Live News »

Exclusive: सादुलपुर सीआई आत्महत्या पर सस्पेंस!... WhatsApp चैट पर बड़ा खुलासा

चूरू: जिले के सादुलपुर थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्नोई की आत्महत्या का मामला गरमाता जा रहा है. सादुलपुर थानाधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या प्रकरण में एक के बाद एक नई जानकारी सामने आ रही है. विश्नोई की एडवोकेट गोवर्धन सिंह से एक दिन पहले की वॉट्सएप चैट में बड़ा खुलासा हुआ है. चैट में विश्नोई बैड पॉलिटिक्स में फंसाने की बात कर रहे थे. गोवर्धन सिंह ने वॉट्सएप चैट को सार्वजनिक किया है. इसके साथ ही गोवर्धन सिंह ने विश्नोई को जांबाज अफसर भी बताया है. 

सितंबर तक मिल सकती है कोरोना वैक्सीन को लेकर Good News! भारतीय कंपनी को उत्पादन का कॉन्ट्रेक्ट देने का दावा 

आत्महत्या प्रकरण अब राजनीतिक रंग भी लेता नजर आ रहा:
वहीं विश्नोई आत्महत्या प्रकरण अब राजनीतिक रंग भी लेता नजर आ रहा है. पूर्व सांसद रामसिंह और पूर्व विधायक मनोज न्यांगली सादुलपुर थाने में धरने पर बैठ गए है. इस दौरान सुसाइड नोट सार्वजनिक करने की मांग उठा रहे हैं. साथ ही बसपा और भाजपा के नेताओं ने थानाधिकारी की आत्महत्या पर सवाल उठाए हैं. इसके साथ CBI जांच की मांग करते हुए राजनीतिक दबाव का आरोप लगाया जा रहा है. 

विधायक कृष्णा पूनिया ने घटना पर दुख जताया:
सादुलपुर विधायक कृष्णा पूनिया ने घटना पर दुख जताते हुए कहा कि मेरी दो तीन बार विश्नोई से मुलाकात हुई है. उन्होंने कहा कि विश्नोई बेहद ईमानदार छवि के और सुलझे हुए अफसर थे. पूनिया ने पूरी घटना की उच्च स्तरीय जांच की बात कही.

सुसाइड नोट की IG जोस मोहन ने भी पुष्टि की:  
वहीं आत्महत्या प्रकरण में सुसाइड नोट की IG जोस मोहन ने भी पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि सुसाइड नोट में विश्नोई ने अपने पिता से माफी मांगी है. IG जोस मोहन ने कहा कि सुसाइड नोट में राजनीति का दबाव का जिक्र नहीं किया है. हालांकि उन्होंने भी जांच की बात कही है.

1200 KM साइकिल चलाकर घायल पिता को लेकर बिहार पहुंची 15 साल की ज्योति, इवांका ट्रंप भी हुई मुरीद  

पैतृक गांव में छाई शोक की लहर:
सादुलपुर थानाधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई के आत्महत्या करने की जानकारी मिलने पर उनके पैतृक गांव रायसिंहनगर के लूणेवाला गांव में शोक की लहर छा गई. किसी को उनके आत्महत्या करने पर विश्वास नहीं हो रहा है. जानकारी के मुताबिक विष्णुदत्त के माता-पिता और एक भाई गांव में रहता है. 

और पढ़ें

Most Related Stories

चूरू की गौशाला में 80 से ज्यादा गायों ने तड़प-तड़प कर तोड़ा दम, जहरीला चारा बताया जा रहा वजह

चूरू की गौशाला में 80 से ज्यादा गायों ने तड़प-तड़प कर तोड़ा दम, जहरीला चारा बताया जा रहा वजह

सरदारशहर(चूरू): जिले के सरदारशहर में आज दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. तहसील के गांव बिल्यु बास रामपुरा में श्रीराम गौशाला के अंदर अब तक 80 से ज्यादा गायों की मौत हो चुकी है. गायों की मौत की वजह प्रथम दृष्टया जहरीला चारा बताया जा रहा है. देर रात गायों की बिगड़ती तबियत को देखते हुए इसकी सूचना पशुपालन विभाग को दी गई जिस पर पशुपालन विभाग के डॉक्टर मौके पर पहुंचे और इलाज चालू किया. लेकिन देखते देखते अब तक 80 से ज्यादा गायों ने तड़प तड़प कर दम तोड़ दिया. 

