जयपुर VIDEO: ग्रामीण जनता को सीधे मिलेगा बड़े चिकित्सकों से परामर्श, ताकि निरोगी रहे राजस्थान, देखिए ये खास रिपोर्ट

VIDEO: ग्रामीण जनता को सीधे मिलेगा बड़े चिकित्सकों से परामर्श, ताकि निरोगी रहे राजस्थान, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निरोगी राजस्थान के सपने को साकार करने के लिए 14 नवम्बर से ग्राम पंचायत स्तर पर आयोजित हो रहे मेडिकल कैम्पों में आमजन को बड़े चिकित्सकों का परामर्श भी मिलेगा. जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज के बड़े चिकित्सक टेली कंसलटेंसी के जरिए शिविरों से जुड़ेंगे और मरीजों को चिकित्सकीय परामर्श देंगे. करीब चार माह तक चलने वाले इन शिविरों को लेकर चिकित्सा विभाग ने सभी तैयारियां पूरी कर ली है. जिसमें टेली कंसलटेंसी सेवा पर विशेष फोकस दिया जा रहा है.

जननायक की भूमिका वाले सीएम गहलोत ने कोरोना काल में एकबार फिर ये साबित कर दिया कि उनके लिए पहली प्राथमिकता जनता की सेहत है. कोविड से पहले निरोगी राजस्थान की एक सोच देने वाले सीएम कोविड जैसे आपातकाल में भी हर मोर्चे पर जनता के साथ खड़े नजर आए. अब जबकि कोविड का संक्रमण कम हुआ है तो निरोगी राजस्थान की सोच को आगे बढ़ाने के लिए चिकित्सा विभाग ने गांवों को स्वस्थ रखने पर फोकस किया है. इसी क्रम में चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के नेतृत्व में मुख्यमंत्री निरोगी राजस्थान चिरंजीवी शिविरों का आयोजन किया जा रहा है. अभियान की शुरूआत 14 नवम्बर को होगी, जिसे 21 मार्च 2022 तक संचालित किया जाएगा. इस दौरान हर ग्राम पंचायत स्तर पर मेडिकल कैम्प लगेंगे. ग्राम पंचायत स्तरीय शिविर में फिजिशियन, शिशु रोग विशेषज्ञ, स्त्री रोग विशेषज्ञ, दंत रोग विशेषज्ञ और नेत्र रोग विशेषज्ञ,नेत्र सहायक को तैनात किया जाएगा. इसके अलावा आयुष चिकित्सकों की ड्यूटी भी इन शिविरों में लगाई जाएगी. लेकिन खास बात ये रहेगी कि इन शिविरों में जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक भी ऑनलाइन माध्यम से जुड़ेंगे. बकायदा इन चिकित्सकों की शिविरों के लिए ड्यूटी लगाई जा रही है, ताकि ग्रामीण जनता को शिविर में ही सुपर स्पेशिलिटी की सेवाएं मिल सके.

ऑनलाइन मिलेगा बड़े चिकित्सकों का परामर्श

मुख्यमंत्री निरोगी राजस्थान चिरंजीवी शिविरों से जुड़ी बडी खबर

खुद चिकित्सा सचिव वैभव गालरिया दे रहे तैयारियों को अंतिम रूप

गालरिया के मुताबिक पंचायत स्तर पर मेगा कैम्प का भी होगा आयोजन

इन कैम्प में मरीजों के "सर्जिकल" इश्यू का किया जाएगा समाधान

सीएचसी लेवल की सभी जांचें शिविर के दौरान होगी ग्राम पंचायत स्तर पर

शिविरों में मरीजों को मिलेगी स्पेशिलिटी-सुपर स्पेशिलिटी की भी सुविधा

जिला अस्पतालों से स्कीन, मनोरोग, नेत्ररोग के चिकित्सक होंगे कनेक्ट

जबकि मेडिकल कॉलेज से जुड़े कार्डियोलॉजी, न्यूरोलॉजी, यूरोलॉजी,

ग्रेस्ट्रोलॉजी के वरिष्ठ चिकित्सक, देंगे ऑनलाइन मरीजों को परामर्श

शिविरों को सफल बनाने के लिए खुद चिकित्सा सचिव वैभव गालरिया जिलों से संवाद बनाए हुए है. बकायदा संभाग स्तर से लेकर खण्ड स्तर पर शिविरों के सफल संचालन के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए है.

चिकित्सा शिविरों के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त

मुख्यमंत्री निरोगी राजस्थान चिरंजीवी शिविरों से जुड़ी खबर

संभाग स्तर पर संयुक्त निदेशक, जिला स्तर पर सीएमएचओ और

ब्लॉक स्तर पर खण्ड मुख्य चिकित्सा अधिकारी होंगे नोडल ऑफिसर

शिविरों के सफल आयोजन के लिए इन अधिकारियों की होंगे जिम्मेदारी

ताकि निरोगी रहे राजस्थान

सीएम गहलो की पहल पर लगेंगे 12000 से अधिक मेडिकल कैम्प

ग्राम पंचायत स्तर पर आयोजित किए जाएंगे 11341  मेडिकल शिविर

जबकि पंचायत समिति स्तर पर लगेंगे 704 मेगा हेल्थ कैम्प

दोनों स्तर पर कुल 12045 मेडिकल शिविरों का किया जाएगा आयोजन

शिविरों में विकलांग प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने के लिए मेडिकल बोर्ड विशेषज्ञ की सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी. पूरे राजस्थान की बात की जाए तो 12 हजार से अधिक मेडिकल कैम्प चार माह में आयोजित होंगे, जिसके लिए विभाग ने अलग से बजट भी जारी कर दिया है. उम्मीद ये है कि सरकार के इस प्रयास को जनता का भी समर्थन मिलेगा, ताकि निरोगी राजस्थान की सोच को धरातल पर उतारा जा सके.

...फर्स्ट इंडिया के लिए विकास शर्मा की रिपोर्ट
 

और पढ़ें