Live News »

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास

अयोध्या: अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन पूरा हो गया है और पीएम मोदी ने राम मंदिर की आधारशिला रख दी है. भूमि पूजन की सभी प्रक्रिया करने के बाद प्रधानमंत्री ने शुभ मुहूर्त के वक्त शिला रखी. प्रधानमंत्री ने शिला रखकर वहां भूमि पर प्रणाम किया. अयोध्या इस ऐतिहासिक घटना की साक्षी बनी और वहां मौजूद लोग जय श्रीराम का उद्घोष कर रहे हैं. पीएम मोदी ने ठीक 12.44.08 बजे शिला रखी. पूजा के दौरान 9 शिलाओं का अनुष्ठान किया गया, इसके अलावा भगवान राम की कुलदेवी काली माता की भी पूजी की गई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर भूमि पूजन के अनुष्ठान में हिस्सा लिया और पूजा की सभी विधियां पूरी की. RSS प्रमुख मोहन भागवत, यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी इस दौरान मौजूद रहे. पंडितों को इस भूमि पूजन के बाद पीएम मोदी की तरफ से दक्षिणा दी गई है. 

राममय हुई अयोध्या:
राम मंदिर के भूमि पूजन से पहले अयोध्या राममय हो गई है. हर तरफ राम नाम का संकीर्तन हो रहा है. जय श्रीराम के नारे की गूंज सुनाई दे रही है. हल्की बारिश भी हो रही है. हालांकि, कार्यक्रम स्थल पर वाटरप्रूफ टेंट लगाए गए हैं.

भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे:
भव्य राम मंदिर में 366 स्तंभ होंगे, पांच मंडप वाले और 161 फुट ऊंचे इस मंदिर को दुनिया के बेहतरीन मंदिरों में से गिना जाएगा. इसके खंभों में किसी तरह के लोहे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांदी के फावड़े और कन्नी का इस्तेमाल करेंगे.

चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा:
राम मंदिर भूमि पूजन के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. अयोध्या के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. अयोध्या की सीमा में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति और वाहन की जांच की जा रही है. कई इलाकों में रूट डायवर्ट किए गए हैं.


 

और पढ़ें

Most Related Stories

सीएम गहलोत बोले, हर व्यक्ति ले अंगदान का संकल्प, समाज में भ्रांतियां दूर कर बनाएं जन आन्दोलन

 सीएम गहलोत बोले, हर व्यक्ति ले अंगदान का संकल्प, समाज में भ्रांतियां दूर कर बनाएं जन आन्दोलन

जयपुर: प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि अंगदान एक पुनीत कार्य है. एक व्यक्ति के अंगदान से कई लोगों के जीवन को बचाया जा सकता है. सीएम गहलोत ने कहा कि अंगदान को लेकर समाज में भ्रांतियों को दूर कर इसे जन आंदोलन का रूप देने की आवश्यकता है और हर व्यक्ति को अंगदान का संकल्प लेना चाहिए. सीएम गहलोत शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से अंगदान दिवस के अवसर मोहन फाउण्डेशन जयपुर सिटीजन फोरम (एमएफजेसीएफ) के तत्वावधान में जयपुर में बनाए गए अंगदाता स्मारक के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे.

50 हजार लोगों को हार्ट ट्रांसप्लांट की जरूरत:
गहलोत ने कहा कि भारत में वर्तमान में अंगदान की दर प्रति दस लाख जनसंख्या पर मात्र 0.08 ही है, जबकि स्पेन में यह 35.01, अमरीका में 21.9, ब्रिटेन में 15.5 प्रति मिलियन है. देश में हर साल करीब दो लाख लोगों को किडनी, इतने ही लोगों को लिवर तथा 50 हजार लोगों को हार्ट ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है. अंगदान के प्रति जागरूकता में कमी के कारण बहुत कम लोगों में ही अंग प्रत्यारोपित हो पाते हैं. उन्होंने कहा कि हमें अंगदान तथा अंग प्रत्यारोपण के क्षेत्र में और अधिक समर्पित भाव से कार्य करने की आवश्यकता है.

