नई दिल्ली शाहीन बाग मादक पदार्थ मामला: एनसीबी ने एक अन्य व्यक्ति को पकड़ा, अब तक कुल 5 गिरफ्तार

शाहीन बाग मादक पदार्थ मामला: एनसीबी ने एक अन्य व्यक्ति को पकड़ा, अब तक कुल 5 गिरफ्तार

शाहीन बाग मादक पदार्थ मामला: एनसीबी ने एक अन्य व्यक्ति को पकड़ा, अब तक कुल 5 गिरफ्तार

नई दिल्ली: स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (NCB) ने भारत-अफगान मादक पदार्थ सिंडिकेट और पिछले सप्ताह नयी दिल्ली के शाहीन बाग इलाके से 50 किलोग्राम हेरोइन जब्त किए जाने के मामले की जांच के सिलसिले में एक और व्यक्ति को गिरफ्तार किया है. अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इस मामले में रविवार को लक्ष्मी नगर से एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया. इस मामले में यह पांचवीं गिरफ्तारी है. 

इससे पहले अप्रैल में दक्षिणी दिल्ली के शाहीन बाग-जामिया नगर में छापे के बाद मादक पदार्थ निरोधक एजेंसी ने इस मामले में दो भारतीय और दो अफगान नागरिकों को हिरासत में लिया था. सभी आरोपियों को स्वापक औषधि एवं मन: प्रभावी अधिनियम के प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया है. एनसीबी के महानिदेशक एस एन प्रधान ने पिछले हफ्ते बताया था कि इस मादक पदार्थ तस्करी मामले के साथ ‘‘इंकार नहीं किया जा सकता’’ तथा एजेंसी इस पहलू की गहन जांच कर रही है. एनसीबी ने गुरुवार को कहा था कि उसने फ्लिपकार्ट एवं अन्य ई-कॉमर्स कंपनियों के पैकेट में लपेट कर रखी 50 किलोग्राम हेरोइन बरामद की है. शाहीन बाग-जामिया नगर में एक रिहायशी परिसर में छापा मारने के बाद एजेंसी ने भारत - अफगान मादक पदार्थ तस्करी रैकेट का भंडाफोड़ करने का दावा किया था. एनसीबी के उप महानिदेशक (अभियान) संजय कुमार सिंह ने संवाददाता सम्मेलन में बताया था कि दक्षिण दिल्ली के आवासीय परिसरों में छापेमारी के बाद 30 लाख रुपये नकद भी बरामद किये गये. अधिकारी ने बताया कि दिल्ली में मादक पदार्थों की, वह भी किसी आवासीय इलाके से यह सबसे बड़ी जब्ती है.

अधिकारी ने बताया कि अन्य 47 किलोग्राम ‘संदिग्ध’ मादक पदार्थ भी परिसरों से जब्त किया गया और एनसीबी ने जांच के लिए उसे प्रयोगशाला भेज दिया है. उन्होंने बताया कि जब्त की गई हेरोइन अफगानिस्तान से तस्करी कर लाई गई थी और नकदी हवाला के जरिये लाये जाने का संदेह है. सिंह ने कहा कि यह खुलासा हुआ है कि दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) तथा पड़ोसी राज्यों में सक्रिय एक ‘इंडो-अफगान’ (भारत-अफगान) गिरोह इस मामले से संबद्ध है.  एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि गिरोह का सरगना दुबई में रहता है और एजेंसी मामले की आगे की जांच कर रही है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें