Live News »

जल्द लॉन्च हो सकता है सैमसंग का लेटेस्ट फोन गैलेक्सी एम21

जल्द लॉन्च हो सकता है सैमसंग का लेटेस्ट फोन गैलेक्सी एम21

नई दिल्ली: सैमसंग के नए स्मार्टफोन का हर किसी को इंतजार रहता है, क्योंकि इस कंपनी के फोन हर किसी को पसंद होते है. जल्दी सैमसंग अपना नया फोन लॉन्च करने वाली है. जी हां सैमसंग का लेटेस्ट फोन गैलेक्सी एम 21 को जल्द ही भारत में लॉन्च कर सकती है. यह फोन सैमसंग गैलेक्सी एम20 का अपग्रेड मॉडल होगा. डिजाइन की झलक देने के साथ सैमसंग ने अपन गैलेक्सी एम21 हैंडसेट के कई अहम स्पेसिफिकेशन सार्वजनिक कर दिए हैं. 

VIDEO: राज्यसभा चुनाव 2020: कांग्रेस के दो उम्मीदवारों के नाम फाइनल होने की खबर, किसी भी वक्त हो सकती है नामों की घोषणा

सुपर एमोलेड डिस्प्ले आएगा नजर:
यह फोन 6,000 एमएएच बैटरी, 3 रियर कैमरे और सुपर एमोलेड डिस्प्ले के साथ आएगा. आपको बता दें कि सैमसंग गैलेक्सी एम21 को माइक्रोसाइट पर लाइव कर दिया गया है. सैमसंग इंडिया की वेबसाइट और अमेजन पर लाइव हुई है, जिसका मतलब है कि इसे सैमसंग के अलावा अमेजन से भी खरीदा जा सकेगा. 

48 मेगापिक्सल का होगा मुख्य कैमरा:
इस फोन के बैक पैनल पर 3 रियर कैमरा सेटअप नजर आ रहा है. इसमें से एक 48 मेगापिक्सल का मुख्य कैमरा होगा. इस फोन में वाइड एंगल कैमरा भी होगा. अन्य स्पेसिफिकेशन की बात करें तो गैलेक्सी एम21 में सुपर एमोलेड डिस्प्ले दिया होगा. ये इनफिनिटी यू डिजाइन से लैस है। वाटरड्रॉप नॉच में 20 मेगापिक्सल के सेल्फी कैमरे को जगह मिलेगी. 

कोरोनावायरस विश्वव्यापी महामारी घोषित, भारत में 15 अप्रैल तक सभी देशों के टूरिस्ट वीजा निलंबित

और पढ़ें

Most Related Stories

JIO की मदद से उत्तराखंड के सीमांत क्षेत्र में पहुंची मोबाइल कनेक्टिविटी, CM रावत ने व्यक्त किया आभार

JIO की मदद से उत्तराखंड के सीमांत क्षेत्र में पहुंची मोबाइल कनेक्टिविटी, CM रावत ने व्यक्त किया आभार

देहरादूनः उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हाल ही में चमोली जिले की दूरस्थ नीति घाटी के जुमा गांव में लगे मोबाइल टॉवर के संचालन को हरी झंडी दी है. जिसके साथ ही जिले के एक दर्जन सीमांत गांव मोबाइल कनेक्टिविटी से जुड़ गए है. जुमा में लगे जियो टॉवर के संचालन को डिजिटल माध्यम से हरी झंडी दिखाने  के बाद मुख्यमंत्री रावत ने चमोली के सीमांत गांवों के लोगों को बधाई देते हुए कहा कि इस सेवा से सीमांत क्षेत्रों में व्यापार, उत्पाद एवं ऑनलाइन कार्यों में लोगों को सुविधा होगी. 

सरकार द्वारा जारी की गई एक आधिकारिक प्रेस रिलीज के अनुसार रावत ने कहा है कि सरकार द्वारा ई-गर्वनेंस की दिशा में किये जा रहे कार्यों का भी सीमांत क्षेत्रों के लोगों को फायदा होगा. रावत ने बताया कि उनकी 2018 में निवेशकों के सम्मेलन से पहले मुंबई में रिलायंस इन्डस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी से जियो की सेवा के लिए बात हुई थी और तब उन्होंने आश्वस्त किया था कि उत्तराखंड में जियो की सेवा देने के लिए लाभ के हिसाब से नहीं सोचा जाएगा और देश के दूरस्थ और सीमांत क्षेत्रों तक सेवा पहुंचाई जाएगी.

