श्रीलंका: संसद भंग किये जाने के खिलाफ सुनवाई पूरी, फैसला अगले सप्‍ताह

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/08 08:08

कोलंबो। श्रीलंका के सुप्रीम कोर्ट ने राष्‍ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना द्वारा संसद को भंग किये जाने के खिलाफ दायर याचिकाओं की सुनवाई पूरी कर ली है। अदालत का फैसला अगले सप्‍ताह के शुरू में आने की आशा है, क्‍योंकि संसद भंग किये जाने के आदेश पर रोक की अवधि सोमवार तक के लिए बढ़ा दी गई है।

गौरतलब है कि श्रीलंका में सभी पक्षों की नजर अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर है और वे इसी अनुसार अपनी रणनीति बनाने में जुटे हैं। राष्‍ट्रपति सिरिसेना और राजपक्षे पक्ष को संसद भंग करने के फैसले को सही ठहराए जाने की उम्‍मीद है। ताकि चुनाव का रास्‍ता साफ हो सके। लेकिन ऐसा ना होने पर देखना होगा कि राष्‍ट्रपति क्‍या रानिल विक्रमसिंघे को प्रधानमंत्री नियुक्‍त करते हैं, जिनके पास संसद में बहुमत है। 

निचली अदालत द्वारा राजपक्षे और उनके मंत्रिमंडल को काम करने से रोकने के फैसले के विरूद्ध भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर है। जिस पर फैसला अगले सप्‍ताह आ सकता है। दोनों पक्ष इस बीच जनमत को अपने पक्ष में करने में भी लगे हैं। विक्रमसिंघे का पक्ष जहां धरने प्रदर्शन द्वारा प्रजातांत्रिक मूल्‍यों की वकालत कर रहा है, वहीं राजपक्षे का दल चुनाव के पक्ष में लोगों के समर्थन की जुगत कर रहा है। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

कॉलेजियम पर \'सुप्रीम\' कंट्रोवर्सी

प्रयागराज में \'महामहिम\'
तीन दिन गुजरात में गुजारेंगे पीएम मोदी
अब बस कर \"नाटक \" कर्नाटक में सियासी नाटकबाजी
RCA अध्यक्ष पद से जोशी ने नहीं दिया इस्तीफा
ब्रिटेन की पीएम थेरेसा को बड़ी राहत
मोदी सरकार के अंतिम बजट पर सबकी नजर
जेटली अमेरिका में ,शाह दिल्ली में एम्स में भर्ती
loading...
">
loading...