Live News »

स्कूली बच्चों ने अनोखे अंदाज में मनाया धारा 370 खत्म होने का जश्न

स्कूली बच्चों ने अनोखे अंदाज में मनाया धारा 370 खत्म होने का जश्न

बिसाऊ(झुंझुंनू): मोदी सरकार की ओर से जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद से ही पूरे देश में खुशी का माहौल है और लोग सड़क पर उतर कर चौक चौराहे पर आतिशबाजी करते हुए नजर आ रहे हैं. वही देश भर में लोग अपने-अपने तरीके से खुशी जता रहे हैं. आर्टिकल 370 हटने की खुशी में झुंझुनू जिले के बिसाऊ शहर में राजस्थान पब्लिक स्कूल के स्टूडेंट्स ने मानव श्रृंखला बनाकर आर्टिकल 370 के हटने का जश्न मनाया. इस मानव चेन को देखकर लोग हैरान रह गये और तरह तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं क्योंकि ये अनुच्छेद 370 से जुड़ी है. चेन बनाकर ये बच्चे गाना गा रहे हैं और कुछ बच्चे हाथों में तिरंगा लहरा रहे हैं. गानो के साथ-साथ वन्दे मातरम्, भारत माता की जय के नारे लगा लगा कर जश्न को अनोखा अंदाज देने की कोशिश कर रहे है. चेन इस तरह बनाई गई है कि 370 लिखकर उसे काट दिया गया है. इतना अनोखा संदेश वो भी बच्चों के द्वारा इस वीडियो पर लगातार कमेंट और लाइक्स आ रहे हैं.

पूरे देश में खुशी का माहौल: 
जम्मू-कश्मीर में सरकार ने धारा 370 को हटा दिया है. जम्मू-कश्मीर अब एक राज्य नहीं रहा. जम्मू-कश्मीर को एक केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया है. इसके साथ ही लद्दाख जो पहले जम्मू-कश्मीर का हिस्सा था अब एक अलग केंद्र शासित प्रदेश बन गया है. इस फैसले को पूरे देश में कई जगह से सराहना मिल रही है तो आलोचना भी मिल रही है. कोई सराहना करने वाले अपनी खुशी का इजहार लोगों में मिठाई बांट कर रहे हैं तो कोई पटाखे फोड़ कर रहे हैं. लेकिन बिसाऊ के इन बच्चों ने इस फैसले पर अलग तरीके से जश्न मनाया है. 

...अशोक सोनी फर्स्ट इंडिया न्यूज बिसाऊ झुंझुंनू 

और पढ़ें

Most Related Stories

टिड्डियों के हमले को लेकर कृषि विभाग अलर्ट

टिड्डियों के हमले को लेकर कृषि विभाग अलर्ट

बिसाऊ(झुंझुनू): बिसाऊ क्षेत्र में टिड्डयों का नियंत्रण जब तक किसान सहयोग नहीं करेगे तब तक विभाग अकेला कुछ नहीं कर सकता है. इस लिये किसान टिड्‌डी नियंत्रण टीम के साथ कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग करे. सुबह क्षेत्र में विभाग द्वारा चलाये जा रहे टिड्‌डी नियंत्रण कार्य का निरक्षण करने आये कृषी विभाग के आयुक्त डॉ ओमप्रकाश ने किसान गोष्टी में कही. यह किसान गोष्टी कस्बे के राणासर रोड पर स्थीत अरविंद आश्रम फार्म हाउस पर पालिकाध्यक्ष मुस्ताक खान की अध्यक्षता में हुई जिसमें क्षेत्र के निराधनू, टांई, बाडेट, श्यामपुरा, पूनीया का बास सहित एक दर्जन गांवों से आये किसानों ने भाग लिया. 

