Live News »

स्व. रामनिवास मिर्धा की पुण्यतिथि पर पुष्पांजलि कार्यक्रम का आयोजन, वरिष्ठ नेता डॉ. सहदेव चौधरी भी रहे मौजूद

स्व. रामनिवास मिर्धा की पुण्यतिथि पर पुष्पांजलि कार्यक्रम का आयोजन, वरिष्ठ नेता डॉ. सहदेव चौधरी भी रहे मौजूद

नागौर: किसान नेता के रूप में पहचाने जाने वाले कद्दावर कांग्रेस नेता स्व. रामनिवास मिर्धा की पुण्यतिथि पर आज प्रदेशभर के साथ नागौर जिले मे कई कार्यक्रम आयोजित किए गए. नागौर जिले के कुचेरा कस्बे में आज किसान नेता स्वर्गीय रामनिवास मिर्धा की 10 वीं पुण्यतिथि मिर्धा के समाधी स्थल पर समारोह पूर्वक मनाई गई. स्व मिर्धा की याद में बनाये गए समाधि स्थल पर सुबह से आसपास के ग्रामीण क्षेत्र से लोगों की भीड़ आना शुरू हो गई और रामनिवास मिर्धा के समाधि स्थल पर उनके पुत्र हरेन्द्र मिर्धा ने रामनिवास मिर्धा के चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्प अर्पित किये और मिर्धा को नमन किया गया. 

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता डॉ. सहदेव चौधरी ने भी किया मिर्धा को नमन:
इस दौरान नागौर के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता डॉ. सहदेव चौधरी ने भी मिर्धा के चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्प अर्पित किए और मिर्धा को नमन किया. इस दौरान कुचेरा और आसपास के ग्रामीण क्षेत्र से सैकड़ों लोग समाधि स्थल पर पंहुचे और मिर्धा को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि देकर उन्हें नमन किया गया. इस मौके पर मुंडवा प्रधान राजेन्द्र सहित कई जनप्रतिनिधि गण, सामाजिक संगठन से जुड़े पदाधिकारियो ने स्व. मिर्धा के चित्र पुष्प अर्पित किए. 

अपने राजनीतिक जीवन मे किसानों के लिए काम किया:
इस दौरान हरेन्द्र मिर्धा ने कहा कि रामनिवास जी ने जो काम किये उन्हें नमन करने के लिए कुचेरा में उन्हें याद करने के लिए इकट्ठा होते है और उन्हें याद करते है. वहीं आज पुण्यतिथि पर याद करते हुए डॉ. सहदेव चौधरी ने स्व मिर्धा को नमन करते हुए उनके कृतित्व को याद करते हुए कहा कि स्व. रामनिवास मिर्धा ने अपने राजनीतिक जीवन मे किसानों के लिए काम किया और उनके हक की लड़ाई लड़ी और अपने जीवन में गरीब मजदूर और किसानों के लिए काम करते रहे. 

इनके नाम कई राजनीति में उपलब्धियां:
उल्लेखनीय है कि नागौर जिले के कुचेरा ग्राम में बलदेव राम मिर्धा के घर 24 अगस्त 1924 को जन्मे स्व. रामनिवास मिर्धा 1953 से 1967 तक विधानसभा के सदस्य रहे. स्व. मिर्धा 1957 से 1967 तक विधानसभा अध्यक्ष तथा 1967 में ही उपचुनाव में राज्यसभा के सदस्य चुने गये. जून 1970 में स्व. मिर्धा पहली बार केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री बनाए गये. वे 1977 से 1980 तक राज्यसभा के उपसभापति और 1983 से 1989 तक केन्द्र में विभिन्न विभागों के मंत्री रहे.

कई अंतरराष्‍ट्रीय सम्मेलनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया:
स्व. मिर्धा दसवीं लोकसभा में (1991 से 1996) सदस्य रहे. इस दौरान संयुक्त संसदीय समिति के सभापति रहे. स्व. मिर्धा केन्द्रीय ललित कला अकादमी के दो बार (1976 से 1980 तथा 1990 से 1995) अध्यक्ष मनोनीत किये गये. स्व. मिर्धा ने कई अंतरराष्‍ट्रीय सम्मेलनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया. स्व. मिर्धा भारतीय युवा संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे थे. 

