चाकसू के कोटखावदा में हुई किसान महापंचायत, पायलट ने बताया मोदी सरकार को किसान विरोधी

चाकसू के कोटखावदा में हुई किसान महापंचायत, पायलट ने बताया मोदी सरकार को किसान विरोधी

जयपुर: राज्य में पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट की किसान महापंचायत जारी है. किसान महापंचायत की कड़ी में आज चाकसू के कोटखावदा में सचिन पायलट ने सभा की. इस सभा में उनके समर्थक विधायक और नेता मौजूद रहे. पायलट ने कहा कि किसानों का दमन हो रहा है ,हमने इस मंच से केंद्र सरकार से तीन काले कृषि कानून वापिस लेने की मांग की है. कोटखावदा के मंच पर विधायक प्रशांत बैरवा और वीरेंद्र सिंह की मौजूदगी चर्चा का विषय रही. दोनों पहली बार आए थे रमेश मीणा ने कहा कि राहुल गांधी के निर्देश पर सचिन पायलट के नेतृत्व में किसान सम्मेलन राजस्थान में हो रहे है.

पायलट ने बताया मोदी सरकार को किसान विरोधी:
दौसा,करोली के बाद कोटखावदा में सचिन पायलट ने किसान महापंचायत की. इस अवसर पर विधायक विश्वेन्द्र सिंह , रमेश मीणा, वेदप्रकाश सोलंकी  हेमाराम चौधरी, मुरारी लाल मीणा, बृजेन्द्र ओला, हरीश मीणा , राकेश पारीक , मुकेश भाकर , वीरेन्द्र सिंह , सुरेश मोदी , गजराज खटाना , अमर सिंह जाटव , प्रशांत बैरवा , इंद्राज गुर्जर की मंच पर मौजूदगी रही. पूर्व मंत्री और पीसीसी उपाध्यक्ष राजेन्द्र चौधरी ने भी बड़ी संख्या में आए किसानो को संबोधित किया. पायलट ने कहा कि इस महापंचायत में हम 3 प्रस्ताव रख रहे है आपके सामने,केंद्र से मांग तीनो कानून वापस ले,न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद के लिए कानून बनाये,पेट्रोल डीजल और गैस के दाम कम करे ,हम आपके लिए अंतिम दम तक संघर्ष करेंगे. कोटखावदा के मंच से पूर्व मंत्री विधायक रमेश मीणा ने कहा राहुल गांधी के निर्देशों के बाद यह सभाएं आयोजित की जा रही है. विश्वेंद्र सिंह ने भी केंद्र सरकार के ऊपर तंज कसे. पायलट ने मोदी सरकार को किसान विरोधी बताया.

मोदी सरकार के विरोध में पुरजोर आवाज बुलंद:
सचिन पायलट की किसान महापंचायत प्रदेश भर में जारी रहने वाली ,इसका रोड मैप पायलट समर्थकों की टीम ने बना लिया. बहरहाल आज कोट खावदा की सभा के आकर्षण रहे प्रशांत बैरवा और वीरेंद्र सिंह, यह दोनों विधायक पहली बार पायलट की सभा में मौजूद रहे. पीसीसी के पूर्व अध्यक्ष चौधरी नारायण सिंह के पुत्र है वीरेंद्र सिंह. प्रशांत और वीरेंद्र दोनों ही मानेसर बाड़ेबंदी में शामिल नहीं थे बल्कि अशोक गहलोत की सरकार बचाने में भूमिका निभाई थी.  कोटखावदा किसान सभा में किसान आंदोलन के पक्ष में और मोदी सरकार के विरोध में पुरजोर आवाज बुलंद की गई.

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें