Live News »

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों का मार्च, नहीं मिली अमित शाह से मिलने की अनु​मति

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों का मार्च, नहीं मिली अमित शाह से मिलने की अनु​मति

नई दिल्ली: शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात करने के लिए उनके घर की ओर मार्च करना शुरू किया, जिसे पुलिस ने रास्ते में ही रोक दिया है. इलाके में भारी सुरक्षाबल तैनात है. प्रदर्शनकारियों को केंद्रीय गृह मंत्री से मिलने की अनुमति नहीं मिली थी. जिसकी वजह से पुलिस ने मार्च कर रहे लोगों को वापस भेज दिया है. प्रदर्शनकारियों ने निर्धारित योजना के तहत धरनास्थल से मार्च शुरू कर गृह मंत्री अमित शाह के आवास की ओर बढ़ना शुरू कर दिया था. 

पीएम मोदी ने दी वाराणसी को 1200 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात

दक्षिण पूर्व दिल्ली के डीसीपी आरपी मीणा ने बताया कि शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने गृह मंत्री के आवास तक मार्च निकालने की इच्छा जताई थी, लेकिन उन्हें इसकी अनुमति नहीं दी गई है. उन्होंने कहा, उन्होंने हमसे कहा कि वो मार्च निकालना चाहते हैं लेकिन हमने उनसे कहा कि वे ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से इसकी मंजूरी नहीं मिली है. हम उनसे बातचीत कर रहे हैं. उम्मीद है कि वे समझ जाएंगे.

 

VIDEO- Rajasthan Congress Protest: प्रमोशन में आरक्षण खत्म करने के विरोध में राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

पुलिस ने कहा कि उन्होंने शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से केंद्रीय गृह मंत्री के साथ अपनी मुलाकात के लिए प्रतिनिधिमंडल की जानकारियां देने के लिए कहा था. पुलिस को लिखित में दिए जवाब में उन्होंने कहा कि 4,000 से 5,000 प्रदर्शनकारी शाह के आवास की ओर मार्च करेंगे. प्रदर्शनकारी महिलाएं गत 2 माह से संशोधित नागरिकता कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के खिलाफ धरना दे रहे हैं.

और पढ़ें

Most Related Stories

Coronavirus Vaccine बनाने में अब एक और कंपनी ने जगाई दुनिया की उम्मीदें, अक्टूबर के अंत तक हो सकती है तैयार

Coronavirus Vaccine बनाने में अब एक और कंपनी ने जगाई दुनिया की उम्मीदें, अक्टूबर के अंत तक हो सकती है तैयार

नई दिल्ली: कोरोना वैक्सीन तैयार करने को लेकर कई देशों में शोध चल रहा है. इसी बीच अब एक और कंपनी ने वैक्सीन बनाने में उम्मीदें जगा दी है. वियाग्रा जैसी दवाओं का आविष्कार करने वाली अमेरिकन फार्मास्यूटिकल कंपनी Pfizer ने दावा किया है कि इस साल अक्टूबर के अंत तक इसकी वैक्सीन बनकर तैयार हो जाएगी. 

जयपुर एयरपोर्ट से आज 20 में से 12 फ्लाइट रद्द, 6 दिन बाद एयरलाइन्स पहुंची पहले दिन के संचालन पर 

अक्टूबर के अंत तक वैक्सीन तैयार हो जाएगी: 
कंपनी के सीईओ के मुताबिक, अगर सबकुछ ठीक रहा तो अक्टूबर के अंत तक वैक्सीन तैयार हो जाएगी. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि एक गुणकारी और सुरक्षित वैक्सीन के लिए हम भरपुर प्रयास कर रहे हैं. Pfizer जर्मनी की फर्म बायोन्टेक के साथ यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका में कई संभावित वैक्सीन को लेकर काम कर रहा है.