पशुपालन विभाग की चिकित्सा टीम गौशाला में पहुंची:
सूचना पर सरदारशहर उपखंड अधिकारी रीना छिंपा नायब तहसीलदार कुटेन्द्र कवर डीएसपी गिरधारी लाल शर्मा और भानीपुरा पुलिस मौके पर पहुंची. डॉक्टरों द्वारा गौशाला में गायों के इलाज में जुटे हुए हैं तहसील के सभी डॉक्टरों को गौशाला में इलाज के लिए बुलवा लिया गया है. चुरू से भी पशुपालन विभाग की चिकित्सा टीम भारी भरकम दवा के साथ गौशाला में पहुंच चुकी है. ग्रामीण भी डॉक्टरों का बढ़-चढ़कर सहयोग कर रहे हैं. 

{related}

देखते ही देखते 200 गाय बीमार पड़ गई:
वहीं आपकों बता दें कि गौशाला के अंदर कुल 460 गाये हैं जिनमें से 250 के लगभग गाये गौशाला के एक हिस्से में थी जिनकी देर रात अचानक तबीयत बिगड़ना शुरू हो गई देखते ही देखते 200 गाय बीमार पड़ गई और एकाएक गायों की मृत्यु होनी शुरू हो गई. मौके पर पहुंची उपखंड अधिकारी रीना छिंपा का कहना है कि मौत की वजह का अभी तक कोई पता नहीं चला है. गायों के लिए गौशाला में उपलब्ध चारा और पानी के सैंपल लिए गए हैं. इसके बाद ही पता चल पाएगा कि गायों की मौत की वजह चारा पानी रही या अन्य कोई वजह.

कांग्रेस ने रोका गांवों का विकास- राजेन्द्र राठौड़

कांग्रेस ने रोका गांवों का विकास- राजेन्द्र राठौड़

चूरू: कांग्रेस सरकार ने विभिन्न योजनाओं को बन्द कर गांवों के विकास को रोक दिया है. योजना के रुकने से किसानों का बुरा हाल हो गया है. विकास के नाम पर लोगों को ठगा है. कांग्रेस ने दो साल में कोई भी विकास कार्य नही करवाया है. बल्कि राजस्थान में बिजली को दरों को दो गुना कर दिया है. भाजपा ने अपने कार्यकाल में विभिन्न योजनाओं से आमजन को लाभान्वित किया था. 

कांग्रेस सरकार ने अब सभी योजनाओं को बंद कर दिया: 
उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार ने अब सभी योजनाओं को बंद कर दिया है. गांवों में ग्रामीण बिजली, पानी, चिकित्सा जैसी समस्याओं से झुज रहा है. ये शब्द उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने तारानगर तहसील के जिला परिषद सदस्य व पंचायत समिति सदस्य के खरतवासिया, ढाणीआशा , चंगोई, पंडरेउ, झोथड़ा, बांय, झाड़सर कांधलान, डाबड़ी छोटी, धीरवास बड़ा, साहवा, भाड़ंग रेड़ी, ढाणी कुम्हारान, सात्यु, राजपुरा, हाड़ियाल आदि गांवों में कही. भाजपा का नाम विकास है. 

{related}

भाजपा ने अपने कार्यकाल में गांवों में विकास के कार्य करवाये:
राठौड़ ने कहा कि भाजपा ने अपने कार्यकाल में गांवों में विकास के कार्य करवाये है. अब फिर भाजपा के राज में विकास के कार्य होंगें. इस अवसर पर लेखराम ढुकिया, रतन सिंह राठौड़, तिलोकाराम कस्वां, महावीर पूनिया, कुरड़ाराम शर्मा, रामकिशन कुलहड़िया, राकेश शर्मा, जमरदिन तेली, तैय्यब, राजेन्द्र जोईया, ज्ञान कस्वां, कपिल शर्मा, संजय वाल्मीकि, सलामु, बजरंग राजवी, सरपंच कान सिंह व राकेश टाक आदि ने अपने विचार व्यक्त किये.

