ली जा सकती हैं सेवानिवृत्त चिकित्सकों और पैरामेडिकल स्टाफ की सेवाएं - CM योगी

ली जा सकती हैं सेवानिवृत्त चिकित्सकों और पैरामेडिकल स्टाफ की सेवाएं - CM योगी

ली जा सकती हैं सेवानिवृत्त चिकित्सकों और पैरामेडिकल स्टाफ की सेवाएं - CM योगी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने सोमवार को कहा कि राज्य में कोविड-19 (Covid-19) के मौजूदा हालात में अस्पतालों में श्रम शक्ति बढ़ाने की जरूरत के मद्देनजर सेवानिवृत्त चिकित्सकों (Retired Doctor) तथा अर्धचिकित्साकर्मियों की सेवाएं ली जा सकती हैं.

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने यहां बताया कि मुख्यमंत्री ने डिजिटल माध्यम से एक उच्चस्तरीय बैठक में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा करते हुए कहा "कोविड-19 की लड़ाई जीत चुके बहुत से लोग मरीजों की सेवा के इच्छुक हैं. इस सन्दर्भ में अस्पतालों में सक्षम श्रमशक्ति बढ़ाने के लिए सेवानिवृत्त चिकित्सक, लैब टेक्नीशियन (Lab Technician) एवं पैरामेडिकल स्टाफ (Paramedical Staff) सहित सेवानिवृत्त सैन्यकर्मियों के अनुभवों का लाभ लिया जा सकता है." उन्होंने कहा कि भावी परिदृश्य का आकलन करते हुए कोविड-19 बिस्तरों की संख्या को दोगुना करने की कार्यवाही प्राथमिकता पर की जाए तथा इसके लिए सभी जिलों में बिस्तर लगातार बढ़ाये जाएं.

राज्य में आक्सीजन की आवश्यक आपूर्ति सुनिश्चित की जा रही:
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में आक्सीजन (Oxygen) की आवश्यक आपूर्ति सुनिश्चित की जा रही है. प्रदेश में आक्सीजन आडिट के सम्बन्ध में दिशा निर्देश जारी किए गए हैं. इसके मद्देनजर सभी सरकारी एवं निजी तथा टेकओवर किये गये कोरोना अस्पताल अपना आक्सीजन आंकड़े, प्रशासन से अनिवार्य रूप से साझा करें. सभी जिलों के प्रत्येक छोटे-बड़े अस्पताल में आक्सीजन की स्थिति पर नजर रखी जा रही है. जरूरत के अनुसार आक्सीजन की सुचारु आपूर्ति-वितरण के उद्देश्य से ऑक्सीजन ऑडिट करायी जा रही है. योगी ने कहा कि कोविड-19 नियंत्रण एवं प्रबन्धन कार्य में टेलीकन्सल्टेंसी का व्यापक रूप से उपयोग किया जाए, ताकि घर में एकांतवास में रह रहे कोरोना मरीजों को घर पर ही चिकित्सीय परामर्श प्राप्त हो सके. सोर्स- भाषा

और पढ़ें