ज्ञान डिग्रियों का मोहताज नहीं ! ये साबित कर दिखाया महज 8वीं कक्षा तक पढ़े लिखे सुरेंद्र कटेवा ने

ज्ञान डिग्रियों का मोहताज नहीं ! ये साबित कर दिखाया महज 8वीं कक्षा तक पढ़े लिखे सुरेंद्र कटेवा ने

रतनगढ़: चूरू के रतनगढ़ का सुरेंद्र कटेवा जो अपने-आप में गूगल है, इनके पास कागज की डिग्रियां नहीं है लेकिन जुबान पर सरस्वती विराजती है. 80 सेकंड में बता देते है दुनिया के 206 देशों के नाम और भी अपार ज्ञान का रियल टेस्ट किया फर्स्ट इंडिया से संजय प्रजापत ने. कहते है ज्ञान डिग्रियों का मोहताज नहीं होता है. कुछ ऐसा ही साबित कर दिखाया है रतनगढ़ के लाल सुरेंद्र कटेवा ने.

गृहमंत्री अमित शाह बोले, दिल्ली में कोरोना को लेकर काबू में हालात, नहीं होंगे 31 जुलाई तक 5.50 लाख केस

विश्व के सभी देशों के नाम याद:
महज 8 वीं कक्षा तक पढ़े सुरेंद्र कटेवा का ज्ञान का भंडार कुछ इस प्रकार से हैं कि उनके सामने बड़े से बड़े डिग्री धारी विद्वान भी बोने नजर आते हैं. 32 वर्षीय रतनगढ़ के सुरेंद्र कटेवा खेती-बाड़ी का कार्य करते हैं लेकिन ज्ञान अर्जित करने की ललक कुछ ऐसी लगी कि आज इनको विश्व के सभी देशों के नाम याद है.

आठवीं कक्षा तक पढ़े लिखे हैं सुरेंद्र कटेवा:
देश की सभी राजधानियां, जिले और जिलों की खूबियां सभी का ज्ञान इनके पास है. पलक झपकते ही कटेवा देश के किसी भी जिले की पूरी हिस्ट्री बता देते हैं. साथ ही साथ प्रधानमंत्री द्वारा चलाई जा रही योजनाओं और वैज्ञानिक उपकरण का भी भरपूर ज्ञान है. विश्व के किसी भी देश की विशेषता आप सुरेंद्र कटेवा से पूछ सकते हैं. महज 80 सेकंड में सुरेंद्र कटेवा दुनिया के सभी देशों के नाम बता देते हैं. विशेष बात यह है कि सुरेंद्र  आठवीं तक ही पढ़े लिखे हैं, लेकिन ज्ञान अर्जित करने की लग्न में सुरेंद्र कटेवा ने दिन रात मेहनत की और आज अपने ज्ञान के दम पर आसपास के क्षेत्र में एक अलग पहचान बना ली है.

पेट्रोल-डीजल के बढ़े हुए दामों का विरोध, एनएसयूआई के छात्रों ने किया अनोखा प्रदर्शन

और पढ़ें