पंचतत्व में विलीन हुए मास्टर भंवरलाल मेघवाल, नम आंखों से दी गई अंतिम​ विदाई

चूरू: विकास पुरूष के नाम से विख्यात कैबिनेट मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल का मंगलवार को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार चुरू जिले के सुजानगढ़ तहसील के चापटिया श्मशान घाट में किया गया.  सुबह से ही उनके घर जय निवास पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं व समर्थकों की भीड़ लगी रही है, प्रदेश में दिग्गज व दबंग मंत्री के नाम से पहचाने जाने वाले कैबिनेट मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल का 72 वर्ष की आयु में गुरुग्राम के वेदांता हॉस्पिटल में सोमवार को निधन हो गया था. 

इन नेताओं ने दी श्रद्धांजलि:
गहलोत सरकार में कैबिनेट मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल के अंतिम दर्शन के लिए उनके निवास पर पार्थिव देह रखी गई थी. जहां मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, रघु शर्मा, गोविंद सिंह डोटासरा, बीडी कल्ला  समेत कांग्रेस के कई दिग्गज नेताओं ने पहुंच कर अंतिम दर्शन करके श्रद्धांजलि दी. साथ ही साथ इसके अलावा, केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, युनुस खान समेत विपक्ष के कई नेता भी पहुंचे.

हजारों की संख्या में लोगों ने दी अंतिम विदाई:
मास्टर भंवरलाल की अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए हजारों की संख्या में लोग पहुंचे हैं. मास्टर भंवरलाल की अंतिम यात्रा पर जगह-जगह पुष्प वर्षा भी की जा रही. मंत्री के निधन पर सुजानगढ़ बंद रहा. प्रदेश में एक दिन का राजकीय अवकाश रखा गया है. 72 साल के मेघवाल का सोमवार को गुड़गांव के मेदांता में निधन हो गया था. उनकी कई महीनों से तबीयत खराब थी. मेघवाल राजस्थान कांग्रेस के दिग्गज दलित नेताओं में शामिल थे. वे पिछले करीब 41 साल से राजनीति में सक्रिय थे. सुजानगढ़ विधानसभा सीट से निर्दलीय समेत कांग्रेस की टिकट पर वह 5 बार (1980, 90, 98, 2008 और 2018) विधायक चुने गए.

13 मई की रात को बिगड़ी थी भंवरलाल की तबियत:
जयपुर में 13 मई की रात को मास्टर भंवरलाल मेघवाल अपने आवास पर थे. इस दौरान वे चक्कर खाकर गिर पड़े. उनकी बेटी व अन्य परिजन उन्हें साकेत अस्पताल ले गए. वहां चेकअप के बाद भंवरलाल को एसएमएस अस्पताल के लिए रैफर कर दिया गया. तब बताया गया था कि ब्रेन हेमरेज होने से शरीर के दाहिने हिस्से में पैरालिसिस अटैक हुआ था. कुछ दिनों बाद एयर एंबुलेंस से मेघवाल को मेदांता अस्पताल भेजा गया था.

{related}

29 अक्टूबर को हुआ था बेटी का निधन:
सुजानगढ़ के शोभासर ग्राम पंचायत के गांव बाघसर पूर्वी में चुनाराम मेघवाल के यहां 2 जुलाई 1948 को मास्टर भंवरलाल मेघवाल का जन्म हुआ. वर्तमान में परिवार सुजानगढ़ उपखंड मुख्यालय के पीछे स्थित जयनिवास में रहता है. भंवरलाल मेघवाल की शादी 15 मई 1965 को केसर देवी से हुई. इनके एक बेटा और दो बेटी हैं. एक बेटी बनारसी देवी भी राजनीति में सक्रिय थीं. चूरू की जिला प्रमुख भी रही थीं. उनका 29 अक्टूबर को निधन हो गया था. 

