Live News »

विकास दुबे की गिरफ़्तारी पर शिवराज सिंह का ट्वीट, कहा-लोगों ने महाकाल को जाना ही नहीं

 विकास दुबे की गिरफ़्तारी पर शिवराज सिंह का ट्वीट, कहा-लोगों ने महाकाल को जाना ही नहीं

नई दिल्ली: यूपी के कानपुर में 8 पुलिसवालों की हत्या करने वाला आरोपी विकास दुबे पकड़ा गया है. विकास दुबे को मध्य प्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार किया गया है, ऐसे में  इसे मध्यप्रदेश पुलिस की बड़ी कामयाबी कहा जा रहा है. विकास दुबे को गिरफ्तारी करने पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उज्जैन पुलिस को बधाई दी.

शिवराज ने दी उज्जैन पुलिस को बधाई:
शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया कि जिनको लगता है कि महाकाल की शरण में जाने से उनके पाप धुल जाएंगे, उन्होंने महाकाल को जाना ही नहीं. हमारी सरकार किसी भी अपराधी को बख्श्ने वाली नहीं है. विकास दुबे की गिरफ़्तारी के लिए उज्जैन पुलिस को बधाई.

गाय के पैर बांधकर फांसी देने की अमानवीय हरकत, ग्रामीणों में रोष

यूपी पुलिस को सौंपा जाएगा विकास दुब: 
इस ट्वीट के अलावा शिवराज सिंह चौहान ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी फोन पर बात की. शिवराज के द्वारा गिरफ्तारी की जानकारी दी गई.आपको बता दें कि अब विकास दुबे को मध्यप्रदेश पुलिस यूपी पुलिस को सौंपेंगी. इसकी प्रक्रिया पूरी की जाएगी. क्योंकि ये एक कानूनी प्रक्रिया है, ऐसे में अब मध्य प्रदेश की पुलिस उत्तर प्रदेश पुलिस को सौंपेगी. 

पुलिसवालों की हत्या की गई थी, जिसके बाद से था फरार:
उल्लेखनीय है कि कानपुर में 8 पुलिसवालों की हत्या की गई थी. जिसके बाद से ही विकास दुबे की तलाश की जा रही थी. वो लगातार कानपुर से फरीदाबाद, नोएडा की ओर भाग रहा था. लेकिन अब उज्जैन में पकड़ा गया है. हत्यारे विकास दुबे की गिरफ्तारी कानपुर मुठभेड के 7 दिन के बाद हुई है.

कोरोना संकट के बीच शुरू होगी बाबा बर्फानी की यात्रा, हर रोज 500 श्रद्धालु कर सकते है दर्शन

और पढ़ें

Most Related Stories

पीपीई किट पहने स्वास्थ्यकर्मी और मरीज ले रहे हैं गरबे का मजा, वीडियो वायरल

पीपीई किट पहने स्वास्थ्यकर्मी और  मरीज ले रहे हैं गरबे का मजा, वीडियो वायरल

मुंबई: मुंबई के कोविड-19 केंद्रों में मरीजों के गरबा करने के दो वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहे है. हालांकि महाराष्ट्र सरकार ने लोगों से अपील की थी कि वे नवरात्रि के दौरान डांडिया आयोजन के बजाए रक्तदान शिविर और स्वास्थ्य शिविर लगाएं. वायरल हुए वीडियो में से एक में पीपीई किट पहने स्वास्थ्य कर्मियों के साथ कोविड-19 महिला वार्ड की कई मरीज मास्क लगाकर एक फिल्मी गाने पर गरबा करते हुए नजर आ रही हैं.  इस वीडियो क्लिप में कुछ महिला मरीज प्रस्तुति को देखती भी नजर आ रही है. 

वहीं एक अन्य वीडियो में कुछ पुरुष मरीज नर्सिंग स्टेशन 15 में पीपीई किट पहने स्वास्थ्यकर्मियों के साथ गरबा करते हुए दिखे हैं. सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट के मुताबिक ये वीडियो गोरेगांव में बृहन्मुंबई महानगरपालिका के कोविड-19 केंद्र के हैं. इस संबंध में बीएमसी आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने पीटीआई-भाषा को मंगलवार को बताया कि गरबा प्रस्तुति वाला एक वीडियो बीएमसी के कोविड-19 केंद्र का है लेकिन केंद्र के डीन ने उन्हें बताया है कि उन्होंने इसका आयोजन नहीं किया था. 