स्वर्ण नगरी में कोरोना पसार रहा पैर, प्रशासन और पुलिस ने की बढ़ाई सख्ती 

टिड्‌डी नियंत्रण कार्य के बारे में जानकारी ली:  
आयुक्त ने किसानों से टीम द्वारा किये जा रहे टिड्‌डी नियंत्रण कार्य के बारे में जानकारी ली व सुझाव भी मांगे. आयुक्त ने किसानों को फसल पर होने वाले टिड्डीयों के हमले से कैसे बचा जाऐ उसके बारे में जानकारी दी और कहा की टिड्डियों के हमले के समय धुआं व आवाज करें. यह टिड्डियां 150 से 200 किलो मिटर की रफतार से उड़ती है. यह समय इनके मेटिंग का है जहां भी पड़ाव डालेगी वहां अंडे देगी. इन अंडो से निकलने वाला फाका 8 से 10 दिन में चलने लग जाता है. इन से फसलों को बचाने के लिये पारम्परिक तरिके अपनाये. टिडिडयों के नियंत्रण के लिये विभाग ट्रेक्टर, पानी के टेंकर, हेलिकाप्टर भी लगा रखे हैं. सर्वे के लिये अधिकारियों को गाडियां उपलब्ध करवा रखी है. गौष्टी में विभाग के संयुक्त सचिव डॉ एसपी सिंह ने भी किसानो को टिड्‌डी दल व फाके से फसलों के बचाव हेतू कई जानकारिया दी.

रोल मॉडल बना भीलवाड़ा एक बार फिर कोरोना कहर से हॉटस्पॉट बन रहा 

90 प्रतिशत टिड्‌डी दल पर नियत्रंण कर लिया: 
सिंह ने बताया की विभाग ने नई टेक्नोलोजी अपना कर 90 प्रतिशत टिड्‌डी दल पर नियत्रंण कर लिया है. किसान ध्यान रखे फसलों व सब्जियों में स्प्रे के 10 दिन बाद ही काम करे. फाके को मारने के लिये खेतों में एक से डेढ फुट गहरी व एक फुट चोडी खाई खोदे जिसमें फाका खाई में गिरकर मर जाएगा. सिंह ने बताया की टिड्‌डी दल को हवा से एनर्जी पावर मिलता है. पड़ाव के समय इन्हे मारने के लिये नीम व उनकी निबोंली को पानी में उबाल उसका छीड़काव भी कारगर है. पालिकाध्यक्ष खान ने टिड्‌डी दल नियंत्रण में विभाग को पालिका की और से सहयोग देने का आश्वासन दिया है. गोष्टी से पूर्व आयुक्त व संयुक्त सचिव ने सहायक निदेशक डॉ विजयपाल कंस्वा व अन्य अधिकारियों के साथ आश्रम के फार्म हाउस पर टिड्‌डयों द्वारा दिये गये अंडो को व उनमें से निकलने वाले जीवो को देखा. इस मौके पर सीकर के कृषी संयुक्त निदेशक प्रमोद कुमार, उपनिदेशक कृषी डॉ. राजेद्र लांबा, सहायक निदेशक विजयपाल कंस्वा, सीकर के कृषी अधिकारी सर्जनसिंह व फार्म हाउस की देखरेख करने वाले मैनेजर ओमप्रकाश जोशी व आश्रम के पदाधिकारी भी मोजूद रहे. 

दो पक्षों में आपसी रंजिश को लेकर मारपीट, हमलावरों ने फॉर्च्यूनर गाड़ी को पत्थरों से किया चकनाचुर

दो पक्षों में आपसी रंजिश को लेकर मारपीट, हमलावरों ने फॉर्च्यूनर गाड़ी को पत्थरों से किया चकनाचुर

बिसाऊ(झुंझुनूं): जिले के बिरमी गांव में मारपीट की घटना की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस को पत्थरबाजी का सामना करना पड़ा. घटना में सात लोगों सहित एक सिपाई के भी चोट आई. थानाधिकारी रिया चोधरी ने बताया कि गांव बिरमी में दो जनों के बिच किसी बात को लेकर विवाद था देर शाम को पारपीट के लिये बाहर से लोगों को भी बुलाया गया. टेलीफोन से सूचना मिली कि बिरमी गांव में आपसी दो पक्षों में झगड़ा हो रहा है और बाहर से भी 15 से 20 लोग बुला रखे हैं और गांव में रह रहे एक बिहारी के साथ मारपीट कर रहे हैं. सूचना पर जाप्ते के साथ मौके पर पहुंची वहां देखा तो गांव के चोक में 50 से 60 लोग इकट्ठे हो रहे थे उनसे बात की तो उन्होंने बताया की बाहर से लोग 15 से 20 आए हैं और मारपीट कर रहे हैं और बिहारी के हाथ पाव तोड़ दिए हैं और खेतों की तरफ चले गए हैं.

