ब्लू में दबोचा. NDPS के मुकदमे में राहत की एवज में घूस मांगी थी और इसके बाद एक के बाद एक की 6 ताबड़तोड़ कार्रवाइयां की हैं. परिवहन निरीक्षक जगदीश मीणा के निवास पर एसीबी की रेड पडी. आय से अधिक संपत्ति का एसीबी ने मुकदमा दर्ज किया हैं. एसीबी ने बस्सी, कानोता और चौमूं डीटीओ ऑफिस में सर्च किया हैं. थोड़ी देर बाद ही श्रीगंगानगर एसीबी ने राजस्व पटवारी दीपेश कुमार को गिरफ्तार किया हैं. 

{related}

SHO रमेश चंद्र 35 हजार की रिश्वत लेते ट्रैप:
रिश्वत के एक पुराने प्रकरण में एसीबी ने पटवारी को गिरफ्तार किया है. इसके बाद उदयपुर में झल्लारा SHO रमेश चंद्र को 35 हजार की रिश्वत लेते ट्रैप किया हैं. एक कांस्टेबल और एक दलाल को एसीबी ने मौके पर दबोचा. आरोपियों ने बजरी से भरा डंपर छोड़ने की एवज में रिश्वत मांगी थी और फिर अजमेर के रामगंज थाने में ASI बाबूलाल को 15 हजार लेते ट्रैप किया हैं. कार्रवाई के पांच मिनट बाद ही झुंझुनूं में पटवारी रणवीर जाट को 13 हजार लेते दबोचा हैं. एसीबी की ताबड़तोड़ कार्रवाइयों से भ्रष्टाचारियों में हड़कंप मच गया. अलबत्ता बीएल सोनी और दिनेश एमएन की जोड़ी ACB में गहलोत का मैंडेट लागू कर रही हैं.

RHB मुख्यालय में कार्यरत अधिकारियों और कर्मचारियों को मिली बड़ी सौगात, कमिश्नर पवन अरोड़ा ने किया विकसित ओपन एयर जिम का उद्घाटन

जयपुर: राजस्थान हाउसिंग बोर्ड मुख्यालय में कार्यरत अधिकारियों और कर्मचारियों को आज बड़ी सौगात मिली है. अब बोर्ड कार्मिक खुद को स्वस्थ रखने के लिए मुख्यालय में ही व्यायाम भी कर सकेंगे. हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने आज मुख्यालय में विकसित ओपन एयर जिम का उद्घाटन किया है.

कर्मचारी खुद को तरोताजा रखने के लिए मुख्यालय में ही व्यायाम कर सकेंगे:
हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने आज बोर्ड मुख्यालय में ओपन एयर जिम का उद्घाटन किया. अब बोर्ड के अधिकारी और कर्मचारी खुद को तरोताजा रखने के लिए मुख्यालय में ही व्यायाम कर सकेंगे. इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए कमिश्नर अरोड़ा ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हाल ही में हैल्थी राजस्थान का नारा दिया है. उससे प्रेरित हो कर ही हाउसिंग बोर्ड प्रदेश के अलग अलग शहरों में 50 ओपन जिम तैयार करा रहा है. यह सभी जिम हाउसिंग बोर्ड के पार्कों में तैयार कराये जा रहे हैं जिनमे अच्छी श्रेणी के उपयोगी जिम उपकरण लगाए जा रहे हैं. अरोड़ा ने कहा कि इसी क्रम में बोर्ड मुख्यालय में ओपन जिम की सुविधा शुरू की गई है जिससे कार्मिक खुद को स्वस्थ रखने के लिए यहाँ व्यायाम कर सकें. 

{related} 

कार्मिक 30 मिनिट तक ओपन जिम में व्यायाम कर सकता है:
अरोड़ा ने कहा कि अगर लोग स्वस्थ होंगे तो और बेहतर तरीके से काम कर पाएंगे इसी सोच के साथ यह पहल की गई है. इस मौके पर अरोड़ा ने अधिकारियों और कर्मचारियों के बीच कहा कि कोई भी कार्मिक कार्यालय समय के बीच भी 30 मिनिट तक ओपन जिम में व्यायाम कर सकता है. सभी कार्मिकों ने ताली बजाकर अरोड़ा की इस पहल का स्वागत किया. जिम के उदघाटन के बाद कमिश्नर ने खुद हर मशीन पर जा कर एक्सरसाइज की ओर सभी को फिट और हैल्थी रहने का संदेश दिया. कार्यलयों में रहने वाले काम के तनाव को कम करने के लिए हाउसिंग बोर्ड की यह पहल कार्मिकों को काफी रास आएगी. बोर्ड मुख्यालय में विकसित ओपन जिम में कुल 11 तरह के इक्विपमेंट लगाए गए हैं. 

बोर्ड मुख्यालय के ओपन जिम में कौनसे इक्विपमेंट:
स्काय वॉकर, लेग प्रेस, सिट अप बोर्ड, रोवर, सर्फ बोर्ड, एयर वॉकर, ट्रिपल हिप ट्विस्टर, चेस्ट प्रेस कम सिटेड पुल्लर, मल्टी फन्कशनल ट्रेनर, शोल्डर बिल्डर, साइकिल, इसके साथ ही उपकरणों के उपयोग के लिए इंस्ट्रक्शन बोर्ड भी लगाए गए हैं

इन शहरों में हाउसिंग बोर्ड देगा ओपन एयर जिम की सौगात: 
भिवाडी-3, अलवर-2, अजमेर-4, सीकर-1, प्रताप नगर, जयपुर-5, इन्दिरा गांधी नगर, जयपुर-5, मानसरोवर, जयपुर-5, केबीएस, जोधपुर-5, कोटा-4, दौसा-1, ब्यावर-2, भीलवाडा-1, बांसवाडा-1, उदयपुर-4, फलौदी-1, आबू रोड-1, पिंडवाडा, सिरोही-1, परतापुर, डुंगरपूर-1, गुलाबपुरा, भीलवाडा-1, चित्तौडगढ-1 एवं बडी सादडी, चित्तौडगढ में 1 जिम लगाई जाएगी.

अरोड़ा ने बोर्ड कार्मिकों के लिए समय समय पर कई अच्छे प्रयोग किये: 
हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने बोर्ड कार्मिकों के लिए समय समय पर कई अच्छे प्रयोग किये हैं. कोरोना जैसे कठिन समय मे हैल्थी रहने के लिए मुख्यालय में ही ओपन एयर जिम तैयार करा के उन्होंने एक बार फिर सभी को एक सौगात दी है. काम के बीच मे खुद को तरोताजा और रिलेक्स रखने के लिए ओपन जिम का प्रयोग काफी असरदार साबित होगा.

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट