CBI प्रमुख नागेश्वर राव पर SC ने लगाया 1 लाख का जुर्माना, ये है मामला

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/12 11:57

नई दिल्ली। सीबीआइ के अतिरिक्त निदेशक एवं पूर्व अंतरिम निदेशक एम. नागेश्वर राव ने सुप्रीम कोर्ट से बिना शर्त माफी मांगी थी। राव ने कहा है कि उन्हें अपनी गलती का अहसास है और उनकी मंशा कोर्ट की अवहेलना करने की कतई नहीं थी। इस मामले में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने उनका माफीनामा नामंजूर कर दिया वहीं उनके 1 लाख रुपए के जुर्माने के साथ दिन भर कोर्ट में बैठने की सजा दी गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने नागेश्वर राव का माफीनामा नामंजूर कर दिया। अटॉर्नी जनरल ने सीबीआई के अंतरिम प्रमुख की दलीलों से असंतुष्ट होकर कहा कि आपको पता है आपकी इस हरकत से आपकों 30 दिनों के लिए जेल भेजा जा सकता है। AG के इस बयान के बाद सुप्रीम कोर्ट हिल गई थी। लेकिन बाद में राव को सुप्रीम कोर्ट ने 1 लाख रुपए का जुर्माना और दिनभर जब तक कोर्ट की कार्रवाई चलेगी राव को कोर्ट के एक कोने में बैठा रहना पड़ेगा।

गौरतलब है कि कोर्ट ने गत सात फरवरी को रोक आदेश के बावजूद मुजफ्फरपुर संरक्षण गृह मामले की जांच कर रहे अधिकारी एके शर्मा का सीबीआइ के बाहर तबादला करने पर इन दोनों अधिकारियों को प्रथम दृष्टया अवमानना का जिम्मेदार माना था। दोनों को आज कोर्ट मे तलब किया गया।  इन दोनों अधिकारियों के अलावा कोर्ट में वो सभी अधिकारिोयं से सवाल पूछे गए जो एके शर्मा की तबादला प्रक्रिया में शामिल थे।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in