और पढ़ें

Most Related Stories

विवाहिता की हत्या का मामला दर्ज, आरोपी गिरफ्तार

विवाहिता की हत्या का मामला दर्ज, आरोपी गिरफ्तार

डेगाना: नागौर जिले के डेगाना के अन्तरोली कला में शुक्रवार को हुए विवाहिता की मौत के मामले में पुलिस ने सीआई रूपाराम चौधरी के नेतृत्व में जांच शुरू कर दी है. सीआई रूपाराम चौधरी ने बताया की अन्तरोली कलां के निवासी राजेंद्र सिंह एक विवाहिता के मौत की सूचना दी. जिस पर पुलिस ने तुरंत कार्यवाही करते हुए डेगाना पुलिस उपाधीक्षक नमिता खोखर के निर्देश में कार्यवाही शुरू की.

जयपुर एयरपोर्ट पर टिड्डी दल का आतंक,  लैंड होती एक फ्लाइट को वापस कराना पड़ा टेक ऑफ

आरोपी गिरफ्तार:
मामले में राजेंद्र सिंह निवासी अन्तरोली कलां ने शिवनाथ निवासी अन्तरोली कलां पर मृतका के साथ मारपीट कर हत्या करने का मुकदमा दर्ज कराया है और कार्यवाही जारी है. मृतका का डेगाना में हिन्दू रीती रिवाज से अंतिम संस्कार कर दिया गया है. आपको बता दे मामले में आरोपी शिवनाथ को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और जाँच पड़ताल और पूछताछ की जा रही है.

जलदाय अधिकारियों के भ्रष्टाचार के कारनामे, बिना काम किए ही ठेकेदारों को दिया जा रहा पेमेंट

बिजली चोरों पर टूटा डिस्कॉम कार्रवाई का कहर, पकड़े गए चोरी के 475 केस

बिजली चोरों पर टूटा डिस्कॉम कार्रवाई का कहर, पकड़े गए चोरी के 475 केस

नागौर: लगातार घाटे और बिजली छीजत से परेशान डिस्कॉम ने नागौर सर्किल में विद्युत चोरी पकड़ने के लिए अभियान की शुरुआत कर सख़्ती से पेश आ रही है.कोरोना की वजह से लॉकडाउन और राजनीतिक सरगर्मियों के बीच बिजली चोर बेखौफ हो गए हैं.इस दौरान अजमेर डिस्कॉम की नागौर वृत की 41 टीमों ने 1061 जगह पर जांच की, उनमें से 475  जगहों पर बिजली चोरी होती मिली है.

41 टीमों ने जिलेभर में कार्रवाई की:
डिस्कॉम के अधीक्षण अभियंता नागौर आर बीसिंह के मुताबिक अजमेर डिस्कॉम के एमडी के निर्देश पर नागौर वृत मे सर्तकता टीमों ने कई स्थानो पर बडी कारवाई करते हुए टीमों द्वारा 1061 जगहों पर विधुत जांच की गई, जिसमें से 475 स्थानों पर विद्युत चोरी पकड़ी गई और एक करोड़ 16 लाख 52 हजार का विद्युत चोरों पर जुर्माना भी लगाया गया है खींवसर नंदवानी पांचला सिद्धा रुण सहित अन्य इलाकों में 12 अवैध ट्रांसफार्मर को भी जब्त किया गया है. इस कार्यवाही मे अधीक्षण अभियंता आर बी सिंह स्वयं मैदान में उतरे और सहायक अभियंता एव कनिष्ठ अभियंता की 41 टीमों ने जिले भर में कार्रवाई की गई है.

