Rupesh Singh Murder Case: पटना पुलिस के आरोपी को गिरफ्तार करने के दावे पर मृतक की पत्नी ने जताई असहमति, कहा- No Comment!

Rupesh Singh Murder Case: पटना पुलिस के आरोपी को गिरफ्तार करने के दावे पर मृतक की पत्नी ने जताई असहमति, कहा- No Comment!

Rupesh Singh Murder Case: पटना पुलिस के आरोपी को गिरफ्तार करने के दावे पर मृतक की पत्नी ने जताई असहमति, कहा- No Comment!

पटनाः निजी विमानन कंपनी इंडिगो के स्थानीय स्टेशन मैनेजर रूपेश सिंह हत्याकांड के मुख्य साजिशकर्ता एवं शूटर को गिरफ्तार करने और यह वारदात रोड रेज के चलते अंजाम दिए जाने के पुलिस के दावे पर मृतक की पत्नी नीतू सिंह ने सवाल उठाते हुए बुधवार को कहा है कि उनके पति और हत्यारे के बीच कभी कोई विवाद नहीं हुआ था. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रूपेश सिंह की 12 जनवरी को हत्या कर दी गई थी. नीतू ने पुलिस पर किसी को बचाने और कुछ छुपाने का आरोप लगाते हुए कहा है कि पिछले साल 29 नवंबर को उनके पति और हत्यारे के बीच कोई झगड़ा हुआ ही नहीं था.

पीड़िता का दावा पुलिस सच छिपा रही है

अपने और अपने परिवार के लिए न्याय की मांग गुहार लगाते हुए नीतू ने कहा है कि उनके पति के वाहन से एक मोटरसाइकिल के टकराने की घटना सही है पर पुलिस द्वारा जिस तरह का विवाद व झगड़ा होने का दावा किया जा रहा है, वह सही नहीं है. उन्होंने इस मामले पर कुछ भी कहने से साफ इंकार कर दिया है. नीतू ने कहा है कि आरोपी ने उनके पति की हत्या की होगी लेकिन कुछ अन्य कारण भी हैं जिस पर से पुलिस को पर्दा उठाना चाहिए. नीतू ने कहा है कि वे पुलिस के निष्कर्ष से संतुष्ट नहीं हैं और अगर जरूरत पड़ी तो वह इस मामले की आगे की जांच की मांग करेगी. रूपेश की बहन अंजू सिंह ने भी इसी तरह की भावना व्यक्त करते हुए कहा है कि उनके भाई के वाहन से मोटरसाइकिल के टकराने की घटना हुई थी.

उन्होंने कहा है मेरे भाई ने अपनी पत्नी, मुझे, माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्यों को बताया था लेकिन वाहन में टक्कर मारने वाले व्यक्ति ने उनके भाई से कोई विवाद या हाथापाई किए बिना केवल सॉरी बोलकर घटनास्थल से चला गया था. इससे पूर्व पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक उपेंद्र शर्मा ने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि 12 जनवरी की शाम करीब सात बजे कुछ अज्ञात हथियारबन्द अपराधियों ने जयप्रकाश नारायण अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा से वापस घर आने के क्रम में इंडिगो के मैनेजर रूपेश सिंह की पुनाईचक स्थित उनके आवास कुसुम विलास अपार्टमेंट के ठीक सामने उनकी हत्या कर दी थी.

