Live News »

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शांति व्यवस्थाओं के नजरिये से लगी धारा 144 शादियों पर पड़ रही भारी

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शांति व्यवस्थाओं के नजरिये से लगी धारा 144 शादियों पर पड़ रही भारी

डूंगरपुर: अयोध्या विवाद को लेकर आये सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शांति व्यवस्थाओं  के नजरिये से डूंगरपुर जिले में 18 नवंबर तक के लिए लागू की गई धारा 144 शादियों पर भारी पड़ रही है. धारा 144 के चलते शादी में डीजे बजाने और बिन्दोली निकालने की स्वीकृति नहीं मिल पा रही है जिसके चलते शादी वाले परिवारो में शादी की रौनक फीकी सी है और शादी वाले लोग परेशान है. दरअसल अयोध्या मामले के फैसले को लेकर डूंगरपुर जिला प्रशासन की ओर से 18 नवम्बर तक धारा 144 लगाई हुई है. पुलिस इसे लेकर काफी सख्त है और डीजे बजाने और बिन्दोली निकालने के लिए प्रशासनिक स्वीकृति लेना जरूरी कर दिया गया है. जिसके चलते शादी वाले परिवार परेशान है.

पुलिस बल भी आयोजन स्थल पर सुरक्षा के मद्देनजर तैनात: 
इसी के तहत डूंगरपुर शहर के नवाडेरा बस्ती में जुनेद नाम के दो पड़ोसियों की शादी बुधवार और गुरुवार को होनी है. लेकिन पुलिस ने बिना स्वीकृति बिन्दोली नहीं निकलने की हिदायत दे रखी है और जरूरी पुलिस बल भी आयोजन स्थल पर सुरक्षा के मद्देनजर तैनात है. इधर शादी वाले परिवारों ने एसडीएम से बिन्दोली निकालने की लिखित स्वीकृति की मांग कर रहे है. लेकिन दोनों परिवारों को अभी तक प्रशासन की ओर से स्वीकृति नहीं मिली है जिसके चलते शादी वाले परिवार परेशान है.  

और पढ़ें

Most Related Stories

डूंगरपुर: जंगल में मवेशी चराने गई आठ साल की मासूम से 12 साल के नाबालिग ने किया दुष्कर्म

डूंगरपुर: जंगल में मवेशी चराने गई आठ साल की मासूम से 12 साल के नाबालिग ने किया दुष्कर्म

डूंगरपुर: जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र में एक 8 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है. पीड़िता के परिजनों ने कोतवाली थाने में मामला दर्ज करवाया है. कोतवाली थाने के सीआई चांदमल सिंगारिया ने बताया की कोतवाली थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी 8 साल की मासूम कल शाम को जंगल में मवेशी चराने गई थी. इस दौरान गांव के ही 12 साल के नाबालिग लड़के ने उसके साथ दुष्कर्म किया.

डूंगरपुर: पुलिस कांस्टेबल पर नाबालिग किशोरी का अपहरण कर दुष्कर्म करने का आरोप 

डॉक्टर्स ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म होने का खुलासा किया: 
इधर आज सुबह जब नाबालिग की तबियत बिगड़ी और परिजन उसे लेकर जब अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टर्स ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म होने का खुलासा किया. वहीं परिजनों के पूछने पर नाबालिग ने पूरी बात बताई. जिस पर परिजन तुरंत कोतवाली थाने पहुंचे और मामले की रिपोर्ट दी. जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. 

यौन उत्पीड़न मामले में आरोपी आसाराम को बड़ी राहत, अब सेंट्रल जेल में मिलेगा बाहर का खाना 

डूंगरपुर: पुलिस कांस्टेबल पर नाबालिग किशोरी का अपहरण कर दुष्कर्म करने का आरोप

डूंगरपुर: पुलिस कांस्टेबल पर नाबालिग किशोरी का अपहरण कर दुष्कर्म करने का आरोप

डूंगरपुर: जिले के रामसागड़ा थाना के एक पुलिस कांस्टेबल पर एक नाबालिग किशोरी का अपहरण कर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया गया है. वहीं मामले में आरोपी पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है. मामले के अनुसार एक नाबालिग किशोरी के पिता ने एसपी को परिवाद सौंपकर आरोपी रामसागड़ा थाने के पुलिस कांस्टेबल कांतिलाल मीणा के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. 

