Live News »

आतंकी संगठन जैश की धमकी के बाद जयपुर एयरपोर्ट पर भी बढ़ाई गई सुरक्षा

आतंकी संगठन जैश की धमकी के बाद जयपुर एयरपोर्ट पर भी बढ़ाई गई सुरक्षा

जयपुर: देश के हवाई अड्डों पर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा धमाके की धमकी देने के बाद हवाई अड्डों पर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है. जयपुर एयरपोर्ट पर भी इसी दिशा में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल यानी सीआईएसफ ने सुरक्षा जांच का दायरा बढ़ा दिया है. एयरपोर्ट के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा जवान लगाए गए हैं. 

दरअसल आतंकी संगठन 'जैश-ए-मोहम्मद' ने आठ अक्टूबर को भारत के कई रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी दी है. इस बाबत दो अलग-अलग धमकी भरे पत्र मिले हैं. इसके मद्देनजर प्रशासन अलर्ट मोड में आ गया है. वहीं रेल प्रशासन भी चौकस हो गया है. खुफिया सूत्रों के मुताबिक जैश ने देश के 30 बड़े शहरों पर भी हमले की धमकी दी है. इन शहरों में जम्मू, पठानकोट, अमृतसर, जयपुर, गांधीनगर, कानपुर और लखनऊ शामिल है. 30 शहरों के साथ ही चार हवाई अड्डों पर भी हमला करने की धमकी दी गई है.

और पढ़ें

Most Related Stories

राजस्थान के सबसे बड़े COVID अस्पताल से फिर बुरी खबर, अस्पताल के सेमी ICU में भर्ती एक मरीज ने की आत्महत्या

राजस्थान के सबसे बड़े COVID अस्पताल से फिर बुरी खबर, अस्पताल के सेमी ICU में भर्ती एक मरीज ने की आत्महत्या

जयपुर: प्रदेश में लगातार एक दिन में कोरोना के नए मरीजों की संख्या 500 से ऊपर सामने आ रही है. रविवार को 644 नए केस सामने आए. वहीं राजस्थान के सबसे बड़े COVID अस्पताल से एक बार फिर बुरी खबर आई है. अस्पताल के सेमी ICU में भर्ती एक मरीज ने आत्महत्या कर ली है. सेमी ICU के पास फंदे से झूलकर मरीज ने आत्महत्या की है. हालांकि मरीज की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव थी. पिछले 1 सप्ताह में अस्पताल में यह आत्महत्या की दूसरी घटना है. इससे पहले इसी सेमी ICU में भर्ती एक बुजुर्ग मरीज ने खिड़की से कूदकर आत्महत्या की थी. 

राजस्थान के सियासी घटनाक्रम पर एक और बड़ी ख़बर, सतीश पूनिया और किरोड़ीलाल मीणा के बीच चली लंबी मंत्रणा 

रोगियों की संख्या 18 हजार के पार:  
इससे पहले रविवार को 644 नए केस सामने आए. अब प्रदेश में 24,392 संक्रमित हो गए हैं. सात लोगों ने दम भी तोड़ा. अब मृतकों की संख्या 510 हो गई है. मरने वालों में नागौर के 3 और जयपुर, सिरोही, टोंक, उदयुपर का 1-1 शामिल है. कोरोना को हराने वाले रोगियों की संख्या 18 हजार के पार पहुंच गई है. 

VIDEO: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को 109 विधायकों का समर्थन- अविनाश पांडे  

अब तक कुल 18103 रोगी रिकवर हो चुके:
अब तक कुल 18103 रोगी रिकवर हो चुके हैं, जिनमें से 17734 को डिस्चार्ज कर दिया गया. प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या भी पहली बार 6 हजार के पार चली गई है. अब प्रदेश में 6054 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं. हालांकि राहत रही कि 6 जिलों बारां, टोंक, जैसलमेर, झालावाड़, हनुमानगढ़ और चित्तौड़गढ़ में एक भी नया रोगी नहीं मिला. 

