पत्रकारिता के एक मृदुभाषी चेहरे राजेंद्र गोधा का निधन, कोरोना और कुछ दूसरी बीमारियों से थे पीड़ित; सीएम गहलोत ने जताया शोक

पत्रकारिता के एक मृदुभाषी चेहरे राजेंद्र गोधा का निधन, कोरोना और कुछ दूसरी बीमारियों से थे पीड़ित; सीएम गहलोत ने जताया शोक

 पत्रकारिता के एक मृदुभाषी चेहरे राजेंद्र गोधा का निधन, कोरोना और कुछ दूसरी बीमारियों से थे पीड़ित; सीएम गहलोत ने जताया शोक

जयपुर: पत्रकारिता के एक मृदुभाषी चेहरे 68 वर्षीय राजेंद्र गोधा का आज निधन हो गया. गोधा पिछले कुछ समय से कोरोना और कुछ दूसरी बीमारियों से पीड़ित थे. गोधा के निधन के समाचार से मीडिया जगत में शोक की लहर छा गई. हर किसी की जुबान पर आज एक ही बात '...कि अब तुम चले गए, याद बहुत आओगे दोस्त'. ऐसे में अब राजेंद्र गोधा की विरासत को शैलेंद्र गोधा आगे बढ़ाएंगे. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी गोधा के निधन पर शोक व्यक्त किया:

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी गोधा के निधन पर शोक व्यक्त किया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार और समाचार जगत के सम्पादक श्री राजेंद्र गोधा के निधन की खबर दुखद है. काफी दिनों से वे अस्पताल में एडमिट थे, उनके स्वास्थ्य को लेकर मैं परिवार के सम्पर्क में था, दो दिन पहले ही उनके पुत्र से स्वास्थ्य की जानकारी ली थी. 

पत्रकारिता एवं सामाजिक क्षेत्र में उन्होंने उल्लेखनीय योगदान दिया. उनका निधन पत्रकारिता जगत के लिए बड़ी क्षति है. ईश्वर से प्रार्थना है शोकाकुल परिजनों तथा स्व. श्री गोधा के मित्रों को यह आघात सहने की शक्ति दें एवं दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें. 

24 अप्रैल से वरिष्ठ पत्रकार राजेंद्र गोधा का दुर्लभजी अस्पताल में ट्रीटमेंट चल रहा था:

जानकारी के मुताबिक 24 अप्रैल से वरिष्ठ पत्रकार राजेंद्र गोधा का दुर्लभजी अस्पताल में ट्रीटमेंट चल रहा था. वो कोविड के बाद दूसरी अन्य बीमारियों से जूझ रहे थे. राजेंद्र गोधा समाचार जगत के प्रकाशक व संपादक हैं. उनके निधन की खबर आते ही पत्रकारिता जगत में शोक की लहर छा गई है. सभी वरिष्ठ पत्रकारों ने गोधा के निधन को ना सिर्फ पत्रकारिता जगत वरन संपूर्ण समाज की अपूरणीय क्षति बताया है. इसके अलावा भी कई नेताओं ने इसे समाज के लिए बहुत बड़ी क्षति बताया है. गोधा राजनैतिक विश्लेषक, चिंतक, विचारक, ओजस्वी वक्ता, मृदुभाषी और अच्छे लेखक थे.  

अनगिनत पत्रकारों को राजेंद्र गोधा ने आगे बढ़ाया: 
आपको बता दें कि राजस्थान की पत्रकारिता में कई ऐसे चेहरे हैं जो उनकी उंगली पकड़कर आगे बढ़े जिन्होंने अपना मुकाम हासिल किया. अनगिनत ऐसे दिग्गज पत्रकार है जिन्हे गोधा ने आगे बढ़ाया है. पत्रकारिता में उन्होंने कई नए चेहरों को नया नाम दिया. ऐसे में आज उन लोगों के लिए एक ऐसी क्षति हुई है जिसकी भरपाई नहीं की जा सकती है. कलम के साथ-साथ राजेंद्र गोधा सामाजिक व्यक्ति के तौर पर भी जाने जाते थे. वो कई तरह की सामाजिक संस्थाओं से जुड़े हुए थे. खासकर जैन समाज की कई संस्थाओं के लिए उन्होंने अपने आप को समर्पित कर रखा था. 

 


 

और पढ़ें