रूस ने तैयार की कोरोना वैक्सीन, ह्यूमन ट्रायल हुआ शुरू

रूस ने तैयार की कोरोना वैक्सीन, ह्यूमन ट्रायल हुआ शुरू

नई दिल्ली: विश्वभर में फैले कोरोना महामारी के प्रकोप के बीच राहत की खबर है. रूस ने कोरोना वायरस के इलाज के लिए बनाए गए वैक्सीन के क्लीनिकल ह्यूमन ट्रायल की शुरुआत कर दी. रूस से स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार उसने तरल और पाउडर के रूप में दवा तैयार की है. इसी दवा का क्लीनिकल ह्यूमन ट्रायल शुरू किया जा चुका है. 

Rajasthan Weather: भीषण गर्मी के बीच राहत की खबर, 21 जून तक मानसून के पहुंचने की संभावना 

दवाओं का ट्रायल करने के लिए दो समूह:  
स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इन दवाओं का ट्रायल करने के लिए हमारे पास दो समूह हैं. हर समूह में 38-38 लोग हैं. रूस की न्यूज एजेंसी के अनुसार इन दोनों समूहों को मिलिट्री के जवानों और आम नागरिकों को मिलाकर बनाया गया है. इस दवा को गामालेया साइंटिफिक रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी ने तैयार किया है.

ह्मूनन ट्रायल करीब डेढ़ महीने में पूरा होगा:
इंस्टीट्यूट के अनुसार ये ह्मूनन ट्रायल करीब डेढ़ महीने में पूरा होगा. तरल और पाउडर दोनों दवाओं का ट्रायल मॉस्को के दो अलग-अलग स्थानों पर होगा. इंट्रामस्क्यूलर इंजेक्शन के जरिए पाउडर को भी शरीर में दिया जाएगा. रूस ने सभी वॉलंटियर्स को इस ट्रायल के फायदे और नुकसान की जानकारी दे दी है. इसके साथ ही उनसे बीमा के कागजात पर हस्ताक्षर कराए गए हैं. सभी वॉलंटियर्स की हेल्थ स्क्रीनिंग की जा रही है. 

कोरोना के संकट ने भारत को आत्मनिर्भर भारत होने का सबक दिया- पीएम मोदी 

28 दिनों तक वॉलंटियर्स की शारीरिक गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी:
18 या 19 जून को पहले वॉलंटियर्स को वैक्सीन दिया जाएगा. उसके बाद 28 दिनों तक वॉलंटियर्स की शारीरिक गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी. इस दौरान वैक्सीन के असर का गहन अध्ययन किया जाएगा. 


 

और पढ़ें