दिल्ली-NCR में एक बार फिर हिली धरती, पिछले दो महीनों में कई बार आया भूकंप  

थाने के सिपाई के चोट आई और गाड़ियों को पत्थर मारकर तोड़ दिया: 
वहां देखा तो तीन चार गाड़ियों में 15 से 20 लोग इकट्ठे हो रहे थे उनसे जानकारी ली और 151 में गिरफ्तार कर थाने लाते समय वापसी आने पर गांव में बनी चरणों की ढाणी के चोक में लोगों ने पिकअप गाड़ी लगाकर रास्ता बंद कर रखा था. थाने की गाड़ी के बीच में दूसरी गाड़ी में बैठे लोगों पर पत्थर फेंकने चालू कर दिए. जिस पर थाने के सिपाई के चोट आई और गाड़ियों को पत्थर मारकर तोड़ दिया जैसे तैसे बीच-बचाव कर वहां से निकले तो आगे एक स्कॉर्पियो गाड़ी टूटी हुई मिली. जिसमें 4-5 लोग घायल अवस्था में मिले. उनको वहां से बिसाऊ के जटिया हॉस्पिटल ने प्राथमिक उपचार करवाया जो 2 लोगों के ज्यादा चोट लगने पर उन्हें झुंझुनू रेफर कर दिया. अभी तक दोनों पक्षों ने किसी भी प्रकार की रिपोर्ट दर्ज नहीं करवाई है. लेकिन इसी बीच थाने के सिपाहियों पर मारपीट करने पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है जिसकी हम जांच कर रहे हैं. इसमे कुछ लोग नामजद है कुछ बिना नामजद भी है अनुसंधान कर रहे हैं.

22 जून तक बंद रहेगी माउंट आबू की होटल इंडस्ट्रीज, गुजरात में बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते लिया फैसला 

3 माह और जारी रहेगी ईएमआई न भरने की मोहलत, आरबीआई ने कोरोना संकट के बीच लिया फैसला

3 माह और जारी रहेगी ईएमआई न भरने की मोहलत, आरबीआई ने कोरोना संकट के बीच लिया फैसला

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच आरबीआई ने लोन की किस्‍त देने पर 3 माह की अतिरिक्‍त छूट दी गई है. मतलब कि अगर आप अगले 3 माह तक अपने लोन की ईएमआई नहीं देते हैं तो बैंक दबाव नहीं डालेगा. आरबीआई ने लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर बैंकों से 3 माह के लिए लोन और ईएमआई पर छूट देने को कहा था.

23 मई से शुरू होगा रोडवेज बसों का संचालन, राजस्थान के 55 रूटों पर चलाई जाएगी बस

कुल 6 माह की मिली छूट:
इसके बाद अधिकतर बैंकों ने इसे 3 माह के लिए लागू कर दिया था. अब आरबीआई के नए 3 माह के लिए मोहलत के ऐलान के बाद ग्राहकों को कुल 6 माह की छूट मिल जाएगी. मतलब यह कि आप कुल 6 माह तक लोन की ईएमआई नहीं देना चाहते हैं तो बैंकों की ओर से कोई दबाव नहीं पड़ेगा. वहीं, आपका क्रेडिट स्‍कोर भी दुरुस्‍त रहेगा. यानी बैंक की नजर में आप डिफॉल्‍टर नहीं होंगे. हालांकि, इसके लिए आपको अतिरिक्‍त ब्‍याज देनी पड़ेगी.

रेपो रेट में 0.40 प्रतिशत की कटौती:
आरबीआई गवर्नर ने बताया कि पिछले 3 दिन में एमपीसी ने घरेलू और ग्लोबल माहौल की समीक्षा की. इसके बाद रेपो रेट में 0.40 प्रतिशत की कटौती का फैसला लिया गया है. लॉकडाउन में यह दूसरी बार है जब आरबीआई ने रेपो रेट पर कैंची चलाई है. इससे पहले 27 मार्च को आरबीआई गवर्नर ने 0.75 फीसदी कटौती का ऐलान किया था. इसके बार बैंकों ने लोन पर ब्‍याज दर कम कर दिया था. जाहिर सी बात है कि इससे आपकी ईएमआई भी पहले के मुकाबले कम हो गई है.