{related}

ऑर्गन ट्रांसप्लांट की दिशा में हर संभव प्रयास:
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ऑर्गन ट्रांसप्लांट की दिशा में हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं. सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज में पिछले साल मानव अंग एवं उतक प्रत्यारोपण केन्द्र तथा कार्डियोथोरासिक हृदय प्रत्यारोपण ऑपरेशन थिएटर एवं गहन चिकित्सा इकाई का उदघाटन किया गया था. यह केन्द्र लोगों को अंगदान के लिए प्रेरित करने का भी काम कर रहा है. सीएम गहलोत ने इस अवसर पर स्मारक से संबंधित पोस्टर का विमोचन किया. उन्होंने प्रदेश में अंगदान के प्रति सामाजिक जागरूकता लाने के लिए जयपुर सिटीजन फोरम के चैयरमेन राजीव अरोडा तथा एमएफजेसीएफ की कन्वीनर भावना जगवानी की सराहना करते हुए कहा कि यह स्मारक आमजन में अंगदान के प्रति प्रेरणा जगाने तथा पीड़ित मानवता की सेवा का वातावरण तैयार करने में सहायक सिद्ध होगा.

अंगदान के लिए प्रोत्साहित करना आसान कार्य नहीं :
समारोह की अध्यक्षता करते हुए नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि सामाजिक मान्यताओं के कारण लोगों को अंगदान के लिए प्रोत्साहित करना आसान कार्य नहीं है, लेकिन ऎसी संस्थाओं के प्रयासों से इस नेक काम को आगे बढ़ाने में मदद मिल रही है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि अंगदान तथा अंग प्रत्यारोपण चिकित्सा के क्षेत्र में एक ऎसी क्रांति है जिससे लोगों के जीवन को बचाया जा सकता है. एक ब्रेन डेड घोषित व्यक्ति के शरीर से कॉर्निया, किडनी, लिवर, दिल, पैंक्रियाज, फेफडे, हार्ट वाल्व का प्रत्यारोपण कर लोगों को नया जीवन दिया जा सकता है.

अंगदान को मनाया जाना चाहिए उत्सव के रूप में:
जयपुर ग्रेटर मेयर सौम्या गुर्जर ने कहा कि अंगदान को उत्सव के रूप में मनाया जाना चाहिए. जयपुर सिटीजन फोरम के अध्यक्ष राजीव अरोड़ा ने कहा कि मुख्यमंत्री की प्रेरणा से जयपुर में भारत का पहला अंगदान स्मारक बन सका है. उन्होंने कहा कि राजस्थान ऎसा पहला राज्य है जहां ड्राइविंग लाइसेंस पर अंगदाता होने का चिन्ह अंकित करना प्रारंभ किया गया है. यह अपने आप में बड़ी पहल है. उन्होंने कहा कि राजस्थान पूरे उत्तर भारत में अंगदान के क्षेत्र में आगे आने वाला प्रमुख राज्य बन गया है.

COVID-19 वायरस शरीर में फैलने के लिए कोशिशाओं की कोलेस्ट्रॉल प्रणाली पर कब्जा कर सकता है : अध्ययन

COVID-19 वायरस शरीर में फैलने के लिए कोशिशाओं की कोलेस्ट्रॉल प्रणाली पर कब्जा कर सकता है : अध्ययन

बीजिंग:कोविड-19 रोग फैलाने वाला सार्स सीओवी-2 वायरस, शरीर में फैलने के लिये हमारी कोशिकाओं की आंतरिक कोलेस्ट्रॉल प्रक्रिया प्रणाली पर कब्जा कर सकता है. एक अध्ययन में यह खुलासा हुआ जिसमें इस बीमारी के संभावित इलाज की दिशा को लेकर नए संकेत मिले हैं. नेचर मेटाबॉलिज्म नामक जर्नल में प्रकाशित कोशिका संस्कृति अध्ययन में कोलेस्ट्रॉल उपापचय और कोविड-19 के बीच संभावित आणविक संपर्क की पहचान की गई है.