यौन उत्पीड़न मामले में आरोपी आसाराम को बड़ी राहत, अब सेंट्रल जेल में मिलेगा बाहर का खाना 

पुलिसकर्मियों ने कार्रवाई करने की बजाय उसे ही डरा-धमकाकर भगा दिया: 
ज्ञापन में पिता ने बताया उसकी नाबालिग पुत्री 16 साल की है. 29 जुलाई को वह ओर उसकी पत्नी गामड़ी अहाड़ा में सामान लेने के लिए गए थे, वापस लौटे तो पता लगा कि उसकी नाबालिग बेटी को आरोपी पुलिस कांस्टेबल कांतिलाल जबरन बाइक पर बैठाकर भगा ले गया है. इस पर वह रामसागड़ा थाने गया जहां घटना के बारे में सूचना दी तो वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने कोई कार्रवाई नही की. इस पर वह लगातार 29, 30 जुलाई व 1 अगस्त को भी रामसागड़ा थाने पर गया लेकिन पुलिसकर्मियों ने कार्रवाई करने की बजाय उसे ही डरा-धमकाकर भगा दिया. इसके बाद कोई कार्रवाई नहीं होने के कारण परिजन 6 अगस्त को डूंगरपुर डीएसपी कार्यालय पंहुचे ओर कार्रवाई की मांग की. जिस पर डीएसपी ने मामले में रामसागड़ा थाने में केस दर्ज करवाया और उसी दिन पुलिस उसकी बेटी को भी ले आये, लेकिन उसे मिलने तक नही दिया.

VIDEO- मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात के बाद बोले विधायक ओम प्रकाश हुड़ला, कहा... 

पुलिसकर्मियों के दबाव में सही मेडिकल रिपोर्ट नहीं बनाने के आरोप लगाए:
पिता ने मेडिकल जांच में भी पुलिसकर्मियों के दबाव में सही मेडिकल रिपोर्ट नहीं बनाने के आरोप लगाए है. पीड़िता के पिता ने उसकी बेटी को डरा धमकाकर बयान करवाने के आरोप लगाये है. साथ ही यह भी कहा कि आरोपी पुलिसकर्मी ने उसे 7 से 8 दिन साथ रखा और उसके साथ दुष्कर्म किया. इस दौरान थाने पर बुलाकर समझौता करने के लिए भी दबाव बनाते रहे. पिता ने मामले में आरोपी पुलिसकर्मी के रामसागड़ा थाने में ही तैनात होने के कारण सही जांच नही होने और न्याय नही मिलने का संदेह जताते हुए अन्य पुलिस थाने के अधिकारी से जांच करवाने की मांग की है. साथ ही पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है. 

अवैध शराब के ट्रक सहित दो तस्कर गिरफ्तार

अवैध शराब के ट्रक सहित दो तस्कर गिरफ्तार

डूंगरपुर: जिले की बिछीवाड़ा थाना पुलिस ने अवैध शराब से भरे ट्रक को जब्त करते हुए दो तस्करों को गिरफ्तार किया है. थाना अधिकारी इंद्रजीत परमार ने बताया कि मुखबिर से मिली सूचना के बाद रतनपुर बॉर्डर पर नाकेबंदी की गई थी. इस दौरान उदयपुर की तरफ से आ रहे एक ट्रक को रोककर तलाशी ली गई तो उसमें चावल के भूसे की आड़ में शराब के कर्टन भरे मिले जिस पर पुलिस ने ट्रक को जब्त करते हुए ट्रक चालक सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया.