अनलॉक 2.0 में हवाई सेवा बढ़ाने की कवायद, 7 नए शहरों को जोड़ेंगी एयरलाइन

बिजली चोरों पर लगाम:
पूर्व में 43 अवैध ट्रांसफार्मर को जब्त किया जा चुका है. करीब 4 करोड का जुर्माना लगा चुके है नागौर अधीक्षण अभियंता आर बी सिंह ने बताया कि विभाग ने अब तक 4 करोड़  रुपये का जुर्माना लगाया जा चुका  है, जिसमें से  कई लोगों के खिलाफ पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज करवाई गई है. आपको बता दे कि नागौर जिले के जिम्मेदार अधिकारी की लंबे समय से विद्युत कनेक्शन एवं अन्य कार्य में व्यस्तता के चलते विद्युत चोरी को लेकर सुस्त हो गए थे. लॉकडाउन के बाद विद्युत कनेक्शन अन्य कार्य में भी कमी आ गई. साथ ही विद्युत लोड बढ़ने के चलते आपूर्ति में व्यवधान होने की शिकायत होने लगी तो जिम्मेदार अधिकारियों और कार्मिकों ने चोरी पकड़ने के लिए अभियान शुरू किया है. अब विद्युत विभाग नागौर विद्युत चोरों पर भी लगाम कसने में कामयाब होते नजर आ रहे हैं. 

जलदाय अधिकारियों के भ्रष्टाचार के कारनामे, बिना काम किए ही ठेकेदारों को दिया जा रहा पेमेंट

नागौर के डेगाना में विवाहिता की हत्या, ट्रैक्टर के पीछे बांधकर घसीटने से हुई मौत 

नागौर के डेगाना में विवाहिता की हत्या, ट्रैक्टर के पीछे बांधकर घसीटने से हुई मौत 

जयपुर: राजस्थान के नागौर जिले के डेगाना में इंसानियत को शर्मसार करने का मामला सामने आया है. यहां पर एक विवाहिता को ट्रैक्टर के पीछे बांधकर घसीटा गया है. जिससे विवाहिता की मौत हो गई. मामला डेगाना के ग्राम अंतरोली कलां के चिकनास का है. 

रियल एस्टेट में हाउसिंग बोर्ड का दबदबा! प्रतापनगर में आयुष मार्केट की होगी ई-ऑक्शन

पुलिस जुटी मामले की जांच में:
जहां पर विवाहिता की हत्या की गई है. घटना की सूचना मिलने पर SP नमिता खोखर सहित CI रूपराम चौधरी मौके पर पहुंचे. पुलिस ने विवाहिता के पति शिवनाथ को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में जोधपुर में 1 मौत, 364 नए केस, सर्वाधिक 60 केस अकेले जयपुर में आए सामने

नागौर के डेगाना में विवाहिता की हत्या, ट्रैक्टर के पीछे बांधकर घसीटने से हुई मौत 

नागौर के डेगाना में विवाहिता की हत्या, ट्रैक्टर के पीछे बांधकर घसीटने से हुई मौत 

जयपुर: राजस्थान के नागौर जिले के डेगाना में इंसानियत को शर्मसार करने का मामला सामने आया है. यहां पर एक विवाहिता को ट्रैक्टर के पीछे बांधकर घसीटा गया है. जिससे विवाहिता की मौत हो गई. मामला डेगाना के ग्राम अंतरोली कलां के चिकनास का है. 

पुलिस जुटी मामले की जांच में:
जहां पर विवाहिता की हत्या की गई है. घटना की सूचना मिलने पर SP नमिता खोखर सहित CI रूपराम चौधरी मौके पर पहुंचे. पुलिस ने विवाहिता के पति शिवनाथ को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में जोधपुर में 1 मौत, 364 नए केस, सर्वाधिक 60 केस अकेले जयपुर में आए सामने

बलराम हत्याकांड के आरोपी पर अज्ञात लोगों द्वारा फायरिंग, गंभीर रूप से घायल राजू नेतड़ को किया जोधपुर रैफर

नागौर: प्रदेश के नागौर जिले में एक बार फिर गैंगवार की खबर सामने आई है. अब शराब माफिया में वर्चस्व की लड़ाई को लेकर गैंगवार का मामला सामने आया है. बलराम हत्याकांड के आरोपी पर अज्ञात लोगों द्वारा फायरिंग की सूचना मिली है. 