चहल ने कहा कि केंद्र के डीन ने उन्हें यह भी बताया कि मरीज स्वास्थ्यकर्मियों के साथ खुद ही जश्न मना रहे थे और वे प्रसन्न एवं अच्छा महसूस कर रहे थे. उन्होंने डीन के हवाले से कहा कि ऐसा करने में खुशी मिलने की वजह से केंद्र के डॉक्टरों ने उन्हें इसकी अनुमति दे दी थी. मुंबई, देश में कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित शहरों में से एक है और अभी तक यहां संक्रमण के करीब 2.43 लाख मामले आ चुके हैं तथा 9,700 लोगों की मौत संक्रमण की वजह से हो चुकी है. महाराष्ट्र सरकार ने पिछले महीने लोगों से अपील की थी कि वे महामारी के मद्देनजर नवरात्रि और दशहरा का उत्सव सादगी से मनाएं. (सोर्स-भाषा)

{related}

CM शिवराज सिंह चौहान के चुनावी रोड शो में शर्तों का उल्लंघन, मामला दर्ज

 CM  शिवराज सिंह चौहान के चुनावी रोड शो में शर्तों का उल्लंघन, मामला दर्ज

इंदौर: मध्य प्रदेश में कोरोना के नियमों की धज्जियां उड़ाने का मामला सामने आया है. प्रदेश के  सांवेर विधानसभा क्षेत्र में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सोमवार शाम आयोजित चुनावी रोड शो में अनुमति की शर्तों और कोविड-19 से बचाव के दिशा-निर्देशों के कथित उल्लंघन पर प्राथमिकी दर्ज की गई है. पुलिस के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि यह मामला भाजपा के एक स्थानीय नेता के खिलाफ दर्ज किया गया है जिसके आवेदन पर सांवेर कस्बे में मुख्यमंत्री के रोड शो की अनुमति दी गई थी.

सांवेर पुलिस थाने के प्रभारी संतोष कुमार दूधी ने बताया कि सोमवार शाम निकाले गए रोड शो को इन शर्तों पर मंजूरी दी गई थी इसमें केवल पांच वाहन शामिल होंगे और शारीरिक दूरी व कोविड-19 से बचाव के अन्य दिशा-निर्देशों का पालन किया जाएगा मगर राजनेता के समर्थकों ने नियमों को ताक पर उठाकर रख दिया, जिसके बाद एक्शन लेना पड़ा. 

उन्होंने सांवेर के रिटर्निंग अधिकारी के कार्यालय से पुलिस थाने को भेजे गए पत्र के हवाले से बताया कि अनुमति की शर्तों का उल्लंघन करते हुए मुख्यमंत्री के रोड शो में 20 से 25 गाड़ियां शामिल हुईं है. इस चुनावी आयोजन में शारीरिक दूरी के नियम का पालन नहीं किया और इसमें शामिल कई लोगों ने महामारी से बचाव के लिए मास्क भी नहीं पहना था. 

थाना प्रभारी ने बताया कि मुख्यमंत्री के रोड शो में नियम-शर्तों के कथित उल्लंघन पर स्थानीय भाजपा नेता दिनेश भावसार के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 188 (किसी सरकारी अधिकारी का आदेश नहीं मानना) के तहत सोमवार देर रात मामला दर्ज किया गया है. इस नेता के आवेदन पर ही मुख्यमंत्री के चुनावी रोड शो की अनुमति दी गई थी.

सांवेर सूबे के उन 28 विधानसभा क्षेत्रों में शामिल है जहां तीन नवंबर को उप चुनाव होने हैं. अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित इस सीट पर मुख्य चुनावी भिड़ंत प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट और पूर्व लोकसभा सांसद प्रेमचंद गुड्डू के बीच है. वे क्रमशः भाजपा और कांग्रेस की ओर से चुनावी मैदान में उतरे हैं. नतीजे क्या कमाल दिखाएंगे ये तो वोटिंग के बाद पता चल पाएगा. (सोर्स-भाषा)

{related}

PNB घोटाला: पूर्व उप प्रबंधक गोकुलनाथ शेट्टी के खिलाफ घूसखोरी का मामला दर्ज

PNB घोटाला: पूर्व उप प्रबंधक गोकुलनाथ शेट्टी के खिलाफ घूसखोरी का मामला दर्ज

नई दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले में मुख्य आरोपी और बैंक के सेवानिवृत्त उप प्रबंधक गोकुलनाथ शेट्टी के खिलाफ सीबीआई ने घूसखोरी का ताजा मामला दर्ज किया है. आपको बता दे कि पीएनबी में 13,000 करोड़ रूपये की धोखाधड़ी का यह मामला हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी और नीरव मोदी से जुड़ा हुआ है. 