चीन में अकादमी ऑफ मिलिट्री मेडिकल साइंसेज (एएमएमएस) के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि सार्स सीओवी-2 वायरस मानव कोशिका के एक अनुग्राहक (रिसेप्टर) से चिपक जाता है. यह कोशिका आम तौर पर एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को बांधती है जिसे अच्छे कोलेस्ट्रॉल के तौर पर भी जाना जाता है.वैज्ञानिकों ने जब कोशिकाओं में कोलेस्ट्रॉल अनुग्राहकों को बंद कर दिया तो वायरस फिर उन पर नहीं चिपक पाया. उन्होंने कहा कि यह इलाज के नए लक्ष्य को लेकर एक संकेत है, यद्यपि यह शुरुआती चरण का शोध है.

{related}

अध्ययन में सुझाव दिया गया कि सार्स-सीओवी-2 संक्रमण बढ़ाने के लिये कोशिकाओं के आंतरिक कोलेस्ट्रॉल तंत्र का इस्तेमाल कर सकता है. सार्स-सीओवी-2 संक्रमण के दौरान वायरस पर कंटीले प्रोटीन मेजबान कोशिका अनुग्राहक, जिसे एंजियोटेनसिन-कन्वर्टिंग एंजाइन2 (एसीई2) कहते हैं, को बांधते हैं. शोधकर्ताओं ने एक अन्य अनुग्राहक की भूमिका पर प्रकाश डाला है जिसे एचडीएल स्कावेंजर अनुग्राहक बी टाइप 1 (एसआर-बी1) कहते हैं, जो इंसानों के फेफड़ों की कोशिकाओं समेत कई उत्तकों में प्रकट होता है. यह अनुग्राहक आम तौर पर उच्च-घनत्व लीपोप्रोटीन (एचडीएल) को बांधता है.  (भाषा) 

कंगना रनौत मामले में अदालत के आदेश का अध्ययन करेगी बीएमसी: महापौर

कंगना रनौत मामले में अदालत के आदेश का अध्ययन करेगी बीएमसी: महापौर

मुम्बई: मुम्बई की महापौर किशोरी पेडनेकर ने शुक्रवार को कहा कि शिवसेना शासित बृहन्मुम्बई महानगरपालिका (बीएमसी) कंगना रनौत के बंगले में तोड़फोड़ के मामले में अगला कोई कदम तय करने से पहले उच्च न्यायालय के फैसले का अध्ययन करेगी. उन्होंने कहा कि मुम्बई नगर निगम अधिनियम की धारा 354 ए के संबंध में उच्च न्यायालय द्वारा अतीत में दिये गये आदेशों को भी देखा जाएगा. धारा 354 ए नगर निकाय एवं उसके अधिकारियों को कोई भी अवैध निर्माण रोकने का अधिकार प्रदान करती है.

इससे पहले दिन में बंबई उच्च न्यायालय ने नौ सितंबर को रनौत के बंगले के कुछ हिस्सों को तोड़ने की बीएमसी की कार्रवाई को अवैध करार दिया था और कहा था कि इससे दुर्भावना की बू आती है. न्यायमूर्ति एस जे काठवल्ला और न्यायमूर्ति आर आई चागला की पीठ ने कहा कि रनौत को दी जाने वाली क्षतिपूर्ति की राशि का निर्धारण करने के वास्ते नुकसान का आकलन करने के लिए वह मैसर्स शेतगिरि को मूल्यांकन अधिकारी नियुक्त कर रही है. पेडनकर ने संवाददाताओं से कहा कि अभिनेत्री को एमएमए अधिनियम के तहत 354 ए नोटिस जारी किया गया और उचित प्रक्रिया का पालन किया गया.

{related}

उन्होंने कहा कि 354 ए नोटिस न केवल अभिनेत्री को बल्कि कई अन्य को भी जारी किया गया. कई लोगों ने उसे अदालत में चुनौती दी थी. उन्होंने कहा कि  हमें फैसले की प्रति अब तक नहीं मिली है, लेकिन मैं इस मुद्दे पर कानूनी विभाग एवं निगम आयुक्त से बात करूंगी तथा अदालती आदेश का आकलन करूंगी.(भाषा)
 

भारत की मदद से नेपाल ने खोले 3 नए स्कूल, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने किया उद्घाटन

भारत की मदद से नेपाल ने खोले 3 नए स्कूल, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने किया उद्घाटन

काठमांडूः हाल ही में नेपाल ने भारत की मदद से तीन नए स्कूल खोले है, जिनका उद्घाटन आज किया गया है. खबर है कि देश के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने नेपाल के गोरखा जिले में भारत की सहायता से निर्मित तीन स्कूलों का आज उद्घाटन किया है. ये जिला 2015 में आए भूकंप का केंद्र था. नेपाल में अप्रैल 2015 में आए 7.8 तीव्रता के भूकंप ने काफी तबाही मचाई थी जिसमें करीब 9000 लोगों की मौत हो गई थी जबकि करीब 22,000 अन्य घायल हो गए थे. जिसके बाद भारत ने दोस्ती निभाते हुए नेपाल की मदद की है और पुनरुद्धार कराया है. 

भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया है कि विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने आज गोरखा में भारत की पुनर्निर्माण सहायता- लोगों में निवेश- शिक्षा में निवेश के तहत निर्मित तीन स्कूलों का उद्घाटन किया गया है. विदेश मंत्रालय ने स्कूल के उद्घाटन कार्यक्रम का एक वीडियो भी ट्वीट किया है. विदेश सचिव ने मनंग जिले में भारत की सहायता से पुनरुद्धार किए गए एक बौद्ध मठ का भी उद्घाटन किया है. मंत्रालय ने ट्वीट किया कि विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने मनंग जिले में भारत की मदद से पुनरुद्धार के बाद तैयार ताशोप (तारे) गोम्पा मठ का भी उद्घाटन किया है.

मंत्रालय ने श्रृंगला को उद्धृत करते हुए कहा कि बौद्ध धर्म भारत और नेपाल के बीच एक महत्वपूर्ण संपर्क-सूत्र है.इससे पहले  विदेश नीति थिंक-टैंक एशियन इंस्टीयूट ऑफ डिप्लोमैसी एंड इंटरनेशनल अफेयर्स द्वारा आयोजित एक परिचर्चा में श्रृंगला ने कहा कि नेपाल और भारत के बीच का रिश्ता जटिल है और उनकी सभ्यतागत धरोहर, संस्कृति एवं रीति-रिवाज आपस में मिलते हैं. उन्होंने 2015 में नेपाल में आये विनाशकारी भूकंप के बाद भारत द्वारा त्वरित रूप से उठाये गये कदमों का दृष्टांत देते हुए कहा कि भारत अपने आप को नेपाल का स्वाभाविक और स्वत: प्रवृत सहयोगकर्ता के रूप में देखता है. (सोर्स-भाषा)

{related}

ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने ओवरलोड सवारी ऑटो रोका तो ऑटोचालक ने सड़क पर घसीटा, ड्राइवर गिरफ्तार

 ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने ओवरलोड सवारी ऑटो  रोका तो ऑटोचालक ने सड़क पर घसीटा, ड्राइवर गिरफ्तार

औरंगाबादः महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर से कानून की धज्जियां उड़ाता एक मामला सामने आ रहा है. खबर है कि क्षमता से ज्यादा सवारी लेकर जा रहे एक ऑटो रिक्शा को पुलिसकर्मी ने रोकने की कोशिश की मगर चालक ने वाहन रोकने के बजाय उसकी गति तेज कर दी थी. इससे  ट्रैफिक पुलिसकर्मी का पैर गाड़ी में फंस गया और वे सड़क पर घसीटते हुए चले गए थे. इस मामले की जानकारी एक पुलिस अधिकारी ने दी है. 

उन्होंने कहा कि ये घटना बृहस्पतिवार दोपहर बाद शहर के जालना रोड पर हुई है. उन्होंने कहा कि इस दौरान पुलिसकर्मी हसीमुद्दीन शेख को दाहिने पैर में चोट आई है. अधिकारी ने कहा कि शेख जालना रोड स्थित हाईकोर्ट सिग्नल पर ड्यूटी पर तैनात था जब उसने एक ऑटो रिक्शा को क्षमता से अधिक सवारी ले जाते देखा था. तब शेख ऑटो रिक्शा को रुकवाकर उसकी पिछली सीट पर बैठ गया और चालक को वाहन सड़क के किनारे करने को कहा था. 

