जयपुर राजेन्द्र राठौड़ और अरुण चतुर्वेदी ने प्रेसवार्ता कर राज्य सरकार पर साधा निशाना, कहा- अंधेर नगरी चौपट राजा

राजेन्द्र राठौड़ और अरुण चतुर्वेदी ने प्रेसवार्ता कर राज्य सरकार पर साधा निशाना, कहा- अंधेर नगरी चौपट राजा

जयपुर: उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ और अरुण चतुर्वेदी ने आज संयुक्त प्रेसवार्ता का आयोजन कर राज्य सरकार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने राज्य सरकार को अंधेर नगरी चौपट राजा की संज्ञा देते हुए कहा कि सरकारी एजेंसियों को बहुत इस्तेमाल हो रहा है. ऐसा पहली बार नहीं हो रहा बल्कि यह तो कांग्रेस सरकार की फितरत है. सरकार ACB, SOG का इस्तेमाल कर रही है. 

इसके अलावा उन्होंने कहा कि FIR में राजनैतिक प्रतिशोध के अलावा कुछ नहीं है. ऐसे राष्ट्रवादी संगठन को कोपभाजन बनाने के लिए कोशिश की गई है. आरएसएस देश निर्माण के लिए काम कर रहा है. वैश्विक महामारी में भी लाखों स्वयंसेवकों ने जनसेवा की है. दिल्ली में बैठे आकाओं को खुश करने के लिए ऐसे संगठन पर प्रहार किया है. इसके साथ ही उन्होंने नसीहत देते हुए कहा कि कुछ प्रयास किया गया है और यह सौदा महंगा पड़ेगा. हम सदन से सड़क तक अन्याय के विरोध में बिगुल बजा देंगे. 

कूटरचित ऑडियो-वीडियो के आधार पर इस तरीके का प्रयास किया गया: 
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह पहला मौका है जब एसीबी ने प्रारंभिक जांच को FIR में तब्दील किया है. जिसमें कोई परिवादी नहीं है, कोई शिकायतकर्ता नहीं है. ना ही किसी प्रकार का लेन-देन नहीं हुआ, ना ही कोई प्रमाणिक आधार है. कूटरचित ऑडियो-वीडियो के आधार पर इस तरीके का प्रयास किया गया है. कानून के मुताबिक इस तरीके का आपराधिक मुकदमा दर्ज नहीं किया जा सकता है. FIR की बुनियाद केंद्र बीवीजी कंपनी के प्रोजेक्ट हैड का खुद मीडिया में बयान आया था. उन्होंने कहा था कि उनकी किसी भी प्रकार के लेन-देन की बात नहीं हुई. इसके बाद भी मुकदमा दर्ज करना हास्यास्पद है. वो ऑडियो-वीडियो जिसकी FSL जांच में इसे डिस्कंटीन्यू बताया. आखिर क्या बात थी कि फिर से FSL के लिए भेजा गया है. सेंट्रल FSL में भेजा जाता है तो तेलांगना की FSL कहां से आई. आज तक कोई परिवादी सामने नहीं आया. फिर भी इए तरह की FIR दर्ज की गई थी. 

और पढ़ें