25 मई से शुरू होंगी घरेलू फ्लाइट्स, जयपुर से 1 घंटे में अधिकतम 2 फ्लाइट ही होंगी संचालित

शिक्षा का मंदिर हुआ शर्मसार, शिक्षक पर छात्राओं से अश्लील हरकत करने का आरोप

शिक्षा का मंदिर हुआ शर्मसार, शिक्षक पर छात्राओं से अश्लील हरकत करने का आरोप

बिसाऊ(झुंझुनूं): शिक्षा का मंदिर बच्चों के लायक बनाने में अहम भूमिका निभाते है. लेकिन झुंझुनूं जिले के बिसाऊ थाना क्षेत्र के गांव कोदेसर के राजकीय माध्यमिक स्कूल के साइंस शिक्षक ही हैवान बन गये. शिक्षक द्वारा छात्राओं के साथ अश्लील हरकत करने का मामला सामने आया है. बच्चियों की शिकायत के बाद परिजनों ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ बिसाऊ थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है.

OMG! Swiggy से ऑर्डर की हुई कचौरी में निकला मरा हुआ चूहा

परीक्षा में फेल करने की धमकी देकर करता था अश्लील हरकत:
पुलिस ने तत्काल प्रकरण दर्ज कर आरोपी की तलास में जुट गई है. सूचना पर एससी एसटी सैल प्रभारी डीएसपी भंवरलाल ने बताया कि गांव कोदेसर में राजकीय माध्यमिक स्कूल के कक्षा 8 व 10 में पढ़ने वाली बच्चियों के साथ साइंस शिक्षक धर्मवीर धांगड़ जो तीन छात्राओं के साथ कलाश में पढ़ाते समय चोक फेंककर, व परीक्षा में फेल करवाने की धमकी देकर अश्लील हरकते करता रहता है. इस बारे में घरवालों को बताने से मना करता है. कहता है कि किसी को बताओगी तो परीक्षा में फेल कर दूंगा.

6 बच्चों को छोड़कर प्रेमी के साथ भागी कलयुगी मां

पुलिस कर रही आरोपी की तलाश:
बच्चियों की आपबीती सुनने के बाद परिजनों ने इसकी सूचना बिसाई पुलिस को दी. उसके बाद पुलिस ने तुरंत स्कूल पहुंचकर पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली. इसके बाद पुलिस ने अश्लील हरकत करने वाले पॉक्सो व एससी एसटी एक्ट में मुकदमा दर्ज कर आरोपी की तलाश में जगह-जगह दबिश देना शुरू कर दिया. 

नया उत्साह नई उमंग के साथ उड़ी पतंग, चाइना डोर के खिलाफ चलाया गया अभियान बुरी तरह से फेल

नया उत्साह नई उमंग के साथ उड़ी पतंग, चाइना डोर के खिलाफ चलाया गया अभियान बुरी तरह से फेल

बिसाऊ(झुंझुनूं): मकर संक्रांति पर्व के उपलक्ष्य में शहर में पतंग बाजी में बच्चों के साथ युवा व महिलाओं में भारी उत्साह देखा गया. जिसमें बच्चों और युवाओं ने पतंगबाजी का हुनर दिखाते हुए आकाश में पैच लड़ाए. पतंगों का मुकाबला देखने के लिए काफी तादाद में छतों पर महिला पुरुष जमा हुए. शहर के पतंगबाजों ने आसमान में उड़ती विरोधियों की पतंग काटी. सर्वाधिक पतंग युवा वर्ग की लड़कियों ने काटे. शहर में सभी छतों पर चारों तरफ पतंग उत्सव का लुत्फ लेने के लिए दर्शक जमा थे. उपस्थित दर्शकों ने एक दूसरे का उत्साह बढ़ाया.