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक आरोप है कि शेट्टी ने गीतांजलि जेम्स के लिए बैंक गारंटी की व्यवस्था कराने के लिए ऋषिका फाइनेंशियल्स से कथित तौर पर 1.08 करोड़ रुपये की रिश्वत ली थी और इसके कारण बैंक का सारा पैसा डूब गया. गौरतलब है की घटना के बाद नीरव मोदी भारत छोड़कर फरार हो गया था. 

अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि ऋषिका फाइनेंशियल्स के मालिक देबज्योति दत्ता विदेशी अनुदान बैंकों से लेटर्स ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयूएस) के कोटेशन मुहैया कराते थे. फिलहाल ये मामला कितना वक्त लेगा कुछ कहा नहीं जा सकता है. (सोर्स-भाषा)

{related}

देश में आयोजित मालाबार नौसेना युद्धाभ्यास में अमेरिका , जापान के बाद ऑस्ट्रेलिया भी लेगा हिस्सा

देश में आयोजित मालाबार नौसेना युद्धाभ्यास में अमेरिका , जापान  के बाद ऑस्ट्रेलिया भी लेगा हिस्सा

मेलबर्न: भारत में आयोजित किए जा रहे आगामी मालाबार नौसेना युद्धाभ्यास में भारत, अमेरिका और जापान के साथ ऑस्ट्रेलिया भी हिस्सा लेगा जिसकी घोषणा ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने एक बयान जारी कर की है.  यह चार देशों के समूह ‘क्वॉड’ की सैन्य स्तर पर पहली भागीदारी होगी. भारत-चीन सीमा विवाद के बीच, भारत ने सोमवार को आगामी मालाबार नौसेना युद्धाभ्यास में अमेरिका और जापान के साथ ऑस्ट्रेलिया के भी हिस्सा लेने की घोषणा की थी. 

आपको बता दे की भारत द्वारा ऑस्ट्रेलियाई नौसेना को अगले महीने होने वाले युद्धाभ्यास में हिस्सा लेने का निमंत्रण देने का कदम तोक्यो में क्वॉड के विदेश मंत्रियों की वार्ता के दो हफ्ते बाद उठाया गया है. इस बैठक में मंत्रियों ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग को बढ़ाने के उपायों पर ध्यान केंद्रित किया था, जहां पर चीन का सैन्य दबाव लगातार बढ़ रहा है.

ऑस्ट्रेलिया की रक्षा मंत्री लिंडा रेनॉल्ड्स और विदेश मंत्री मैरिसे पेने ने एक सुयंक्त बयान जारी करते हुए कहा कि यह घोषणा भारत के साथ ऑस्ट्रेलिया के संबंध और गहरे करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है. बयान के मुताबिक संघीय सरकार ने कहा है कि भारत के आमंत्रण के बाद ऑस्ट्रेलिया मालाबार नौसेना युद्धाभ्यास में हिस्सा लेगा. यह अभ्यास क्षेत्र के चार प्रमुख रक्षा साझेदारों भारत, जापान, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया को नवम्बर में एक साथ लाएगा. 

रेनॉल्ड्स ने कहा कि मालाबार-2020 ऑस्ट्रेलिया रक्षा बल (एडीएफ) के लिए महत्वपूर्ण अवसर होगा. उन्होंने कहा कि मालाबार जैसे अत्याधुनिक सैन्य अभ्यास ऑस्ट्रेलिया की समुद्री क्षमताओं को बढ़ाने, हमारे करीबी सहयोगियों के साथ परस्पर काम करने और मुक्त एवं समृद्ध हिंद-प्रशांत का समर्थन करने के हमारे सामूहिक संकल्प का प्रदर्शन करते हैं. 

विदेश मंत्री पेने ने कहा कि मालाबार युद्धाभ्यास हिंद-प्रशांत के चार प्रमुख लोकतांत्रिक देशों के बीच गहरे भरोसे और साझा सुरक्षा हितों पर एक साथ काम करने की उनकी इच्छा को भी दर्शाता है. उन्होंने कहा कि इसका आधार व्यापक रणनीतिक साझेदारी है, जिसके लिए प्रधानमंत्री (स्कॉट) मॉरिसन और प्रधानमंत्री (नरेन्द्र) मोदी के बीच चार जून 2020 को सहमति बनी थी और जिसे मैंने अपने भारतीय समकक्ष एस. जयशंकर के साथ इस महीने तोक्यो में मुलाकात के दौरान आगे बढ़ाया है. 