VIDEO: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को 109 विधायकों का समर्थन- अविनाश पांडे

VIDEO: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को 109 विधायकों का समर्थन- अविनाश पांडे

जयपुर: उप मुख्य मंत्री सचिन पायलट के तीखे तेवरों ने कांग्रेस में ऊथल पुथल मचा दी है. देर रात 2.30 बजेCM आवास 8 सिविल लाइंस पर संयुक्त प्रेस वार्ता हुई. इसे प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने संबोधित किया. पांडे ने कहा कांग्रेस सरकार और सी एम गहलोत के प्रति 109 विधायकों ने विश्वास जताया है और समर्थन पत्र दिया. प्रेस वार्ता में एआईसीसी के मीडिया इंचार्ज रणदीप सिंह सुरजेवाला ,वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजय माकन और मुख्य सचेतक महेश जोशी मौजूद रहे.

Rajasthan Political Crisis: पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन ना करने का दावा, फंसा नया पेंच! 

बीजेपी की साजिश नहीं होगी कामयाब: 
अविनाश पांडे ने कहा कि आज 10.30 बजे विधायक दल बैठक होगी इसे लेकर व्हीप जारी कर दिया है जो विधायक इसका उल्लंघन करेगा उसके खिलाफ अनुशासनत्मक कार्रवाई की. पांडे ने आगे कहा कि बीजेपी की साजिश नहीं होगी कामयाब, राजस्थान के सभी विधायक एकजुट है. राजस्थान के सभी बहादुर विधायकों की मदद दे हम बीजेपी के षड्यंत्र को कामयाब नहीं होने देंगे. हालांकि किसी ने भी पीसी में सचिन पायलट का नाम नहीं लिया, सुरजेवाला बोले वो जरुर आएंगे बैठक में. 

राजस्थान के सियासी घटनाक्रम पर एक और बड़ी ख़बर, सतीश पूनिया और किरोड़ीलाल मीणा के बीच चली लंबी मंत्रणा 

राजस्थान के सियासी घटनाक्रम पर एक और बड़ी ख़बर, सतीश पूनिया और किरोड़ीलाल मीणा के बीच चली लंबी मंत्रणा

जयपुर: राजस्थान में हो रहे सियासी घटनाक्रम में एक के बाद एक बड़ी खबर सामने आ रही है. अब सतीश पूनियां और किरोड़ीलाल मीणा के बीच भी एक लंबी मंत्रणा चली है. आज सुबह मीणा के टीन के बने हाउस में बीजेपी के दोनों दिग्गज नेताओं की मुलाकात हुई है. ऐसे में दोनों नेताओं की मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे है. किरोड़ीलाल मीणा की 2 दिन पहले ही तबीयत खराब बताई जा रही थी. ऐसे में उनकी कुशलक्षेम पूछने की बात कही जा रही है. पूनिया ने सुबह जल्दी घर पहुंचकर किरोड़ी मीणा की कुशलक्षेम पूछी है. 

Rajasthan Political Crisis: पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन ना करने का दावा, फंसा नया पेंच! 

मीणा का अचानक जयपुर में पहुंचना बड़ी खबर: 
वहीं किरोड़ीलाल मीणा से 1st इंडिया न्यूज ने एक्सक्लूसिव बातचीत की है. उन्होंने कहा है कि अगर फ्लोर टेस्ट होता है तो सरकार के लिए मुसीबत हो सकती है. कांग्रेस पॉलिटिक्स पर बोलते हुए मीणा ने हालांकि आलाकमान के दिशा निर्देश के लिए इनकार किया है. लेकिन मीणा का अचानक जयपुर में पहुंचना बड़ी खबर है. कभी मीणा के टिकट पर चुनाव लड़ चुके 8 लोग इस बार अलग-अलग पार्टियों से जीते हैं. ऐसे में किरोड़ी लाल मीणा की भी किसी भी भूमिका से इनकार नहीं किया जा सकता है. 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट का बड़ा बयान, कहा-अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में

10.30 बजे विधायक दल की बैठक में अंतिम निर्णय होगा:
वहीं अशोक गहलोत और सचिन पायलट में सियासी तलवारें खिंचने के बाद दिल्ली में मौजूद केंद्रीय नेतृत्व को एक्शन में आना पड़ा. दिल्ली से तीन नेता जयपुर पहुंचे, जिन्होंने अशोक गहलोत और अन्य विधायकों के साथ बैठक की. अब तय हुआ है कि सोमवार सुबह 10.30 बजे होने वाली विधायक दल की बैठक में अंतिम निर्णय होगा, जो इस बैठक में नहीं आएगा उसे पार्टी की सदस्यता से हाथ धोना पड़ेगा.

Rajasthan Political Crisis: पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन ना करने का दावा, फंसा नया पेंच!

Rajasthan Political Crisis: पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन ना करने का दावा, फंसा नया पेंच!

जयपुर: राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बागी तेवरों के बाद राजस्थान में सियासी पारा उफान पर है.  सूत्रों की मानें, तो अगर सचिन पायलट और उनके समर्थक आज सुबह होने वाली बैठक में नहीं आते हैं तो पार्टी उनपर एक्शन ले सकती है. वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसरा सचिन पायलट का बड़ा बयान सामने आया है. पायलट ने कहा कि मैं बीजेपी ज्वॉइन नहीं कर रहा हूं. हालांकि इस बारे में अभी पूरी जानकारी सामने नहीं आ रही है. 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट का बड़ा बयान, कहा-अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में

पायलट को बीजेपी ज्वॉइन करने में एक नया पेंच: 
वहीं जानकार सूत्रों के अनुसार पायलट को बीजेपी ज्वॉइन करने में एक नया पेंच आ गया है. पायलट से बातचीत के बाद जेपी नड्डा के मन में उठा एक सवाल उठ रहा है. क्या सचमुच पायलट के पास REQUIRED NUMBER अर्थात् कम से कम 30 विधायकों का समर्थन है ? यदि ऐसा है तो फिर पायलट की बीजेपी ज्वॉइनिंग हो सकती है. और यदि पायलट के पास फिलहाल केवल एक दर्जन विधायक है तो बीजेपी  इस सारे मामले पर नए सिरे से विचार कर सकती है. 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट कल भाजपा में हो सकते हैं शामिल, इस वजह के चलते अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण

पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन ना करने का दावा: 
ऐसे में यहां तक कि एक बार तो आज पायलट और उनके समर्थक विधायकों की बीजेपी ज्वॉइनिंग टल सकती है. सूत्रों के अनुसार आज सुबह तक इस बारे में भाजपा द्वारा अंतिम फैसला लिए जाने की उम्मीद है. इसी बीच पायलट कैम्प से जुड़े सूत्र ने किया दावा किया है कि पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन नहीं करेंगे. ऐसे में अब भगवान जाने कि आखिर क्या सच है? वैसे पायलट के मन में शुरू से ही एक नई पार्टी बनाने का विचार था. 


 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस ने कल होने वाली विधायक दल की बैठक के लिए जारी किया व्हिप

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस ने कल होने वाली विधायक दल की बैठक के लिए जारी किया व्हिप

जयपुर: राजस्थान में इस समय सियासी पारा उफान पर है. सचिन पायलट के कल बीजेपी ज्वॉइन करने की अटकलों के बीच कांग्रेस ने कल सुबह 10.30 बजे होने वाली बैठक को लेकर व्हिप जारी किया है. ऐसे में इस बैठक के बाद प्रदेश की राजनीति को लेकर स्थिति साफ हो जाएगी. जहां एक और सचिन पायलट कैंप अपने साथ 30 विधायक होने का दावा कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर सीएम गहलोत का धड़ा भी प्रदेश में 5 साल सरकार चलाने को लेकर आश्वस्त नजर आ रहा है. ऐसे में विधायक दल की बैठक में यह स्थिति साफ हो जाएगी. 