धड़ल्ले से बिक रही है एक्सपायरी डेट की बीयर, बड़वाइजर और मऊ कंपनी की बीयर में सर्वाधिक गड़बड़ी

हिस्ट्रीशीटर विक्की नेतड़ का भाई है राजू नेतड़:
जमानत पर चल रहे राजू नेतड़ की बोलेरो पर कई राउंड फायरिंग की सूचना मिली है. फायरिंग में राजू नेतड़ के गंभीर रूप से घायल होने की जानकारी मिल रही है. जानकारी के मुताबिक राजू नेतड़ हिस्ट्रीशीटर विक्की नेतड़ का भाई है. जायल के ढेहरी गांव के पास फायरिंग की घटना बताई जा रही है. कई राउंड फायर होने की भी सूचना मिल रही है.

बालिका संरक्षण गृह में 7 लड़कियां निकलीं गर्भवती, प्रियंका गांधी ने साधा यूपी सरकार पर निशाना

कुचामन सिटी से 11 नई रोडवेज बसों का होगा संचालन, प्रत्येक यात्री की होगी थर्मल स्क्रीनिंग

कुचामन सिटी से 11 नई रोडवेज बसों का होगा संचालन, प्रत्येक यात्री की होगी थर्मल स्क्रीनिंग

कुचामनसिटी: कोरोना संक्रमण के चलते विगत ढाई महीने से बंद पड़ी रोडवेज बसें सेवाएं फिर से शुरू होगी और रोडवेज बस सेवा शुरू होने से बस स्टैंड की रौनक भी लौटेगी. साथ ही यात्रियों में उत्साह भी देखा जाएगा. सोमवार से कुचामन रोड बस स्टैंड से विभिन्न मार्गो पर 11 बसे शुरू की जाएगी. डीडवाना आगार के यातायात प्रबंधक सुजल महर्षि ने बताया कि यात्रियों और जनप्रतिनिधियों की मांग को देखते हुए मुख्यालय निर्देशानुसार सोमवार से कुछ नई बसें संचालित करने का निर्णय लिया गया.

सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री के बयान पर सवाल, PMO की सफाई, कहा- ऐसे वक्त में विवाद पैदा करना दुर्भाग्यपूर्ण

कुचामन सिटी से यहां के लिए चलेगी बसें:
डीडवाना आगार द्वारा पूर्व में डीडवाना से जयपुर मार्ग पर ही बसों का संचालन किया जा रहा था, लेकिन अब डीडवाना आगार द्वारा डीडवाना सीकर,सीकर अजमेर वाया कुचामन चितावा मार्ग पर बसों का संचालन किया जाएगा. साथ ही सीकर कुचामन से जोधपुर के लिए भी किया जा रहा है. कुचामन सिटी से चूरू पिलानी सरदारशहर झुंझुनू जोधपुर के लिए भी बसों की सुविधा यात्रियों के लिए सोमवार से की जाएगी.

मास्क लगाना जरूरी:
सुजल महर्षि ने बताया कि प्रत्येक यात्री को थर्मल स्क्रीनिंग करवा कर ही यात्रा करवाया जाएगा सुनिश्चित किया गया है, परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों के लिए भी परीक्षा समय को देखते हुए इन बसों का समय निर्धारित किया गया है ताकि बोर्ड परीक्षा में विद्यार्थियों को कोई परेशानी ना हो. बिना मास्क वाले यात्री को नहीं दी जाएगी टिकट और रोडवेज बस में प्रवेश.

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की वर्चुअल रैली, विपक्ष पर किये कड़े प्रहार

विश्व रक्तदान दिवस विशेष: डीडवाना रक्तदान का शहर है, जहां के लोगों ने रक्तदान को बना लिया अपनी परंपरा

विश्व रक्तदान दिवस विशेष: डीडवाना रक्तदान का शहर है, जहां के लोगों ने रक्तदान को बना लिया अपनी परंपरा

जयपुर: आज विश्व रक्तदान दिवस है. जन्मदिन पर आपने लोगों को मिठाइयां बांटते देखा होगा, किसी पुण्यतिथि पर दान पुण्य करते हुए देखा होगा, अपनी खुशी का इजहार करने के लिए दोस्तों के साथ पार्टी करते हुए भी काफी लोगों को देखा होगा लेकिन आज हम आपको उस शहर में लेकर जा रहे हैं जहां इन मौकों पर लोग रक्तदान करते हैं और बचाते हैं कई जिंदगियां इसीलिए इस शहर को कहा जाता है रक्तदान की राजधानी.