पेने ने कहा, ‘‘यह क्षेत्र में शांति एवं स्थिरता बनाए रखने के लिए भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका की मिलकर काम करने क्षमता को बढ़ाएगा. उन्होंने कहा कि नौसेना अभ्यास में हिस्सा लेना हिंद-प्रशांत में क्षेत्रीय सुरक्षा, स्थिरता एवं समृद्धि बढ़ाने और एडीएफ की पारस्परिक काम करने की क्षमता के प्रति ऑस्ट्रेलिया की स्थायी प्रतिबद्धता को दर्शाता है. आस्ट्रेलिया ने आखिरी बार 2007 में मालाबार नौसेना युद्धाभ्यास में हिस्सा लिया था. (सोर्स-भाषा)

{related}

प्रतिष्ठित अखबार 'कश्मीर टाइम्स' का दफ्तर सील

प्रतिष्ठित अखबार 'कश्मीर टाइम्स' का दफ्तर सील

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में अधिकारियों ने एक प्रतिष्ठित अखबार के दफ्तर को सोमवार को सील कर दिया गया है. दैनिक समाचार पत्र का कार्यालय यहां एक सरकारी इमारत में आवंटित किया गया था. अखबार के मालिक ने दावा किया कि कानूनी प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया है.अधिकारियों ने बताया कि संपदा विभाग ने यहां प्रेस एन्क्लेव में स्थित 'कश्मीर टाइम्स' का दफ्तर सील कर दिया है.  उन्होंने सरकार की कार्रवाई का कोई कारण नहीं बताया. इस अंग्रेजी अखबार का मुख्यालय जम्मू में है और यह केंद्र शासित प्रदेश के दोनों क्षेत्रों से प्रकाशित होता है.

'कश्मीर टाइम्स' की मालकिन अनुराधा भसीन ने फोन पर  बताया कि श्रीनगर में हमारे दफ्तर पर कानूनी प्रक्रिया का पालन किए बिना ताला डाल दिया गया है.  रद्द करने या खाली करने का कोई नोटिस हमें नहीं दिया गया था. उन्होंने कहा कि हम संपदा विभाग गए और उनसे  इस संबंध में आदेश देने को कहा, लेकिन उन्होंने आदेश जारी नहीं किया है. इसके बाद हमने अदालत का रुख किया लेकिन वहां से भी कोई आदेश नहीं आया है. 

भसीन ने इस कदम को अपने खिलाफ  प्रतिशोध बताया है क्योंकि वह सरकार के खिलाफ बोलीं थी और उन्होंने पिछले साल अनुच्छेद 370 हटाने के बाद जम्मू-कश्मीर में मीडिया पर लगाई गईं पाबंदियों के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का रुख किया था. उन्होंने कहा कि पिछले साल जिस दिन मैं न्यायालय गई थी, उसी दिन कश्मीर टाइम्स को मिलने वाले राज्य सरकार के विज्ञापनों को रोक दिया गया था. (सोर्स-भाषा)

{related}

अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन ठग गिरोह का पर्दाफाश, पांच गिरफ्तार

अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन  ठग गिरोह का पर्दाफाश,  पांच गिरफ्तार

बिलासपुर: छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले की पुलिस ने एक अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन ठग गिरोह के पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया है. जिले के पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि पुलिस ने एक अभियान चलाकर अंतरराष्ट्रीय ठग गिरोह का पर्दाफाश किया है. पाकिस्तानी सरगना बड़े मामू (असगर) छोटे मामू (असरफ) और सलीम मिलकर डिजिटल करेंसी की हेराफेरी कर ठगी के कारोबार को अंजाम दे रहे थे. ठगी के इस मामले के तार पाकिस्तान के अलावा सऊदी अरब और मलेशिया से भी जुड़े हुए हैं.