VIDEO- Rajasthan Political Crisis: महिला विधायकों ने मुख्यमंत्री को बांधे रक्षा सूत्र, सीएम गहलोत ने दी बधाई 

बाजार में कीमत करीब 20 लाख रुपये:  
जब्त ट्रक को पुलिस थाने पर लेकर आई और शराब की गिनती की तो ट्रक से हरियाणा निर्मित शराब के 256 कार्टन भरे मिले जिसकी बाजार में कीमत करीब 20 लाख रुपये है. प्रारंभिक पूछताछ में आरोपियों ने शराब को हरियाणा के रोहतक से ट्रक में भरकर अहमदाबाद ले जाना बताया है. फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. 

Rajasthan Political Crisis: अब दिल्ली से आ रही एक चौंकाने वाली खबर, सोनिया गांधी के स्तर पर हो रही एक आखिरी कोशिश!  

डूंगरपुर: तंत्र-मंत्र से लूटपाट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 7 आरोपी ​गिरफ्तार

डूंगरपुर: तंत्र-मंत्र से लूटपाट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 7 आरोपी ​गिरफ्तार

डूंगरपुर: डूंगरपुर जिले की आसपुर थाना पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है. आसपुर थाना पुलिस ने तंत्र-मंत्र कर गृह दशा सुधारने के बहाने लूट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है. मामले में पुलिस ने गिरोह के 7 सदस्यों को गिरफ्तार किया है.आसपुर थानाधिकारी मोहम्मद रिजवान ने बताया की उदयपुर जिले के सेमारी थाना क्षेत्र निवासी रमेश मीणा ने 30 जुलाई को थाने में एक रिपोर्ट दी थी कि साबला थाना क्षेत्र के मुंगेड गांव निवासी प्रभु और उसका लड़का शम्भू उनके गाँव में गृह दशा सुधारने की पूजा के नाम पर आते थे.

उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ का सरकार पर तंज, कोरोना काल में सरकार के अदृश्य हो जाने को बताया दुःखद 

लूटपाट कर हो गए थे फरार:
28 जुलाई को प्रभु और शम्भू ने उन्हें तंत्र-मन्त्र कर गृह दशा सुधारने के लिए बुलाया था. प्रभु और शम्भू के बुलाने पर वो 28 जुलाई को आसपुर आये जहां से दोनों मिलकर उसे और उसके भाई को रामगढ़ होते हुए सोमनदी के पास ले गए इसके बाद उन्होंने अपने 5 साथियों को और बुलाया. सभी मिलकर ने उनके साथ मारपीट की और  पास से 10 हजार नगद, चांदी के आभूषण, मोबाइल और अन्य दस्तावेज लूट कर फरार हो गए थे.

पुलिस कर रही है आरोपियों से पूछताछ:
मामले में पुलिस ने अनुसन्धान करते हुए प्रभु उसके बेटे शम्भू सहित सात जनों को गिरफ्तार किया है.इधर पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है पूछताछ में और भी लोगो के साथ इस तरह की लूट के खुलासे होने की संभावना है. 

3 अगस्त को मनाया जाएगा रक्षाबंधन का पर्व, बाजारों में ग्राहकों की काफी चहल-पहल

डूंगरपुर: जिस युवक की हत्या के आरोप में दो भाई गुजरात जेल की खा रहे हवा, 5 माह बाद जिंदा लौटा

डूंगरपुर: जिस युवक की हत्या के आरोप में दो भाई गुजरात जेल की खा रहे हवा, 5 माह बाद जिंदा लौटा

चौरासी(डूंगरपुर): जिस युवक की हत्या के आरोप में दो भाई गुजरात जेल की हवा खा रहे हैं वह 2 दिन पूर्व जिंदा घर लौटा आया. जिंदा युवक घर लौटने पर उसे देख परिवार जन व ग्रामवासी आश्चर्यचकित हो गए. परिवार जन उसे  देख खुशी का बयां भी नहीं कर सके क्योंकि उसी की हत्या के आरोप में उसी के ही दो भाई जेल में है. यह पूरा मामला धंबोला थाना क्षेत्र के खरपेड़ा का है. खरपेड़ा निवासी ईश्वर पुत्र खातू मनात जो गुजरात में मजदूरी करने को गया था लेकिन लॉक डाउन की वजह से गुजरात में ही फंसा रहा, घरवालों के मोबाइल नंबर नहीं होने से वह किसी को भी संपर्क नहीं कर सका था. 

