शाह ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्रियों के साथ चक्रवात की तैयारियों की समीक्षा की

शाह ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्रियों के साथ चक्रवात की तैयारियों की समीक्षा की

शाह ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्रियों के साथ चक्रवात की तैयारियों की समीक्षा की

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने समुद्र और तटवर्ती क्षेत्रों से लोगों के बचाव के साथ कोविड-19 अस्पतालों की सुरक्षा समेत चक्रवात यास को लेकर तैयारियों की सोमवार को समीक्षा की. गृह मंत्री ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा और आंध्र प्रदेश में स्थित ऑक्सीजन उत्पादन केंद्रों पर चक्रवात के संभावित असर को लेकर भी चर्चा की और राज्य सरकारों को इनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा. आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों और अंडमान निकोबार द्वीप समूह के उपराज्यपाल के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान केंद्रीय मंत्री ने कहा कि गृह मंत्रालय में 24 घंटे सातों दिन चलने वाला एक नियंत्रण कक्ष काम रहा है जिसमें कभी भी संपर्क किया जा सकता है.

गृह मंत्रालय के एक बयान में कहा गया कि शाह ने बंगाल की खाड़ी में बन रहे चक्रवात के संभावित असर को देखते हुए कोविड-19 के सभी अस्पतालों, टीकों के प्रशीतन केंद्रों और अन्य जगहों पर पहले से बिजली की वैकल्पिक व्यवस्था कर लेने को कहा है. गृह मंत्री ने आंध्र प्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और अंडमान निकोबार द्वीप समूह को दो दिनों के लिए ऑक्सीजन का अतिरिक्त भंडार बनाकर रखने, ऑक्सीजन टैंकरों की आवाजाही के लिए पहले से योजना तैयार कर लेने को कहा कि ताकि इसकी आपूर्ति में बाधा ना उत्पन्न हो.

गृह मंत्री ने मछुआरों को समय से तट तक लाने और निचले इलाके में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाने के संबंध में राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश की तैयारियों की समीक्षा की. शाह ने अस्पतालों में सभी जरूरी दवाओं और उपकरणों का पर्याप्त भंडार भी सुनिश्चित करने को कहा है. नुकसान को रोकने और जरूरत पड़ने पर मरीजों को दूसरी जगह ले जाने के संबंध में अस्थायी अस्पतालों समेत स्वास्थ्य केंद्रों के लिए शाह ने समुचित इंतजाम करने को कहा. गृह मंत्री ने कहा कि पश्चिमी तटवर्ती क्षेत्रों पर इस संबंध में पहले से कदम उठाए जाने के कारण हालिया चक्रवात में चिकित्सा केंद्रों पर कोई प्रतिकूल असर नहीं पड़ा.

उन्होंने अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रों को निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए बिजली संयंत्रों की सुरक्षा को लेकर भी आवश्यक कदम उठाने को कहा. बयान में कहा गया कि इलाके में मछली पकड़ने वाली नौकाओं, अन्य नौकाओं, सभी बंदरगाहों और तेल प्रतिष्ठानों की सुरक्षा की भी समीक्षा की गई. ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बैठक आयोजित करने और तैयारियों में राज्य सरकार को सहयोग के लिए केंद्र सरकार का शुक्रिया अदा किया. पटनायक ने कहा कि ओडिशा सरकार ने चक्रवात से निपटने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए हैं.

बयान में कहा गया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी आश्वस्त किया कि कम से कम नुकसान हो यह सुनिश्चित करने के लिए जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं और राज्य सरकार पूरी तरह तैयार है. आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने केंद्र सरकार का आभार जताया और कहा कि आवश्यक कदम उठाए गए हैं. अंडमान निकोबार द्वीप समूह के उपराज्यपाल एडमिरल (सेवानिवृत्त) डी के जोशी ने कहा कि चक्रवात का द्वीप पर मामूली या नगण्य असर पड़ने की संभावना है.(भाषा) 

और पढ़ें