सोनिया गांधी बोलीं, दिल्ली के हालात के लिए गृह मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए

सोनिया गांधी बोलीं, दिल्ली के हालात के लिए गृह मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए

सोनिया गांधी बोलीं, दिल्ली के हालात के लिए गृह मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए

नई दिल्ली: कांग्रेस ने बुधवार को दिल्ली में जारी हिंसा को लेकर केंद्र और दिल्ली सरकार पर निशाना साधा है. साथ ही कांग्रेस ने दिल्ली में शांति बहाली में असफल होने की बात कही. बुधवार को आयोजित कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक के बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पत्रकारों से बातचीत की. सोनिया गांधी ने कहा कि दिल्ली की मौजूदा हालात चिंताजनक है. एक साजिश के तहत हालात बिगड़े. बीजेपी नेताओं ने भड़काऊ भाषण दिए. चुनाव के दौरान नफरत फैलाया. दिल्ली की स्थिति के लिए गृह मंत्री अमित शाह जिम्मेदार हैं. 

बूंदी: बारातियों से भरी बस मेज नदी में गिरने 24 लोगों की मौत, सीएम ने की आर्थिक सहायता की घोषणा

गृह मंत्री इसकी जिम्मेदारी लेकर इस्तीफा दें:
गृह मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए. उन्होंने कहा कि गृह मंत्री इसकी जिम्मेदारी लेकर इस्तीफा दें. उन्होंने सवाल उठाया कि दिल्ली में पुलिस के असफल होने पर पैरामिलिटरी फोर्स क्यों नहीं बुलाई गई? दिल्ली के मुख्यमंत्री क्या कर रहे थे? बीजेपी नेता पर कोई कार्रवाई नहीं हुई? दंगे वाले इलाके में कितनी पुलिस फोर्स लगाई गई? इतवार से गृह मंत्री क्या कर रहे थे और कहां थे?

उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में हुई हिंसा पर चर्चा:
बुधवार को यहां सीडब्लूसी की एक बैठक हुई, जिसमें उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में हुई हिंसा के बाद के हालात पर मुख्य रूप से चर्चा की गई. इस बीच, पार्टी ने आज ही दोपहर बाद ''शांति मार्च'' निकालने का फैसला किया है, जिसमें कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं के शामिल होने की संभावना है. सीडब्ल्यूसी की बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, वरिष्ठ नेता एके एंटनी, केसी वेणुगोपाल और कई अन्य नेता शामिल हुए।सीडब्ल्यूसी कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई है. 

23 मार्च तक टली शाहीन बाग मामले की सुनवाई, सुप्रीम कोर्ट ने कहा-अभी सही समय नहीं

और पढ़ें