प्रोफेशनल चोर है आरोपी

उन्होंने कहा है कि इस मामले में शास्त्रीगगर थाना में भादंवि की धारा 302 एवं 120 बी तथा 27 शस्त्र अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कर एवं एक विशेष टीम का गठन कर अनुसंधान कार्य शुरू किया गया है. शर्मा ने कहा है कि करीब 20 दिन के अथक परिश्रम तकनीकी अनुसंधान एवं प्राप्त सीसीटीवी फुटेज से अपराधी के हुलिए एवं उसके रामकृष्णानगर थाना क्षेत्र से संबंधित होने की जानकारी मिलने पर रितु राज नामक अभियुक्त को गिरफ्तार किया गया था. उन्होंने दावा किया है कि रितुराज ने रूपेश हत्याकांड के संबंध में अपनी व अपने साथियों की संलिप्तता स्वीकार की है. उन्होंने बताया है कि राज ने पुलिस को पूछताछ के दौरान बताया कि वह लम्बे समय से मोटरसाइकिल चोरी के अपराध में संलिप्त रहा है, उसे मंहगी गाड़ियों एवं कपड़ों आदि का शौक है.

शर्मा ने बताया है कि रितु राज पटना जिले के विभिन्‍न थाना क्षेत्रों से मोटरसाइकिल चोरी किया करता था एवं चोरी की मोटरसाइकिल को अपने किराये के मकान स्थित बंद गैराज में रखा करता था. शर्मा ने कहा है कि राज ने पुलिस को बताया कि पिछले साल नवम्बर के लगभग अंत में एवं छठ पर्व के बाद वह पटेल गोलम्बर से हवाई अड्डे की ओर जा रहा था एवं दूसरी ओर से मृतक गाड़ी से आ रहा था और दोनों की टक्कर होते-होते बची थी जिसको लेकर रूपेश से उसकी कहासुनी हो गई थी और बात बढ़ते-बढ़ते धक्का-मुक्की तक पहुंच गई थी. शर्मा के मुताबिक चूंकि उस समय आरोपी के पास चोरी की मोटरसाइकिल थी, इसलिए वह माफी मांग कर चला गया लेकिन वह बदला लेने की फिराक में था.

4 बार पहले भी कर चुका था रुपेश को मारने का प्रयास

शर्मा के मुताबिक रितु राज ने रूपेश का बाद में पीछा किया था एवं उसका नंबर याद कर लिया था और उसके घर का भी पता लगा लिया था. शर्मा के मुताबिक रितुराज ने अपने तीन अन्य साथियों के साथ मिलकर रूपेश को मारने का चार बार असफल प्रयास किया था. हालांकि, 12 जनवरी को वह अपनी मंशा में सफल रहा था. उन्होंने बताया है कि वारदात के अगले दिन विभिन्‍न समाचार पत्रों से ही राज को यह पता चला कि उसने हवाई अड्डे के एक स्टेशन मैनेजर की हत्या कर दी है और मामले को तूल पकड़ता देख राज्य से बाहर भाग गया था और 10 बाद वापस लौटा था. शर्मा ने बताया है कि रितु राज की निशानदेही पर उसके रामकृष्णा नगर थाना अंतर्गत पूर्वी कन्हाईनगर अवस्थित किराये के मकान से घटना में प्रयुक्त फर्जी नम्बर वाली मोटरसाइकिल, घटना में प्रयुक्त पोशाक तथा एक देसी पिस्तौल एवं चार कारतूस बरामद किए गए थे. 

उन्होंने बताया है कि राज द्वारा बताए गए उसके साथियों की गिरफ्तारी के लिए भी लगातार टीम छापेमारी कर रही है एवं इन सभी क॑ अपराधिक रिकार्ड को भी खंगाला जा रहा है. बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने ट्वीट कर प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कटाक्ष किया था. उन्होंने कहा था कि रूपेश हत्याकांड में मैंने आज से 15 दिन पहले कह दिया था नीतीश कुमार जी अपने नाक के बाल और आंखों के तारे को बचाने के लिए बकरा खोज रहे हैं. आज बिहार पुलिस ने बकरा खोज ही लिया है. यक़ीन मानिए ऐसी कहानी सी ग्रेड की घिसी-पिटी फ़िल्मों में भी नहीं मिलेगी. आपको पुलिस की कहानी ज़रूर सुननी चाहिए. (सोर्स-भाषा)

 

और पढ़ें