इस मंदिर के रहस्यों का वैज्ञानिकों के पास भी नही कोई जवाब

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/09/17 04:34

FIN डेस्क। भारत देश चमत्कारों से भरा हुआ है भारत में ऐसे कई सारे मंदिर मस्जिद है जिनके चमत्कार आश्चर्यजनक व मशहूर है। यहां ऐसे चमत्कारी मंदिर है जहाँ होने वाले चमत्कारों के आगे दुनिया नतमस्तक हो जाती है। इसीलिए भारत को देव भूमी के नाम से भी जाना जाता हैं ऐसा रहस्य जिसके बारे में शायद ही आपको पता होगा आज हम आपको इस लेखन के माध्यम आपको इसके रहस्य की जानकारी देते हैं जिसके आगे वैज्ञानिकों ने भी घुटने टेक दिए। 

हांलाकि हम जिस मंदिर के बारे में आपको बताने वाले हैं यह मंदिर भगवान जगन्नाथ का मंदिर है जिस मंदिर में बलभद्र और सुभद्रा मुख्य देव है इन देवताओं की मूर्तियों पर एक रत्न पंडित पाषाण चबूतरे पर गर्भ गृह में स्थापित है पूरे विश्व भर में इस मंदिर को सबसे भव्य और ऊंचा मंदिर माना गया है यह चार लाख वर्ग फुट और लगभग 214 फुट ऊंचा है इसको शक्तिशाली इसलिए माना गया हैं क्योंकि इस मंदिर के चमत्कार के आगे वैज्ञानिकों ने भी हार मान ली है। 

1 मंदिर की ध्वज हमेशा हवा के विपरीत दिशा में लहराता है जैसे हवा दक्षिण की ओर चल रही है तो यह ध्वज उत्तर की ओर लहराएगा। 
2 इस मंदिर के शिखर पर कभी कोई पक्षी उड़ता नजर नहीं आता यहां तक की प्लेन भी इसके उपर से नही गुजरता। 
3 इस मंदिर के पास एक बहुत बड़ा समुंदर है जिसकी लहरों की आवाज बहुत तेज सुनाई देती है परंतु जब मंदिर के अंदर मेन गेट से प्रवेश कर लेते हैं तो समुंद्र की इन तेज लहरों की आवाज बिल्कुल भी नहीं सुनाई देती है
4 इस मंदिर के अंदर रसोई घर में खाना सिर्फ 7 बर्तनों में बनाया जाता है जिनको लकड़ी पर रखकर पकाया जाता है इस प्रक्रिया में सबसे पहले नीचे की जगह ऊपर वाले बर्तन का खाना पकता है और उसके बाद नीचे रखे हुए बर्तन का खाना पकता है
6 इस मंदिर में भगवान जगन्नाथ के साथ भाई बलराम और बहन सुभद्रा का मंदिर भी है 
तीनों ही मूर्तियां काष्ठ से बनी हुई है मंदिरों का यह असूल है कि इन मूर्तियों को केवल दर्शन के लिए रखा गया है इनकी पूजा नहीं की जाती है हर 12 साल में इन मूर्तियों की नई प्रतिमा बनाई जाती है परंतु इनके आकार और रूप में किसी प्रकार का परिवर्तन नहीं आता है यह वैसा का वैसा ही रहता है

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in