कंपनी चार अलग-अलग वैक्सीन पर काम कर रही: 
Pfizer कंपनी फिलहाल चार अलग-अलग वैक्सीन पर काम कर रही है. ऐसे में जून जुलाई तक यह साफ हो जाएगा कि कौन सी वैक्सीन सबसे ज्यादा कारगर और सुरक्षित है. इसके लिए डाटा इकट्टा कर उसका विश्लेषण किया जा रहा है. 

राज्य के प्रधान मुख्य वन संरक्षक हाईकोर्ट में तलब, 8 माह पूर्व पकड़े गये एक ट्रक से जुड़ा पूरा मामला 

पूरे विश्व में 120 वैक्सीन पर काम चल रहा:
बता दें कि दुनियाभर में कई दवा कंपनियां और वैज्ञानिक दिन रात एक कर वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं. WHO के अनुसार इस समय पूरे विश्व में 120 वैक्सीन पर काम चल रहा है. वहीं दूसरी ओर अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों की माने तो नई वैक्सीन तैयार होने में अभी एक से डेढ़ साल का समय लग सकता है. लेकिन Covid-19 जैसी महामारी वाली विशेष परिस्थितियों में एक्सपेरिमेंटल वैक्सीन कामयाब हो सकती हैं. 
 

मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: PM मोदी का जनता के नाम पत्र, कहा- एक साल में लिए गए फैसले बड़े सपनों की उड़ान

मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे: PM मोदी का जनता के नाम पत्र, कहा- एक साल में लिए गए फैसले बड़े सपनों की उड़ान

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल का पहला साल आज पूरा हो गया है. इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नाम चिट्ठी लिखर पिछले 1 साल की सरकार की उपलब्धियों का रोडमैप बताया है.

VIDEO: जून में होगी 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू  

कोरोना पर जीत के लिए देश के दृढ़ संकल्प को भी सलाम किया: 
प्रधानमंत्री मोदी ने पत्र में लिखा कि देशवासियों की आशाओं-आकांक्षाओं की पूर्ति करते हुए हम तेज गति से आगे बढ़ ही रहे थे, कि कोरोना वैश्विक महामारी ने भारत को भी घेर लिया. कई लोगों ने आशंका जताई थी कि जब कोरोना भारत पर हमला करेगा, तो भारत पूरी दुनिया के लिए संकट बन जाएगा. पीएम ने अपनी चिट्ठी में कोरोना पर जीत के लिए देश के दृढ़ संकल्प को भी सलाम किया. 

उन्होंने लिखा कि यदि सामान्य स्थिति होती तो मुझे आपके बीच आकर आपके दर्शन का सौभाग्य मिलता, लेकिन वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से जो परिस्थितियां बनी हैं उन परिस्थितियों में, मैं इस पत्र के द्वारा आपका आशीर्वाद लेने आया हूं.

बड़े शहरों को छोड़ कर जा रहे मजदूरों का मर्म भी दिखा:
मोदी के खत में बड़े शहरों को छोड़ कर जा रहे मजदूरों का मर्म भी दिखा. उन्होंने कहा कि ''निश्चित तौर पर, इतने बड़े संकट में कोई ये दावा नहीं कर सकता कि किसी को कोई तकलीफ और असुविधा न हुई हो. हमारे श्रमिक साथी, प्रवासी मजदूर भाई-बहन, छोटे-छोटे उद्योगों में काम करने वाले कारीगर, पटरी पर सामान बेचने वाले, रेहड़ी-ठेला लगाने वाले, हमारे दुकानदार भाई-बहन, लघु उद्यमी, ऐसे साथियों ने असीमित कष्ट सहा है. इनकी परेशानियां दूर करने के लिए सभी मिलकर प्रयास कर रहे हैं.

2014 की उपलब्धियों का जिक्र:
पिछले कार्यकाल की उपलब्धियों के बारे में बताते हुए पीएम मोदी ने लिखा कि हमने गरीबों के बैंक खाते खोलकर, उन्हें मुफ्त गैस कनेक्शन देकर, मुफ्त बिजली कनेक्शन देकर, शौचालय बनवाकर और घर बनवाकर गरीब की गरीमा भी बढ़ाई. इससे आगे उन्होंने लिखा कि उस कार्यकाल में जहां सर्जिकल स्ट्राइक हुई, एयर स्ट्राइक हुई. वहीं हमने वन रैंक वन पेंशन, वन नेशन वन टैक्स- जीएसटी, किसानों की MSP की बरसों पुरानी मांगों को भी पूरा करने का काम किया. पहला कार्यकाल अनेकों आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए समर्पित रहा.