उन्होंने कहा कि ऑटो रिक्शा चालक फारुक शाह इसके बावजूद रुका नहीं और ऑटो से धक्का दिये जाने के कारण शेख उससे नीचे गिर गया है.  पुलिसकर्मी ने हालांकि वाहन को छोड़ा नहीं था.  इस पर चालक ने ऑटो रिक्शा की गति और बढ़ा दी जिससे पुलिसकर्मी कुछ दूरी तक घिसटता चला गया था. इसके बाद आरोपी को तत्काल गिरफ्तार कर लिया गया और उसे शुक्रवार को अदालत में पेश किया जाएगा. 

सहायक पुलिस निरीक्षक घनश्याम सोनावाने ने कहा कि घायल पुलिसकर्मी का इलाज जारी है और वे खतरे से बाहर है. फिलहाल पुंडालिक नगर पुलिस थाने में आरोपी चालक के खिलाफ प्रासंगिक धाराओं में मामला दर्ज किया गया है और जल्दी ही उसे अदालत में पेश किया जाएगा.  (सोर्स-भाषा)

{related}

Farmers Protest: किसानों को दिल्ली में प्रवेश की अनुमति दी गई, सीएम अमरिंदर ने कदम का  किया स्वागत

Farmers Protest: किसानों को दिल्ली में प्रवेश की अनुमति दी गई, सीएम अमरिंदर ने कदम का  किया स्वागत

चंडीगढ़: केन्द्र सरकार द्वारा किसानों को दिल्ली में दाखिल होने और शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने की मंजूरी देने के कदम का पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शुक्रवार को स्वागत किया. इससे पहले दिन में प्रदर्शनकारी किसानों ने दिल्ली-हरियाणा के सिंघू बॉर्डर पर पथराव किया और बैरीकेड तोड़ डाले. दिल्ली पुलिस के साथ उनका संघर्ष भी हुआ जिसने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े. पुलिस ने कहा कि किसानों को उत्तर दिल्ली के निरंकारी मैदान में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने की अनुमति दे दी गई है.

अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया, किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने और प्रदर्शन करने के लोकतांत्रिक अधिकार की अनुमति देने के लिए मैं केंद्र के निर्णय का स्वागत करता हूं. कृषि कानूनों पर किसानों की चिंताओं का समाधान करने के लिए अब उन्हें तुरंत वार्ता शुरू करनी चाहिए. पंजाब के किसान संगठनों ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने उन्हें दिल्ली में एक स्थान पर आंदोलन करने की अनुमति दे दी है.

{related}

क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शन पाल ने कहा कि हमें दिल्ली में प्रवेश की इजाजत दी गई है. भारतीय किसान यूनियन (राजेवल) के अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि किसान बुराड़ी की ओर निकल गए हैं. इससे पहले, किसानों ने रामलीला मैदान में प्रदर्शन करने की अनुमति मांगी थी, लेकिन दिल्ली पुलिस ने वहां प्रदर्शन की अनुमति देने से इनकार कर दिया था. पंजाब के मुख्यमंत्री ने हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार द्वारा किसानों को रोकने के लिए क्रूर बल का इस्तेमाल करने को लेकर आलोचना की.

मुख्यमंत्री ने एक बयान जारी कर कहा कि इस तरह के कड़े कदम उठाने की क्या जरूरत है? मनोहर लाल खट्टर जी इस तरह की क्रूरता को रोकने की जरूरत है. केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध जताने दिल्ली के लिए निकले पंजाब और हरियाणा के किसान रास्ते में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त के बावजूद शुक्रवार सुबह दिल्ली के दो बॉर्डर पर पहुंच गए. किसान नये कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि नये कानून से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की व्यवस्था समाप्त हो जाएगी. केन्द्र ने पंजाब के कई किसान संगठनों को बातचीत करने के लिए तीन दिसम्बर को बुलाया है.(भाषा)

लापता युवक का शव संदिग्ध हालत में बरामद, पहचान छुपाने के लिए हत्यारे ने चेहरे को बेरहमी से कुचला और जलाया

लापता युवक का शव संदिग्ध हालत में बरामद,  पहचान छुपाने के लिए हत्यारे ने चेहरे को बेरहमी से कुचला और जलाया

बिजनौरः उत्तर प्रदेश के बिजनौर से हत्या का एक ह्रदयविदारक मामला सामने आया है, जहां कल शाम से लापता युवक की लाश बेहद ही दयनीय और भयानक अवस्था में मिली है. असल में लाश की पहचान छिपाने के लिए उसके सिर और चेहरे को कुचला गया है. इतना ही नहीं लाश के चेहरे को जलाने की कोशिश भी की गई है. आपको बता दे कि मृतक की पहचान शुभम (24) के रुप में की गई है. 

पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने मामले की पूरी जानकारी देते हुए बताया है कि आज सुबह झालू बस स्टैंड के निकट मोहल्ला बढ़वान निवासी 24 वर्षीय शुभम की लाश मिली है. लाश का सिर और चेहरा पत्थर से कुचला गया है. हत्या में प्रयुक्त पत्थर घटनास्थल पर ही पड़ा था. फिलहाल किसी पर भी शक नहीं जताया जा रहा है, मगर मामले की बारिकी से जांच की जा रही है. 

सिंह ने आगे बताया कि मृतक की पहचान छिपाने के लिए चेहरा जलाने की भी कोशिश की गई थी. जानकारी के अनुसार शुभम बृहस्पतिवार शाम से घर से गायब था जिसके बाद से परिजन उसकी तलाश कर रहे थे औऱ अब उसका शव इस हालत में मिलने से सभी सदमें में है. फिलहाल मामले की जांच की जा रही है और पुलिस ने आश्वासन दिलाया है कि जल्दी ही आऱोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. (सोर्स-भाषा) 

{related}

घोड़ी चढ़े दूल्हे का कटा चालान ...जानिए पूरी खबर

घोड़ी चढ़े दूल्हे का कटा चालान ...जानिए पूरी खबर

जयपुर: शहनाई की गूंज देवउठनी एकादशी से शुरू हो गई, लेकिन कोरोना की वजह से अब शादियों की रौनक फिकी नजर आ रही हैं. अब शादी समारोह में कोरोना की वजह से मेहमानों की संख्या राज्य सरकार ने तय कर दी हैं. साथ ही शादी समारोह में कोरोना गाइडलाइन का पालन करना होगा. शादी समारोह की ऑनलाइन सूचना देनी होगी. पहले की शादियों की अलग बात थी, लेकिन जब महामारी का दौर चल रहा है, तो शादी समारोह में सावधानियां भी जरूरी हैं.

शहनाई की गूंज में कार्रवाई की गूंज:
सरकार की ओर से शादी समारोह में कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने पर जुर्माना तय किया गया हैं. अब शहनाई की गूंज में प्रशासन की कार्रवाई की गूंज भी सुनाई दे रही हैं. ताजा मामला प्रदेश की राजधानी जयपुर का हैं, जहां पर दूल्हे राजा का 4 हज़ार का चालान कट गया. बात ये थी कि दूल्हे राजा शादी में बिना मास्क नजर आये. 

{related}

दूल्हे का कटा 4 हजार रुपए का चालान:
फिर क्या था दूल्हे का 4 हज़ार रुपए का चालान कट गया. आपको बता दें कि प्रशासन की शादी समारोह पर पैनी नजर हैं, क्योंकि सबसे ज्यादा कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन वहीं होता हैं. इसलिए शादी पार्टियों में प्रशासन के अधिकारी कर्मचारी नजरें बनाए हुए हैं. जब नगर निगम की टीम एक शादी समारोह में पहुंची तो वहां पर दूल्हा बिना मास्क के नजर आया. तो नगर निगम की टीम ने दूल्हे का 4 हज़ार का चालान कर दिया. ग्रेटर मेयर सौम्या गुर्जर के आदेश के बाद निगम सक्रिय हुआ. 

100 से ज्यादा लोग नहीं हो सकते शामिल:
गौरतलब हैं कि राजस्थान में होने वाली शादी में अब ज्यादा से ज्यादा 100 लोग ही शामिल हो सकते हैं. अगर इसकी संख्या बढ़ती है 25 हजार के जुर्माने का प्रावधान किया गया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को शादियों जैसे किसी भी कार्यक्रम में 100 से अधिक लोगों के जमा होने पर जुर्माना राशि को 10,000 से बढ़ाकर 25,000 करने का निर्देश दिया है. इसके अलावा, उन्होंने अधिकारियों से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सभी दिशा-निर्देशों और आदेशों का पालन सुनिश्चित करने के लिए भी कहा है.