मुख्यमंत्री ने इसके लिए मुकेश अंबानी का आभार व्यक्त किया है और खुशी जताई है. आपको बता दे कि नीति घाटी के सुकी गांव में भी जियो का मोबाइल टॉवर लगाया गया है और इन टावरों से जुमा, जेलम, काजा, गरपत, लौंग, टमक, बकरांसु, फागती, तोलमा, सुरई, सूकी मल्लागांव एवं लाटा गांव के लोगों को मोबाइल कनेक्टिविटी मिलेगी. इससे वे सभी लोग जो की मोबाइल नेटवर्क कनेक्टिविटी की कमी के चलते फोन नहीं चला पाते थे अब से वे लोग इस तकनीक का लाभ उठा सकेगें. (सोर्स-भाषा)

{related}

नये साल पर Twitter का तोहफा 2021 से Blue Tick सिस्टम वापिस लाने की तैयारी

नये साल पर Twitter का तोहफा 2021 से  Blue Tick सिस्टम  वापिस लाने की तैयारी

नई दिल्लीः हाल ही में ट्वीटर ने एक बड़ी घोषणा की है. असल में सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर अपने खातों के सत्यापन की प्रक्रिया अगले साल की शुरुआत में फिर शुरू करेगा, जिसके तहत सक्रिय और प्रामाणिक उपयोगकर्ताओं के खातों को ब्लू टिक दिया जाता है. ट्वीटर ने अपने सार्वजनिक सत्यापन कार्यक्रम को तीन साल पहले रोक दिया था, क्योंकि उसे प्रतिक्रिया मिली थी कि कई लोगों को यह मनमाना और भ्रमित करने वाला लगा था. हालांकि, ट्विटर ने विशेष मामलों में खातों को ब्लू टिक देने जारी रखे थे. 

ट्विटर ने एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा है कि एक साल बाद हमने 2020 के अमेरिकी चुनाव के मौके पर सार्वजनिक बातचीत में ईमानदारी बनाए रखने के लिए इस काम को आगे बढ़ाया है. माइक्रोब्लॉगिंग मंच अब प्रक्रिया को फिर से शुरू कर रहा है और जनता से 24 नवंबर से आठ दिसंबर 2020 तक अपनी नई सत्यापन नीति के मसौदे पर प्रतिक्रिया देने के लिए कहा है. ब्लॉग में कहा गया है कि इस नीति के आधार पर भविष्य में सुधार किए जाएंगे कि सत्यापन का मतलब क्या है, सत्यापन के लिए कौन योग्य है और अधिक न्यायसंगत प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए क्यों कुछ खाते सत्यापन खो सकते हैं.

ट्विटर ने कहा कि हम 2021 की शुरुआत में एक नई सार्वजनिक आवेदन प्रक्रिया के साथ सत्यापन को फिर से शुरू करने की योजना बना रहे हैं. प्रस्तावित नीति के अनुसार ट्विटर पर ब्लू वेरिफाइड बैज लोगों को बताता है कि यह सार्वजनिक हित का एक प्रामाणिक खाता है. ट्विटर ने कहा कि ब्लू टिक पाने के लिए खाता उल्लेखनीय और सक्रिय होना जरूरी है. इसके तहत ट्विटर ने छह तरह के खातों की पहचान की है, जिसमें 1) सरकार, 2) कंपनियां, ब्रांड और गैर-लाभकारी संगठन, 3) समाचार, 4) मनोरंजन, 5) खेल, 6) सामाजिक कार्यकर्ता, आयोजक और अन्य प्रभावशाली व्यक्ति शामिल हैं. (सोर्स-भाषा)

{related}

चीन ने चांद से नमूने इकट्ठे करने के लिए विशेष यान किया लॉन्च, सैंपल कलेक्ट होते ही लौटेगा धरती पर वापिस

चीन ने चांद से नमूने इकट्ठे करने के लिए विशेष यान किया लॉन्च, सैंपल कलेक्ट होते ही लौटेगा धरती पर वापिस

बीजिंग/वेनचांगः हाल ही में चीन के हाथों एक बड़ी सफलता लगी है, चीन ने चांद की सतह से नमूने एकत्र करने के लिए आज तड़के सुबह अपना पहला मानवरहित यान सफलतापूर्वक लॉन्च किया है. इतना ही नहीं ये यान लौटकर वापिस धरती पर भी आएगा. सीजीटीएन की खबर के अनुसार चीन ने दक्षिणी प्रांत हैनान स्थित वेनचांग अंतरिक्ष यान प्रक्षेपण स्थल से यान चांग ए-5 को चांद पर भेजने के लिए सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया गया है.