एक साल में लिए गए फैसले इन्हीं बड़े सपनों की उड़ान: 
पीएम ने कहा कि इस एक साल में लिए गए फैसले इन्हीं बड़े सपनों की उड़ान है. उन्होंने आगे लिखा कि सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास' इस मंत्र को लेकर आज देश सामाजिक हो या आर्थिक, वैश्विक हो या आंतरिक, हर दिशा में आगे बढ़ रहा है.

बीते एक वर्ष में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय ज्यादा चर्चा में रहे: 
प्रधानमंत्री ने बताया कि बीते एक वर्ष में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय ज्यादा चर्चा में रहे और इस वजह से इन उपलब्धियों का स्मृति में रहना भी बहुत स्वाभाविक है. राष्ट्रीय एकता-अखंडता के लिए आर्टिकल 370 की बात हो, सदियों पुराने संघर्ष के सुखद परिणाम-राम मंदिर निर्माण की बात हो, आधुनिक समाज व्यवस्था में रुकावट बना ट्रिपल तलाक हो, या फिर भारत की करुणा का प्रतीक नागरिकता संशोधन कानून हो, ये सारी उपलब्धियां आप सभी को स्मरण हैं. 

पर्यटन क्षेत्र को मिलेगी संजीवनी,1 जून से खुलेंगे पर्यटन स्थल, शुरू में स्मारकों में प्रवेश रहेगा फ्री

किसान सम्मान निधि के दायरे में हर किसानः
गरीब, किसान, महिलाओं और युवाओं का जिक्र करते हुए मोदी ने लिखा कि अब पीएम किसान सम्मान निधि के दायरे में हर किसान आ चुका है. पिछले एक साल में एस योजना के तहत 9.50 करोड़ से ज्यादा किसानों के खातों में 72 हजार करोड़ रुपये से अधिक राशि जमा कराई गई है.

दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके, 9 बजकर 8 मिनट पर महसूस हुए तेज झटके

दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके, 9 बजकर 8 मिनट पर महसूस हुए तेज झटके

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच दिल्ली-एनसीआर में शुक्रवार रात करीब 9 बजे भूकंप के झटके महसूस किए है. भूकंप के झटके लगते ही लोग घरों से बाहर निकल आये है. नोएडा-गाजियाबाद में भी झटके महसूस किए गए है. हरियाणा और पंजाब में भी  झटके महसूस किए गए है. करीब 9 बजकर 8 मिनट पर भूकंप के तेज झटके महसूस हुए. करीब 10 से 15 सैकंड तक झटके महसूस किए है. रिक्टर स्कैल पर 4.6 भूकंप की तीव्रता से भूकंप के झटके आये.

राजस्थान के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज में 1 लाख कोरोना टेस्ट, RT-PCR मशीन के जरिए हुए टेस्ट

हरियाणा के रोहतक में रहा भूकंप का केंद्र: 
हरियाणा के रोहतक में भूकंप का केंद्र रहा है. इस भूकंप की तीव्रता 4.6 आंकी गई है. वहीं सतह से पांच किलोमीटर अंदर इसकी गहराई बताई जा रही है. गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में देश की राजधानी में कई बार भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 4 मरीजों की मौत, 298 नए केस आये सामने, कुल मरीजों की संख्या पहुंची 8 हजार 365

छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन, 74 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन, 74 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन हो गया. अजीत जोगी लंबे समय से अस्पताल में भर्ती थे. उन्होंने 74 साल की उम्र में अंतिम सांस ली. अजीत जोगी को दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वे 20 दिन से रायपुर के अस्पताल में भर्ती थे. 

