बाबा रामदेव समाधि का हुआ पंचामृत से अभिषेक, चादर चढ़ा कर किया स्वर्ण मुकुट स्थापित, कोरोना की वजह से मेला स्थगित 

बाबा रामदेव समाधि का हुआ पंचामृत से अभिषेक, चादर चढ़ा कर किया स्वर्ण मुकुट स्थापित, कोरोना की वजह से मेला स्थगित 

रामदेवरा(जैसलमेर): बाबा रामदेव समाधि के 636 वें मेले का गुरुवार को ब्रह्ममुहूर्त के साथ आगाज हुआ, हालांकि कोरोना के चलते बाबा रामदेव के 636 वें मेले को स्थगित किया है. इसके स्थानीय समाधि समिति के साथ ही पुलिस, प्रशासन के दारा लगातार अपील करते हुए रामदेवरा की यात्रा स्थगित की अपील की जा रही हैं. लोकदेवता बाबा रामदेव समाधि का गुरुवार को ब्रह्ममुहूर्त में पंचामृत से अभिषेक किया गया.

Rajasthan Corona Updates: 50 हजार राजस्थानियों ने दी कोरोना को मात, 49 हजार 759 मरीज तो अस्पताल से डिस्चार्ज होकर पहुंचे घर

चादर चढ़ा कर किया स्वर्ण मुकुट स्थापित:
वहीं इस मौके पर अभिषेक के बाद बाबा रामदेव की समाधि पर चादर चढ़ा कर स्वर्ण मुकुट स्थापित किया गया. सुबह की मंगला आरती का आयोजन हुआ. अभिषेक,आरती के समय बाबा रामदेव गादीपति राव भोमसिंह तंवर, रामदेवरा सरपंच समंदर सिंह तंवर,व्यवसापक कपिल छंगाणी सहित पुजारी गण उपस्थित रहे.

बाबा रामदेव का वार्षिक मेला स्थगित:
कोरोना के चलते जहां बाबा रामदेव का वार्षिक मेला स्थगित हैं. वही समाधि के पट भी गत 6 माह से श्रद्धालुओं के लिये बन्द हैं, ऐसे में गुरुवार को अभिषेक ,आरती में केवल गादीपति, सरपंच और पुजारी ही उपस्थित रहे. वहीं अभिषेक,आरती के वीडियो फोटो बनाकर शोशल मीडिया के माध्यम से बाबा रामदेव के भक्तों तक पहुंचाया गया. जिससे कि श्रद्धालु घर बैठे बाबा रामदेव समाधि के अभिषेक और आरती के दर्शन कर सके.

चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा बोले, राजस्थान में कोरोना से होने वाली मृत्यु दर अब रह गई है 1.3 प्रतिशत

दर्शनों के लिए आते हैं लाखों श्रद्धालु: 
प्रति वर्ष आयोजित होने वाले बाबा रामदेव के वार्षिक मेले में देश-प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से 15 दिन की अवधि में 20 से 30 लाख श्रद्धालु रामदेवरा आते हैं. अकेले भादवा सुदी बीज यानी आज के दिन 1 से 2 लाख श्रद्धालु रामदेवरा समाधि के दर्शनों को पहुंचते थे. लेकिन इस साल कोरोना के सक्रमण के चलते वार्षिक मेला भी स्थगित हैं.  

...फर्स्ट इंडिया के लिए राजेन्द्र सोनी की रिपोर्ट 

और पढ़ें