आपको बता दे कि इस यान को लांग मार्च-5 रॉकेट के जरिए स्थानीय समायानुसार सुबह साढ़े चार बजे प्रक्षेपित किया गया है. चांग ए-5 अंतरिक्ष यान को रॉकेट पृथ्वी-चंद्रमा स्थानांतरण कक्षा में जाएगा औऱ चांद की सतह से नमूने एकत्र करके पुनः पृथ्वी पर लौटकर आएगा. चांग ए-5 चीन के एयरोस्पेस इतिहास में सबसे जटिल और चुनौतीपूर्ण मिशनों में से एक है, साथ ही 40 से अधिक वर्षों में चांद से नमूने एकत्र करने संबंधी दुनिया का पहला अभियान है. (सोर्स-भाषा)

{related}

फ्लिपकार्ट, फोनपे के मासिक सक्रिय उपयोगकर्ता सर्वकालिक ऊंचाई पर: वालमार्ट

फ्लिपकार्ट, फोनपे के मासिक सक्रिय उपयोगकर्ता सर्वकालिक ऊंचाई पर: वालमार्ट

नई दिल्ली: ई-कॉमर्स कंपनी वालमार्ट ने बताया कि 31 अक्टूबर को समाप्त तिमाही के दौरान उसके अंतरराष्ट्रीय कारोबार की कुल बिक्री 1.3 प्रतिशत बढ़कर 29.6 अरब अमेरिकी डॉलर रही और इसमें फ्लिपकार्ट और फोनपे का जोरदार योगदान रहा.

कंपनी ने बताया कि फ्लिपकार्ट और फोनपे के मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं की संख्या ‘‘सर्वकालिक ऊंचाई’’ पर है. अमेरिका स्थित वालमार्ट ने 2018 में भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट में 16 अरब अमेरिकी डॉलर में बहुलांश हिस्सेदारी हासिल की थी.

{related}

कुल बिक्री 1.3 प्रतिशत बढ़कर 29.6 अरब डॉलर रही: 
एक बयान में वालमार्ट ने कहा कि उसके अंतरराष्ट्रीय कारोबार की कुल बिक्री 1.3 प्रतिशत बढ़कर 29.6 अरब डॉलर रही और विनिमय दरों में नकारात्मक असर के कारण उसकी कुल बिक्री पर करीब 1.1 अरब डॉलर का असर पड़ा. कंपनी ने कहा कि विनिमय दर के असर को छोड़ दें तो कुल बिक्री पांच प्रतिशत बढ़कर 30.6 अरब डॉलर रही, जिसकी अगुवाई फ्लिपकार्ट, कनाडा और वालमेक्स ने की. फ्लिपकार्ट ने रिकॉर्ड सक्रिय मासिक उपयोगकर्ताओं के चलते शुद्ध बिक्री में जोरदार वृद्धि दर्ज की.  

भारतीय इकाइयों के मजबूत प्रदर्शन का उल्लेख किया:
वॉलमार्ट के अध्यक्ष, सीईओ और निदेशक सी डगलस मैकमिलन ने भी भारतीय इकाइयों के मजबूत प्रदर्शन का उल्लेख किया. उन्होंने कहा कि भारत में फ्लिपकार्ट और फोनपे के तिमाही नतीजे मजबूत थे. इन मंचों के मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं की संख्या सर्वकालिक उच्च स्तर पर है.  
सोर्स- भाषा 

विश्व के 500 Super Computers की सूची में भारत का 'परमसिद्धि ' 63वें स्थान पर

 विश्व के 500 Super Computers की सूची में भारत का 'परमसिद्धि '  63वें स्थान पर

नई दिल्लीः राष्ट्रीय सुपर कंप्यूटिंग अभियान (एनएसएम) के तहत निर्मित ‘परम सिद्धि’ नामक भारतीय सुपर कंप्यूटर को विश्व के 500 सबसे शक्तिशाली कंप्यूटरों की सूची में 63 वां स्थान प्राप्त हुआ है. इस उपलब्धि की जानकारी विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) ने दी है. डीएसटी के सचिव आशुतोष शर्मा ने कहा कि यह ऐतिहासिक क्षण है.सुपर कंप्यूटर के क्षेत्र में भारत, दुनिया की सबसे बड़ी अवसंरचनाओं के केंद्र में से एक है.

