राजस्थान बनेगा पेट्रोकेमिकल्स उद्योगों का हब, रिफाइनरी के साथ विकसित हो रहा नया निवेश क्षेत्र 

राजस्थान बनेगा पेट्रोकेमिकल्स उद्योगों का हब, रिफाइनरी के साथ विकसित हो रहा नया निवेश क्षेत्र 

जयपुर: उद्योग मंत्री परसादीलाल मीणा ने कहा कि राजस्थान सरकार प्रदेश में निवेशकों को अनुकूल वातावरण प्रदान करने के लिए बहुआयामी सोच के साथ काम कर रही है. व्यापक नीतिगत सुधारों तथा नियमों के सरलीकरण के माध्यम से हमने निवेश की राह आसान की है. राजस्थान रिफाइनरी से लगते क्षेत्र में विकसित किए जा रहे पेट्रोलियम केमिकल्स एण्ड पेट्रोकेमिकल्स इन्वेस्टमेन्ट रीजन (पीसीपीआईआर) के माध्यम से प्रदेश में निवेश तथा रोजगार के अवसरों की अभूतपूर्व सम्भावनाएं हैं. हमारे प्रयासों से राजस्थान पेट्रोकेमिकल्स उत्पादों के प्रमुख हब के रूप में विकसित होगा.

अन्तर्राष्ट्रीय वेबिनार, 19 देशों के उद्यमी एवं निवेशक जुड़ेः
परसादीलाल मीणा रीको एवं सीआईआई के सहयोग से बुधवार को पीसीपीआईआर क्षेत्र में निवेश की सम्भावनाओं पर मुख्यमंत्री निवास से आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय वेबिनार को संबोधित कर रहे थे. इस वेबिनार में 19 देशों के उद्यमी एवं निवेशक जुड़े. उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार तथा एचपीसीएल की संयुक्त भागीदारी से स्थापित की जा रही 9 एमएमटीपीए क्षमता की रिफाइनरी तथा सह-पेट्रोकेमिकल कॉम्प्लेक्स से इस क्षेत्र में पेट्रोकेम सेक्टर में बड़े पैमाने पर निवेश आएगा. रिफाइनरी उत्पादों पर आधारित उद्योगों के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट में पीसीपीआईआर रीजन की स्थापना की घोषणा की थी.

पेट्रोकेम उद्योगों की स्थापना के लिए भूमि का चिन्हीकरण:
उद्योग मंत्री ने कहा कि पेट्रोकेम उद्योगों की स्थापना के लिए रीको ने पीसीपीआईआर के प्रथम चरण के लिए बड़े पैमाने पर भूमि का चिन्हीकरण किया है. रिफाइनरी से करीब 17 किलोमीटर की दूरी पर बोरावास गांव में जुलाई माह से भूखण्डों के आवंटन का कार्य शुरू किया जाएगा. साथ ही बाड़मेर एवं जोधपुर जिलों में 16 स्थानों पर करीब 2300 हैक्टेयर भूमि चिन्हित की गई है. हम इस क्षेत्र में निवेशकों को रियायती दरों पर भूमि, उचित माहौल एवं जरूरी सभी सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे.

एम-सेण्ड पॉलिसी खनन क्षेत्र को देगी बढ़ावाः 
खान मंत्री प्रमोद भाया ने कहा कि राजस्थान रिफाइनरी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का ड्रीम प्रोजेक्ट है. हमारा पूरा प्रयास है कि रिफाइनरी से अक्टूबर 2022 तक उत्पादन शुरू हो. उन्होेंने कहा कि राजस्थान खनिज आधारित उद्योगों के लिए पूरे देश में अपनी अलग पहचान रखता है. भाया ने कहा कि राज्य सरकार जल्द ही नई खनिज नीति लाने जा रही है. जिससे निवेश को और अधिक प्रोत्साहन मिलेगा. खनिज खोज के लिए ट्रस्ट की स्थापना की गई है. राजस्थान में देश का 20 प्रतिशत क्रूड उत्पादित हो रहा है. अब पोटाश जैसे महत्वपूर्ण खनिज के खनन की दिशा में हम आगे बढ़े हैं. जल्द ही इसके सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे. एम-सेण्ड पॉलिसी हमारे खनन क्षेत्र को बढ़ावा देने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगी. 

और पढ़ें