जब मास्टर की नौकरी छोड़ लड़ा पहला चुनाव:
भंवरलाल मेघवाल पहले सरकारी टीचर हुआ करते थे. सुजानगढ़ के राजकीय झंवर स्कूल में बतौर शारीरिक शिक्षक (पीटीआई) नौकरी की शुरुआत की. काफी सालों तक टीचर रहे. इसीलिए इनकी पहचान मास्टर भंवरलाल के नाम से भी थी. साल 1977 में शिक्षक की नौकरी से इस्तीफा देकर भंवरलाल मेघवाल ने इसी साल विधानसभा चुनाव में भाग्य आजमाया। पहली बार में वे हार गए.फिर 1980 के चुनाव में बतौर निर्दलीय जीत दर्ज की. उसके बाद से हर बार राजस्थान विधानसभा चुनाव लड़ते आ रहे हैं. आपको बता दें कि मास्टर भंवरलाल मेघवाल के साथ राजनीति में एक अजब संयोग जुड़ा हुआ था. वो यह है कि वे एक विधानसभा चुनाव हारते थे और इसके बाद अगला जीतते थे.

...फर्स्ट इंडिया के लिए संजय प्रजापत की रिपोर्ट 

एक्शन में आई एसीबी, प्रदेश में ताबड़तोड़ कार्रवाईयां करते हुए छह लोगों को रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

जयपुर/चूरू/करौलीः गुरुवार को एक्शन में आई भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने प्रदेश में ताबड़तोड़ कार्रवाईयां करते हुए छह लोगों को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है. एसीबी डीजी बीएल सोनी और एडीजी एमएन दिनेश के निर्देशन में कार्रवाई करते हुए जयपुर, चूरू और करौली में छह लोगों को रिश्वत लेने के आरोप में  गिरफ्तार किया है.

50 हजार घूस लेते एनएचएआई के दो अधिकारियों को किया गिरफ्तारः
जानकारी के अनुसार जयपुर एसीबी की टीम ने गुरुवार को कार्रवाई करते हुए एनएचएआई के दो घूसखोरों अधिकारियों को 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है. एसीबी ने बताया कि रिश्वत लेते एनएचएआई के एईएन धानसिंह मीणा और टीओ एसआर वर्मा को गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने बताया कि बीकानेर निवासी परिवादी ने एसीबी में शिकायत दी कि उसके पत्नी के नाम पर पेट्रोल पम्प अलॉट हुआ था, जिसकी फाईल पिछले करीब दो हफ्ते से अटकाए हुए थे,  इसी पेट्रोल पम्प के लिए भूमि अलॉटमेंट के एवज में उन्होंने घूस की मांग की थी. एसीबी ने परिवादी की शिकायत के सत्यपान के बाद ट्रैप की कार्रवाई करते हुए  गुरुवार को रिश्वत के 50 हजार रुपए लेते हुए दोनों को धर-दबोचा. एसीबी आरोपियाें से पूछताछ में जुटी है.

सीजीएसटी के दो अधिकारियों को 40 हजार लेते दबोचाः
उधर जयपुर में ही एसीबी टीम ने गुरुवार दोपहर कार्रवाई करते हुए स्टेच्यू सर्किल स्थित केन्द्रीय कस्टम के ऑफिस में सीजीएसटी सुप्रिटेंडेंट और इंस्पेक्टर को  40 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है. परिवादी ने सीजीएसटी के नोटिस की कार्रवाई को फाईल करने की एवज में  रिश्वत मांगने की शिकायत की थी. शिकायत के सत्यापन के बाद एसीबी एएसपी नरोत्तम वर्मा ने कार्रवाई को अंजाम देते हुए सीजीएसटी सुप्रिटेंडेंट और इस्पेंक्टर को  40 हजार रुपए लेते की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया.

करौली में हैड कांस्टेबल 15 हजार की घूस लेते गिरफ्तारः
उधर करौली जिले के मंडरायल थाने में कार्रवाई करते हुए एसीबी ने हैड कांस्टेबल को 15 हजार की घूस लेते गिरफ्तार किया है.जानकारी के अनुसार आरोपी ने एक मुकदमे से जुड़े मामले में परिवादी से रिश्वत की मांग की थी. शिकायत के सत्यापन के बाद डीएसपी अमर सिंह ने कार्रवाई करते हुए हैड कांस्टेबल श्रीकिशन को 15 हजार रुपए की घूस लेते दबोचा है. एसीबी टीम आरोपी से पूछताछ में जुटी है.

