नई दिल्ली सब्जी, मसाले महंगे होने से खुदरा मुद्रास्फीति अगस्त में बढ़कर सात प्रतिशत पर

सब्जी, मसाले महंगे होने से खुदरा मुद्रास्फीति अगस्त में बढ़कर सात प्रतिशत पर

सब्जी, मसाले महंगे होने से खुदरा मुद्रास्फीति अगस्त में बढ़कर सात प्रतिशत पर

नई दिल्ली: सब्जी, मसाले जैसे खाने के सामान के दाम बढ़ने से खुदरा महंगाई दर अगस्त महीने में बढ़कर सात प्रतिशत पर पहुंच गयी. इसके साथ पिछले तीन महीने से खुदरा मुद्रास्फीति में कमी का रुख थम गया है. सोमवार को जारी सरकारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली है. एक महीने पहले जुलाई में खुदरा मुद्रास्फीति 6.71 प्रतिशत थी. उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति लगातार आठवें महीने रिजर्व के संतोषजनक स्तर से ऊपर बनी हुई है.सरकार ने केंद्रीय बैंक को खुदरा मुद्रास्फीति को दो प्रतिशत से छह प्रतिशत के बीच रखने की जिम्मेदारी दी हुई है.

आरबीआई मौद्रिक नीति पर निर्णय करते समय मुख्य रूप से खुदरा मुद्रास्फीति पर गौर करता है. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़ों के अनुसार, खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर अगस्त में 7.62 प्रतिशत रही जो जुलाई में 6.69 प्रतिशत थी. वहीं पिछले साल अगस्त में यह 3.11 प्रतिशत थी. सब्जी, मसालों, फुटवियर (जूता-चप्पल) और ईंधन तथा प्रकाश श्रेणी में कीमतों में सालाना आधार पर 10 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है.

हालांकि, अंडे के मामले में मुद्रास्फीति में गिरावट आई जबकि मांस और मछली जैसे प्रोटीन वाले खाद्य पदार्थों की कीमतें स्थिर रहीं. मुद्रास्फीति इस साल अप्रैल में 7.79 प्रतिशत पर पहुंच गयी थी. हालांकि, बाद में इसमें कमी आई और जुलाई में यह 6.71 प्रतिशत पर आ गयी. (भाषा) 

और पढ़ें