मकर संक्रांति पर्व का स्वागत नृत्य कर किया गया: 
पतंग उत्सव में महिलाओं व युवतियों ने उत्साह से भागीदारी की. पतंग उत्सव में आकर्षक पतंगों को आसमान में उड़ाया. पतंग उड़ाने की कला में महिलाओं ने पुरुषों को मात दी. मकर संक्रांति पर्व का स्वागत नृत्य कर किया गया. पतंग बाजी में बच्चों ने दिखाया उत्साह, लूटी पतंग वहीं पतंग कटने पर बच्चों ने लूटकर उत्सव का आनंद लिया. आसमान में रंगबिरंगी पतंगों से सजा रहा. देश की राजनीति के केंद्र बिंदु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बीच पतंग के पोस्टर पर भी मुकाबला बना हुआ है. खासकर चायनिज मांझे पर बैन के बावजुद भी सभी जगह इसी मांझे से उड़ती देखी गई पतंगे. 

चाइना डोर के खिलाफ चलाया गया अभियान बुरी तरह से फेल:
मकर संक्रांति के त्यौहार को देखते हुए जिला प्रशासन पुलिस प्रशासन की तरफ से चाइना डोर के खिलाफ चलाया गया अभियान बुरी तरह से फेल साबित हुआ है. हालत यह है कि लोग सरेआम बेखौफ होकर प्रशासन के आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए चाइना डोर का प्रयोग कर रहे हैं और चाइना डोर से पतंग उड़ाते नजर आ रहे हैं. इस मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रशासन की तरफ से भी चाइना डोर की बिक्री करने वालों इसका प्रयोग करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे लेकिन इसका भी कोई खास असर नजर नहीं आया. ऐसे बहुत कम लोग नजर आ रहे हैं जिनके हाथ में परंपरागत दौर की चरखी या परंपरागत डोर का पीना है. सभी के हाथों में चाइना डोर चरखी ही नजर आ रहे हैं. 

...अशोक सोनी, बिसाऊ झुंझूनूं  

नव वर्ष की पूर्व संध्या पर पिलाया केसर युक्त दूध, युवाओं से की गई नशा छोड़ने की अपील 

नव वर्ष की पूर्व संध्या पर पिलाया केसर युक्त दूध, युवाओं से की गई नशा छोड़ने की अपील 

बिसाऊ, झुंझुनू: झुंझुनू जिले के गागिंयासर गांव के मुख्य बस स्टेण्ड पर समाज सेवी अविनाश महला कोदेसर के नेतृत्व में नव वर्ष की पूर्व संध्या पर नववर्ष मिलन समारोह व युवा दूध महोत्सव मनाया गया. जिसमें अनोखे रूप से साल की विदाई का कार्यक्रम हुआ. नए साल का स्वागत केसर युक्त दूध पिलाकर नए साल का स्वागत किया गया. जिसमें युवाओं में भारी उत्साह दिखा.

उत्साह के साथ सभी लोगों को दूध पिलाया गया. गागिंयासर गांव के लिए यह एक अनोखी बात रही, जिसमें 101 लीटर केसर युक्त दूध पिलाया गया और इस साल को विदाई दी गई. इस मौके पर सरपंच सुरेश भामु, अनिल महला, सच्चिदानन्द बेनीवाल ने नशा छोड़ दुध पीने की बात कही. बल्कि जो युवा नशा नहीं करते वो भी एक एक परीचित का नशा छुड़वायेगें, ऐसा संकल्प दिलाया गया. 

पतंगबाजी बनी परेशानी का सबब, बैन के बावजुद धड़ल्ले से बिक रहा है चायनीज मांझा

पतंगबाजी बनी परेशानी का सबब, बैन के बावजुद धड़ल्ले से बिक रहा है चायनीज मांझा

झुंझुनूं: झुंझुनूं जिले के बिसाऊ कस्बे में रंग बिरंगी पतंगों को हवा में उड़ाना बच्चों और बड़ों के लिए खास मनोरंजन का साधन रहा है, लेकिन यह पतंगबाजी अब लोगों के लिए परेशानी का सबब बन रही है. इसका मुख्य कारण है चायनीज मांझा. नायलॉन से बना ये मांझा दर्दनाक हादसों का कारण बन रहा है. मकर संक्रांति पर्व पास आते ही शहर में पतंग और मांझें की मांग बढ़ रही है. बाजार में सादा मांझे की जगह नायलॉन, प्लास्टिक का ही मांझा बिक रहा है. 