रक्तदान करने के लिए तलाशते है मौका:
जी हां हम बात कर रहे हैं रक्तदान की राजधानी कहे जाने वाले डीडवाना शहर की, नागौर जिले का यह छोटा सा उपखंड जनसंख्या की दृष्टि से ज्यादा बड़ा नहीं है लेकिन यहां के लोगों का दिल बहुत बड़ा है. बड़ा दिल इसलिए हैं कि यहां के लोग दिल खोलकर रक्तदान करते हैं यहां लोग मौका तलाशते हैं रक्तदान करने का. यहीं वजह है कि यहां के ब्लड बैंक से अगर आप ब्लड लेना चाहते हैं तो बदले में आपको रिप्लेसमेंट की भी जरूरत नहीं है क्योंकि यहां पहले से दानदाताओं की भरमार है जो ना केवल डीडवाना की जरूरत को पूरा करते हैं बल्कि जिले की तीन चौथाई जनसंख्या की रक्त की जरूरत को भी पूरा करते हैं. 

COVID-19: पिछले 24 घंटे में 11 हजार 929 नए मामले, 311 मरीजों की मौत, कुल मरीजों की संख्या 3 लाख के पार

डीडवाना में रक्तदान के प्रति जागरूकता:
डीडवाना में रक्तदान के प्रति लोगों में जो जागरूकता देखी गई है वह शायद ही कहीं और आपको देखने को मिले लेकिन यह कुछ सामाजिक संस्थाओं की दो दशक की मेहनत का नतीजा है जिसकी वजह से डीडवाना के लोगों में ब्लड डोनेशन को लेकर इतनी उत्सुकता रहती है कि अकेले डीडवाना में हर साल 3.5 से 4 हजार यूनिट ब्लड डोनेशन होता है. केवल इसी महीने के आंकड़ों की बात करें तो 4-5 छोटे केम्प और 2 बड़े केम्प अब तक हो चुके हैं और इतने ही केम्प अभी इस महीने में और होने हैं. लॉक डाउन की वजह से केम्प पर ब्रेक जरूर लगा था लेकिन कोई जरूरतमन्द इस दौरान भी ब्लड के लिए यहां से खाली हाथ नहीं लौटा.

रिकॉर्ड तोड़ होता है रक्तदान:
डीडवाना में पिछले साल तक जब ब्लड बैंक नहीं हुआ करता था तो यहां बड़े-बड़े रक्तदान शिविरों का आयोजन होता था और उनमें रिकॉर्ड तोड़ रक्तदान भी होता था. रक्तदान के प्रति लोगों की जागरूकता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की डीडवाना में दो साल पहले तक जो रक्तदान शिविर लगाए जाते थे उनमें कुछ शिविर तो ऐसे होते थे जिनमें 1500 से दो हजार यूनिट तक रक्तदान होता था लेकिन दो साल पहले फरवरी में यहां ब्लड बैंक खुलने के बाद बड़े रक्तदान शिविर लगने बंद हो गए क्योंकि लोगों को अब यह लगने लगा है की बड़े शिविर लगाने की बजाय जरूरत के वक्त जब ब्लड बैंक में रक्त की कमी महसूस की जाए तो हाथों हाथ वहां ब्लड डोनेट किया जाना चाहिए ताकि जरूरत के वक्त ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंद लोगों की जान बचाई जा सके. 