Coronavirus in India: देश में पहली बार 24 घंटे में 52 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, 775 लोगों की मौत 

घर में अंतिम संस्कार की सारी रस्में हो गई: 
गुजरात पुलिस के रिकॉर्ड में डूंगरपुर जिले के खरपेड़ा गांव निवासी एक युवक का शव 6 फरवरी को मिला था. युवक की शिनाख्त ईश्वर के रूप में उसकी पत्नी, ससुर व साले ने पुलिस के सामने की थी. घर में अंतिम संस्कार की सारी रस्में हो गई. सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि पत्नी ने अपने जेठ व देवर के खिलाफ पति की हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था और गुजरात पुलिस ने ईश्वर के दो भाइयों को उसकी हत्या मामले में गिरफ्तार कर गुजरात में जेल भेज दिया था. वह अभी जेल में है. इधर, 5 माह बाद ईश्वर जीवित अवस्था में मंगलवार को अपने साडू के घर राजपुर गया उसे देख सब हक्के बक्के रह गए. साडू ईश्वर को लेकर सीमलवाड़ा पुलिस चौकी पहुंचा यहां पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने ईश्वर के परिजनों को इसकी सूचना दी. 

मृतक के एक हाथ में ईश्वर लिखा था:
दरअसल, हुआ यूं कि गुजरात इसरी थाना क्षेत्र के मोरीगांव के पास 6 फरवरी 2020 को जंगल में एक युवक का शव मिला था. शव पुराना व सड़ा गला होने के कारण फूल गया था. पुलिस की तफ्तीश में युवक का शव कनेक्शन खरपेड़ा से निकला. ईश्वर की पत्नी सीमा व साले एवं ससुर ने इसकी शिनाख्त खरपेड़ा निवासी ईश्वर पुत्र खातू मनात के रूप में कर दी.  बताया जा रहा है कि ईश्वर की माता की मौत हो जाने पर युवक को घर बुलाने के लिए काफी तलाश की गई थी. बताया जा रहा है कि ईश्वर का ससुर जो उधारी रुपए दिए थे, वापस लेने मोरी गांव गया था जहां सूचना मिली थी कि जंगल के पास किसी का शव मिला है. मौके पर पहुंच देखा तो मृतक के एक हाथ में ईश्वर लिखा था, इसी के आधार पर शव खरपेड़ा निवासी ईश्वर का होना पाया, ईश्वर की पत्नी सीमा ने भी शिनाख्त की लेकिन ईश्वर के भाइयों व परिजनों ने पुलिस को यह शव ईश्वर का नहीं होना बताया था. वहीं ईश्वर की पत्नी ने यह शव ईश्वर का होना बताया एवं अपने जेठ प्रकाश व देवर पारस के खिलाफ रिपोर्ट देकर अपने पति की हत्या करने का आरोप लगाया.  पुलिस ने दोनों भाइयों को ईश्वर की हत्या मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. 

