SHO विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या प्रकरण, परिजनों और सरकार में सहमति के बाद हुआ पोस्टमार्टम, पुलिस सम्मान के साथ शव किया सुपुर्द

SHO विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या प्रकरण, परिजनों और सरकार में सहमति के बाद हुआ पोस्टमार्टम, पुलिस सम्मान के साथ शव किया सुपुर्द

चूरू: चूरू के राजगढ़ में SHO विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या प्रकरण में परिजनों और सरकार में सहमति के बाद शव का पोस्टमार्टम किया गया है. पुलिस सम्मान के साथ शव परिजनों को सुपुर्द किया गया है. इससे पहले जनप्रतिनिधियों और पुलिस अधिकारियों ने श्रद्धांजलि अर्पित की. IG जोस मोहन, कलेक्टर संदेश नायक, SP तेजस्विनी गौतम, उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, सांसद राहुल कस्वां, पूर्व सांसद रामसिंह कस्वां पूर्व विधायक मनोज न्यांगली भी ने विष्णुदत्त विश्नोई को श्रद्धांजलि अर्पित की. 

दबंग छवि और बेहद जबांज ऑफिसर थे विष्णुदत्त:
चूरू जिले के सादुलपुर थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्नोई ने शनिवार को आत्महत्या कर ली. जानकारी के अनुसार विश्नोई ने अपने क्वार्टर में फांसी का फंदा लगाकर जीवनलीला समाप्त की है. हालांकि आत्महत्या के कारणों का अभी कोई पता नहीं चला है. वहीं पुलिस अधिकारी अभी कुछ भी बोलने से दूरी बना रहे हैं. बता दें कि बिश्नोई ईमानदार ऑफिसर के साथ पुलिस विभाग में दबंग छवि व बेहद जबांज ऑफिसर थे. 

सादुलपुर CI विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या प्रकरण में ये अधिकारी करेगा जांच

अपराधियों में विष्णु के नाम का ही भय था:
1997 बैच का जबांज थानेदार जिस भी थाने में रहा अपने वर्किंग स्टाइल की छाप छोड़ी. जनता में लोकप्रिय थानेदार तो सटोरियों और अपराधियों में विष्णु के नाम का ही भय था. आज सुबह करीब 11 बजे विष्णु दत्त विश्नोई ने अपने सरकारी मकान में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. first India पर ब्रेकिंग होने के साथ ही खबर आग की तरह फैली हर कोई स्तब्ध दुःखी था. घटना के बाद एसपी तेजस्वनी गौतम राजगढ़ पहुंची. सुसाइड नोट मिला जिसमें विश्नाई ने किसी को जिम्मेदार तो नहीं ठहराया पर अपने इस कृत्य के लिए पिता से माफी मांगी. IG जोस मोहन ने भी इसकी पुष्टि की. वहीं घटना के बाद नेताओं के अलावा जनता और व्यापारी भी घटना की जांच की मांग कर रहे हैं. थाने के बाहर नारे लग रहे थे कि इंसान नहीं भगवान था. घटना के बाद सियासत भी गरमा गई. पूर्व विधायक मनोज न्यांगली धरने पर बैठ गए. सांसद राहुल कस्वा दिल्ली से रवाना हो गए तो प्रतिपक्ष उप नेता राजेन्द्र राठौड़ भी. नोखा के विधायक बिहारी विश्नोई भी CBIजांच की मांग कर रहे हैं. राजगढ़ विधायक कृष्णा पूनिया कुछ दवाब में दिखी लेकिन जांच की मांग की है. 

चैट में राजनीतिक दबाव की बात की:
इधर एडवोकेट गोवर्धन सिंह ने 1 दिन पहले हुई चैट सार्वजनिक करते हुए कहा कि एक ईमानदार ऑफिसर ने दबाव में ये कदम उठाया. चैट में राजनीतिक दबाव की बात कहते हुए आवश्यक सेवानिवृत्ति की बात कही गई थी. हालांकि सूत्र बताते है कि एक दिन पहले हुए बस ऑपरेटर  मर्डर की घटना में 2 लोग घायल भी हुए थे इस घटना को  लेकर भी विष्णु विश्नोई परेशान थे.

COVID-19: पूरे विश्व में अब तक 54 लाख 04 हजार 586 कोरोना पॉजिटिव केस, अब तक 3 लाख से ज्यादा लोगों की हो चुकी है मौत

और पढ़ें