पायलट ने गहलोत को अल्पमत में बताकर एक चुनौती दी: 
वहीं 30 विधायकों के समर्थन का दावा कर पायलट ने गहलोत को अल्पमत में बताकर एक चुनौती दी है. अब पायलट के दावे के आधार पर राज्यपाल गहलोत को एक सप्ताह या 10 दिन में गहलोत को बहुमत साबित करने का निर्देश दे सकते हैं. और बस यहीं से नए सिरे से जोड़-तोड का खेल शुरू हो जाएगा. इसके बाद विधानसभा में सरकार अपना बहुमत सिद्ध नहीं कर पाती है तो नई सरकार के गठन से पहले कुछ दिनों के लिए प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लग जाएगा.

पायलट खेमे के विधायक दे सकते हैं इस्तीफा: 
बता दें कि राज्य में बिगड़ते सियासी हालात को देखते हुए कांग्रेस आलाकमान ने पार्टी के तीन नेताओं को जयपुर भेजा है. वहीं, सोमवार सुबह 10.30 कांग्रेस विधायक दल की बैठक होनी है. वहीं सूत्रों के मुताबकि, कल सुबह होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले आज देर रात सचिन पायलट के खेमे के विधायक अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को भेज सकते हैं.
 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट कल भाजपा में हो सकते हैं शामिल, इस वजह के चलते अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट कल भाजपा में हो सकते हैं शामिल, इस वजह के चलते अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण

जयपुर: राजस्थान में चल रही सियासी हलचल के बीच सचिन पालयट ने बगावती तेवर अपना लिया है. अब पायलट भाजपा में शामिल हो सकते हैं. जानकार सूत्रों के हवाले से मिली खबर के अनुसार पायलट जेपी नड्डा की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल होंगे. इसको लेकर भाजपा शीर्ष नेतृत्व से कल दिल्ली में मुलाकात कर सकते हैं. 

पायलट का थर्ड फ्रंट बनाने का आइडिया अप्रूव नहीं हुआ:
जानकार सूत्रों के अनुसार पायलट का थर्ड फ्रंट बनाने का आइडिया अप्रूव नहीं हुआ. अब भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की मौजूदगी में कल भाजपा ज्वॉइन कर सकते हैं. इस संबंध में जेपी नड्डा और पायलट के बीच पूरी बातचीत हो चुकी है. पायलट कैम्प 30 विधायकों के साथ भाजपा ज्वॉइन करने का दावा कर रहा है. लेकिन इन अंतिम क्षणों में भी भाजपा नेतृत्व को ये आशंका है कि कही खुद पायलट पीछे नहीं हट जाएं. क्योंकि अभिषेक मनु सिंघवी और दो बड़े कांग्रेस नेताओं ने पायलट को भाजपा में जाने से रोकने के प्रयास शुरू किए है. 

अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण:
इसलिए राजस्थान की राजनीति के लिए अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण होने वाले हैं. लेकिन इंटेलीजेंस सूत्रों ने केवल 12 विधायकों के इस्तीफे देने के संकेत दिए है. लेकिन इस तरह इस्तीफे देने की प्रक्रिया तो शुरू हो जाएगी और फिर यह आंकड़ा न जाने कहां तक जाकर रुकेगा. 

पायलट कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे:
इससे पहले सचिन पायलट ने कहा कि वो कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नहीं शामिल होंगे. उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में है. 30 कांग्रेसी और निर्दलीय विधायक मेरे पक्ष में है. इससे पहले सचिन पायलट ने कुछ देर पहले बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है. दोनों नेताओं की मुलाकात दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया के आवास पर करीब 40 मिनट तक चली. पायलट की कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी से भी मुलाकात नहीं हुई है.

ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था:
इससे पहले आज ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था. सिंधिया ने कहा कि सचिन पायलट को दरकिनार किए जाने से मैं दुखी हूं. ये दिखाता है कि कांग्रेस में काबिलियत और क्षमता की कोई अहमियत नहीं है. 

सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे:
बता दें कि सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे हैं. सूत्रों के अनुसार पायलट का आरोप है कि सीएम गहलोत उन्हें नजरअंदाज कर रहे हैं. सरकार के फैसलों में उन्हें अहमियत नहीं दी जाती है. वहीं गहलोत खेमा सचिन पायलट के बीजेपी के संपर्क में होने का आरोप लगा रहा है. 


 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट का बड़ा बयान, कहा-अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर सचिन पायलट का बड़ा बयान सामने आया है. इस बयान से सचिन पायलट के सिंधिया की राह पर चलने के संकेत मिल गए हैं. साथ ही पायलट कल विधायक दल की बैठक में भी शामिल नहीं होंगे. उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में है. 30 कांग्रेसी और निर्दलीय विधायक मेरे पक्ष में है.इससे पहले सचिन पायलट ने कुछ देर पहले बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है. दोनों नेताओं की मुलाकात दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया के आवास पर करीब 40 मिनट तक चली. 

आलाकमान से मुलाकात करने के लिए दिल्ली पहुंचे:
बता दें कि सचिन पायलट और सीएम अशोक गहलोत के बीच बतभेद अब जनता के सामने आ गया है. नाराज सचिन पायलट पार्टी आलाकमान से मुलाकात करने के लिए दिल्ली पहुंचे हैं. उनके साथ कुछ विधायक भी हैं. सूत्रों के अनुसार सचिन पायलट ने इसी दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है.

ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था:
इससे पहले आज ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था. सिंधिया ने कहा कि सचिन पायलट को दरकिनार किए जाने से मैं दुखी हूं. ये दिखाता है कि कांग्रेस में काबिलियत और क्षमता की कोई अहमियत नहीं है. 

सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे:
बता दें कि सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे हैं. सूत्रों के अनुसार पायलट का आरोप है कि सीएम गहलोत उन्हें नजरअंदाज कर रहे हैं. सरकार के फैसलों में उन्हें अहमियत नहीं दी जाती है. वहीं गहलोत खेमा सचिन पायलट के बीजेपी के संपर्क में होने का आरोप लगा रहा है. 

Rajasthan Political Crisis: दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिले सचिन पायलट, 40 मिनट की मुलाकात पर लगीं अटकलें!

Rajasthan Political Crisis: दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिले सचिन पायलट, 40 मिनट की मुलाकात पर लगीं अटकलें!

नई दिल्ली: राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है. दोनों नेताओं की मुलाकात दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया के आवास पर करीब 40 मिनट तक चली. 

इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे: 
ऐसे में अब इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं. क्या सचिन पायलट भी ज्योतिरादित्या सिंधिया की राह पर चलकर कांग्रेस से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल होंगे. हालांकि ये सब राजनीतिक जानकार लोगों के कयास है क्योंकि अंतिम फैसला तो सचिन पायलट को ही लेना है. 

आलाकमान से मुलाकात करने के लिए दिल्ली पहुंचे:
बता दें कि सचिन पायलट और सीएम अशोक गहलोत के बीच बतभेद अब जनता के सामने आ गया है. नाराज सचिन पायलट पार्टी आलाकमान से मुलाकात करने के लिए दिल्ली पहुंचे हैं. उनके साथ कुछ विधायक भी हैं. सूत्रों के अनुसार सचिन पायलट ने इसी दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है.

ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था:
इससे पहले आज ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था. सिंधिया ने कहा कि सचिन पायलट को दरकिनार किए जाने से मैं दुखी हूं. ये दिखाता है कि कांग्रेस में काबिलियत और क्षमता की कोई अहमियत नहीं है. 

सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे:
बता दें कि सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे हैं. सूत्रों के अनुसार पायलट का आरोप है कि सीएम गहलोत उन्हें नजरअंदाज कर रहे हैं. सरकार के फैसलों में उन्हें अहमियत नहीं दी जाती है. वहीं गहलोत खेमा सचिन पायलट के बीजेपी के संपर्क में होने का आरोप लगा रहा है. 
 

Open Covid-19