शव को दफनाया: 
ईश्वर के चाचा कमला शंकर मनात ने बताया कि इसरी गुजरात के जंगल में शव मिलने पर ईश्वर को परिजनों को भी घटनास्थल पर बुलाया था जहां पर परिवार जनों ने शव ईश्वर का नहीं होना बताया था. भाई प्रकाश व पारस ने बताया था कि ईश्वर के पैर में दुर्घटना होने के कारण स्टील की राड डाली हुई थी जो कि नहीं दिख रही है. जिस कारण से उन्होंने शव को लेने से इनकार किया था लेकिन दबाव के चलते शव को उठाया गया. लेकिन आशंका होने के कारण उसका अंतिम संस्कार नहीं किया. शव को हिंदू रीति रिवाज के अनुसार नहीं जला कर भविष्य में कभी भी खुलासा होने की आस में गांव वाले बड़े बुजुर्गों से सहमति के बाद शव को दफन किया था. जहां पर आज भी पत्थर डाले हुए हैं. दूसरी ओर जिंदा लौट आए इश्वर ने  बताया कि वह गुजरात के जूनागढ़ में मजदूरी का काम करता था, परंतु बीच में लॉकडाउन लगने के कारण आना जाना व कहीं बाहर निकलने पर पाबंदी हो जाने के कारण वहीं पर रह रहा था. पास में मोबाइल नहीं होने के कारण किसी से बात नहीं हो पा रही थी, परिवार जन के मोबाइल नंबर भी मुंह जुबानी याद नहीं थे. इस कारण उनसे संपर्क नहीं कर पाया था. अब गांव आते ही सब इसे अचरज की नजर से देखने लगे, कहने लगे कि तू मर गया था यहां पर कैसे आ गया. बाद में पूरी बात सामने आने पर मामले का खुलासा हुआ है. 

गुजरात पुलिस की लापरवाही के चलते पूरा परिवार तितर-बितर: 
दूसरी ओर सवाल यह की आखिर दफन किया गया शव किसका है जिसके हाथ पर भी ईश्वर लिखा हुआ था. परिवार जनों ने गुजरात पुलिस के खिलाफ आक्रोश जताते हुए कहा कि गुजरात पुलिस की लापरवाही के चलते उनका पूरा परिवार तितर-बितर हो गया है. ईश्वर की हत्या के आरोप में दो भाई जेल में है. वहीं ईश्वर की पत्नी सीमा भी तीन बच्चियों के साथ नाते पर चली गई है. ऐसे में पूरे परिवार के ऊपर आफत आ गई है.  

Unlock 3 guidelines: अनलॉक-3 के दिशानिर्देश जारी, इन पर पाबंधी रहेगी जारी और इन्हें मिली इजाजत 

बेकसूर होने के बावजूद भाई की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया:
परिवार जनों ने बताया कि गुजरात पुलिस अभिलंब हमारे जेल में बंद दो भाइयों को छोड़ें एवं परिवार को हर्जाना भी दे साथ ही उच्चाधिकारियों से मांग कर इस प्रकरण में तफ्तीश करने वाली गुजरात पुलिस टीम के खिलाफ कार्रवाई कर सख्त सख्त सजा देने की मांग की है. वहीं जेल में बंद प्रकाश की पत्नी ने कहा कि मेरे पति को जबरन गुजरात पुलिस द्वारा जुर्म स्वीकार कराया गया था, उनके साथ बेरहमी से मारपीट की गई थी. बेकसूर होने के बावजूद भाई की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर फिजूल की वाहवाही बटोरी थी एवं परिवार के सदस्यों के साथ भी बुरा बर्ताव किया था. 

13 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म, आरोपी ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

13 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म, आरोपी ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

डूंगरपुर: जिले के दोवड़ा थाना क्षेत्र में एक 13 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है. वहीं दुष्कर्म के बाद आरोपी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. पुलिस के अनुसार दोवड़ा थाना क्षेत्र के एक गांव में 13 साल की बालिका अपने 3 भाई-बहिन के साथ रात को घर पर अकेली थी और उसके माता-पिता नानी के घर पर थे. रात को लापिया निवासी नितेश कलासुआ उसके घर पर आया और पीड़िता के साथ दुष्कर्म करके फरार हो गया. सुबह गंभीर हालत में परिजनों ने पीड़िता को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया. 