अग्रवाल ने बताया कि भारत के अनेक राज्यों में मौजूद हैंडलर ऑनलाइन ठगी से एकत्र पैसे उन्हें भेजते थे. बिलासपुर पुलिस ने मुंबई, उड़ीसा और मध्यप्रदेश में अभियान चलाकर पांच ठगों को गिरफ्तार किया है. ठगों के पास से लैपटॉप, मोबाइल और 15 लाख रूपए नगद, अनेक एटीएम कार्ड तथा बैंक की पास बुक बरामद किए गए हैं. इसके अतिरिक्त विभिन्न बैंको में ठगों के खाते में 27 लाख रूपए सीज किए गए हैं.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जिले के सीपत थाना क्षेत्र के अंतर्गत हरदाडीह निवासी जनक राम पटेल (5र्ष) की इस वर्ष जनवरी माह के अंतिम सप्ताह और फरवरी माह के प्रथम सप्ताह के मध्य पाकिस्तानी मोबाइल नंबर, व्हाट्सएप कॉल और चैटिंग के माध्यम से ठगों से बातचीत हुई थी. पटेल को झांसा दिया गया कि वह जियो से मुकेश अम्बानी बोल रहे हैं और जियो के लकी ड्रा के नाम पर उनकी 25 लाख रूपये की लाटरी निकली है. अगर वह केबीसी का भाग्यशाली विजेता भी बनकर दो करोड़ रूपए की अतिरिक्त राशि जीतना चाहता है तो कुछ रकम उसे विभिन्न खातों में जमा करनी होगी.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि पटेल उनके झांसे में आ गया और उसने इस वर्ष एक फरवरी से आठ सितम्बर तक कुल 65 लाख रूपए ठगों के अलग-अलग खातों में जमा कर दिए. इसी दौरान बिलासपुर पुलिस ने साइबर अपराधों को रोकने के लिए जन जागरूकता अभियान 'साइबर मितान' आरम्भ किया तब जनकराम को अपने साथ हुई ठगी का अहसास हुआ और उसने बिलासपुर के सिटी कोतवाली थाना में अपराध दर्ज कराया. 

अग्रवाल ने बताया कि पटेल की शिकायत पर पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू की तब जानकारी मिली कि जनक राम से उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश, पश्चिम बंगाल आदि राज्यों के लगभग 12 विभिन्न खातों में पैसे जमा कराए गए हैं. यह तथ्य भी सामने आया कि इस दौरान सबसे बड़ी रकम करीब 50 लाख रूपए मध्यप्रदेश के रीवा जिले के विराट सिंह के विभिन्न बैंकों के खातों में जमा किया गया है. विराट सिंह यह रकम फोन पे और पेटीएम के माध्यम से वर्ली मुंबई निवासी राजेश जायसवाल के खातों और डिजिटल पेमेंट सोल्यूशन उड़ीसा आदि में ऑनलाइन स्थानांतरित करता था.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि बाद में पुलिस दल ने रीवा से विराट सिंह को पकड़ लिया है और उसी ने बताया कि वह पाकिस्तान के छोटे मामू उर्फ़ असरफ और बड़े मामू उर्फ़ असगर तथा सलीम के लिए काम करता है. विराट सिंह ने यह भी बताया कि वह अपना कमीशन काट कर बाकी की रकम भेज देता है. विराट इस रकम को देश भर के अलग-अलग प्रान्तों, हैदराबाद, कर्नाटक, बेंगलोर, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, उड़ीसा, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, असम और दिल्ली के खातों में ट्रांसफर करता था.

उन्होंने बताया कि आरोपी विराट सिंह की निशानदेही पर खाता धारक शिवम् ठाकुर और संजू चौहान को मध्यप्रदेश के देवास से गिरफ्तार किया गया है. वहीं पुलिस ने मुंबई जाकर राजेश जायसवाल को भी गिरफ्तार कर लिया जो रकम को डिजिटल करेंसी बिट क्वाइन में तब्दील कर भेजता था. इसी तरह पुलिस टीम ने उड़ीसा में डिजिटल पेमेंट सोल्यूशन के संचालक सीता राम गौड़ा को भी हिरासत में लिया है जिसने अपने खाते में लगभग 15 लाख रूपये की रकम को जमा किया था. पुलिस ने इस रकम को सीज कर दिया है.

प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि इसके अतिरिक्त 24 परगना पश्चिम बंगाल, गोपालगंज, बिहार, पश्चिम बंगाल के बाखर हाट और कृष नगर, पश्चिम गाजियाबाद, हुगली, सूरत, उत्तराखंड आदि स्थानों के कई आरोपियों की पहचान की जा चुकी है, जिन्हें जल्द गिरफ्तार कर इस बड़े अंतर्राष्ट्रीय ठग गिरोह का नेटवर्क ध्वस्त किया जाएगा. फिलहाल मामले की बारिकी से जांच की जा रही है. (सोर्स-भाषा)

{related}

 

कमलनाथ के बाद अब शिवराज के मंत्री के बिगड़े बोल, कांग्रेस नेता की पत्नी पर की अश्लील टिप्पणी

