चुनाव में करीब एक चौथाई संवेदनशील केन्द्रों को लेकर बनाया खास सुरक्षा प्लान

Dr. Rituraj Sharma Published Date 2018/12/05 02:23

जयपुर। प्रदेश के कुल 51965 मतदान केंद्रों में से 13382 संवेदनशील मतदान केन्द्र हैं। अभी तक के विधानसभा चुनाव में संवेदनशील केन्द्रों की यह संख्या सबसे ज्यादा है। इन बूथ्स को लेकर खास सुरक्षा प्लान तैयार कर लिया है। 

निर्वाचन विभाग की तैयारियों में सबसे अहम संवेदनशील केन्द्रों का चिन्हीकरण और उनकी स्थिति के मुताबिक सुरक्षा और अन्य प्लानिंग करना है। इसके तहत

3740 केंद्रों में होगी वीडियोग्राफी
4765 केंद्रों में लगेंगे माइक्रो ऑब्जर्वर्स
वेबकास्टिंग यानि तीसरी आंख की नजर में 3085 केंद्र रहेंगे।
-अर्द्ध सैन्य बलों ने संभाला प्रदेश में मोर्चा
बाहरी राज्य से 650 केंद्रीय अर्द्धसैन्य बल की कंपनियों के जवानों ने मोर्चा संभाल लिया है।
-एक कंपनी में सौ से 120 तक जवान होते हैं।
-16 हजार होमगार्ड के जवान , जिनमे 4 हजार गुजरात , 5 हजार हरियाणा , 3 हजार उत्तर प्रदेश , 4 हजार मध्यप्रदेश से बुलाये गए हैं।
-इसके अलावा जिसमें 1 प्लस 4 के हिसाब से केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल तैनात किया जाएगा।
-प्लानिंग के मुताबिक अन्य सभी मतदान केन्द्रों में करीब करीब 52 हजार हेड कांस्टेबल होंगे। वहीं होमगार्ड 1500 से ज्यादा हैं।
-इसी तरह सेक्टर मजिस्ट्रेट के रूप में 5180 होमगार्ड्स,पुलिस मोबाइल अधिकारी के रूप में  15540 अधिकारी होंगे। पुलिस सुपरवाइजर ऑफिसर्स के रूप में 1800,एरिया मजिस्ट्रेट के तौर पर 400 और विधानसभा सुपरवाइजरी अधिकारी के रूप में कुल 800 अधिकारी होंगे। 
-इस तरह से 23 हजार से ज्यादा अधिकारियों की तैनाती होगी जो सुरक्षा व्यवस्था,कानून व्यवस्था पर निगाह रखेंगे और किसी भी अप्रिय वारदात को होने से रोकेंगे।

अन्य सुरक्षा बल
पुलिस,आरएसी,सीपीएमएफ,आरएचजी,बीएचजी,फोरेस्ट गार्ड की तैनाती रहेगी। 
-इसके तहत 3000 ओआरटी
1 हजार पुलिस, 3000 सीपीएमएफ, 2000 बीएचजी, नाका पार्टियों के रूप में 2200 पुलिस और 1100 फोरेस्ट गार्ड् रहेंगे।
-वायरलैस ऑपरेटर के रूप में 600 पुलिस
पीएसओ के रूप में 1000 पुलिस
ऑब्जर्वर के रूप में 300 पुलिस बल
असेम्बली सेगमेंट रिजर्व के रूप में 2000 आरएसी जवान सहित कुल 3000 की फोर्स रहेगी।
-वहीं 2000 आरएसी के जवान सहित कुल 3000 सुरक्षा बल डिस्ट्रिक्ट पुलिस रिजर्व के रूप में रहेंगे।

रेंज रिजर्व के रूप में 675 की नफरी रहेगी
तो वहीं ईवीएम गार्ड के रूप में सीपीएमएफ यानि केन्द्रीय अर्द्धसैन्य बल 1080 होंगे।
डिस्टलरीज के गार्ड के रूप में 3000 बल होंगे।
पुलिस स्टेशन्स पर क्यूआरटी यानि क्विक रिस्पोंस टीम के रूप में 3000
1 उड़नदस्ते के हिसाब कुल 1000 सुरक्षा बल
2 स्टेटिक सर्विलांस टीम की तीस प्रति सेंटर में तैनाती होगी।
-इसी तरह 33 जिलों में रिजर्व फोर्स के रूप में कर्मियों की तैनाती होगी।
ऐसी होगी वेबकास्टिंग
वेबकास्टिंग के लिए दल उपकरणों को लेकर पोलिंग पार्टी के साथ रवाना हुए हैं।
कई जगह ये दल रवाना हो रहे हैं।
वेबकास्टिंग में अप्रिय घटना दिखने पर होगी कार्रवाई।
-जिला स्तर पर जिला निर्वाचन अधिकारी
राज्य स्तर पर सीईओ कार्यालय व ECI के वरिष्ठ अधिकारी देख सकते लाइव।
इसके लिए ऑब्जर्वर किये नियुक्त
3 मेगा पिक्सल आईटी कैमरों के जरिए वेब कास्टिंग
वेब कास्टिंग कैमरे के सामने लगेगा 1 बैनर जिस पर विस क्षेत्र का नाम व संख्या 
तथा मतदान केंद्र का नाम व संख्या होगी
कैमरे में रिकॉर्डिंग ऐसी होगी कि मतदान की गोपनीयता न हो प्रभावित।

निर्वाचन विभाग के अनुसार प्लानिंग ऐसी है कि चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात मिलेगी। साथ ही डरा धमकाकर या प्रलोभन के जरिए वोट देने से रोकने या वोट दिलवाने के प्रयासों पर विशेष नजर रहेगी ऐसे प्रयास पर सख्त कार्रवाई के लिए टीमें तत्पर हैं।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

कांग्रेस-बीजेपी के भरोसे\'मंद\' - 25 !

सैम पित्रोदा के बयान पर कांग्रेस की किरकिरी
सैम पित्रोदा के एयर स्ट्राइक पर विवादित बयान को लेकर सियासत
लोकसभा चुनाव का सियासी गणित
धन संबधित परेशानी है तो जानिए कुछ असरकारी टोटके| Good Luck Tips
BJP ने 182 लोकसभा उम्मीदवारों की पहली सूची की जारी
BJP थोड़ी देर में जारी करेगी उम्मीदवारों की पहली सूची
देश के 3 प्रमुख मंदिरों की होली