एशियाई खेलों में राजस्थान का भी दिखाई देगा दमखम

Naresh Sharma Published Date 2018/08/17 06:00

जयपुर। इंडोनेशिया के जकार्ता व पेलेमबैंग में कल यानि 18 अगस्त से होने वाले एशियन गेम्स में राजस्थान के 13 खिलाड़ी भी दम दिखाते नजर आएंगे। सात खेलों में राज्य के ये खिलाड़ी पदक के लिए जोर चुनौती पेश करेंगे। सबसे ज्यादा उम्मीद तीरंदाज रजत चौहान व निशानेबाज अपूर्वी चंदेला से हैं।

राजस्थान को एशियन गेम्स में अपूर्वी चंदेला व रजत चौहान से सबसे ज्यादा उम्मीद है।  रजत ने 2014 के एशियाई खेलों में अभिषेक वर्मा और संदीप कुमार के साथ मिलकर कंपाउंड टीम स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीता था। विश्व चैंपियनशिप में रजत के सटीक निशाने लगे थे। वहीं जयपुर की ही अपूर्वी चंदेला 10 मीटर एयर राइफल में भारतीय चुनौती पेश करेंगी। कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण व कांस्य पदक जीत चुकी अपूर्वी ने एशियाड के लिए काफी तैयारी की है।

नौकायन भले ही राजस्थान में नहीं है, लेकिन यहां के तीन खिलाड़ी भोपाल सिंह, अर्जुन लाल, ओमप्रकाश नौकायन इवेंट में हिस्सा लेंगे। एशियाई खेलों में लगातार तीन बार पदक जीत चुके राजस्थान के बजरंग लाल ताखर के तीनों शीष्य इस बार भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। झुंझुनूं के ओमप्रकाश, शाहपुरा के अर्जुन लाल व जोधपुर के भोपाल सिंह वैसे तो सेना में कार्यरत हैं। इसलिए राजस्थान से बाहर ही अभ्यास करते हैं, लेकिन बजरंग ताखर ने इनकी प्रतिभा का निखारा है।

भारतीय कबड्डी फैडरेशन में भले ही विवाद हो, लेकिन राजस्थान के चार खिलाड़ी कबड्डी में चुनौती पेश करेंगे। पुरुष वर्ग में जयपुर के राजूलाल हिस्सा लेंगे। वे प्रो कबड्डी लीग में भी खेल चुके हैं। बाहरी दीपक हुडडा व मनप्रीत का नाम भी राजस्थान से भेजा गया है। शालिनी पाठक का चयन भले ही विवाद में रहा हो, लेकिन वे महिला टीम में चुनौती पेश करेंगी। एशियन गेम्स में भारतीय कबड्डी टीमें अब तक अजेय रही है। ऐसे में एक बार फिर उनसे पदक की उम्मीद की जा रही है।

अब एक नजर एशियन गेम्स के इतिहास पर भी डाल लेते हैं। एशियाई खेलों का यह 18वां संस्करण है। इंडोनेशिया दूसरी बार इस खेल की मेजबानी कर रहा है। पहली बार उसने एशियाई खेलों की मेजबानी साल 1962 में की थी। एशियाई खेलों का आयोजन पहली बार साल 1951 में भारत की राजधानी दिल्ली में हुआ था, जिसमें 11 देशों ने हिस्सा लिया था। भारत को तब मेजबान होने का फायदा मिला और भारत ने मेडल टैली में ओवरऑल दूसरा स्थान हासिल किया।

साल 1982 में दूसरी बार भारत ने एशियन गेम्स की मेजबानी की थी। अब तक कुल 9 देशों ने इस खेल की मेजबानी की है और इसमें 46 देशों ने भाग लिया है। जबकि इस बार इसमें 45 देश भाग ले रहे हैं। 1951 में पहले एशियन गेम्स के आयोजन से लेकर 1978 तक इसका आयोजन एशियन गेम्स फेडरेशन करता था। 1982 के गेम्स और उसके बाद से हर एशियन गेम्स का आयोजन ओलिंपिक काउंसिल ऑफ एशिया करता है।

अब तक 9 देशों ने एशियन गेम्स की मेजबानी की है। थाइलैंड ने सबसे ज्यादा 4 बार इसकी मेजबानी की है। साउथ कोरिया ने 3 बार मेजबानी की है। भारत ने 2 बार मेजबानी की है। पाकिस्तान को 1975 में इस एशियन गेम्स की मेजबानी का मौका मिला था, लेकिन वित्तीय संकट और राजनीतिक वजहों से वह मेजबानी नहीं कर पाया। वहीं अब तक पाकिस्तान ने किसी एशियन गेम्स की मेजबानी नहीं की है।

एशियन गेम्स में प्रदर्शन पर नजर डालें, तो अब तक चीन का ही दबदबा रहा है। एशियन गेम्स में चीन ने अब तक सबसे ज्यादा 1,342 गोल्ड मेडल जीते हैं। उसके खाते में 900 सिल्वर और 653 ब्रॉन्ज समेत कुल 1895 मेडल हैं। 957 गोल्ड, 980 सिल्वर और 913 ब्रॉन्ज के साथ कुल 2,850 मेडल लेकर जापान दूसरे पायदान पर है। गोल्ड के मामले में भारत का छठा स्थान है। भारत ने अब तक 139 गोल्ड, 178 सिल्वर और 299 ब्रॉन्ज समेत कुल 616 मेडल जीते हैं।

2010 के ग्वांगझू एशियन गेम्स में भारत ने मेडल्स के मामले में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया था। तब भारत ने 14 गोल्ड, 17 सिल्वर और 34 ब्रॉन्ज समेत कुल 65 मेडल जीते थे। हालांकि उसकी रैंकिंग 6 ही थी। 1951 के पहले एशियन गेम्स में भारत 15 गोल्ड, 16 सिल्वर और 20 ब्रॉन्ज समेत कुल 51 मेडलों के साथ दूसरे पायदान पर रहा था। रैकिंग के हिसाब से यह भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। वहीं भूटान, मालदीव और टिमोर-लेस्टे जैसे देशों ने आज तक एशियाई खेलों में एक भी मेडल नहीं जीता। बहरहाल, एशियन गेम्स के लिए मंच सज चुका है और खिलाड़ी इंडोनेशिया पहुंच चुके हैं। अब उम्मीद की जा रही है, तो देश के लिए पदक जीत की खबर आने की।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in