जिसे परम सिद्धि-एआई की रैकिंग ने साबित कर दिया है. उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि परम सिद्धि-एआई से हमारे राष्ट्रीय अकादमिक, विकास एवं अनुसंधान संस्थान मजबूत होंगे. इसके अलावा राष्ट्रीय ज्ञान नेटवर्क पर फैले उद्योग और स्टार्टअप को भी लाभ होगा. डीएसटी ने कहा कि एआई प्रणाली से स्वास्थ्य सेवाओं को लाभ होगा और बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पूर्वानुमान लगाया जा सकेगा. (सोर्स-भाषा)

{related}

IIT खड़कपुर ने खीरे के छिलके से बनाई eco-friendly खाद्य पैकेजिंग सामग्री

IIT खड़कपुर ने खीरे के छिलके से बनाई  eco-friendly खाद्य पैकेजिंग सामग्री

नई दिल्लीः क्या आप सलाद तैयार करने के बाद खीरे के छिलकों को फेंक देते हैं? सोचिए वे जल्द ही पर्यावरण अनुकूल खाद्य जिंसों की पैकेजिंग सामग्री के रूप में वापस आपकी रसोई में आ सकते हैं. इसे पैकेजिंग सामग्री के रूप में उपयोग में लाने का काम भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), खड़गपुर के शोधकर्ताओं ने किया है. जिसे एक बड़ी उपलब्धि बताया जा रहा है. 

आपको बता दे कि शोधकर्ताओं की टीम के अनुसार खीरे के छिलके में अन्य छिलके के अपशिष्ट की तुलना में अधिक सेल्यूलोज सामग्री होती है. इन छिलकों से प्राप्त सेल्युलोज के सूक्ष्म स्फटिकों का उपयोग खाद्य पैकेजिंग सामग्री बनाने के लिए किया जा सकता है जो जैविक रूप से नष्ट होने वाली सामग्री और इसकी पैकिंग में सामग्री नम नहीं होती है.

आईआईटी खड़गपुर की सहायक प्रोफेसर, जयीता मित्रा ने कहा है कि एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक के उपयोग करने से उपभोक्ता बचने लगे हैं, लेकिन वे अभी भी खाद्य पैकेजिंग सामग्री के रूप में एकल प्रयोग के प्लास्टिक का प्रचलन बड़े पैमाने पर जारी है. प्राकृतिक बायोपॉलिमर इस उद्योग में अपना जगह बनाने में नाकाम हैं क्योंकि उसमें मजबूती, लचक और कुछ कुछ जैविक सुरक्षा के तत्व मौजूद नहीं है.

उन्होंने कहा है कि भारत में, खीरे का सलाद, अचार, पकी हुई सब्जियों या (यहां तक ​​कि) के कच्चे और पेय उद्योग में भी व्यापक उपयोग होता है, जिससे बड़ी मात्रा में इसका छिलका मिलता जो जैव कचरा बन जाता है जबकि उसमें सेल्यूलोज सामग्री भरपूर होती है. उन्होंने कहा कि हमने नई जैव सामग्री प्राप्त करने के लिए इस प्रसंस्कृत सामग्री से निकाले गए सेल्युलोस, हेमिसेलुलोज, पेक्टिन का उपयोग किया है. (सोर्स-भाषा)

{related}

SpaceX के फाल्कन रॉकेट ने 4 अंतरिक्ष यात्रियों के साथ भरी अंतरिक्ष की उड़ान

SpaceX के फाल्कन रॉकेट ने  4 अंतरिक्ष यात्रियों के साथ भरी अंतरिक्ष की उड़ान

केप कैनेवरल: अमेरिकन स्पेसएक्स ने फाल्कन रॉकेट से चार अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) भेजा है. यह नासा का पहला ऐसा मिशन है, जिसमें अंतरिक्ष यात्रियों को आईएसएस पर भेजने के लिए किसी निजी अंतरिक्ष यान की मदद ली गई है. फाल्कन रॉकेट ने कल देर रात को तीन अमेरिकियों और एक जापानी नागरिक को लेकर केनेडी अंतरिक्ष केंद्र से उड़ान भरी है. स्पेस एक्स के यान से दूसरी बार अंतरिक्ष यात्रियों को रवाना किया गया है.

