चंडीगढ़ अनिल विज ने कहा, अमरिंदर सिंह को सीएम पद से हटाना राजनीतिक हत्या है

अनिल विज ने कहा, अमरिंदर सिंह को सीएम पद से हटाना राजनीतिक हत्या है

अनिल विज ने कहा, अमरिंदर सिंह को सीएम पद से हटाना राजनीतिक हत्या है

चंडीगढ़: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने बृहस्पतिवार को कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अमरिंदर सिंह को पंजाब के मुख्यमंत्री पद से हटाया जाना "राजनीतिक हत्या" है क्योंकि राष्ट्रवादी नेता पार्टी के "गेमप्लान (साजिश)" में बाधा थे. विज ने कांग्रेस पर पंजाब में 'राष्ट्र विरोधी षडयंत्र' रचने का भी आरोप लगाया तथा 2018 में इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह के लिए राज्य कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू की इस्लामाबाद यात्रा का जिक्र किया.

कांग्रेस पंजाब और पाकिस्तान को करीब लाना चाहती है
सिद्धू के साथ तीखे सत्ता संघर्ष के बाद अमरिंदर सिंह ने पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था और कहा था कि वह "अपमानित" महसूस कर रहे थे. उन्होंने पंजाब कांग्रेस प्रमुख को "राष्ट्र-विरोधी" तथा "खतरनाक" करार दिया था. विज ने दावा किया कि कांग्रेस पंजाब और पाकिस्तान को करीब लाना चाहती है.इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य में "राष्ट्र विरोधी षडयंत्र रचे जा रहे हैं. विज ने यहां संवाददाताओं से कहा कि राष्ट्रवादी अमरिंदर सिंह कांग्रेस के गेमप्लान में बाधा थे, इसलिए उनकी राजनीतिक हत्या की गई." उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व द्वारा "षडयंत्र" रचा जा रहा है. उन्होंने कहा कि इस षडयंत्र को नाकाम करने के लिए सभी राष्ट्रवादी ताकतों को हाथ मिलाना चाहिए.

सिद्धू, इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने पाकिस्तान गए थे
विज ने कहा कि यह उस समय साबित हो गया था जब अमरिंदर सिंह की सलाह की अनुसनी करते हुए सिद्धू इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए पाकिस्तान गए थे. उन्होंने कहा कि सिद्धू ने पाकिस्तान में न केवल इमरान खान की तारीफ की बल्कि पड़ोसी देश के सेना प्रमुख से गर्मजोशी से गले भी मिले. विज ने कहा कि जब सिद्धू वापस आए और उनसे पूछा गया कि अमरिंदर की नहीं जाने की सलाह के बावजूद वह पाकिस्तान क्यों गए थे, तब उन्होंने कहा था कि मेरे कप्तान अमरिंदर सिंह नहीं हैं, मेरे कप्तान राहुल गांधी हैं. उन्होंने आरोप लगाया, इससे साफ होता है कि खेल खेला जा रहा था और राष्ट्रवादी अमरिंदर सिंह के खिलाफ षडयंत्र रचा जा रहा है जो कांग्रेस की इस षडयंत्र में बाधा डाल रहे थे. सिर्फ अमरिंदर सिंह ही नहीं, पंजाब में सभी राष्ट्रवादी ताकतों को "कांग्रेस के गेमप्लान को नाकाम करने के लिए" हाथ मिलाना चाहिए. सोर्स- भाषा

और पढ़ें