तामलुक बंगाल में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी को पुलिस ने हिंसा प्रभावित हावड़ा जाने से रोका

बंगाल में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी को पुलिस ने हिंसा प्रभावित हावड़ा जाने से रोका

बंगाल में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी को पुलिस ने हिंसा प्रभावित हावड़ा जाने से रोका

तामलुक: पश्चिम बंगाल में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी को पुलिस ने रविवार को पूर्ब मेदिनीपुर जिले के तामलुक में रोक लिया और दावा किया कि वह हिंसा प्रभावित हावड़ा की ओर जा रहे थे. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ‘‘एहतियाती कदम उठाते हुए’’ अधिकारी को हिंसा प्रभावित हावड़ा जिला जाने से रोका गया है. हावड़ा जिले के हिंसा प्रभावित इलाकों में दंड प्रक्रिया संहिता (CRPC) की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू है. शुभेंदु अधिकारी अपने सुरक्षा दल के साथ आगे बढ़ रहे थे, लेकिन तामलुक के राधारानी मोड़ पर एक पुलिस दल ने उन्हें रोक लिया. उनके साथ भारतीय जनता पार्टी (BJP) का कोई अन्य नेता नहीं था. 

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि हमें जानकारी मिली कि अधिकारी हावड़ा जिले का दौरा करने की योजना बना रहे थे, जिसके कुछ हिस्सों में सीआरपीसी की धारा 144 लागू है. इसलिए एहतियात के तौर पर हमें उन्हें वहां जाने से रोकना पड़ा क्योंकि उनकी यात्रा से कानून-व्यवस्था की समस्या हो सकती थी.’’ अधिकारी यह दावा करते हुए वाहन के अंदर बैठे रहे कि उनका हावड़ा जाने का कोई इरादा नहीं है. उनके और उन पुलिस अधिकारियों के बीच मौके पर तीखी बहस हुई, जो उनके वाहन को रोक रहे थे. अंतिम समाचार मिलने तक गतिरोध जारी था. हावड़ा रवाना होने से पहले नंदीग्राम से भाजपा विधायक अधिकारी ने कहा कि यदि उन्हें हावड़ा जाने से रोका जाता है तो वह अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे. कांथी पुलिस थाने के प्रभारी ने एक पत्र में कहा कि भाजपा नेता की सुरक्षा चिंता के कारण उनसे हावड़ा जिले के कुछ हिस्सों का दौरा नहीं करने को कहा गया. अधिकारी ने कहा कि मैं हावड़ा जिले में अपनी पार्टी के उन कार्यालयों का दौरा करूंगा, जहां तोड़फोड़ की गई थी. पुलिस ने मुझे उन क्षेत्रों का दौरा नहीं करने के लिए कहा है जहां सीआरपीसी की धारा 144 लागू की गई है. लेकिन, मैं निषेधाज्ञा का उल्लंघन नहीं करूंगा क्योंकि मैं वहां अकेले जाऊंगा.’ भाजपा नेता ने अपने कांथी आवास से हावड़ा के लिए निकलने से पहले कहा कि अगर मुझे पुलिस ने रोका तो मैं कल (सोमवार) अदालत का रुख करूंगा. विपक्ष के एक नेता को अशांत क्षेत्र में जाने से नहीं रोका जा सकता. पार्टी की बंगाल इकाई के प्रमुख सुकांत मजूमदार को शनिवार को उस समय गिरफ्तार किया गया था जब वह हावड़ा जिले की ओर जा रहे थे. हालांकि, बाद में उन्हें छोड़ दिया गया था.

भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के सह-प्रभारी अमित मालवीय ने ट्वीट किया कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुकांत मजूमदार को हिरासत में रखने के बाद, ममता बनर्जी अब यह सुनिश्चित कर रही हैं कि विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी हावड़ा नहीं जा सकें, जहां भाजपा के कार्यालय जला दिए गए हैं. उनका पूरा ध्यान विपक्ष पर है, न कि उन्मादियों पर.’’ तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कुणाल घोष ने इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए आरोप लगाया कि अधिकारी तनाव पैदा करने के इरादे से हावड़ा का दौरा करना चाहते हैं. कुणाल घोष ने कहा कि उन इलाकों का दौरा करने की क्या जरूरत है जहां 144 लागू की गई है? वह हावड़ा जा रहे हैं ताकि तनाव पैदा हो. भाजपा राज्य में शांतिपूर्ण माहौल को खराब करना चाहती है. गौरतलब है कि भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नुपुर शर्मा और नवीन जिंदल की ओर से पैगंबर मोहम्मद के बारे में की गयी कथित विवादास्पद टिप्पणी के विरोध में शुक्रवार को नमाज के बाद बंगाल के हावड़ा समेत देश के कई इलाकों में हिंसक विरोध प्रदर्शन हुए थे. उलुबेरिया, पांचला और डोमजूर सहित हावड़ा के कई इलाकों में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत 15 जून तक निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है और गलत सूचना के प्रसार को रोकने के लिए पूरे जिले में 13 जून तक इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें