श्रीगंगानगर Sri Ganganagar: ब्लाइंड मर्डर केस में पुलिस का बड़ा खुलासा, 33 साल तक होमगार्ड में जवान रहे मुख्य आरोपी को किया गिरफ्तार

Sri Ganganagar: ब्लाइंड मर्डर केस में पुलिस का बड़ा खुलासा, 33 साल तक होमगार्ड में जवान रहे मुख्य आरोपी को किया गिरफ्तार

Sri Ganganagar: ब्लाइंड मर्डर केस में पुलिस का बड़ा खुलासा, 33 साल तक होमगार्ड में जवान रहे मुख्य आरोपी को किया गिरफ्तार

श्रीगंगानगर: पांच दिन पूर्व क्षेत्र में रत्तेवाला गांव की हड्डा रोड़ी महिला के ब्लाइंड मर्डर केस का पुलिस ने मंगलवार शाम खुलासा कर दिया. मामले में पुलिस ने  33 साल तक होमगार्ड में जवान रह चुके मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया है. जबकि मामले में शामिल दूसरे व्यक्ति की तलाश जारी है. मामले का खुलासा करते हुए एडिशनल एसपी बनवारी लाल मीणा ने बताया कि मामले में घमुड़वाली थाना क्षेत्र के 10 बीबी निवासी गुरमीत सिंह पुत्र नत्था सिंह (65) मजहबी सिख को गिरफ्तार किया है. आरोपी ने अपना जुर्म कबूल किया है. 

वहीं मामले में सहयोगी राजू नामक व्यक्ति जिसने महिला को आरोपी से मिलवाया की पुलिस तलाश कर रही है. मृतक की पहचान भिन्द्रों (58) निवासी 23 एमोडी (गोलूवाला) के रूप में हई है. मामले के अनुसार 8 जुलाई को पदमपुर गंगानगर मार्ग पर रत्तेवाला गांव की हड्डा रोड़ी पर एक पोटली में बंधी महिला का शव मिला था. पुलिस ने महिला का शव अज्ञात मानकर उसका सोमवार को पोस्टमार्टम करवा दफना दिया था. प्रारम्भिक पूछताछ में सामने आया है कि आरोपी गुरमीत ने विजयनगर क्षेत्र में रहने वाले राजू नाम के दोस्त को बुढ़ापे में जीवन गुजारने के लिए महिला की जरूरत बताई. राजू की मृतक मिन्द्रों से जानकारी थी. मिन्द्रों का पति दस वर्ष पूर्व गुजर चुका था. मिन्द्रों लोगो के रिश्ते करवाने का काम करती थी.

जिस पर राजू ने 23 एमोडी सैकंड से मिन्द्रों को गुरमीत के पास 10 बीबी भेज दिया. मिन्द्रों शाम 6 बजे गुरमीत के घर पहुंची. उसी रात दोनों जनो ने नॉनवेज की पार्टी कर दोनों ने जमकर शराब पी. इस दौरान दोनों में गाली गलौच हुआ ऒर गुरमीत ने तैश में आकर उसका गला दबा दिया. गुरमीत मिन्द्रों को बेहोश समझ कर रात को लाश के पास ही सो गया. अगले दिन सुबह जब मिन्द्रों नही उठी तो दिन भर लाश को घर मे ही छुपाकर रखा. शाम तक लाश से थोड़ी  बदबू आने लगी तो उसने घर पड़ी निवार की चारपाई को तोड़कर उसी निवार (रस्सी) से मिन्द्रों के शव को बांधकर बड़े कपड़े में बांध दिया. 8 जुलाई की सुबह पोने चार बजे अकेला ही शव को मोटर साइकिल पर बांधकर घर से निकल गया. रत्तेवाला के पास उसने हड्डारोड़ी पर शव इसलिए फेंका ताकि मृत पशुओं की बदबू से किसी को शक न हो और सड़ी लाश को कुत्ते खा जाए. थानाधिकारी रामकेश मीना ने बताया कि कातिल शातिर किस्म का था. 

वह लाश को ठिकाने लगाने हड्डा रोड़ी तक मुख्य मार्गो से बचकर आया जिससे उसकी क्षेत्र के किसी कैमरे में फुटेज नहीं आई. दूसरी महिला की पहचान या गुमशुदगी नहीं होने के कारण यह मामला साइबर टीम के भी पेचीदा हो गया था. पुलिस थाना की तीन टीमो ने तीन दिन में 60 गांव छाने लेकिन सफलता नहीं मिली. 11 जुलाई को महिला के पोस्टमार्टम के बाद थानाधिकारी खुद बाइक पर शिक्षा विभाग का कर्मी बन गांवों में निकले तो 10 बीबी में पहुंचते ही उन्हें गांव के बच्चों से गुरमीत के घर के पास भूत होने की सूचना मिली. जिससे उन्हें शक हो गया। गुरमीत के घर पहुंचे तो पता चला गुरमीत 8 जुलाई से घर से गायब है.

महिला के 6 जुलाई से गायब होने का पता चला:

वह अपने परिवार से अलग और अकेला रहता था. वहीं पुलिस की दूसरी टीम से 23 एमोडी से महिला के 6 जुलाई से गायब होने का पता चला. यह भी पता चला कि गायब महिला अपने हाथ मे घड़ी भी पहनती है. उसके बाद परिजनों को कपड़े, पायजेब और घड़ी इत्यादि दिखाया गया तो मृतका की शिनाख्त हो गयी. परिजनों में उसके दो पुत्रों ने भी माना कि रिश्ते करवाने के कारण मिन्द्रों कई-कई दिन तक घर से चली जाती थी इसलिए उन्होंने इसे गम्भीरता से नहीं लिया. शिनाख्त के बाद कड़िया जुड़ती गयी और वहीं से मिन्द्रों के 10 बीबी जाने का पता चला और मामले का पर्दाफाश हो गया. पुलिस ने आरोपी को पकड़ लिया है. 
 

और पढ़ें