COVID-19: देश में कुल 1 लाख 65 हजार 799 केस, लॉकडाउन के पांचवें चरण पर मंथन शुरू, पीएम आवास पर हुई मोदी और शाह की बैठक

बेटे अमित जोगी ने ट्वीट कर दी जानकारी:
उनके निधन की जानकारी उनके बेटे अमित जोगी ने ट्वीट कर दी.उन्होंने लिखा कि 20 वर्षीय युवा छत्तीसगढ़ राज्य के सिर से आज उसके पिता का साया उठ गया. केवल मैंने ही नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ ने नेता नहीं,अपना पिता खोया है. अजीत जोगी ढाई करोड़ लोगों के अपने परिवार को छोड़कर, ईश्वर के पास चले गए. गांव-गरीब का सहारा, छत्तीसगढ़ का दुलारा,हमसे बहुत दूर चला गया.

तीन दिन का राजकीय शोक:
अजीत जोगी के निधन पर छत्तीसगढ़ सरकार ने तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया है. इस दौरान राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा. कोई भी शासकीय समारोह आयोजित नहीं होंगे. स्व. अजीत जोगी का राजकीय सम्मान के साथ 30 मई को गौरेला में अंतिम संस्कार किया जाएगा.

जयपुर सचिवालय में कोरोना की दस्तक, 1 चतुर्थ श्रेणी कर्मी की मां की हुई थी मौत, रिपोर्ट आई थी कोरोना पॉजिटिव 

COVID-19: देश में कुल 1 लाख 65 हजार 799 केस, लॉकडाउन के पांचवें चरण पर मंथन शुरू, पीएम आवास पर हुई मोदी और शाह की बैठक

COVID-19: देश में कुल 1 लाख 65 हजार 799  केस, लॉकडाउन के पांचवें चरण पर मंथन शुरू, पीएम आवास पर हुई मोदी और शाह की बैठक

नई दिल्ली: देश में लगातार कोराना वायरस के मामले बढते जा रहे है. पॉजिटिव मरीजों की संख्या 1 लाख 65 हजार 799 हो गई है. मरीजों के केस में भारत विश्व में 9वें नंबर पर पहुंच गया है. अमेरिका पहले स्थान पर है. अगर बात करें एशिया देशों की, तो सबसे ज्यादा कोरोना के मामले भारत में हैं. 

लॉकडाउन बढ़ाए जाने के मामले पर चर्चा:
वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से लॉकडाउन बढ़ाए जाने के मामले पर चर्चा की. अमित शाह ने 31 मई को देशव्यापी लॉकडाउन का चौथा चरण समाप्त होने से पहले राज्यों से सुझाव मांगे हैं. लॉकडाउन के पांचवें चरण पर मंथन शुरू हो गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बीच शुक्रवार को अहम बैठक हुई. अमित शाह ने गुरुवार को सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों से बात की थी. बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्रियों की राय से पीएम मोदी को अवगत कराया गया.

मौसम विभाग ने अलर्ट किया जारी, राजस्थान के कई जिलों में चल सकती है तेज धूलभरी आंधी

गुरुवार को आये थे इतने मामले:
दिल्ली में गुरुवार को एक दिन में सबसे ज्यादा 1024 नए मरीज मिले. राज्य में संक्रमितों की संख्या 16 हजार के पार पहुंच गई है, यहां अब तक 316 लोगों की कोरोना की वजह से मौत हो गई है. गुरुवार को महाराष्ट्र में 2598, तमिलनाडु में 827, गुजरात में 367, प. बंगाल में 344, राजस्थान में 251, मध्यप्रदेश में 192, उत्तरप्रदेश में 179, हरियाणा 123, आंध्रप्रदेश में 128, कर्नाटक और जम्मू-कश्मीर में 115-115 और बिहार में 149 मरीज मिले. 