इस ‘ड्रैगन’ कैप्सूल यान को इसके चालक दल के सदस्यों ने 2020 में दुनियाभर में आई चुनौतियों को देखते हुए ‘रेसिलियंस' नाम दिया गया है. यान प्रक्षेपण के नौ मिनट बाद अपनी कक्षा में पहुंचा था. इसके सोमवार को अंतरिक्ष स्टेशन पहुंचने की उम्मीद है और यह बसंत तक वहां रहेगा. कमांडर माइक हॉप्किन्स ने प्रक्षेपण से ठीक पहले कहा कि इस मुश्किल समय में मिलकर काम करके, आपने देश एवं दुनिया को प्रेरित किया है. इस शानदार यान को रेसिलियंस नाम दिया गया है. 

स्पेसएक्स के संस्थापक एवं मुख्य कार्यकारी एलन मस्क को कोरोना वायरस से संक्रमित होने के कारण दूर से ही इस पर नजर रखने पर मजबूर होना पड़ा है. कैप्सूल के कक्षा में पहुंचते ही कैलिफोर्निया में स्थित स्पेसएक्स मिशन कंट्रोल में मौजूद लोगों ने तालियां बजाईं और खुशी जताई थी. इस प्रक्षेपण से अमेरिका और अंतरिक्ष स्टेशन के बीच चालक दल के सदस्यों के बारी-बारी से आने जाने की लंबी श्रृंखला की शुरुआत होगी.

अधिकारियों ने कहा कि अधिक लोगों का मतलब है कि प्रयोगशाला में अधिक वैज्ञानिक अनुसंधान होगा. अमेरिका के उपराष्ट्रपति एवं राष्ट्रीय अंतरिक्ष परिषद के अध्यक्ष माइक पेंस ने नासा प्रशासक जिम ब्रिडनस्टीन के साथ मिलकर प्रक्षेपण देखा था. पेंस ने कहा कि इसके प्रक्षेपण के बाद करीब एक मिनट तक मेरी सांसें थमी रहीं. इसके बाद उन्होनें पूरी टीम को मिशन के सफल होने की बधाइयां दी और सभी का आभार जताया था. 

अंतरिक्ष स्टेशन के लिए उड़ान भरने वाले यात्रियों में अमेरिकी वायुसेना के कर्नल और अंतरिक्ष यात्री माइक हॉप्किन्स, नौसेना कमांडर एवं अंतरिक्ष यात्री विक्टर ग्लोवर ( पहले अफ्रीकी-अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री होंगे), भौतिक वैज्ञानिक शैनन वॉकर और जापानी अंतरिक्ष यात्री सोइची नोगुची शामिल हैं.इन चार अंतरिक्ष यात्रियों से पहले कजाखस्तान से पिछले महीने दो रूसी और एक अमेरिकी यात्रियों ने अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरी थी. (सोर्स-भाषा)

{related}

देश को ISROपर गर्व है: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

देश को ISROपर गर्व है: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हाल ही में देश के अंतिरिक्ष अनुसंधान इसरो को बधाई दी है.  भारत के नवीनतम भू-पर्यवेक्षण उपग्रह ईओएस-01 और ग्राहकों के नौ अन्य उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) को बधाई दी तथा कहा कि भारत को इसरो पर गर्व है.

इस मौके पर राष्ट्रपति कोविंद ने इसरो टीम के काम और लगन की हौसला आफजाई करते हुए ट्वीट किया कि पर्यवेक्षण उपग्रह ईओएस-01 से कृषि, वानिकी और आपदा प्रबंधन सहायता में मजबूती मिलेगी. देश को इसरो की पूरी टीम पर गर्व है. कोरोना काल के बीच भी इस तरह की बड़ी उपलब्धि को उन्होनें सराहा और तारीफ भी की. 

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा कि पीएसएलवी-सी49 / ईओएस-01 और अमेरिका, लक्जमबर्ग व लिथुआनिया के नौ अन्य उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण के लिए इसरो को बहुत-बहुत बधाई. इस कोविड-महामारी के उत्पन्न हुई समस्याओं के बावजूद इस महत्वपूर्ण प्रक्षेपण की सफलता हमारे वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की प्रतिबद्धता और निरंतरता को दर्शाता है. (सोर्स-भाषा)

{related}