संस्थाएं कर रही जागरूक:
हालांकि बिसाऊ सघर्ष समिति पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करने वाली संस्थाएं तो पिछले वर्ष भी इस मांजे को नहीं बिकने देने की बात कह चुकी है, इसके बावजुद भी चायनीज मांझा धड़ल्ले से बिक रहा है. संस्थाएं इस बार भी वे पतंग के शौकीनों को चाइनीज मांझे की बजाएं धागे से तैयार मांजे से पतंग उड़ाने के लिए जागरूक कर रही हैं. 

मांझे की चपेट में आने से कई हादसे:
पिछले दिनों बाईपास पर इस मांझे की चपेट में आए व्यक्ति की नाक कट गई थी. फिर एक हादसे में एक बच्चे की मांझे ने उसकी शर्ट और जैकेट को काट दिया. देसी मांझा कसता है तो वह टूट जाता है, लेकिन चायनीज मांझा कसने पर शरीर के उस अंग को काट देता है. इस मांजे को तैयार करने में लोहकण भी उपयोग में लाये जाते हैं, जो बिजली के तारों में फंसकर शॉट कर सकते हैं. इससे बिजली का करंट भी लगने की आशंका रहती है. चाइनीज मांझा अजैविक सिंथेटिक धागे और कांच की परत चढ़ा कर बनाया जाता है, इसलिए नष्ट नहीं होता है. 

मांझे की डोर में उलझ कर मर गऐ आधा दर्जन पक्षी:
कस्बे में सरकार द्वारा प्रतिबंधित चाइनिज मांझे से उड रही पंतगों की डोर में आसमान में उडने वाले पक्षी उलझ कर मर रहे है. इस मांझे की बिक्री प्रतिबंधित होने के बाद भी कस्बे में धडल्ले से चाइनिज मांझो की बिक्री हो रही है. पुलिस भी इन पर कोई कार्रवाई नहीं कर पा रही है. इससे पहले भी चाइनिज मांझे की डोर में आधे दर्जन पक्षी घायल होकर दम तोड चूके है।

... बिसाऊ झुंझूनू से अशोक सोनी की रिपोर्ट 

बच्चों की अनूठी मुहिम, चाईनीज मांझे के विरोध में निकाली जागरुकता रैली

बच्चों की अनूठी मुहिम, चाईनीज मांझे के विरोध में निकाली जागरुकता रैली

बिसाऊ, झुंझुनूं: खतरनाक चाईनीज मांझे की धार लोगों के जीवन से खिलवाड़ कर रही है. शहर से लेकर देहात तक धड़ल्ले से बिक रहे इस मांझे से कई हादसे हो चुके हैं. धारदार हथियार से भी तेज इस मांझे से हो रही दुर्घटनाओं के बावजूद प्रशासन इसे प्रतिबंधित करने के लिए कोई कदम नहीं उठा रहा है. इसके मद्देनजर बिसाऊ में हाईटन अकेडमी के नन्हे मुन्हे बच्चों ने आज शहर के मुख्य मार्गों पर जागरुकता रैली निकाली. 

'बंद करो ये धागा खुनी, ये मां की गोद करता है सुनी':
दरअसल सस्ता और ज्यादा मजबूत होने के कारण पतंगबाज नासमझी में इसका प्रयोग कर रहे हैं. आसमान से जमीन पर आने तक यह जानलेवा साबित हो रहा है. बच्चों ने आज शहर के मुख्य मार्गों से श्लोगन लिखी तख्तियां हाथों में लेकर 'बंद करो ये धागा खुनी, ये मां की गोद करता है सुनी' नारों के साथ चाईनीज मांझे का उपयोग नहीं करने के लिये जागरुकता रैली निकाली एवं शपथ लेते हुये आमजन से अपील की कि आज बाद चाईनीज मांझे का उपयोग नही होने देगें. इस मौके पर पालिकाध्यक्ष मुश्ताक खान, थानाधिकारी रामपाल मीणा ने बच्चों का साथ देते हुए सभी को शपथ दिलाई और दुकानदारों व आमजन से अपील करते हुए कहा कि अगर चाईनीज मांझे को बेचते हुए व खरीदते हुए पाया गया तो कानुनी कार्रवाई की जायेगी. 

Open Covid-19