राज्य में नॉन स्टेट सिविल सर्विस ऑफिसर्स से आईएएस में चयन मामला पहुंचा दिल्ली हाईकोर्ट

रक्तदान के लिए चले जन जागरूकता अभियान:
डीडवाना के लोगों में जिस प्रकार रक्तदान के प्रति जागरूकता है वैसी ही जागरूकता प्रदेश के हर कोने में होनी चाहिए और इसके लिए सरकार को जन जागरूकता अभियान चलाना चाहिए ताकि जिस तरह से डीडवाना के लोगों को जरूरत के वक्त खून के लिए भटकना नहीं पड़ता वैसे ही स्थिति पूरे प्रदेश और देश में भी बने और रक्त की कमी की वजह से कभी किसी को असमय मौत का मुंह ना देखना पड़े.

...फर्स्ट इंडिया के लिए नरपत ज़ोया की रिपोर्ट

नगरपालिका बोर्ड बैठक हंगामे के साथ सम्पन्न, गंदे पानी की निकासी के साथ कई मुद्दों पर चर्चा

नगरपालिका बोर्ड बैठक हंगामे के साथ सम्पन्न, गंदे पानी की निकासी के साथ कई मुद्दों पर चर्चा

डीडवाना(नागौर): डीडवाना नगरपालिका की साधारण सभा की बैठक शुक्रवार को नगरपालिका सभागार में आयोजित की गई, जो काफी हंगामेदार रही. 40 सदस्यीय सदन में 22 पालिका सदस्य ही मौजूद रहे जिनमें से सत्तारूढ़ पार्टी के ही 17 पार्षद सदन में अनुपस्थित रहे जो बैठक में चर्चा का विषय बना रहा. बैठक में शुक्रवार को 10 प्रस्तावों पर चर्चा होनी थी जिसमे सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा बरसाती पानी की निकासी को लेकर 10 किलोमीटर पाइप लाइन बिछाने का प्रस्ताव था जिसको लेकर विपक्ष ने सरकारी धन के दुरुपयोग का आरोप लगाया.

राज्यसभा चुनाव कराने में जानबूझकर देरी की गई, ताकि भाजपा विधायकों की खरीद फरोख्त कर सके- मुख्यमंत्री गहलोत

आधे से ज्यादा पार्षद आज सदन में अनुपस्थित:
विपक्ष के मुताबिक सीवरेज के सेकंड फ़ैज के टेंडर राज्य सरकार ने जारी कर दिए हैं जिसमे सीवरेज के साथ साथ ड्रेनेज सिस्टम के लिए भी राज्य सरकार ने टेंडर जारी किया है तो अलग से यहां पर जनता का पैसा क्यों बर्बाद किया जा रहा है. अधिशाषी अधिकारी ने ऐसे किसी भी टेंडर मि जानकारी होने से इनकार कर दिया. प्रतिपक्ष ने आरोप लगाया कि सत्ता पक्ष के पार्षद भी आपके प्रस्ताव के खिलाफ है इसी वजह से आपके आधे से ज्यादा पार्षद आज सदन में अनुपस्थित हैं.

बरसात के मौसम में कई कॉलोनियां हो गई थी जलमग्न: 
वहीं अधिशाषी अधिकारी ने जवाब देते हुए कहा कि गत वर्ष बरसात के मौसम में कई कॉलोनियां जलमग्न हो गई थी जिसकी वजह से आम जन को काफी परेशानी हुई थी अब भी समय रहते पानी निकासी की व्यवस्था नहीं की गई तो स्थिति गतवर्ष की तरह हो जाएगी. प्रस्तावित बस स्टैंड की चारदीवारी के प्रस्ताव पर प्रतिपक्ष का आरोप था कि नगरपालिका अधिशाषी अधिकारी से उक्त खसरे और रकबे की जानकारी मांगे जाने पर जानकारी नहीं दी जा रही है. प्रतिपक्ष के नेताओं ने आरोप लगाया कि नगरपालिका प्रशासन और सत्तापक्ष पार्षदों के अधिकारों का हनन कर रहे हैं और विकास कार्यों में भी भेदभाव किया जा रहा है जिसका हम विरोध कर रहे हैं.

जौनपुर में दलितों का घर जलाने पर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी सख्त, रासुका लगाने का आदेश

Open Covid-19