देहरादून Uttarakhand Election 2022: हरीश रावत को रामनगर सीट से उतारे जाने पर रणजीत रावत ने जताई नाराजगी, पार्टी के कदम पर उठाए सवाल

Uttarakhand Election 2022: हरीश रावत को रामनगर सीट से उतारे जाने पर रणजीत रावत ने जताई नाराजगी, पार्टी के कदम पर उठाए सवाल

Uttarakhand Election 2022: हरीश रावत को रामनगर सीट से उतारे जाने पर रणजीत रावत ने जताई नाराजगी, पार्टी के कदम पर उठाए सवाल

देहरादून: कांग्रेस की उत्तराखंड इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत रावत ने नैनीताल की रामनगर विधानसभा सीट से पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को उतारे जाने पर नाराजगी जताई है. सोशल मीडिया पर सामने आए एक कथित वीडियो में रणजीत रावत पार्टी महासचिव एवं प्रदेश चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत की उम्मीदवारी वापस लिये जाने की मांग करते हुए पार्टी के कदम पर सवाल उठाते हुए दिखाई दे रहे हैं.

वीडियो में वह पार्टी कार्यकर्ताओं से पूछते दिख रहे हैं, 'क्या आप किसी और (हरीश रावत) को उस बंजर जमीन की फसल काटने देंगे, जिसे आपने उपजाऊ बनाया है.’’ इसमें रणजीत रावत जाहिर तौर पर हरीश रावत पर तंज कसते हुए कह रहे हैं, ‘‘जो व्यक्ति खुद को प्रदेश पार्टी का चेहरा बनाए जाने की बात कहता है और यह दावा करता है कि उसके नाम और काम पर वोट पड़ेंगे, तो उसे किसी दूसरी सीट से लड़ने में डर क्यों है. उन्होंने पार्टी के फैसले को 'गलत' करार देते हुए पार्टी आलाकमान से इसे वापस लेने को कहा. उन्होंने हरीश रावत का जिक्र करते हुए कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है, तो आप तय करें कि किसी ऐसे व्यक्ति के साथ क्या करना है जिसके पास मुख्यमंत्री होने के बावजूद सीट नहीं है."

 

वीडियो में रणजीत रावत यह कहते हुए सुनाई दे रहे हैं, "आप जो भी तय करेंगे, मैं उसके साथ जाऊंगा. सामाजिक और राजनीतिक जीवन में कोई भी निर्णय एकतरफा नहीं लिया जा सकता है." इस संबंध में वह यह भी कहते हुए दिखाई दे रहे हैं, ‘‘बेबाकी से विचार रखने पर अगर पार्टी उनके खिलाफ कार्रवाई करती है तो उन्हें इसका डर नहीं है.’’ रणजीत रावत ने भी रामनगर सीट से दावेदारी की थी. रामनगर सीट का प्रतिनिधित्व राज्य बनने के बाद 2002 में पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता नारायण दत्त तिवारी भी कर चुके हैं. रणजीत रावत 2002 और 2007 में सल्ट सीट से विधायक चुने गए थे जबकि 2012 के विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दिवंगत नेता सुरेंद्र सिंह जीना से उन्हें पटखनी मिली थी. सोर्स- भाषा

और पढ़ें