चूरू के सरदारशहर में चरमराई पेयजल आपूर्ति, ग्रामीण उतरे सड़कों पर

रेल मंत्रालय ने की यात्रियों से अपील, पूर्व ग्रसित बीमारी वाले व्यक्ति नहीं करें रेल यात्रा

रेल मंत्रालय ने की यात्रियों से अपील, पूर्व ग्रसित बीमारी वाले व्यक्ति नहीं करें रेल यात्रा

जयपुर: भारतीय रेलवे देशभर में श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेनें संचालित कर रहा है. पिछले दिनों इन ट्रेनों में कई यात्रियों की मृत्यु के मामले भी सामने आए हैं. इसे देखते हुए रेलवे प्रशासन ने आमजन से अपील की है कि पूर्व ग्रसित बीमारियों से पीड़ित लोग यात्रा करने से बचें. कोविड-19 महामारी के दौरान उनके स्वास्थ्य को खतरा बढ़ जाता है.

10वीं, 12वीं व विश्वविद्यालय की परीक्षा पर आज होगा फैसला, 15 जून के बाद कभी भी हो सकती परीक्षाएं 

गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों और बच्चों को भी यात्रा से बचने की सलाह: 
रेलवे प्रशासन ने अपील की है कि उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोग, कैंसर, कम प्रतिरक्षा वाले व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं, 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे और 65 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्ग अपने स्वास्थ्य की देखभाल के लिहाज से रेल यात्रा करने से बचें. उत्तर-पश्चिम रेलवे के सीपीआरओ अभय शर्मा ने बताया कि यदि ट्रेन यात्रा के दौरान किसी तरह की परेशानी लगे, तो रेलवे के हेल्पलाइन नंबर 139 और 138 पर संपर्क करें. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 2 मौतें, 91 नए पॉजिटिव आए सामने, झालावाड़ में लगातार तीसरे दिन कोरोना का बड़ा प्रकोप 

देश में आर्थिक, सामाजिक व राजनीतिक रूप से बैंड बज रहीं- सीएम गहलोत

देश में आर्थिक, सामाजिक व राजनीतिक रूप से बैंड बज रहीं- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लॉक डाउन लागू करने में केंद्र सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि पीएम मोदी ने लोगों से ताली, थाली व बैंड बजवा लिए और लोगों ने उनकी बात भी मानी, लेकिन हकीकत यह है कि देश में आर्थिक, सामाजिक व राजनीतिक रूप से बैंड बज रही है. देश को अब इसका बहुत दुख है. 

टिड्डी पर काबू करने में विफल रही राज्य और केन्द्र सरकार, हाईकोर्ट ने नोटिस जारी कर 8 जून तक जवाब पेश करने के दिये आदेश 

अब देश में लापरवाही का माहौल: 
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आह्वान पर आयोजित हुए स्पीक अप इंडिया कार्यक्रम की सराहना करते हुए गहलोत ने सोनिया गांधी को तो धन्यवाद दिया, लेकिन पीएम मोदी व केंद्र सरकार पर जमकर हमले बोले. गहलोत ने कहा कि केंद्र जिस तरह राज्यों को एडवायजरी भेज रहा है, वैसे ही एडवायजरी मजदूरों के मामले में भेजनी चाहिये थी कि मजदूरों को उनके घर भिजवाने की व्यवस्था करें, कोई भी मजदूर सड़क पर नहीं दिखना चाहिए. गहलोत ने दावा किया कि ऐसा अगर होता तो 3 दिन में देश से मजदूरों वाला संकट खत्म हो जाता. कोई भी मजदूर सड़क पर पैदल नहीं चलता, लेकिन अब देश में लापरवाही का माहौल है. 

कार्यक्रम ने लाखों मजदूरों व गरीबों की आवाज बुलंद की: 
गहलोत ने कहा कि सोनिया गांधी के आह्वान पर हुए स्पीक अप कार्यक्रम ने लाखों मजदूरों व गरीबों की आवाज बुलंद की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉक डाउन के दौरान सड़कों पर हृदय विदारक दृश्य देखने को मिले. लॉक डाउन के कारण लोगों की तकलीफ शब्दों में बयान नहीं हो सकती, लेकिन केन्द्र सरकार संवेदनशील नजर नहीं आ रही. सड़क पर प्रसव हो रहे हैं, मजदूर मर रहे हैं. मुम्बई से चली ट्रेन पटना की बजाय ओडिशा पहुंच जाती है. 

चीन के साथ सीमा विवाद पर अच्छे मूड में नहीं हैं पीएम मोदी- डोनाल्ड ट्रंप  

CM गहलोत ने कहा कि 90 फीसदी पैकेज तो लोन के रूप में:
केंद्र के 20 लाख करोड़ के पैकेज पर निशाना साधते हुए CM गहलोत ने कहा कि 90 फीसदी पैकेज तो लोन के रूप में है. इससे देश को कोई फायदा नहीं होने वाला. जब तक गरीब की जेब मे सीधा पैसा नहीं जाएगा, तब तक इकोनॉमी पटरी पर नहीं आ सकती, लेकिन दुर्भाग्य से इस तरफ किसी का ध्यान नहीं जा रहा. दुकानें खुल रही है, लेकिन ग्राहक नहीं आ रहे. गहलोत ने मांग की है कि केंद्र सरकार गरीबों के लिए नकदी का पैकेज घोषित कर राज्यों के लिए भी तुरन्त पैकेज दे. गरीब की जेब मे 10 हजार रुपये नकद देने चाहिए. गहलोत ने कहा कि कांग्रेस पार्टी केंद्र सरकार को कई सलाह दे रही है, लेकिन केंद्र व भाजपा नेता सिर्फ आलोचना कर रहे हैं.  

चीन के साथ सीमा विवाद पर अच्छे मूड में नहीं हैं पीएम मोदी- डोनाल्ड ट्रंप

चीन के साथ सीमा विवाद पर अच्छे मूड में नहीं हैं पीएम मोदी-  डोनाल्ड ट्रंप

नई दिल्ली: भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर मध्यस्थता की बात कही है. इसके साथ ही डोनाल्ड ट्रंप ने दावा किया है कि चीन विवाद को लेकर पीएम मोदी का मूड अच्छा नहीं है. ट्रंप ने कहा कि उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात की है. 

राजस्थान सरकार ने किए 1 IAS और 14 RAS अधिकारियों के तबादले, यहां देखे पूरी लिस्ट

भारत खुश नहीं है और शायद चीन भी खुश नहीं: 
राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि हम देख रहे हैं कि भारत और चीन के बीच बड़ा सीमा विवाद चल रहा है, दो देश जिनकी आबादी 1.4 अरब और जिनके पास बहुत ही शक्तिशाली सेना है. इस विवाद से भारत खुश नहीं है और शायद चीन भी खुश नहीं है, मैंने पीएम नरेंद्र मोदी से बात की है. वह चीन के साथ जो स्थिति बनी हुई है उसे लेकर अच्छे मूड में नहीं हैं.

भारत और चीन की सेना भी काफी ताकतवर: 
ट्रंप ने कहा कि मैं पीएम मोदी को काफी पसंद करता हूं. वह एक महान व्यक्ति हैं. इसके साथ ही ट्रंप ने कहा कि भारत और चीन के बीच बड़ा विवाद चल रहा है. उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच विवाद है. भारत और चीन की सेना भी काफी ताकतवर है. शायद भारत खुश नहीं है, शायद चीन भी खुश नहीं है.

नौतपा के चौथे दिन भी जमकर तपी मरूधरा, भीषण गर्मी और लू का प्रकोप,  गर्मी में श्रीगंगानगर ने चूरू को पछाड़ा 

ट्रंप ने मध्यस्थता करने की पेशकश की थी:
बता दें कि दो दिन पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर मध्यस्थता करने की पेशकश की थी. उन्होंने अपने एक ट्वीट में कहा था कि हमने भारत और चीन दोनों को सूचित किया है अगर वो चाहें तो सीमा विवाद में अमेरिका मध्यस्थता करने को तैयार है. 

Open Covid-19