चूरू और बीकानेर एसीबी ने संयुक्त कार्रवाई, पारिवारिक न्यायालय के जज के ड्राईवर को 40 हजार की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार
वहीं डीजी बीएल सोनी और एडीजी एमएन दिनेश के निर्देश पर चूरू-बीकानेर  एसीबी की टीमों ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए पारिवारिक न्यायालय के जज के ड्राईवर को गिरफ्तार किया है. चूरू और बीकानेर एसीबी ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए पारिवारिक न्यायालय के जज के ड्राईवर भगवती सैनी को 40 हजार की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार किया है.

पंचतत्व में विलीन हुई डॉ. बनारसी की पार्थिव देह, भाई मनोज मेघवाल ने पीपीई किट पहनकर दी मुखाग्नि

पंचतत्व में विलीन हुई डॉ. बनारसी की पार्थिव देह, भाई मनोज मेघवाल ने पीपीई किट पहनकर दी मुखाग्नि

सुजानगढ़(चूरू): चूरू की पूर्व जिला प्रमुख व सामाजिक न्याय एंव अधिकारिता मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल की पुत्री बनारसी मेघवाल की पार्थिव देह आज सुजानगढ़ के चापटिया तलाई के पास स्थित श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया गया. बनारसी को उनके छोटे भाई मनोज मेघवाल ने मुखाग्नि दी. 

इस दौरान राजगढ़ विधायक कृष्णा पुनिया, रतनगढ़ विधायक अभिनेष महर्षि, पूर्व मंत्री खेमाराम मेघवाल, पुसाराम गोदारा, कांग्रेस नेता भंवरलाल पुजारी सहित हजारों की तादाद में लोग अंतिम यात्रा में पहुंचे व इस दुःख की घड़ी में परिवारजनों को ढांढस बंधाया. 

{related}

पीपीई किट पहनकर शव को मुखाग्नि दी:
इस दौरान परिवार के सदस्यों ने सुरक्षा की दृष्टि से पीपीई किट पहनकर शव को मुखाग्नि दी. कृष्णा पुनिया व विधायक अभिनेष मर्षि ने ने डॉ. बनारसी के निधन को बड़ी क्षति बताते हुए गहरी संवेदना व्यक्त की. इस दौरान हर किसी आंखे नम दिखी. 

बनारसी मेघवाल ही मंत्री मेघवाल का प्रतिनिधित्व कर रही थीं:
गौरतलब है कि मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल के 13 मई से बीमार चल रहे थे और वे खुद गुड़गांव मेदांता अस्पताल में एडमिट है. इसके बाद बनारसी मेघवाल ही मंत्री मेघवाल का प्रतिनिधित्व सुजानगढ़ क्षेत्र में कर रही थीं.

सीएमएचओ से मारपीट करने के आरोप में पांच गिरफ्तार

सीएमएचओ से मारपीट करने के आरोप में पांच गिरफ्तार

सादुलपुर(चूरू): तारानगर सड़क पर स्थित टोल नाके पर सीएमएचओ डा. मनमोहन गुप्ता के साथ मारपीट करने तथा गालीगलोच करने के आरोप में पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है. थानाधिकारी गुरभूपेन्द्रसिंह ने बताया कि कुचामन सिटी निवासी महेन्द्रसिंह, डाबड़ी झुंझुनूं निवासी केसरीसिंह व सुरेन्द्र शर्मा, गजानंद शर्मा तथा इसराज खां को गिरफ्तार किया है. उन्होंने बताया कि आरोपी से पूछताछ कर मंगलवार को न्यायालय में पेश कर पुलिस रिमांड लेंगे. 

{related} 

सीएमएचओ डा. मनमोहन गुप्ता ने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था तथा बताया कि वह सरकारी कार्य से तारानगर-साहवा की ओर से जा रहे थे. जिस पर टोल बूथ कर्मचारियों ने उनको रोका, तो डॉक्टर ने बताया कि हमें राज्य सरकार की ओर से टोल में छूट है. जिस पर कर्मचारी बदतमीजी पर उतारू हो गए तथा गालीगलोच कर गुप्ता व उनके चालक के साथ लाठियों एवं सरियों से मारपीट की. 

