जयपुर राजभवन के बाहर रणदीप सुरजेवाला का बयान, कहा-BJP प्रजातंत्र का कर रही है चीरहरण 

राजभवन के बाहर रणदीप सुरजेवाला का बयान, कहा-BJP प्रजातंत्र का कर रही है चीरहरण 

 राजभवन के बाहर रणदीप सुरजेवाला का बयान, कहा-BJP प्रजातंत्र का कर रही है चीरहरण 

जयपुर: राजस्थान सियासी संकट के बीच कांग्रेस राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि BJP प्रजातंत्र का चीरहरण कर रही है. उन्होंने कहा कि पूरा बहुमत राजभवन में खड़ा है, हम विधानसभा का सत्र बुलाना चाहते है. इसीलिए राज्यपाल की ड्योढ़ी पर आए है.पूरे देश में बीजेपी जनमत का अपहरण कर रही है. आर्टिकल 174 के तहत राज्यपाल प्रस्ताव मानने को बाध्य है. 

रात 9:30 बजे होगी गहलोत कैबिनेट की बैठक:
फिलहाल कांग्रेस विधायक राजभवन से धरने से उठ गए है. सभी कांग्रेसी विधायक होटल के लिए रवाना हुए. विधायक दिव्या मदेरणा भी राजभवन से रवाना हुईं. मंत्री डॉ.सुभाष गर्ग के साथ सरकारी गाड़ी से रवाना हुईं. मुख्यमंत्री गहलोत भी राजभवन से CMR गए. रात 9:30 बजे गहलोत कैबिनेट की बैठक होगी. कल सुबह 11 बजे विधायक दल की बैठक होगी. होटल फेयरमाउंट में विधायक दल की बैठक होगी. विधायक दल की बैठक में आगे की रणनीति बनेगी.

विधानसभा सत्र बुलाने की पहल हमने खुद की:
इससे पहले राजभवन में राज्यपाल कलराज मिश्र से मुलाकात करने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि विधानसभा सत्र बुलाने की पहल हमने खुद की है. विपक्ष को भी इस निर्णय का वेलकम करना चाहिए था. उन्होंने कहा कि सत्ता पक्ष  विधानसभा सत्र बुलाएं जाने की कह रहा है और विपक्ष कह रहा हम विधानसभा सत्र की मांग ही नहीं कर रहे, ये सब पहेली समझ के परे. सीएम गहलोत ने कहा कि मेरी भाषा धमकाने वाली नहीं, ये राजनीतिक भाषा होती है. यहां राजभवन में भैरों सिंह शेखावत भी धरने पर बैठे थे. नए भाजपा नेताओं को ये बात नहीं पता, इसलिए कुछ भी बोल रहे. उन्होंने कहा कि राज्यपाल एक संवैधानिक पद, उन्हें दबाव में नहीं आना चाहिए. मुझे पूरा विश्वास कि वो जल्द अपना फैसला सुनाएंगे.

राजस्थान हाईकोर्ट से मिली सचिन पायलट को बड़ी राहत, मामले में सुनवाई के लिए हाईकोर्ट ने तय किये 13 सवाल

सीएम गहलोत ने की कलराज मिश्र से मुलाकात:
इससे पहले राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दोपहर को राज्यपाल कलराज मिश्र से मुलाकात की. इस दौरान सभी विधायक राजभवन में बाहर डेरा जमाए रहे और नारेबाजी की जा रही है. विधायक तानाशाही नहीं चलेगी के नारे लगा रहे हैं. वहीं सीएम के पक्ष में भी अशोक गहलोत तुम संघर्ष करो, हम तुम्हारे साथ है के नारे लगाए जा रहे हैं. सीएम की ओर से विधानसभा सत्र बुलाने की मांग की जा रही है.

राजभवन और सरकार के बीच टकराव: 
राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच राजभवन और सरकार के बीच टकराव अब एक नए मोड़ पर आ गया है. 22 घंटे तक गहलोत के प्रस्ताव पर अपना MIND APPLY करने के बाद अब राज्यपाल कलराज मिश्र ने दो टूक स्टैंड लिया है. उन्होंने कहा कि अभी विधानसभा सत्र बुलाना ठीक नहीं है. कई विधायक कोरोना से पीड़ित है. 

ये होगी दिसंबर, 1993 के स्व. भैरों सिंह शेखावत घटनाक्रम की पुनरावृत्ति:
इसी बीच होटल फेयरमाउंट में विधायक दल की बैठक होने की भी चर्चा है. बैठक के बाद मुख्यमंत्री की अगुवाई में फेयरमाउंट होटल से रवाना होकर विधायक राजभवन पहुंचेंगे. ऐसे में ये दिसंबर, 1993 के स्व. भैरों सिंह शेखावत घटनाक्रम की पुनरावृत्ति होगी. उस समय भी सभी विधायक शेखावत की अगुवाई में राजभवन पहुंचे थे और राज्यपाल बलीराम भगत को शेखावत को सरकार बनाने का निमंत्रण देना पड़ा था. 

सचिन पायलट के विशिष्ट सहायक आकाश तोमर को किया APO, पहले भी अन्य स्टाफ को किया एपीओ

और पढ़ें