VIDEO: सोनिया गांधी का भावी 'संगठन प्लान' आया सामने, कांग्रेस ने ट्रैनिंग कैम्प का किया आगाज

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/09/11 07:39

जयपुर: सोनिया गांधी का भावी 'संगठन प्लान' सामने आ गया है. कॉडर को मजबूती देने के लिये कांग्रेस ने ट्रैनिंग कैम्प का आगाज कर दिया है. 'रायबरेली-अमेठी' मॉडल को अपनाते हुये देशभर में कांग्रेस के ट्रैनिंग कैम्प होंगे ब्लॉक स्तर तक इनके आयोजन किये जाएंगे. 'प्रेरक' बनाकर कांग्रेस इन ट्रैनिंग कैम्प को संचालित करेगी. जहां कांग्रेस की विचारधारा,संगठनात्मक मजबूती, पार्टी की रीति-नीति.  गांधीवाद, मौजूदा राजनीतिक हालात, सेकुलरिज्म और सांप्रदायिकवाद समेत विभिन्न विषयों पर कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया जाएगा. राजस्थान में भी ट्रैनिंग कैम्प आयोजित किये जाएंगे. अशोक गहलोत, गुलाब नबी आजाद, कमलनाथ, मुकुल वासनिक, रमेश चेन्नीथला, आनंद शर्मा, अंबिका सोनी सरीखे नेता ट्रैनिंग कैम्प के अनुपम उदाहरण रहे.  

कभी कांग्रेस में हुआ करती थे 'कॉर्डिनेटर ' अब बनेंगे 'प्रेरक': 
पुराने दौर में कांग्रेस फिर लौटने की तैयारी में है. कभी कांग्रेस में हुआ करती थे 'कॉर्डिनेटर ' अब बनेंगे 'प्रेरक'.  उस दौर में अमेठी और रायबरेली में अरुण नेहरु-डी पी रॉय हुआ करते ट्रैनिंग 'समन्वयक'. सर्वप्रथम अमेठी-रायबरेली ही  ट्रैनिंग सेंटर बना. यहां तैयार हुये कॉर्डिनेटर्स ने देशभर में ट्रैनिंग दी, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी - संजय गांधी ने कॉडर तैयार करवाया. कार्डिनेटर्स पद्धति कांग्रेस में कामयाब रही. प्रखर नेताओं को कॉर्डिनेटर्स सिस्टम से खोजा गया. देश की सियासत में इस समय कांग्रेस अपने सबसे खराब दौर से गुजर रही है. मोदी युग में अस्तित्व बचाये और बनाये रखना किसी चुनौती से कम नहीं है. कांग्रेस को सदैव मॉस संगठन के तौर पर जाना जाता रहा है यहीं कारण है कि कांग्रेस अपना कॉडर कभी ठीक से खड़ा और स्थापित नहीं कर पाई. अब फिर से पुराने दौर में लौटने की कोशिश कांग्रेस की है. कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेगुगोपाल को सोनिया गांधी ने ट्रैनिंग कैम्प आयोजित किये जाने का जिम्मा सौंपा है, राहुल गांधी के विश्वस्त सचिन राव समेत प्रमुख दिग्गज उनके सहयोगी होंगे. दिल्ली में ट्रैनिंग कैम्प को लेकर पहली राष्ट्रीय बैठक हो चुकी है जिसमें केसी वेणुगोपाल ने पार्टी का भावी एंजेड़ा सामने रखा था. सबसे पहले ट्रैनिंग कैम्पस संचालित करने के लिये 'प्रेरक' बनाये जाएंगे. 

---'प्रेरक' कौन और क्या करेंगे---
- संगठन के जानकारों को 'प्रेरक' बनाया जाएगा
-'प्रेरक' देशव्यापी दौरे करेंगे
-जिला स्तर तक ट्रैनिंग एक्सपर्ट तैयार करेंगे
-ट्रैनिंग शिविरों का संचालन इनकी जिम्मेदारी
-'प्रेरक' एआईसीसी ट्रैनिंग विभाग और पीसीसी के सम्पर्क में रहेंगे
-विचारधारा की घुट्टी पिलाने का जिम्मा निभायेंगे
-पीसीसी,डीसीसी,ब्लॉक स्तर तक कैसे होगी ट्रैनिंग होगी इसके बारे में बतायेंगे और समीक्षा करेंगे
-प्रदेश कांग्रेस में संगठन महासचिव के जिम्मे होगा ट्रैनिंग कैम्प का निर्देशन-आयोजन
-4 से 5 जिलों पर 3-3  'प्रेरक' बनाये जाएंगे
-यूं कह सकते है प्रत्येक संभाग पर 3'प्रेरक' होंगे 
-इनमें महिला,एससी,एसटी,माइनोरिटी कोटा निर्धारित है
-ट्रैनिंग एक्सपर्ट के लिये इंटरव्यू लेने का काम भी प्रेरकों का होगा

-------कांग्रेस क्या सिखायेगी ट्रैनिंग कैम्प में----------
-कांग्रेस का इतिहास,आजादी के आंदोलन में योगदान,राष्ट्र निर्माण,समाज के प्रति दायित्व
-गांधी की विचारधारा
-विभिन्न सियासी विचारधाराओं और कांग्रेस विचारधारा के बीच फर्क
-संगठनात्मक मजबूती के तौर तरीके
-कांग्रेस कार्यकर्ता की भूमिका ,चुनावों में और उससे पहले
-बूथ मैनेजमेंट
-मौजूदा राजनीतिक चुनौतियां और संभावनाएं
-मौजूदा राजनीतिक हालात में कांग्रेस कार्यकर्ता का दायित्व
-सांप्रदायिक संगठन-इनसे देश को खतरा
-सेकुलरिज्म और कम्युनल पॉलिटिक्स
-युवा की भूमिका
-महिला सशक्तीकरण
-पंचायतीराज और ग्रामीण विकास
-जातिवाद और समरसता के विषय
-सोशल मीडिया की भूमिका
-कम्युनिकेशन सिक्लस और व्यक्तित्व विकास
-मीडिया की भूमिका
-केन्द्र की बीजेपी सरकार के गलत फैसले

लोकसभा चुनावों में करारी पराजय ने कांग्रेस को अंदर से बैचेन कर दिया. महसूस किया गया है कि कॉडर को मजबूती देने की आवश्यकता लिहाजा जरुरी विचारधारा को मजबूत किया जाए, जिसकी व्यापक कमी महसूस की जा रही है. कद्दावर नेता पार्टी को छोड़-छोड़ कर जा रहे है या फिर जाने की तैयारी में है. कांग्रेस विचारधारा से मोहभंग क्यों हो रहा इनके पीछे के कारणों को खोजने की आवश्यकता, साथ ही ये प्रयास कि फिर से कॉडर कैसे बने सशक्त. 

...फर्स्ट इंडिया के लिये योगेश शर्मा की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in