जयपुर: अन्नदाताओं के लिए राहत की खबर: कोविड में Gehlot सरकार ने छोटी जोत वाले जरूरतमंद Farmer के लिए लागू की नई Scheme

अन्नदाताओं के लिए राहत की खबर: कोविड में Gehlot सरकार ने छोटी जोत वाले जरूरतमंद Farmer के लिए लागू की नई Scheme

अन्नदाताओं के लिए राहत की खबर: कोविड में Gehlot सरकार ने छोटी जोत वाले जरूरतमंद Farmer के लिए लागू की नई Scheme

जयपुर: कोविड संकट (Covid Crisis) से पुरा देश जूझ रहा है. इससे राजस्थान (Rajasthan) भी अछुता नहीं रहा है. ऐसे में राजस्थान की गहलोत सरकार (Gehlot Government) ने किसानों के लिए राहत भरी स्कीम लागू की है. कृषि विभाग (Agriculture Department) की ओर से कोविड-19 महामारी को  दृष्टिगत रखते हुए छोटी जोत वाले जरूरतमंद किसानों को राहत देते हुए ट्रैक्टर एवं  कृषि यंत्रों की फ्री रेंटल स्कीम (Free Rental Scheme) के तहत सेवाएं उपलब्ध कराई जा रही है.

31 जुलाई तक 2.5 एकड़ से कम भूमि वाले किसानों को मिलेगा फायदा:
कृषि मंत्री लालचन्द कटारिया (Agriculture Minister Lalchand Kataria) ने बताया कि टैफे कम्पनी (Tafe Company) की फर्म जे फार्म सर्विसेस के माध्यम से आगामी 31 जुलाई तक 2.5 एकड़ से कम भूमि के स्वामित्व वाले किसानों को निःशुल्क किराए पर ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्रों की सेवाएं मुहैया कराई जाएगी. उन्होंने बताया कि काश्तकार https://jfarmservices.com  लिंक के माध्यम से खुद को JFarm Services अपबमे एप पर रजिस्टर कर ऑर्डर बुक कर सकते हैं.

ऑर्डर केवल खेती के यंत्रों के लिए ही होगा मान्य:
साथ ही मेसी फर्गुसन और आयशर ट्रैक्टर (Eicher Tractor) मालिक भी इसी लिंक के माध्यम से अपने आप को जोड़कर ऑर्डर स्वीकार कर सकते हैं. इसके अलावा टोल फ्री नम्बर 18004200100 पर फोन करके भी इस सेवा का लाभ उठा सकते हैं. उन्होंने बताया कि ऑर्डर केवल खेती के यंत्रों जैसे हल, रोटावेटर, प्लाउ, बिजाई मशीन इत्यादि के लिए ही मान्य होगा. एक किसान द्वारा केवल एक ही ऑर्डर मान्य होगा.

अधिकारियों को योजना को लेकर प्रचार प्रसार करने के दिए निर्देश:
कृषि मंत्री ने योजना की सीमित अवधि तथा खरीफ बुवाई (Kharif Sowing) के समय को देखते हुए सभी खंडीय संयुक्त निदेशक, उप निदेशक एवं सहायक निदेशक को आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि सहायक कृषि अधिकारी एवं कृषि पर्यवेक्षकों के माध्यम से योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार कर अधिकाधिक कृषकों को कम्पनी के मोबाइल एप अथवा टोल फ्री नम्बर (Toll Free Number) पर बुकिंग करा कर लाभान्वित कराने में सहयोग करें.

उल्लेखनीय है कि गत वर्ष भी कृषि विभाग के प्रयासों से कोविड की विकट परिस्थितियों में करीब 27 हजार किसानों को एक लाख घण्टे से ज्यादा की निःशुल्क सेवा दी गई थी.

और पढ़ें