मुंबई सेंसेक्स, निफ्टी में लगातार तीसरे दिन बढ़त, आईटी, वित्तीय कंपनियों के शेयर चढ़े

सेंसेक्स, निफ्टी में लगातार तीसरे दिन बढ़त, आईटी, वित्तीय कंपनियों के शेयर चढ़े

सेंसेक्स, निफ्टी में लगातार तीसरे दिन बढ़त, आईटी, वित्तीय कंपनियों के शेयर चढ़े

मुंबई: घरेलू शेयर बाजारों में मंगलवार को लगातार तीसरे कारोबारी सत्र में तेजी रही और बीएसई सेंसेक्स 221 अंक मजबूत होकर फिर 60,500 अंक के स्तर को पार कर गया. मुख्य रूप से आईटी और वित्तीय शेयरों में लिवाली से बाजार को समर्थन मिला. शुरुआती उतार-चढ़ाव के बाद तीस शेयरों पर आधारित सेंसेक्स में कारोबार के दौरान तेजी रही और एक समय यह दिन के उच्चस्तर 60,689.25 अंक तक चला गया था. अंत में यह 221.26 अंक यानी 0.37 प्रतिशत चढ़कर 60,616.89 अंक पर बंद हुआ.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 52.45 अंक यानी 0.29 प्रतिशत मजबूत होकर 18,055.75 अंक पर बंद हुआ. सेंसेक्स के शेयरों में 4.30 प्रतिशत मजबूत होकर एचसीएल टेक सर्वाधिक लाभ में रही. इसके अलावा एचडीएफसी, टेक महिंद्रा, टीसीएस, रिलायंस इंडस्ट्रीज, सन फार्मा और एसबीआई प्रमुख रूप से बढ़त में रहे.दूसरी तरफ नुकसान वाले शेयरों में टाटा स्टील, बजाज फाइनेंस, आईटीसी, एशियन पेंट्स, कोटक बैंक, डॉ. रेड्डीज और इंडसइंड बैंक शामिल हैं.

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि घरेलू शेयर बाजार स्थिर रुख के साथ बढ़त में रहा. इसका कारण बाजार को कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच कंपनियों का तिमाही परिणाम बेहतर रहने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि फेडरल रिजर्व की बैठक के ब्योरे में नीतिगत दर बढ़ाने के संकेत और अमेरिका में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई दर के आंकड़े जारी होने से पहले वैश्विक बाजारों में नरमी का रुख रहा. प्रतिकूल तुलनात्मक आधार के कारण घरेलू महंगाई दर भी अधिक रहने की आशंका है. हालांकि, दिसंबर तिमाही में खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर में नरमी रही.

रेलिगेयर ब्रोकिंग लि. के उपाध्यक्ष (शोध) अजित मिश्रा ने कहा कि शुरू में कमजोर वैश्विक रुख का असर धारणा पर पड़ा. हालांकि, आईटी (सूचना प्रौद्योगिकी) शेयरों में तेजी से बाजार को समर्थन मिला. उन्होंने कहा कि अब सबकी नजर तीन प्रमुख आईटी कंपनियों इन्फोसिस, टीसीएस और विप्रो के वित्तीय परिणाम पर है. इससे बाजार को दिशा मिलेगी. हमारी निवेशकों को अब भी सतर्क रुख रखने और क्षेत्र/शेयर विशेष पर ध्यान देने की सलाह है. एशिया के अन्य बाजारों में भारी बिकवाली का रुख रहा. चीन में ओमीक्रोन के बढ़ते मामलों के कारण शेयर बाजारों में बिकवाली हुई.

यूरोप के प्रमुख बाजारों में दोपहर कारोबार में तेजी का रुख रहा. इस बीच, अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 11 पैसे मजबूत होकर 73.94 पर बंद हुआ. शेयर बाजार के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक सोमवार को पूंजी बाजार में शुद्ध रूप से बिकवाल रहे और उन्होंने 124.23 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे. (भाषा) 

और पढ़ें