भीषण अग्निकांड से खंडहर में तब्दील हुआ रामदेवरा का मुख्य बाजार

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/03/02 11:44

रामदेवरा(जैसलमेर)। कस्बे में मंगलवार की रात्रि को बिजली के खंभे में हुए शॉर्ट सर्किट के कारण लगी भीषण आग ने 32 दुकानों में रखा करोड़ों का सामान जल कर राख हो गया। वही साथ ही 6 रहवासी मकान ओर 24 दुकानें जल कर धराशायी हो गई। भीषण आग ने कई दुकानदारों को सड़क पर ला दिया है। दुकानों में लगी भीषण आग के बाद से रामदेवरा में मंदिर जाने का मुख्य सड़क मार्ग को पुलिस ने बंद कर दिया गया है। इसके साथ ही दुकानदारों ने भी क्षतिग्रस्त दुकानों का मलबा अभी तक इस आस में नहीं हटाया कि क्षतिग्रस्त दुकानों का सरकार द्वारा कोई न कोई अनुदान दिया जाएगा। इस भीषण हादसे को तीन दिन बीतने के बाद भी न तो अभी तक सरकार का कोई उच्चाधिकारी यहां पहुंचा है और न ही प्रशासन द्वारा इस ओर कोई पहल की है। इसके चलते दुकानदारों का सब्र इन दिनों रोष में बदलता जा रहा है। 

कस्बे में हुई आग की घटना ने कई दुकानदारों की रोजी रोटी बंद कर दी है। वहीं दुकानदार ग्राम पंचायत की दुकानों में किराए में रहते थे उन्हें पिछले तीन दिनों से काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। ऐसे में दुकानदार पिछले तीन दिनों से सरकार की तरफ से सहायता की आस लगाए बैठे हैं। लेकिन पिछले तीन दिनों से सरकार और प्रशासन द्वारा कोई सहायता नहीं दी जा रही है। दुकानदारों की सरकारी नुमाइंदों से बंधी आस टूटती नजर आ रही है। 

मुख्यमंत्री राहत सहायता कोष से दुकानदारों को है उम्मीद 
रामदेवरा में मंगलवार की रात्रि को हुई बारिश के बाद आई तेज हवा के दौरान हुए शॉर्ट सर्किट से दुकानों में आग लग गई। इसमें दुकानदारों को करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ। सरकार के पास दुकानदारों को मुआवजा राशि दिलाने के लिए कोई प्रावधान नहीं है। वहीं मुख्यमंत्री राहत सहायता कोष द्वारा प्राकृतिक आपदा के दौरान मुआवजा देने का प्रावधान है। इसमें दुकानदारों को मुख्यमंत्री राहत सहायता कोष से उम्मीद बंधी है। 

मुआवजा नहीं मिला तो दुकानदार करेंगे प्रदर्शन 
कस्बे में हुई आगजनी से प्रभावित दुकानदारों द्वारा गणेश मंदिर में बैठक आयोजित की। बैठक में दुकानदारों ने एकराय होकर आगजनी की घटना को लेकर सरकार से मुआवजा दिलाने की मांग की। इसके साथ ही बैठक में निर्णय लिया गया कि अगर जल्द ही सरकार की तरफ से कोई मुआवजा नहीं मिला तो दुकानदारों द्वारा विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने बैठक में रामदेवरा में फायरब्रिगेड लाने की मांग की ताकि भविष्य में इस तरह की घटना की पुनरावृति न हो। साथ ही अन्य दुकानदारों से अपील की है कि दुकानों के बाहर लगे चाइनीज पर्दों को हटाने तथा दुकानों में रखे सामान को पीछे लेने की अपील की। उन्होंने इस संबंध में सांसद गजेन्द्रसिंह, कैबिनेट मंत्री सालेह मोहम्मद के नाम ज्ञापन सौंपा। 

सांसद आदर्श ग्राम योजना में शामिल है रामदेवारा 
रामदेवरा गांव को सांसद गजेन्द्रसिंह शेखावत द्वारा सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद लिया गया है। पिछले चार वर्षों में सांसद द्वारा रामदेवरा के लिए कोई विशेष कार्य नहीं किया है, लेकिन कस्बे में हुई आगजनी की घटना को लेकर सांसद द्वारा कोई सहायता नहीं दी गई है। शनिवार को भी केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण मंत्री ने अग्निकांड में मुआवजा देने का मामला राज्य सरकार के ऊपर डाल कर इति श्री कर लेने से भी अग्नि कांड से पीड़ित व्यापारियों में मायूसी छा गई। 

...राजेन्द्र सोनी,सवांददाता, रामदेवरा।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in