जकार्ता इंडोनेशिया में मालवाहक नाव डूबने से 25 लोग लापता, तलाश तेज

इंडोनेशिया में मालवाहक नाव डूबने से 25 लोग लापता, तलाश तेज

इंडोनेशिया में मालवाहक नाव डूबने से 25 लोग लापता, तलाश तेज

जकार्ता: इंडोनेशिया के दक्षिण सुलावेसी प्रांत में मकासर जलडमरूमध्य में एक मालवाहक नौका के डूबने के बाद लापता हुए 25 लोगों की तलाश में बचाव दल जुटे हुए हैं. अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी.

प्रांतीय खोजी और राहत एवं बचाव एजेंसी के प्रमुख जुनैदी ने बताया कि गुरुवार सुबह मकासर के एक बंदरगाह से पैंगकेप रीजेंसी के कलमास द्वीप की यात्रा के दौरान खराब मौसम के कारण यह मालवाहक नौका डूब गई थी. इस पर कुल 42 लोग सवार थे. उन्होंने बताया कि बाद में 17 लोगों को बचा लिया गया, जिनमें से कुछ को घटना के समय समुद्र में मौजूद दो टगबोटों द्वारा बचाया गया था. जुनैदी ने कहा कि खोजी एवं बचाव एजेंसी को शनिवार को डूबी हुई नौका के स्थान के बारे में नयी जानकारी मिली और चालक दल को क्षेत्र में भेज दिया गया. स्थानीय मछली पकड़ने वाली नौकाओं के साथ दो अन्य नौकाएं और एक खोजी एवं बचाव नौका के अलावा इंडोनेशिया की वायु सेना के हेलीकॉप्टर लापता यात्रियों की तलाश में जुटे हैं.

डूबी हुई नौका को शुरू में एक यात्री नौका बताया गया था, लेकिन बाद में जुनैदी ने स्पष्ट किया कि यह निर्माण सामग्री ले जाने वाली एक मालवाहक नौका थी. इस पर 36 यात्री और चालक दल के छह सदस्य सवार थे. 17,000 से अधिक छोटे द्वीपों के द्वीपसमूह इंडोनेशिया में नौका हादसे आम हैं. यहां अक्सर परिवहन के रूप में नौकाओं का उपयोग किया जाता है और इस दौरान सुरक्षा नियमों की अनदेखी भी की जाती है. उत्तरी सुमात्रा प्रांत में 2018 में ज्वालामुखी से बने एक गहरे गड्ढे वाली झील में एक नौका के डूब जाने से 167 लोगों की मौत हो गई थी. उस नौका में लगभग 200 लोग सवार थे. फरवरी 1999 में इंडोनेशिया में एक यात्री जहाज डूब गया था, जिसमें 332 लोग सवार थे. हादसे में केवल 20 लोग ही जीवित बचे थे. इस हादसे को देश के सबसे दर्दनाक हादसों में से एक माना जाता है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें