नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे पर संबित पात्रा ने कहा, पंजाब कांग्रेस में मचा घमासान राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए है चिंताजनक

नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे पर संबित पात्रा ने कहा, पंजाब कांग्रेस में मचा घमासान राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए है चिंताजनक

नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे पर संबित पात्रा ने कहा, पंजाब कांग्रेस में मचा घमासान राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए है चिंताजनक

नई दिल्ली: पंजाब की सत्ताधारी कांग्रेस में मचे घमासान को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ‘‘चिंताजनक’’ करार देते हुए भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने बुधवार को कहा कि सीमा से सटा होने के कारण इस संवेदनशील राज्य में राजनीतिक स्थिरता अनिवार्य और महत्वपूर्ण है. भाजपा मुख्यालय में संवाददाताओं को संबोधित करते पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने पंजाब कांग्रेस में चल रही उठापटक पर कटाक्ष करते हुए इसे पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की असाधारण सफलता बताया और आरोप लगाया कि देश का प्रमुख विपक्षी दल अस्थिरता का पर्याय बन गया है. उल्लेखनीय है कि कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष के पद से अचानक इस्तीफा देने के एक दिन बाद चुप्पी तोड़ते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने बुधवार को राज्य में पुलिस महानिदेशक, राज्य के महाधिवक्ता और दागी नेताओं की नियुक्तियों पर सवाल उठाए.

सिद्धू ने ट्विटर पर चार मिनट का एक वीडियो साझा करते हुए लिखा हक़-सच की लड़ाई (मैं) आखिरी दम तक लड़ता रहूंगा... राज्य कांग्रेस में मचे इस घमासान पर पात्रा ने कहा कि हम सभी देख रहे हैं कि पंजाब में स्थिति किस प्रकार की है. जो राजनीतिक सरगर्मियां पंजाब में चल रही हैं, वह वास्तव में चिंताजनक हैं. पंजाब एक सीमाई राज्य है और राष्ट्र की सुरक्षा के लिए पंजाब की राजनीति में स्थिरता बहुत अनिवार्य और महत्वपूर्ण है. पात्रा ने कहा कि जिस पंजाब राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में अमरिंदर सिंह की विदाई के बाद चरणजीत सिंह चन्नी की ताजपोशी को कांग्रेस की बड़ी रणनीतिक चाल बताया जा रहा था, उसी पंजाब में कांग्रेस नेतओं में सिरफुटव्वल मचा है. उन्होंने दावा किया कि मुख्यमंत्री चन्नी और सिद्धू के बीच महत्वाकांक्षाओं की लड़ाई  चल रही है और कोई भी पंजाब या पंजाब की आकांक्षाओं के बारे में नहीं सोच रहा है.

भूपेश बघेल ने मीडिया को दी थी चेतावनी 
उन्होंने कहा कि इन सारे विषयों में एक बात सामने आती है और वह है राहुल गांधी की असाधारण असफलता. पात्रा ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के उस ट्वीट का हवाला दिया जिसमें उन्होंने राहुल गांधी के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल ना करने के लिए मीडिया को चेतावनी दी थी. बघेल ने बुधवार को एक ट्वीट में कहा था कि कान खोलकर सुन लिया जाए. राहुल गांधी जी इस समय विपक्ष के प्रमुख नेता हैं. उनके बारे में अभद्र भाषा का प्रयोग कांग्रेस कार्यकर्ता क़तई स्वीकार नहीं करेंगे. लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ का दायित्व निभा रहे हर मीडिया का पूर्ण सम्मान है. 

मीडिया को धमकाना क्या उचित है
लेकिन मर्यादा नहीं भूलना चाहिए. पात्रा ने उनके इस बयान की घोर निंदा करते हुए राहुल गांधी से सवाल किया कि क्या यही वह प्रेम की राजनीति जिसकी चर्चा वह अक्सर करते रहते हैं. उन्होंने कहा पत्रकार. मीडिया को धमकाना क्या उचित है? क्या यही आपकी ‘प्रेम की राजनीति’ है? राहुल गांधी और कांग्रेस हमेशा कहते हैं कि हम सहिष्णुता की प्रतिमूर्ति हैं. उन्होंने एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया और न्यूज ब्राडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए) से निवेदन किया वह बघेल की इस टिप्पणी को संज्ञान में ले. सोर्स- भाषा
 

और पढ़ें