राजभवन और राज्य सरकार के बीच और बढ़े टकराव के हालात! राजभवन ने एक बार फिर लौटाया राज्य सरकार का प्रस्ताव 

आरोपी ने पे़ड़ पर फांसी लगाकर की आत्महत्या: 
इधर सुबह दुष्कर्म के आरोपी युवक ने पुनाली-खोलखंडा मार्ग पर एक पेड़ पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया. वहीं पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव परिजनों के सुपुर्द किया. वहीं पीड़िता का जिला अस्पताल में उपचार जारी है. पुलिस मामले की जांच कर रही है. 

नई शिक्षा नीति को मोदी कैबिनेट की मंजूरी, HRD मिनिस्ट्री का बदला नाम  

डूंगरपुर: सड़क हादसे में ट्रक चालक और उसके सहयोगी की मौत

डूंगरपुर: सड़क हादसे में ट्रक चालक और उसके सहयोगी की मौत

डूंगरपुर: जिले के बिछीवाड़ा थाना क्षेत्र में नेशनल हाईवे 8 पर हुए एक सड़क हादसे में ट्रक चालक और उसके सहयोगी की मौत हो गई. पुलिस के अनुसार एक ट्रक अहमदाबाद से धागे के रोल भरकर यूपी के मेरठ जा रहा था तभी गोगा मोड़ के पास ट्रक अनियंत्रित होकर डिवाइडर तोड़ते हुए दूसरी साइड में चला गया. इस दौरान सामने से आ रहे एक खाली ट्रक से उस ट्रक की टक्कर हो गई. 

केंद्र को कोरोना और रोजगार की नहीं राजस्थान सरकार गिराने की चिंता- खाचरियावास  

अस्पताल में इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई: 
हादसे में उत्तर प्रदेश के हापुड़ निवासी ट्रक चालक उस्मान अजीज और उसके सहयोगी शाहरुख खान गंभीर रूप से घायल हो गए जिन्हें पुलिस ने जिला अस्पताल पहुंचाया. वहीं अस्पताल में इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई. इधर पुलिस ने दोनों के शव मुर्दाघर में रखवाए है वहीं मृतकों के परिजनों को भी सूचना दे दी है. परिजनों के आने के बाद पोस्टमार्टम की कार्रवाई की जाएगी.

बहुचर्चित राजा मानसिंह हत्याकांड: कोर्ट ने सभी 11 आरोपियों को सुनाई आजीवन कारावास की सजा  

नाबालिग का अपहरण कर दुष्कर्म के आरोपी को 20 साल की सजा, 30 हजार जुर्माना

नाबालिग का अपहरण कर दुष्कर्म के आरोपी को 20 साल की सजा, 30 हजार जुर्माना

डूंगरपुर: जिले की पॉक्सो कोर्ट ने नाबालिग का अपहरण कर दुष्कर्म के मामले में दोषी को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है. वहीं मामले में दोषी पर 30 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है. विशिष्ठ लोक अभियोजक योगेश जोशी ने बताया की जून 2019 में दोवड़ा थाने में आठवीं कक्षा की छात्रा के अपहरण और बलात्कार का केस दर्ज हुआ था. जिसमे बताया गया था की आरोपी राकेश नाबालिग पीड़िता को मजदुरी करने के बहाने उसके गाव देवकी ले गया और रात को बलात्कार किया. 

अपहरण और हत्या के मामले का खुलासा, पुलिस ने चार आरोपियों को किया गिरफ्तार 

पुलिस ने पीड़िता को मुक्त कराया था: 
उसके बाद सुबह अहमदबाद ले गया. इसके बाद रोज बलात्कार करता था. पीड़िता ने किसी तरह घर पर सम्पर्क किया और पुलिस ने पीड़िता को मुक्त कराया था. पीड़िता के पिता की रिपोर्ट पर पुलिस ने राकेश को गिरफ्तार किया था ओर कोर्ट में चालान पेश किया था.  इसी मामले में पॉक्सो कोर्ट ने अंतिम सुनवाई करते हुए राकेश को दोषी माना और उसे 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई वही 30 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया. 

Open Covid-19