चूरू ACB ने एक बार फिर की कार्रवाई, 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते डॉ. संदीप अग्रवाल गिरफ्तार

चूरू ACB ने एक बार फिर की कार्रवाई, 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते डॉ. संदीप अग्रवाल गिरफ्तार

चूरू: प्रदेश के चूरू जिले के अंदर एक के बाद एक लगातार ACB रिश्वतखोरों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई कर रही है, जिसके चलते जिले के भ्रष्ट अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है. आज फिर से एसीबी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए मेडिकल कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर को ट्रैप किया है.

मरीज का ऑपरेशन करने की एवज में मांगी थी रिश्वत:
जानकारी के मुताबिक गाजसर निवासी विकास अपनी माता के ऑपरेशन कराने के लिए डॉ संदीप अग्रवाल के पास आया था. डॉ संदीप अग्रवाल ने एक ऑपरेशन की एवज में 10 हजार रुपए की रिश्वत की मांग की थी. जिस पर परिवादी ने ACB से शिकायत कर दी.

{related}

ACB के ASP आनंद प्रकाश स्वामी ने की कार्रवाई:
एसीबी ने शिकायत का सत्यापन कर जाल बिछाकर डॉ. संदीप अग्रवाल को ट्रैप किया हैं. इस कार्रवाई के अंदर कंपाउंड राजेंद्र जाट को भी एसीबी ने दबोचा है. इस पूरी कार्रवाई के अंदर मुख्य भूमिका एसीबी के एएसपी आनंद प्रकाश स्वामी की रही. यह कार्यवाही DIG विष्णुकांत के निर्देश पर हुई है.

चूरू: पराली चारे से भरे ओवरलोड ट्रक ने ले ली 4 युवको की जान, चालक फरार

चूरू: पराली चारे से भरे ओवरलोड ट्रक ने ले ली 4 युवको की जान, चालक फरार

तारानगर(चूरू): गत रात्रि के करीब 1 बजे तारानगर से सरदारशहर रोड पर बालिया स्टैण्ड पर पराली चारे से भरे हुए ओवरलोड ट्रक व बाइक की टक्कर होने से 4 बाइक सवारों की मौके पर ही मौत हो गई. मिली जानकारी के अनुसार मृतक विक्रम कस्वां, मांगीलाल कस्वां, गोलू कस्वां, सुरेश कस्वां निवासी ढाणा कस्वां उम्र सभी की लगभग 20 से 22 वर्ष के थे जो अविवाहित बताये जा रहे हैं जो रात्री में ढाणा कस्वां से तारानगर बाइक पर आ रहे थे तो वहीं पराली चारे से भरा ओवरलोड ट्रक तारानगर से सरदारशहर की तरफ जा रहा था, बालिया बस स्टैण्ड पर आमने सामने की टक्कर में चारों युवकों को ट्रक ने कुचल दिया. टक्कर जबरदस्त बताई जा रही है, दुर्घटना के बाद शव बूरी तरह से कुचल गये थे. घटना के बाद ट्रक चालक मौके से फरार हो गया. घटना की जानकारी मिलने पर चारों युवकों का शव पुलिस ने मोर्चरी में रखवाया और पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौप दिया. पुलिस ने ट्रक व बाइक को जब्त कर मामले की जांच कर रही है. 

{related}

पराली से भरे ओवरलोड ट्रक यमराज से कम नहीं: 
हरियाणा, पंजाब की तरफ से आने वाले पराली चारे से भरे हुए ओवरलोड ट्रक यमराज से कम नजर नहीं आते. ये ट्रक पूरी सड़क को घेर कर चलते है जिससे चालक को दांयी बांया व पीछे की साइड से आ रहे वाहन नजर नहीं आने के कारण उक्त हादसो को अंजाम दे देते हैं. तारानगर से रोजाना सैंकड़ों की संख्या में एैसे ट्रक गुजरते है जो ओवलोड के साथ साथ अपनी बॉडी के बाहर झूल बनाकर पराली चारा भरा रखते हैं जिनके कारण सामने से आने वाले चालक के लिये साइड लेना भी मुश्किल हो जाता है तो वहीं पीछे वाले वाहन भी जल्दी से इन ओवरलोड वाहनों को ओवरटेक नहीं कर सकते.