कमलनाथ के बाद अब शिवराज के मंत्री के बिगड़े बोल, कांग्रेस नेता की पत्नी पर की अश्लील टिप्पणी

भोपाल: मध्य प्रदेश में उपचुनाव से पहले आपत्तिजनक टिप्पणियों पर विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. अभी कांग्रेस के पूर्व सीएम कमलनाथ की टिप्पणी पर विवाद थमा भी नहीं है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह कैबनिट में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल द्वारा एक अभद्र टिप्पणी कर देने का मामला सामने आया है. बिसाहू लाल साहू ने कांग्रेस नेता विश्वनाथ सिंह की पत्नी पर अश्लील टिप्पणी की है. 

बीजेपी उम्मीदवार बिसाहू लाल साहू का एक वीडियो वायरल हुआ: 
उपचुनाव से पहले अनूपपुर से बीजेपी उम्मीदवार बिसाहू लाल साहू का एक वीडियो वायरल हुआ है. इस वीडियो में बिसाहू लाल साहू कहते हैं कि विश्वनाथ सिंह ने चुनावी फॉर्म में अपनी पहली पत्नी का ब्योरा नहीं दिया है और दूसरी औरत का ब्योरा दिया है. इस दौरान बिसाहू लाल साहू अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर देते हैं.

बयान पर कांग्रेस ने बीजेपी पर पलटवार किया: 
बिसाहूलाल के इस बयान पर कांग्रेस ने बीजेपी पर पलटवार किया है. कांग्रेस ने कहा है कि कल कलनाथ के एक शब्द को पकड़कर सीएम शिवराज ने मौन रखा, अब वह क्या करेंगे? अब सीएम शिवराज को मंत्री बिसाहूलाल पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.

{related}

कांग्रेस नेता विश्वनाथ सिंह ने भी प्रतिक्रिया दी: 
वहीं इस मामले पर कांग्रेस नेता विश्वनाथ सिंह ने भी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा है कि वह (बिसाहू लाल साहू) अप्रासंगिक बातें बोल रहे हैं क्योंकि वह चुनाव हार रहे हैं. मैंने अपनी पत्नी से 15 साल पहले शादी की थी और हमारे दो बच्चे हैं. मैं उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करूंगा.

कमलनाथ के बयान पर अभी भी विवाद जारी:
उपचुनाव से पहले वहीं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बयान पर अभी भी विवाद जारी है. कमलनाथ ने एक रैली में बीजेपी नेता इमरती देवी को आइटम कहा था, जिस पर राजनीतिक बवाल तेज हो गया है. इसके विरोध में शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को दो घंटे का मौन रखा और कांग्रेस से माफी मांगने की अपील की. 
 

मादक पदार्थ मामले की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश को कोर्ट के बाहर मिला डेटोनेटर और धमकी भरा पत्र

मादक पदार्थ मामले की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश को कोर्ट के बाहर मिला डेटोनेटर और धमकी भरा पत्र

बेंगलुरु: कर्नाटक में एक बेहद ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है जहां, फिल्मी शख्सियतों से जुड़े मादक पदार्थ के एक मामले में सुनवाई कर रहे एक एनडीपीएस विशेष न्यायाधीश को सोमवार को धमकी भरा खत और डेटोनेटर के साथ एक पार्सल मिला है जिसमें उनसे दो फिल्मी अभिनेत्रियों तथा 11 अगस्त को हिंसा के मामले के कुछ आरोपियों को जमानत देने की मांग की गयी है.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं होने की शर्त पर कहा कि हमने जांच शुरू कर दी है. पुलिस के शीर्षस्थ सूत्रों के अनुसार तुमकुरु जिला मुख्यालय से भेजा गया एक पार्सल और ड्रग मामले में सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश को संबोधित एक पत्र अदालत के बाहर मिला है. इस मामले में फिल्म अभिनेत्री रागिनी द्विवेदी और संजना गलरानी समेत कुछ बड़े लोगों के नाम आरोपी के तौर पर आये हैं.

सूत्रों ने बताया कि जब अदालत कर्मियों ने पत्र को खोला तो उन्हें संदिग्ध वस्तु नजर आई और उन्होंने पुलिस को सूचित किया. पुलिस के बम निरोधक दस्ते ने पुष्टि की कि इसमें डेटोनेटर है. जिसके बाद मामला की संगीनता का अंदाजा लगाया जा सकता है. (सोर्स-भाषा)

{related}